विद्यार्थी जीवन में अनुशासन का महत्व पर निबंध | Importance Of Discipline In School Student Life In Hindi

Importance Of Discipline In-School Student Life In Hindi: जिस जीवन में कोई नियम व्यवस्था नही है, जिसकी कोई आस्था आदर्श नही है, वह मानव नहीं पशु जीवन ही हो सकता है. ऊपर से स्थापित नियत्रण या शासन सभी को अखरता है. इसलिए अपने शासन में रहना सबसे सुखदायी होता है. बिना किसी भय या लोभ के नियमों का पालन ही अनुशासन कहलाता है. विद्यालयों में तो अनुशासन में रहना और भी आवश्यक हो जाता है.

विद्यार्थी जीवन में अनुशासन का महत्व पर निबंधविद्यार्थी जीवन में अनुशासन

Importance Of Discipline In School Student Life

विद्यार्थी जीवन में अनुशासन- वैसे तो जीवन के हर क्षेत्र में अनुशासन आवश्यक है, किन्तु जहाँ राष्ट्र की भावी पीढियां ढ़लती है उस विद्यार्थी जीवन में अनुशासन का होना अत्यंत महत्वपूर्ण है. किन्तु आज विद्यालयों में अनुशासन की स्थति अत्यंत शोचनीय है. अनुशासन में रहना आज के विद्यार्थियों को शायद अपनी शान के खिलाफ लगता है. अध्ययन की बजाय अन्य बातों में छात्रों की रूचि अधिक देखने को मिलती है.

अनुशासनहीनता के कारण- विद्यालयों में बढ़ती हुई अनुशासनहीनता के पीछे छात्रों की उद्दण्ता ही कारण नही है. सामाजिक परिस्थतियाँ और बदलती हुई जीवन शैली भी इसके लिए जिम्मेदार है. टीवी ने छात्र को समय से पूर्व ही युवा बनाना प्रारम्भ कर दिया है.

उसे फैशन और आडम्बरों में उलझाकर उसका मानसिक और आर्थिक शोषण किया जा रहा है. बेरोजगारी, उचित मार्गदर्शन न मिलना और अभिभावकों की जिम्मेदारी से आँख चुराना भी अनुशासनहीनता के ही कारण है.

दुष्परिणाम-छात्रों में बढ़ती अनुशासनहीनता न केवल इनके भविष्य को अंधकारमय बना रही है बल्कि देश की भावी तस्वीर को भी बिगाड़ रहा है. आज चुनौती और प्रतियोगिता का जमाना है. हर संस्था और कंपनी श्रेष्ट युवकों की तलाश में है.

इस स्थति में नकल से उतीर्ण और अनुशासनहीनता छात्र कहाँ ठहर पाएगे? आदमी की शान अनुशासन तोड़ने में नही उसका स्वाभिमान के साथ पालन करने में है. अनुशासनहीनता ही अपराधियों और गुंडों को जन्म दे रही है.

निवारण के उपाय-

इस स्थति से केवल अध्यापक या प्रधानाचार्य नही निपट सकते है. इसकी जिम्मेदारी पुरे समाज को उठानी चाहिए, विद्यालयों में ऐसा वातावरण हो जिसमे शिक्षक एवं विद्यार्थी अनुशासित रहकर शिक्षा का आदान प्रदान कर सके.

अनुशासनहीनता राजनीतिज्ञों को भी अनुशासित होकर भावी पीढ़ी को प्रेरणा देनी होगी.

आज का विद्यार्थी आँख बंद करके आदेशों का पालन करने वाला नही है. उसकी आँखे और कान दोनों खुले है. समाज में जो कुछ घटित होगा, वह छात्र के जीवन में भी प्रतिबिम्बित होगा. समाज अपने आप को संभाले तो छात्र स्वयं संभल जाएगा.

अनुशासन की खुराक केवल छात्रों को ही नही बल्कि समाज के हर वर्ग को पिलानी चाहिए. जब देश में चारो ओर अनुशासनहीनता छाई हुई है, तो विद्यालयों में इसकी आशा करना व्यर्थ है.

Hope you find this post about ”Importance Of Discipline In-School Student Life In Hindi” useful. if you like this article please share on Facebook & Whatsapp. and for latest update keep visit daily on hihindi.com.

Note: We try hard for correctness and accuracy. please tell us If you see something that doesn’t look correct in this article about Importance Of Discipline and if you have more information Discipline In-School Student Life In Hindi then help for the improvements this article.

राजस्थान के पर्यटन स्थल पर निबंध | Essay On Rajasthan Tourist Places I... राजस्थान के पर्यटन स्थल पर निबंध | ...
कंप्यूटर का परिचय | Computer Introduction In Hindi... कंप्यूटर का परिचय | Computer Introd...
आतंकवाद की समस्या पर निबंध | Hindi Aatankwad Ki Samasya Essay... आतंकवाद की समस्या पर निबंध | Hindi ...
प्लीज अच्छा लगे तो शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *