स्वतंत्रता दिवस पर भाषण – 15 August Independence Day Speech in Hindi 2018

सभी प्यारे भारत वासियों को 72 वें स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त 2018 की शुभकामनाएं. स्वतंत्रता दिवस जिन्हें आजादी दिवस भी कह सकते हैं. यह दिन हमें उन वीरों की याद दिलाता हैं, जिनके साहस एवं बलिदान के कारण ही भारत को स्वतंत्रता मिली. दिल्ली के रेड फोर्ट पर इस दिन राष्ट्रीय कार्यक्रम का आयोजन किया जाता हैं, प्रधानमंत्री भाषण देते हैं. स्वतंत्रता दिवस के लिए भाषण, स्वतंत्रता दिवस का स्पीच (भाषण)- Independence Day Speech in Hindi.Independence Day Speech in Hindi

 

15 अगस्त के दिन देशभर में विभिन्न सांस्कृतिक एवं देशभक्तिपुरें कार्यक्रम होते हैं, बच्चे व शिक्षक भाषण बोलते हैं. हर कक्षा 1,2,3,4,5,6,7,8,9,10 के लिए स्वतंत्रता दिवस पर अच्छा भाषण तैयार करना पड़ता हैं. शिक्षक भी भाषण देते हैं.

यदि आप इंटरनेट पर स्वतंत्रता दिवस पर भाषण खोज रहे हैं, तो हम यहाँ आपकों Swatantrata Diwas के लिए स्कूल शिक्षक व स्टूडेंट्स (किड्स & चाइल्ड) के लिए स्पीच उपलब्ध करवा रहे हैं.

यदि आप भारत की स्वतंत्रता का इतिहास जानना चाहते हैं तो आगे बढ़ने से पूर्व भारतीय स्वतंत्रता दिवस के बारे में महत्वपूर्ण तथ्य जरुर रीड कर लेवे. इस आर्टिकल में 15 अगस्त Swatantrata Diwas के बारे में सभी तथ्य मिलेगे.

स्वतंत्रता दिवस भाषण – 15 August 2018 Independence Day Speech 

एक स्टूडेंट्स के लिए जो 15 अगस्त के दिन सम्मानित मंच के समक्ष चार पंक्तियाँ यानि स्वतंत्रता दिवस के लिए छोटा भाषण तैयार करना अहम होता हैं. Independence Day Speech को आप बिना परिवर्तित किए हुबहू याद करके अपने विद्यालय के प्रोग्राम में बोल सकते हैं.

स्वतंत्रता दिवस भाषण, 15 अगस्त पर भाषण, 15 अगस्त का भाषण 2018 हिंदी में, स्वतंत्रता दिवस के लिए भाषण,  स्वतंत्रता दिवस पर भाषण, स्वतंत्रता दिवस भाषण हिंदी में , स्वतंत्रता दिवस का हिंदी में छोटा भाषण, Swatantarta diwas bhashan, Swatantarta diwas par bhashan hindi Me. 15 august par bhashan, 15 august speech in hindi, 15 August Independence Day Speech in Hindi 2018.


स्वतंत्रता दिवस पर भाषण

सम्मानित मंच पर विराजमान सभी विद्वान् गुरुजनों, मुख्य अतिथि महोदय, माताओं सज्जनों और प्यारे भाई और बहिनों.

जैसे कि आप सभी परिचित हैं आज 15 अगस्त को सम्पूर्ण हिंदुस्तान अपना 72 वां स्वतंत्रता दिवस मनाने जा रहा हैं. 15 august 1947 की तारीख को हमारे देश को गुलामी की दास्ता से छुटकारा मिला था. इसी कारण हम स्वतंत्रता दिवस 15 अगस्त के दिन ही मनाते हैं.

भारत का स्वतंत्रता दिवस इस महान देश का एक राष्ट्रीय त्यौहार हैं, जिन्हें कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी और गुजरात से लेकर असम तक सभी भारतीय ख़ुशी के पर्व के रूप में मनाते हैं. भारत को अपनी स्वतंत्रता की प्राप्ति के लिए अंग्रेजों से लम्बा संघर्ष करना पड़ा था. अतः वीर जवानों क्रांतिकारी स्वतंत्रता सेनानियों के बलिदान से हमें ये आजादी मिली हैं.

हमारे देश के महान विचारकों तथा बुद्धिजीवियों ने 15 अगस्त के दिन ही तिरंगा फहराकर इसे भारत के स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाने की प्रथा शुरू की थी. गौरतलब हैं कि इसी नदी रावी नदी के तट पर पहली बार भारतीय ध्वज फहराया गया हैं.

15 अगस्त 1947 के दिन हमें यह बहुमूल्य धरोहर रूपी आजादी मिली थी. एक स्वतंत्र राष्ट्र बनने के लिए भारत का अपना एक संविधान तैयार किया गया तथा इसी संविधान ने देश के नागरिकों को समस्त प्रकार के अधिकार व कर्तव्य प्रदान किये.

कभी वक्त मिले तो 1947 से पहले के भारत के इतिहास के पन्नों को खंगाले तो हमें उन अंग्रेजों के अत्याचारों की कहानियाँ अवश्य पढ़ने मिलेगी. जिन्होंने 200 सालों तक हमारे पूर्वजों का शोषण किया उन्हें तरह तरह से यातनाएं दी जाती थी. धन्य हैं हमारे भाग जो हमें इस स्वतंत्र भारत भूमि पर जन्म मिला.

उस नजारे को देखकर भी भय लगता होगा, जब किसी को फांसी पर लटकाया जाता हैं. वों भारत के इतिहास के दर्दनाक लम्हे ही थे, जब हमारे लोगों की सभा को गोलियों से भून दिया जाता था.

भगतसिंह मात्र 23 साल के थे, जब उन्हें अपने दो अन्य साथियों के साथ फ़ासी दे दी गई थी.

भारत की आजादी का संघर्ष 1857 में ही शुरू हो गया था. मेरठ छावनी के मंगल पांडे ने इसकी शुरुआत की थी. कई बड़े नाम रानी लक्ष्मी बाई तात्या टोपे, आजाद जैसे हजारो लाखों वीरों ने अपने घर को छोड़ भारत माता की स्वतंत्रता के लिए अपनी जिंदगी खफा दी, ऐसे वीरों को आज याद करने का दिन हैं.

अहिंसा व सत्य के पुजारी बापू ने भारत में रहकर अंग्रेजो को चैलेज किया तो हमारे नेताजी शुभाषचन्द्र बोस ने विदेशों में भारतीयों को एकत्र कर वतन की आजादी की खातिर फौज तैयार की थी.

15 august 1947 का वो लम्हा जब नेहरु जी लाल किले पर तिरंगा फहरा रहे थे, तो उन्होंने देश की जनता से दो टुक भाषण किया था, उन्होंने कहा था- “जब आज पूरी दुनिया सो रही हैं मगर हिंदुस्तान अपने आजादी के नये सवेरे के इंतजार में हैं.”

महात्मा गांधी जैसे महापुरुष सदियों में देखने को नही मिलते हैं, आपसी प्रेम भाव तथा समाज के सभी वर्गों को साथ लेकर वतन की आजादी के लिए लड़ने वाले इन महान देवता की वजह से आज समूचा हिंदुस्तान आजाद हैं.

वर्तमान समय में भारत को देखा जाए तो चाहे आर्थिक क्षेत्र हो शिक्षा का क्षेत्र हो या तकनीक की बात की जाए, हम अनवरत रूप से आगे ही बढ़ रहे हैं. एक औटोमिक पॉवर होने के साथ साथ खेलकूद के मैदान के हर कौने में तिरंगा लहराता देख हर भारतीय का छिना गर्व से चौड़ा होना यही हमारी देशभक्ति हैं.

भले ही हमें आजाद हुए 72 साल ही हुए हो, आज हम दुनियां के सबसे बड़े लोकतंत्र में जी रहे हैं.

भारत की स्वतंत्रता का यह दिवस बार बार हमें अपने कर्तव्य अपने पूर्वजों के बलिदान एवं उनके द्वारा हमें सुपुर्द जिम्मेदारियों और सपनों को पूरा करने का संदेश भी देता हैं. हम स्वतंत्र राष्ट्र के नागरिक होने के नाते हमें न सिर्फ अपने अधिकारों का उपभोग करना चाहिए बल्कि अपने कर्तव्यों का ईमानदारी से पालन करना चाहिए.

धन्यवाद, जय हिन्द ! जय भारत ! वंदेमातरम्

प्लीज अच्छा लगे तो शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *