लौंग अनेक रोगों की दवा | Laung & Cloves Benefits In Hindi

Laung & Cloves Benefits In Hindi: लौंग बहुपयोगी मसाला है. भारत में इसका उपयोग खाने के साथ साथ विशेष प्रकार की दवाइयों में भी काम में लिया जाता है. लौंग का इतिहास चीन के साथ जुड़ा हुआ है. इसका सर्वप्रथम उपयोग चीन में ही तीसरी शताब्दी के आस-पास शुरू हुआ था.

लौंग के फायदों (Cloves Benefits) को देखते हुए इन्हें विश्व के कई देशों में फसल की तरह उगाया जाता है. इसका वृक्ष होता है. अच्छी किस्म के लौंग के पेड़ से तीन से चार किलों तक लौंग प्राप्त किये जाते है. इस वृक्ष के बारे में जानकर आपकों आश्चर्य होगा. ये चार से 5 पांच ही ऊँचे होते है, मगर एक सौ पचास साल तक इसका पौधा लौंग देता है. 6 वर्ष का होने पर इसके फूल लगना आरम्भ होते है. जो 15 से 30 वर्ष का वृक्ष होने पर भरपूर पैदावार देता है. इस बारे में अधिक गहराई में जाने की बजाय हम लौंग के फायदे व नुकसान (Cloves Benefits nuksan in hindi) के बारे में आपकों बता रहे है.

Cloves Benefits In Hindi |(Laung) लौंग के फायदे  Cloves Benefits In Hindi

laung khane ke fayde

  1. मुख की दुर्गन्ध (mouth spray)– मुह से दुर्गन्ध पूर्ण बास आती है तों लौंग मुह में रखकर चूसें. कुछ ही दिनों में दुर्गन्ध से मुक्ति मिल जाएगी.
  2. पेट का दर्द (Stomach ache) – पेट दर्द कर रहा है तो 8-10 लौंग पीसकर पानी में उबाले फिर पानी को आंच से नीचे उतार लें. जब हल्का गर्म रहे तो रोगी को पिलाए. पेट दर्द में आराम मिलेगा.
  3. खाँसी (Cough)– लौंग, काली मिर्च और बहेड़ा तीनों को बराबर मात्रा में लेकर उतना ही सफ़ेद कत्था मिलाएं. अच्छी तरह पीसकर बबूल के छाल के काढ़े में घोटियें और छोटी छोटी गोलिया बना ले. एक एक गोली मुह में रखकर चूसें. खासी बंद हो जाएगी.
  4. बुखार में उपयोगी (fever)– बुखार होने पर मरीज को लौंग और चिरायता बराबर मात्रा में लेकर पानी में पीस लें और दिन में तीन चार बार पिलाएं, बुखार उतर जाएगा.
  5. अत्यधिक प्यास लगने पर (Excessive thirst)- लौंग को जल में पीसकर गुनगुने जल में मिलाकर पियें. बार बार प्यास नही लगेगी.
  6. दांत का दर्द (teeth pain)– दांत अत्यधिक दर्द करता हो तो लौंग का तेल लगायें. यदि दांत में कीड़े है तो वो ऐसा करने से नष्ट हो जाएगे.
  7. कान में दर्द (pain in ear)– किसी तरह के कीड़े या जीवाणु यदि कान में दर्द करने लगे तो लौंग दर्द करने में अत्यधिक प्रभावी है. लौंग एवं तिल के थोड़े से तेल को लेकर थोड़ा गर्म करे. अब इस मिश्रण में रुई को अच्छी तरह भिगोकर कान के छिद्र पर रख देवे. कुछ ही पलों में रोगी को कान के दर्द से तुरंत आराम महसूस होगा.
  8. मुहासों के ईलाज में कारगर (Acne)– लौंग का तेल त्वचा व चेहरे पर मुहासे के इलाज में कारगर उपाय है. यह न सिर्फ ACNE को जड़ से समाप्त करता है, बल्कि इसकें निशानों को भी मिटा देता है. इसके संक्रमण को रोकने में भी प्रभावी है. इसके लिए 1 मिलीलीटर लौंग के तेल में इसका दस गुना नारियल का तेल मिलाए और दिन में तीनों पहर चेहरे पर लगाए, कुछ ही दिनों में आपकों इसका परिणाम नजर आने लगेगा.

laung khane ke Nuksan (लौंग के नुक्सान)

जैसा कि उपर के विवरण से स्पष्ट हो चूका है. कि लौंग बहुपयोगी घरेलू औषधि है. मगर सही आवश्यकता व लापरवाही से इसका उपयोग करने पर यह शरीर को नुकसान भी पंहुचा सकता है.

यदि आवश्यकता से अधिक लौंग खाया जाए तो यह आपके गुर्दे व आँतों को बड़ा नुकसान पहुचा सकता है. लगातार इसके सेवन से रक्त अत्यधिक पतला हो सकता है. जिससे रक्तस्राव की समस्या से जूझना भी पड़ सकता है.

विशेष कर डायबिटीज के रोगी को लौंग के सेवन से पूर्व चिकित्सकीय परामर्श अवश्य लेना चाहिए. क्योंकि यह मधुमेह के रोगियों के डायबिटीज स्तर को कम या अधिक कर सकता है. तथा शरीर के किसी भी भाग में हल्की जलन की समस्या भी हो सकती है.

लौंग के निरंतर सेवन से काम उत्तेजना पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है तथा स्वप्न दोष से पीड़ित व्यक्ति को भी सोच समझकर लौंग का सेवन करना चाहिए. प्रसूता महिला को इस विषय में बिना डोक्टर की मदद के लौंग के इस्तमोल से बचना चाहिए.

लौंग के कई सारे फायदे है, कुछ नुकसान विशेष परिस्थति वाले लोगों को हो सकते है. एक सामान्य व्यक्ति के लिए लौंग किसी भी सामान्य बिमारी में अंग्रेजी दवाई से अधिक मदद कर सकता है.

इसलिए इसका उपयोग किया जाना स्वास्थ्य के लिए लाभदायक है.

READ MORE:-

मित्रों उम्मीद करता हु, Laung & Cloves Benefits In Hindi का यह लेख आपकों पसंद आया होगा. Cloves In Hindi के इस लेख में दी गई जानकारी आपकों अच्छी लगी हो तो प्लीज इसे सोशल मिडिया पर अपने दोस्तों के साथ अधिक से अधिक शेयर करे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *