कमला हैरिस का जीवन परिचय Kamala Harris biography In Hindi

कमला हैरिस का जीवन परिचय Kamala Harris biography In Hindi: भारत के मूल के लोगों ने दुनिया में परचम लहराया हैं. कमला हैरिस भी एक ऐसा ही नाम हैं. दक्षिण भारत से चेन्नई से ताल्लुक रखने वाली कमला अब अमेरिका के उपराष्ट्रपति चुनाव 2020 में डेमोक्रेटिक पार्टी की प्रत्याशी हैं. एक महिला के रूप में उनकी उपलब्धियां सराहने योग्य हैं. आज वह जिस मुकाम तक पहुंची हैं उसके पीछे कड़ी मेहनत और लग्न हैं. आज के जीवन परिचय बिओग्राफी में हम कमला हैरिस के जीवन को विस्तार से समझने का प्रयास करेंगे.

कमला हैरिस का जीवन परिचय Kamala Harris biography In Hindi

कमला हैरिस का जीवन परिचय Kamala Harris biography In Hindi

जीवन परिचय बिंदुKamala Harrist Biography In Hindi
पूरा नामकमला देवी हैरिस
जन्म20 अक्टूबर 1964
जन्म स्थानऑकलेण्ड, केलिफोर्निया
पहचानदिग्गज अमेरिकी राजनेत्री
पार्टी का नामडेमोक्रेटिक पार्टी
जीवनसाथीडूगल्स एम्हॉफ

Kamala Harris का जीवन परिचय, जीवनी, बायोग्राफी

शुरुआत से ही माना जा रहा था कि बाइडेन सीनेटर कमला हैरिस को चुनाव में उपराष्ट्रपति पद के लिए अपना साथी चुनेगे. हालांकि कमला हैरिस को अपने चुनाव प्रचार के दौरान 20 प्रतिशत से ज्यादा पॉइंट्स नहीं मिले हैं लेकिन डेमोक्रेटिक पार्टी के समर्थक क्षेत्रों में वे काफी लोकप्रिय हैं.

कमला हैरिस की लोकप्रियता ख़ास तौर पर महिलाओं और अश्वेत मतदाताओं के बीच काफी अधिक हैं. कमला हैरिस 2017 में अमरीकी सीनेट में कैलीफोर्निया से सीनेटर चुनकर आई. इसके साथ ही वे अमरीकी उच्च सदन में पहुचने वाली दूसरी अश्वेत महिला और पहली दक्षिण एशियाई अमरीकी सीनेटर कहलाई.

इससे पूर्व 2011 में वे केलिफोर्निया की एटोर्नी जनरल चुनी गई. तमिल अमरीकी माता श्यामला गोपालन और जमैकन पिता की संतान कमला हैरिस के माता पिता सेनफ्रांसिस्को युनिवर्सिटी में काम करने के लिए अमेरिका के प्रवासी नागरिक बने. हार्वर्ड युनिवर्सिटी और युनिवर्सिटी ऑफ़ केलिफोर्निया के कॉलेज ऑफ़ लो से शिक्षित हैरिस चुनाव प्रचार के दौरान उक्त दोनों संस्थानों का नाम लेना नहीं भूलती. वे अपने व्यक्तित्व निर्माण में इन दोनों के विशिष्ट प्रभाव का जिक्र करते हुए कहती है कि डिस्ट्रिक्ट एटोर्नी बनने से पूर्व अमरीका में नस्ल और न्याय को लेकर उनकी विचारधारा पर इन दोनों संस्थानों का ही विशेष प्रभाव रहा.

हैरिस 2003 में सेनफ्रांसिस्को की डिस्ट्रिक्ट एटोर्नी चुनी गई. इस पद पर चुनी जाने वाली वे पहली अश्वेत महिला थी. उनका विवाह पेशे से वकील डगलस एम्होफ़ के साथ हुआ. पिछले कुछ माह से लगने लगा था कि बाइडेन कमला हैरिस को ही अपना चुनावी साझेदार चुनेंगे. इस बार के अमरीकी चुनाव में जो बाइडेन के राष्ट्रपति पद पर जीतने की सम्भावनाएं प्रबल है और हैरिस इस सम्भावना को और भी मजबूत करेगी. कमला हैरिस को चुनाव लड़ने का अनुभव भी हैं. इसलिए वे उपराष्ट्रपति पद के लिए उम्मीदवार के तौर पर सामने आने वाली हर चुनौती के लिए तैयार हैं.

उन्होंने पूर्व में अपनी राजनीतिक क्षमताओं को भी प्रदर्शित किया हैं. 55 साल की कमला हैरिस बाइडेन से उम्र में करीब बीस साल छोटी हैं. बाइडेन ने उनका चयन कर अश्वेत मतदाताओं को तो फिलहाल खुश कर ही दिया. हालांकि बाइडेन राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रम्प के प्रति कड़ा विरोधी रवैया दिखाते रहे है लेकिन वे ट्रम्प के समर्थकों के प्रति उतना ज्यादा आलोचनात्मक भी नहीं हैं. लगता हैं कि बाइडेन को कही न कही उम्मीद हैं कि 2016 में रिपब्लिकन पार्टी को चुनने वाले मतदाता इस बार उन्हें वोट दे सकते हैं. हैरिस को गत चुनावों में कमेटी हियरिंग के दौरान ट्रम्प के उम्मीदवारों को अपने वाक्चातुर्य से मात देते देखा गया हैं.

हो सकता है अक्तूबर में उपराष्ट्रपति पद की बहस में कमला हैरिस का गुण फिर से देखने को मिले. दरअसल डेमोक्रेटिक पार्टी के वाम धड़े को कमला कुछ ख़ास पसंद नहीं हैं. उन्हें एक प्रकार से डेमोक्रेट के तौर पर अधिक देखा जाता हैं. मौजूदा परिस्थतियों में जब पुलिस और कानून की विश्वसनीयता सवालों के घेरे में है, कमला का कानूनी प्रष्ठभूमि से होना शायद कुछ लोगों को पसंद न हो. इसलिए फिलहाल यह कहना मुश्किल है कि वे बाइडेन के लिए वामपंथियों का समर्थन जुटा पाएगी या नहीं. ट्रम्प और उनकी टीम उपराष्ट्रपति पद के डेमोक्रेटिक उम्मीदवारी की घोषणा का काफी समय से इंतजार कर रहे थे. जैसे ही बाइडेन ने कमला हैरिस के नाम की घोषणा की, ट्रंप टीम ने उन पर निशाना साधने के लिए बिडेन के खिलाफ उनकी डिबेट का हवाला दिया जो उन्होंने वर्षों पहले कमला की आलोचना की थी.

हैरिस की माता का जन्म चैन्नई में हुआ (Harris’s Mother Was Born in Chennai)

कमला देवी हैरिस एक अमेरिकी राजनेत्री हैं जो भारतीय मूल की हैं. इनका माँ का सम्बन्ध भारत से था. वो चेन्नई की बेटी थी, एक कैंसर शोधकर्ता के रूप में वह अमेरिका गई और वहां जमैका के डोनाल्ड हैरिस से शादी कर ली. हैरिस स्टेनफोर्ड विश्व विद्यालय में प्रोफेसर हैं. जबकि कमला की माँ श्यामला गोपालन हैरिस का देहांत हो चूका हैं. कमला और माया दो बहिने हैं जब ये छोटी थी तभी से इनके माता पिता अलग से रह रहे थे.

कमला की बहिन माया हैरिस (Kamala’s Sister Maya Harris)

कमला हैरिस की माँ श्यामला गोपालन हैरिस का जन्म 7 अप्रेल 1938 को मद्रास में हुआ था. श्यामला गोपालन के दो बेटियां थी, कमला तथा उसकी बहिन माया हैरिस. कमला की बहिन माया भी उसी की तरह कानूनी प्रोफेशन में वकील के रूप में कार्य कर रही हैं.

अमेरिकी उपराष्ट्रपति चुनाव में कमला हैरिस

अमेरिका में अश्वेत समुदाय की कुल हिस्सेदारी 13 प्रतिशत हैं, कमला भी उसी समुदाय से आती हैं. बाइडेन ने कमला को अपना सहयोगी चुनकर इन सभी मतदाताओं को अपनी ओर आकर्षित करने का प्रयास किया हैं. अब तक के अमेरिकी इतिहास में तीन महिलाओं को उपराष्ट्रपति पद के लिए अपनी दावेदारी पेश करने का मौका मिला हैं, अभी तक किसी को सफलता नहीं मिली हैं. इस पद के लिए चुनाव लड़ने वाली यह पहली अश्वेत अमेरिकन भी हैं.

ऐसे कयास भी लगाए जा रहे हैं कि आने वाले कुछ वर्षों में डेमोक्रेट पार्टी इन्हें अपना राष्ट्रपति उम्मीदवार भी बना सकती हैं. अभी कमला की आयु 55 वर्ष हैं तथा आगामी चुनावों तक ये 59 की हो जाएगी. 77 वर्षीय बाइडेन भी अधिक उम्रदराज होने वाले हैं.

अमेरिकी चुनाव में वहा के लोग अभी डेमोक्रेट के प्रति उतने आश्वस्त नहीं हैं. चुनावों से ठीक पहले ट्रम्प ने बेरोजगारों को प्रति माह 300 डोलर और किराया न चुकाने पर घर न खाली कराने जैसे प्रलोभन अमेरिकन को दिए हैं. इससे हो सकता हैं वोटर उनकी तरफ आकर्षित हो. अमेरिकन वोटर के मिजाज को किसी सर्वेक्षण के जरिये भापना सरल नहीं होता हैं. इसका उदाहारण हम पिछले राष्ट्रपति चुनाव में देख चुके हैं. अगस्त में हुए इन चुनावों में 270 सीट बहुमत का आंकड़ा था. एग्जिट पोल हिलेरी क्लिंटन की 273 और डोनल्ड ट्रम्प के 174 दिखा रहे थे. मगर अंतिम समय में जो चक्र घूमा वो हम सभी ने देखा था.

भारत के प्रति कमला हैरिस का नजरिया Kamala Harris’s approach to India

भारत के मूल की अमेरिकी उपराष्ट्रपति उम्मीदवार कमला हैरिस के प्रति भलेही अमेरिका में रह रहे भारतीयों के दिल मे सॉफ्ट कोर्नर रहा हो, मगर आज तक नई दिल्ली के प्रति उनका रिकॉर्ड बेहद खराब रहा हैं. पिछले कुछ समय से वह कश्मीर मुद्दे और नागरिकता संशोधन अधिनियम के सदैव खिलाफ रही हैं. भारत की कश्मीर नीति की भी ये प्रखर आलोचक रही हैं. जब उनसे जम्मू कश्मीर पर भारतीय निर्णय के सम्बन्ध में एक सवाल पूछा गया तो वह बाहरी हस्तक्षेप को खुला समर्थन देती हैं. पिछले साल अक्टूबर में ही उन्होंने कश्मीरियों से कहा था कि वे दुनिया में अकेले नहीं हैं, इस बयान के बाद पाकिस्तानी मिडिया में इन्हें काफी प्रमुखता से दिखाया गया था.

आपकों जानकर ताज्जुब होगा सभी अमेरिकन डेमोक्रेटिक पार्टी से चुने गये भारतीय मूल के अमेरिकी सांसद हमेशा से भारत विरोध में रहे हैं. राजा कृष्णमूर्ति, प्रमिला जयपाल, रो खन्ना, अमी बेरा

और कमला हैरिस ने समय समय पर भारत की नीतियों की कटु आलोचना की थी. प्रमिला जयपाल ने तो भारत से जम्मू कश्मीर में प्रतिबंधों को समाप्त करने का एक प्रस्ताव भी पेश किया था. विदेश मंत्री जयशंकर जब अमेरिका के दौरे पर थे तो उन्होंने जयपाल की समझ को अनुचित कहते हुए उनसे मिलने से स्पष्ट इनकार कर दिया था. इसके बाद तो कमला भी जयपाल के समर्थन में आकर खड़ी हो गई थी.

भारतीय अमेरिकन समुदाय के लोग कमला और प्रमिला की विचारधारा और उनके कार्यों से भली भांति परिचित हैं. जब जब इन दोनों को अवसर मिला ये भारत का नाम लेकर भारतीय मूल के लोगों के वोट पाने की खातिर लुभाने के प्रयत्न करती रही, बहरहाल कमला हैरिस भारत के प्रति सच्ची निष्ठां रखने वाले लाखों अमेरिकन भारतीयों से कई वायदे करे मगर वह अपना अतीत कभी भुला नहीं सकेगी. यदि वह उपराष्ट्रपति बनती हैं तो भारत के प्रति उसका रुख कैसा रहेगा यह देखने वाली बात हैं.

यह भी पढ़े

उम्मीद करता हूँ दोस्तों आपकों कमला हैरिस का जीवन परिचय Kamala Harris biography In Hindi का यह लेख पसंद आया होगा, यदि आपकों कमला हैरिस जीवन परिचय जीवनी कौन है कमला हु इज कमला हैरिस आदि के बारें में दी गई जानकारी अच्छी लगी हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *