जसनाथ जी महाराज की जन्म कथा | jasnath ji maharaj in hindi

jasnath ji maharaj in hindi राजस्थान के समाज सुधारकों में जसनाथ जी का नाम अत्यधिक महत्वपूर्ण है. विक्रम संवत् 1539 में कतरियासर (बीकानेर) में जसनाथ जी का जन्म हुआ था. 12 वर्ष की आयु में ही इन्होने सन्यास ग्रहण कर लिया और गोरख मालिया में कठोर तप किया. विक्रम संवत् 1563 में इन्होने समाधि ली.

जसनाथ जी महाराज की जन्म कथा | jasnath ji maharaj in hindiJASNATH JI

भक्तिकालीन अन्य संतो की भांति जसनाथ जी ने भी समाज में प्रचलित रूढ़ियों और पाखंडो का विरोध किया. इन्होने निर्गुण और निराकार भक्ति पर बल दिया, जातिवाद का खंडन किया. संयम और सदाचार पर बल दिया. इन्होने भी ईश्वर की प्राप्ति के लिया गुरु होना आवश्यक बताया.

जसनाथ जी ने जसनाथी सम्प्रदाय की शुरुआत की. जसनाथ ने अपने सम्प्रदाय के 36 नियमों का प्रतिपादन किया. रात्रि जागरण के समय अग्निनृत्य जसनाथी सम्प्रदाय की प्रमुख विशेषता है. उन्होंने प्रेम भक्ति व समन्वय की भावना से समाज को आगे बढ़ाने का संदेश दिया.

Leave a Reply