Industrial Safety Essay in Hindi Language – औद्योगिक सुरक्षा पर निबंध

Industrial Safety Essay in Hindi Language – औद्योगिक सुरक्षा पर निबंध : परिभाषा – औद्योगिक सुरक्षा का क्या अर्थ है? औद्योगिक सुरक्षा का अर्थ किसी भी औद्योगिक प्रतिष्ठान में कार्य करने वाले अधिकारियों, कर्मचारियों का संभावित खतरों  से सुरक्षा का प्रतिक्षण तथा उपकरण उपलब्ध करवाना हैं. आज हम बच्चों के लिए औद्योगिक सुरक्षा पर निबंध उपलब्ध करवा रहे हैं.

Industrial Safety Essay in Hindi Language – औद्योगिक सुरक्षा पर निबंध

Industrial Safety Essay in Hindi Language

Industrial Safety Essay in Hindi Language – औद्योगिक सुरक्षा पर निबंध

औद्योगिक सुरक्षा क्या है (What is industrial security): विज्ञान व तकनीकी की प्रगति के चलते आज हर काम मशीनों के द्वारा संभव हो पाया हैं. बड़ी तादाद में लोगों को औद्योगिक संस्थानों में रोजगार मिल रहा हैं. इसके साथ ही साथ इन उद्योगों में काम का खतरा भी काफी अधिक हैं. उद्यम के अन्य क्षेत्रों की तुलना औद्योगिक संस्थानों को गम्भीर एवं जानलेवा जोखिमों की श्रेणी में रखा जाता हैं.

यहाँ पर कार्य करने वाले व्यक्ति को काम के साथ साथ अपनी सुरक्षा का भी विशेष ध्यान रखना पड़ता हैं. प्रत्येक औद्योगिक संस्थान प्रबन्धन द्वारा कर्मचारियों की सुरक्षा को सुनिश्चित करने के लिए उन्हें प्रशिक्षण तथा सुरक्षा के उपकरण भी प्रदान कराए जाते हैं.

इस तरह की व्यवस्था से मशीनी कामकाज से सुरक्षा को बढ़ावा तो मिलता ही है. साथ ही व्यक्ति को अपनी व्यक्तिगत सुरक्षा का ध्यान स्वयं ही रखना पड़ता हैं.

औद्योगिक सुरक्षा की आवश्यकता (Industrial security requirement): एक अच्छे औद्योगिक सुरक्षा प्रबन्धक अथवा मैनेजर को अपने संस्थान में सुरक्षा सम्बन्धी सभी उपायों के बारे में जानकारी होनी चाहिए. साथ ही साथ उन्हें यह भी पता होना चाहिए कि उनके कर्मचारी जिन मशीनों पर कार्य कर रहे है वे उनमें दक्ष है अथवा नही.

काम करते वक्त किसी से बातचीत न करना, काम पर ध्यान देना, उद्योग में ज्वलनशील पदार्थ न हो, प्राथमिक उपचार का उचित प्रबंध हो, कर्मचारियों के स्वास्थ्य से सम्बन्धित उनके पास सम्पूर्ण डिटेल्स होनी चाहिए, जिससे किसी बड़ी समस्या अथवा नुक्सान से बसा जा सके.

Short & Long Industrial Safety Essay in Hindi Language

इंडस्ट्रियल सेफ्टी मैनेजर उद्योग धंधों में सुरक्षा प्रबन्धन से जुड़े कार्य की देख रेख करते हैं. जैसे जैसे उद्योगों का विस्तार हो रहा है उन पर कड़े नियम भी बनाए गये हैं. वास्तविक सुरक्षा से जुड़े विषय जैसे दुर्घटना अथवा चोट व नुकसान को कम करने की तमाम तकनीकों का मैनेजर को अच्छी तरह ज्ञान होना चाहिए.

खतरे एवं सम्पति के बीच दूरी बनाकर रखना काफी मुश्किल है मगर यह असम्भव तो नहीं हैं. यदि औद्योगिक सुरक्षा से जुड़े मानदंडों, कानूनों तथा नियमों का सही ध्यान रखा जाए. आज के दिनों में इन संस्थानों में होने वाली घटनाओं में निरंतर इजाफा हो रहा हैं. जिसके चलते सेफ्टी मैनेजर की नियुक्ति आवश्यक मानी जाती हैं.

औद्योगिक सुरक्षा का अर्थ इंडस्ट्री के फिल्ड में जान माल के खतरे से रक्षा करना अथवा निर्धारित सुरक्षा उपायों की पालना करना जिससे कोई अप्रिय घटना घटित न हो. हाल ही में सरकार द्वारा भी औद्योगिक नियमों में काफी बदलाव लाए हैं.

अधिक कार्यवधि तथा स्वास्थ्य के लिहाज से खतरनाक श्रेणी के कार्यों में महिलाओं तथा बाल श्रमिकों का उपयोग गैर कानूनी कर दिया हैं. साथ ही प्रत्येक संस्थान के लिए यह निर्धारित किया गया है कि वहां सुरक्षा से जुड़े तमाम पुख्ता इन्तजार हो.

इन संस्थानों में कार्य करने वाले कर्मचारियों को व्यक्तिगत स्तर पर विशेष रूप से ध्यान देना चाहिए. उनकी स्वयं की सुरक्षा उन्ही के हाथ में होती हैं. यहाँ हर पल शरीर के साथ नुक्सान होने किसी अंग विशेष पर चोट लगने का खतरा हमेशा छाया रहता हैं. अतः बिना लापरवाही के अपने कार्य कर ध्यान दिया जाना चाहिए.

उद्योगों में सुरक्षा का अर्थ व्यक्ति के काम की परिस्थतियों, वातावरण का उनके स्वास्थ्य पर पड़ने वाले असर को भी सम्मिलित किया हैं. मूल रूप से कांच की फैक्ट्री, कम रोशनी में काम करने अथवा स्वच्छ वायु के अभाव व धुंए के चलते भी कामगार मजदूर का स्वास्थ्य खराब हो सकता हैं.

यदि किसी औद्योगिक संस्थान में कार्य करने वाले कर्मचारी की मृत्यु हो जाती है अथवा उसके साथ किसी तरह की घटना घटित होती हैं. तो संस्थान के मैनेजर तथा भुगतभोगी के परिवार पर बुरा असर पड़ता हैं. कम्पनी अच्छे स्तर का क्रमिक खो देगी वही वह इन्सान अपने जीवन से हाथ धो बैठेगा. औद्योगिक सुरक्षा की आवश्यकता हर समय है तथा इसका विशेष रूप से ध्यान रखा जाना चाहिए.

मूल रूप से औद्योगिक संस्थानों में दुर्घटना होने का अधिकतर कारण मशीने ही होती हैं. कई बार तकनीकी खराबी के चलते है वह सुचारू रूप से कार्य नहीं करती हैं. माल के नुक्सान को बचाने के लिए क्रमिक अपनी जिन्दगी को दाव पर लगा देते हैं. कुछ स्थितियों में विद्युत् का करंट लगने से भी कर्मचारी की मृत्यु हो जाती हैं. इसलिए प्रत्येक संस्थान को यह सुनिश्चित कर लेना चाहिए कि विद्युत् कनेक्शन तथा उनकी वायरिंग ठीक तरीके से की गई हो, खासकर बारिश के मौसम में इस कनेक्शन को समय समय पर जांचा जाना चाहिए.

रासायनिक एवं औद्योगिक दुर्घटनाएं (Chemical and industrial accidents)

विज्ञान व प्रोद्योगिकी के विकास के साथ साथ विभिन्न प्रकार के रसायनों का प्रयोग भी तेजी से बढ़ा हैं. फसलों की सुरक्षा हेतु रासायनिक खाद, पेयजल की शुद्धता तथा घरों के लिए विभिन्न प्रकार के रंगों व फसल उत्पादन वृद्धि हेतु कीटनाशकों का निर्माण किया जाता हैं. लेकिन दुविधा यह है कि विकास की इस अंधी दौड़ में सामान्य से लगने वाले ये रसायन मनुष्य व पर्यावरण के लिए संकट खड़ा कर रहे हैं.

कुछ खतरनाक रसायनों का प्रयोग हमारे दैनिक जीवन में इतना अधिक बढ़ गया है कि जरा सी असावधानी से हम भयंकर दुर्घटना के शिकार हो सकते हैं. कुछ खतरनाक रसायन हमारे घरों में पायें जाते है जैसे हेयर स्प्रे, डीयो दीरैत, नेल पोलिस, नेल व हेयर रिमूवर, टायलेट क्लीनर आदि.

कुछ अत्यंत ज्वलनशील रसायनों की आसान उपलब्धता से कुछ असंतुष्ट व भटके लोग जनविनाशक आयुध बहुत आसानी से बना कर मानवता का खून बहा रहे हैं. इनके अनुचित भंडारण, उपयोग व परिवहन से बड़ी दुर्घटनाएं होती हैं. रसायनों का असुरक्षित ढंग व स्वार्थपूर्ण उपयोग व उनका रिसाव पूरे समुदाय के लिए खतरा पैदा कर सकते हैं. भारत में वर्ष 1984 में भोपाल शहर में यूनियन कार्बाइड के कीटनाशक बनाने वाले कारखाने से जहरीली गैस के रिसाव से कुछ ही घंटों में लगभग तीन हजार लोग अपनी जान से हाथ धो बैठे थे. जो बचे थे वे आज भी उसके दुष्परिणामों को भुगत रहे हैं.

सुरक्षा के उपाय (Safety measures)

ऐसे उद्योगों की स्थापना बस्तियों से दूर की जाए. निकट रहने वाले समुदाय के लोगों को बनने वाले रसायन तथा उनके आकस्मिक रिसाव से उन पर पड़ने वाले दुष्प्रभावों की स्वयं प्रशासन को जानकारी दे. किसी भी विकट परिस्थति में किये जाने वाले सभी सुरक्षा उपायों से लोगों को शिक्षित किया जाना चाहिए. उद्योगों से निकलने वाले अपशिष्टों का बेहतर नियोजन होना चाहिए ताकि पर्यावरण को नुकसान न हो. उद्योगों का बीमा व सुरक्षा कानून सख्ती से लागू होने चाहिए.

उम्मीद करता हूँ दोस्तों Industrial Safety Essay in Hindi Language – औद्योगिक सुरक्षा पर निबंध आपकों अच्छा लगा होगा. यदि आपकों यहाँ दिया गया लेख पसंद आया हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *