भारत पाक युद्ध 1971 का इतिहास तथा शिमला समझौता | India Pakistan War 1971 History in Hindi

भारत पाक युद्ध 1971 का इतिहास तथा शिमला समझौता | India Pakistan War 1971 History in Hindi : क्या आप जानते है बांग्लादेश का जन्म कब और कैसे हुआ. bangladesh 1971 war history 1971 में भारत पाकिस्तान युद्ध की कहानी व इतिहास क्या था. युद्ध के बाद श्रीमती गांधी और भुट्टों के बीच हुआ शिमला समझौता क्या था. आज हम भारत पाक युद्ध 1971 क्या था कैसे और कब तथा क्यों हुआ कारण परिणाम तथा प्रभाव (india pakistan war 1971 pdf in hindi) के बारे में जानेगे.

भारत पाक युद्ध 1971 का इतिहास तथा शिमला समझौता | India Pakistan War 1971 History in Hindiभारत पाक युद्ध 1971 का इतिहास तथा शिमला समझौता | India Pakistan War 1971 History in Hindi

Here We Know About official history 1971 war Between India Pakistan Whats Causes Reason Story Result & Role Of Use & Russia Story Of India Pakistan War 1971 History in Hindi.

India Pakistan War 1971 History in Hindi

1971 में पूर्वी पाकिस्तान को लेकर हुआ यह आपसी युद्ध इन दोनों देशों के बीच तीसरा युद्ध था इससे पूर्व 1948 और 1965 में दो युद्ध हो चुके थे दोनों में पाकिस्तान को मुहं की खानी पड़ी थी. तीसरा युद्ध और अधिक असरदार रहा जिसमें पाकिस्तान के दो टुकड़े हो गये थे.

1965 के युद्ध के बाद पाकिस्तान के हालात बदतर होने लगे. तानाशाह शासक जनता के शोषक बन गये. पूर्वी पाकिस्तान (बांग्लादेश) में असंतोष बढ़ता जा रहा था. शेख मुजीब के नेतृत्व में बांग्लादेश में स्वायत्ता का आंदोलन प्रारम्भ हो गया.

पूर्वी पाकिस्तान पूर्णतया मुजीब के साथ था. पाकिस्तानी जनरल याहया खान ने बंगालियों पर अत्याचार करने आरम्भ कर दिए. घोर अत्याचारों से घबराकर लोग घरबार छोड़कर जान बचाने हेतु भारत की सीमा में प्रवेश करने लगे.

10 हजार शरणार्थी प्रतिदिन भारत आने लगे. शरणार्थियों की संख्या भारत में 1 करोड़ तक पहुच गई. इसी समय 3 दिसम्बर 1971 को पाकिस्तानी वायुयानों ने भारत के हवाई अड्डों पर भीषण बमबारी की. 4 दिसम्बर 1971 को भारतीय वायुसेना ने जवाबी हमला किया.

भारत के विमानों ने पाकिस्तान के महत्वपूर्ण हवाई अड्डों पर बम वर्षा की. भीषण युद्ध के बाद पाक सेना को पराजय का सामना करना पड़ा. और एक नयें देश बांग्लादेश का उदय हुआ. 16 दिसम्बर 1971 को ढाका में एक सैनिक समारोह में जनरल नियाजी ने भारत के लेफ्टिनेंट जनरल जगजीत सिंह अरोरा के सम्मुख आत्म समर्पण कर दिया.

उनके साथ 93 हजार सैनिकों ने भी हथियार डाल दिए और उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया. बांग्लादेश स्वतंत्र हो गया तथा भारत ने एक तरफा युद्ध विराम कर दिया. भारत ने इस युद्ध में पाकिस्तान की 6 हजार वर्ग मील भूमि पर अधिकार कर लिया.

पाकिस्तानी जनरल याहया खान को सत्ता छोड़नी पड़ी, उनके स्थान पर सत्ता जुल्फिकार अली भुट्टों के हाथ में आ गई. भुट्टों और श्रीमती गांधी में पत्र व्यवहार हुआ और 28 जून 1972 को दोनों देशों के बीच एक ऐतिहासिक शिमला समझौता हो गया.

इस समझौते का लक्ष्य दोनों देशों के बीच शांति स्थापना करना था. शिमला समझौते के आलोचकों का कहना है कि भारत के सैनिकों ने जिसे युद्ध के मैदान में जीता था उसे भारत की कूटनीति ने शिमला में खो दिया. अर्थात कश्मीर समस्या का स्थाई हल ढूढे बिना भारत ने पाकिस्तान को 5139 वर्ग मील क्षेत्र लौटा दिया.

यदपि यह भारत की शांतिपूर्ण कूटनीति का प्रतिफल था. लेकिन पाकिस्तान ने इसे सही परिपेक्ष्य में नहीं लिया. और बाद में पाकिस्तान पुनः अपनी पुरानी शत्रुतापूर्ण नीति का अनुसरण करने लगा.

bangladesh 1971 war history In Hindi

1971 में भारत पाकिस्तान के मध्य हुए युद्ध का परिणाम पूरी तरह भारत के पक्ष में रहा. 3 दिसम्बर से 16 दिसम्बर तक मात्र 16 दिन चले इस युद्ध को अन्तरिक्ष, जल तथा स्थल तीनों बलों द्वारा लड़ा गया.

युद्ध का नतीजा पूर्वी पाकिस्तान की आजादी तथा नयें बांग्लादेश के निर्माण व ९० हजार सैनिकों ने समर्पण कर पाकिस्तान ने अपनी हार स्वीकार की थी.

भारतीय सेना की कमान जनरल मानेक शॉ के हाथ में थी जनरल बेहद कुशल सेनानायक थे उनके बारे में कहा जाता है कि उन्होंने जीवन में कभी हारना नहीं सीखा था. एक तरह से 1971 का युद्ध भारत पर थोपा गया था.

ऐसा हम इसलिए कह रहे है क्योंकि आए दिन पूर्वी पाकिस्तान से हजारों की तादाद में बांग्लादेशी भारत आने लगे जहाँ तक संभव हो सका भारत ने उन्हें सम्पूर्ण सहायता की मगर जब स्थिति नियंत्रण से बाहर होने लगी तो तत्कालीन प्रधानमंत्री इंदिरा गाँधी ने अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर भी इस समस्या के हल के प्रयास किये.

मगर पाकिस्तान तब तक भारत के हवाई अड्डों पर हमला कर चूका हैं. पाकिस्तान के लिए यह एक ऐसा दौर था जब वह भारत को हमेशा स्वयं से कमतर आंकता था तथा आए दिन युद्ध की धमकी दिया करता था. इसकी एक वजह उसे चीन तथा अमेरिका का समर्थन भी बड़ी वजह था.

भारत के लिए दो मौर्चों पर युद्ध लड़ना था एक तरह उन्हें पश्चिमी पाकिस्तान की तरफ से तथा दूसरी ओर पूर्वी पाकिस्तान के ओर से पाकिस्तान हमले का सामना करना पड़ता था.

अमेरिकी नौसेना का 7वाँ बेड़ा भारत की ओर रवाना कर दिया था मगर तब तक युद्ध निर्णयाक स्थिति में पहुच चूका था भारत की जल सेना ने कराची बंदरगाह पर हमला कर पश्चिम के मौर्चे को अपने कब्जे में ले लिया.

जल्द ही इंडियन नेवी ने पाकिस्तान की पनडुब्बी ‘गाजी’ को विशाखापट्टनम नौसैनिक अड्डे के समीप जलमग्न कर रही सही कसर भी पूरी कर दी. भारत की इस कार्यवाही से पाकिस्तान ने हार कबूल ली तथा 15 दिसंबर को पाकिस्तानी सेनापति जनरल एके नियाजी ने युद्धविराम का निवेदन किया तथा अगले ही दिन पूरी पाक आर्मी ने हथियार डाल दिए.

भारत पाक युद्ध 1971 का परिणाम नुकसान तथ्य जानकारी व इतिहास 

  • यह युद्ध दुनियां के सबसे कम अवधि तक चलने वाले इतिहास युद्धों में गिना जाता हैं.
  • युद्ध का आरम्भ पाकिस्तान द्वारा भारतीय वायुसेना के ११ स्टेशनों पर हवाई हमले से इसे शुरू किया गया था.
  • इस युद्ध में लगभग ३० हजार से एक लाख बंगलादेशी नागरिक ३८०० भारतीय सैनिक तथा 9 हजार पाकिस्तानी सैनिक युद्ध में मारे गये थे.
  • पाकिस्तान के आरम्भिक हमलों में भारतीय वायु सेना को बड़ी क्षति पहुची थी भारतीय दावे के अनुसार ४५ भा.वायुसेना विमान बर्बाद हुए जबकि पाकिस्तान के ९४ वायु सेना के लड़ाकू नष्ट हुए.
  • भारत पाक के बीच की इस जंग में मुक्ति बाहिनी १,७५,००० सैनिक भारतीय समर्थन में थे इस लिहाज से भारतीय सेना में ६,७५,००० सैनिक तथा पाकिस्तानी सेना की ओर से ३,६५,००० सैनिकों ने युद्ध में भाग लिया था.

यह भी पढ़े-

आशा करता हूँ दोस्तों आपकों India Pakistan War 1971 History in Hindi का यह लेख अच्छा लगा होगा. यदि आपकों भारत पाकिस्तान युद्ध 1971 के इतिहास व कहानी से जुडी जानकारी पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करे. इससे जुड़ा आपका कोई सवाल या सुझाव हो तो कमेंट कर जरुर बताएं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *