kumar vishwas biography | कुमार विश्वास का जीवन परिचय

kumar vishwas biography In Hindi| कुमार विश्वास का जीवन परिचय-47 वर्षीय आधुनिक हिंदी साहित्यकार कवि और आम आदमी पार्टी के संयोजक (संस्थापक सदस्य) बेहद आकर्षक छवि के राजनेता और कवि हैं| कुमार विश्वास के बारे में कहा जाता हैं| उन्होंने अपनी प्रेमिका के लिए कविताएँ लिखना शुरू किया| अन्ना ह्न्जारे के भ्रष्टाचार विरोधी आन्दोलन में सक्रिय भूमिका निभाने के बाद इन्होने राजनीती में कदम रखा| आज के इन्टरनेट युग में इनका नाम सबसे अधिक पसंद किये जाने वाले साहित्यकारों में शुमार हैं| कुमार विश्वास व्यग्य के जरिए अपनी बात कहना पसंद करते हैं| आएये कुमार विश्वास के जीवन परिचय में जानते हैं poem shayari wife age poem list family  और उनके जीवन में अब तक घटित सम्पूर्ण घटनाओं का सक्षिप्त परिचय|

kumar vishwas biography

क्रमांक जीवन परिचय बिंदु  About kumar vishwas
1. पूरा नाम  कुमार विश्वास
2. धर्म हिन्दू
3. जन्म 10 फ़रवरी 1970
4. जन्म स्थान ग़ाज़ियाबाद, उत्तर प्रदेश
5. माता-पिता डॉ॰ चन्द्रपाल शर्मा,रमा शर्मा
6. विवाह  मंजू शर्मा
7. कविताएँ
  • कोई दीवाना कहता है
  • तुम्हे मैं प्यार नहीं दे पाऊँगा
  • ये इतने लोग कहाँ जाते हैं सुबह-सुबह
  • होठों पर गंगा हो, हाथों में तिरंगा हो
  • सफ़ाई मत देना
8. राजनैतिक पार्टी  आम आदमी पार्टी

कुमार विश्वास का जन्म 1970 को बसंत पंचमी के दिन डॉ॰ चन्द्रपाल शर्मा के घर हुआ | इनका पैतृक गाँव पिलखुआ हैं जो उत्तरप्रदेश के गाजियाबाद जिले में पड़ता हैं| कुमार विश्वास के पिता चन्द्रपाल चरण सिंह कॉलेज में प्रवक्ता रह चुके हैं| इनकी माताजी का नाम रमा शर्मा हैं| कुमार विश्वास ने आरम्भिक शिक्षा अपने गाँव पिलखुआ से ही प्राप्त की| पिलखुआ की वर्तमान आयु 47 वर्ष हैं|

Kumar Vishwas Early Life, age

राजपूताना रेजिमेंट इंटर कॉलेज से विशवास ने 12th पास की| पिता चन्द्रपाल शर्मा की इच्छा पर इन्हे इंजिनियरिंग के लिए दाखिला दिलवाया| मगर कुछ ही महीनों बाद उनका मन नही लगा और इंजीनियरिंग में नही लगा और छोड़ दी|

कुमार विश्वास का मन हिंदी साहित्य में अधिक था, इस कारण इन्होने हिंदी साहित्य में ग्रेजुएशन कर ma किया| इसी विषय में विशवास ने पीएचडी के लिए कौरवी लोकगीतों में लोकचेतना विषय पर शोधकार्य आरम्भ किया|

kumar vishwas Career

मात्र 24 वर्ष की उम्र में कुमार विश्वास हिंदी साहित्य के स्टेट प्रवक्ता बन चुके थे| पहली बार 1994 में राजस्थान के हिंदी साहित्य के रूप में अपनी सेवाए आरम्भ की| कुछ वर्षो के बाद इन्होने आचार्य और हिंदी के प्राचार्य के रूप में पढ़ाने का भी कार्य किया|

यदि आज कुमार विश्वास की कवि यात्रा को देखा जाए तो वे बेहद और सक्रिय साहित्यकार हैं| वे हिंदी पत्रिकओं के लिए लिखते हैं और अध्ययन भी करते हैं| कुमार विश्वास कविताओं के अतिरिक्त गीत और शायरी भी लिखते हैं| कई हिंदी सिनेमा की फिल्मों में इनके गानों को आजमाया जा चूका हैं|

कुमार विश्वास ने दत्त की चाय गर्म हिंदी फिल्म में अभिनेता के रूप में अभिनय भी कर चुके हैं| एक नजर कुमार विश्वास के राजनितिक करियर पर|

Kumar Vishwas Political Career

अब तक कुमार विश्वास एक राष्ट्रभक्त और जनचेतना के विषय पर लिखने वाले कवि और शिक्षक थे| जब अन्ना हजारे ने 2011 में जन लोकपाल को लेकर आन्दोलन किया तब कुमार विश्वास हजारे की आम आदमी टीम के मुख्य सदस्य बने| इसके बाद जब अरविन्द केजरीवाल ने आम आदमी पार्टी की नीव रखी तो कुमार विश्वास भी आप के संस्थापक सदस्य बने|

डॉ॰ कुमार विश्‍वास ने 2014 के लोकसभा चुनाव में आप पार्टी की टिकट पर चुनाव लड़ा मगर उन्हें पराजय का सामना करना पड़ा| राहुल गाँधी से हार से पहले उन पर गलत तरीके से पार्टी को फंड देने का आरोप भी लगा|

Kumar Vishwas Poem List

डॉ॰ विश्वास हिंदी के वर्तमान समय के सबसे प्रसिद्ध कवि हैं, इन्टरनेट और सोशल मिडिया पर सबसे अधिक अनुसरण किये जाने वाले पहले कवि हैं| ये अक्सर कविता पाठ और कवि सम्मेलन में सक्रिय रहते हैं| हजारो की संख्या में डॉ॰ विश्वास ने देश विदेश के सम्मेलनों में हिस्सा लिया हैं|

इन्होने भारत के अतिरिक्त अमेरिका, आबुधाबी, दुबई, सिंगापूर, ब्रिटेन, नेपाल जैसे देशो में भी कविता पाठ में हिस्सा लिया हैं| भारत में डॉ॰ विश्वास ने असंख्य कविता पाठों में भाग लिया हैं और ले रहे हैं| आधुनिक हिंदी के साहित्यकार नीरज जी ने इन्हे निशा-नियामक की उपमा दी हैं|

कुमार विश्वास ने कई कविता पुस्तको की रचना की हैं, जिनमे उनकी 2 रचनाए प्रकाशित हो चुकी हैं| इक पगली लड़की के बिन और कोई दीवाना कहता है जैसी पुस्तके आधुनिक और नवींन विषयों पर लिखी गयी हैं| देश दुनिया में घटित किसी भी समयसामयिक घटनाओं पर इनकी कविताएँ अक्सर देखने को मिलती हैं| एक नजर कुमार विश्वास जी की कविताओं पर|

Kumar Vishwas Poems

  • होठों पर गंगा हो, हाथों में तिरंगा हो
  • मैं तो झोंका हूँ
  • बात करनी है, बात कौन करे
  • देवदास मत होना
  • साल मुबारक
  • तुम्हे मैं प्यार नहीं दे पाऊँगा
  • एक पगली लड़की के बिन
  • रंग दुनिया ने दिखाया है
  • हो काल गति से परे चिरंतन
  • महफ़िल महफ़िल मुस्काना तो पड़ता है
  • बाँसुरी चली आओ
  • हार गया तन-मन पुकार कर तुम्हें
  • नेह के सन्दर्भ बौने हो गए
  • उनकी ख़ैरो-ख़बर नहीं मिलती
  • तुम्हारा फ़ोन आया है
  • प्रीतो!
  • मैं तुम्हें ढूंढने स्वर्ग के द्वार तक
प्लीज अच्छा लगे तो शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *