Maa Baap Shayari | माँ बाप शायरी

Maa Baap Shayari में अपने माता-पिता के लिए  poem, quotes, poetry hindi तथा उर्दू भाषा की 35 से अधिक नई और बेहतरीन शेरो शायरी sms पढ़ने को मिलेगे. जिन्हें आप मदर्स डे, फादर्स डे या माता-पिता के जन्मदिवस अवसर पर उन्हें भेजकर आशीर्वाद ले सकते हैं.

Maa Baap Shayari | माँ बाप शायरी

जिनके होठो पर मुस्कान होती हैं क्रोध को
लेकर भी प्यार करती हैं. जिसके होठो पर
दुआ होती हैं. ऐसा करने वाली सिर्फ माँ होती हैं.
(माँ की ममता पर शायरी)

—————————————————————————————

बिजली चमकती हैं तो आकाश बदल देती हैं
आंधी उठती हैं तो दिन रात बदल देती हैं
जब गरजती हैं नारी शक्ति तो
इतिहास बदल देती हैं.
(नारी शक्ति पर शायरी)

——————————————————————————————–

घर में सब अपना प्यार दिखाते हैं
पर कोई बिना दिखाए भी
इतना प्यार क्यों किये जा रहे हैं वो हैं मेरे पापा
(पापा पर शायरी) 

————————————————————————————————-

चाँद से ज्यादा, चांदनी अच्छी लगती हैं
आपसे ज्यादा आपकी मुस्कान अच्छी लगती हैं माँ
(माँ का प्यार)

—————————————————————————————————

खिलते हुए फूल का दामन हो आप
हकीकत में बहुत खुबसूरत होगी
ममता प्यार के मन्दिर में
तो उस मन्दिर की प्यारी मूरत हो आप
(mom shayari)

——————————————————————————————————-

अपना सपना पूरा हो न हो अपने माँ बाप
के सपनों को कभी ख़ाक में मत मिलाना
(Quotes On Maa Baap)

—————————————————————————————————–

नीद अपनी भुलाकर सुलाया हैं जिसने
आंसू अपने गिराकर सुलाया हैं जिसने
दर्द मत देना उस खुदा की मूर्त को
यह दुनिया कहती हैं जिनको माँ
(माँ पर शायरी )

———————————————————————————————————–

माँ बाप का दिल जीत लो
कामयाब हो जाओगे
वर्ना सारी दुनिया जीत
लो हार जाओगे.
(maa baap in hindi)

————————————————————————————————————

Top Maa Baap Shayari& SMS in Hindi

दिनभर काम करने के बाद पापा
पूछते हैं कितना कमाया?
बीवी पूछती हैं कितना बचाया?
बेटा पूछता हैं क्या लाए? लेकिन
माँ ही पूछती हैं बेटा कुछ खाया?
(माँ पर छोटी कविता)

———————————————————

दोनों समय का भोजन माँ बनाती है,
जीवन भर भोजन का प्रबंध करने वाले,
पापा को हम सहज ही भूल जाते हैं,
कभी चोट या ठोकर लगे तो ओह माँ
मुह से निकल जाता हैं.
लेकिन रास्ता पार करते कोई ट्रक पास
आकर ब्रेक लगाए तो बाप रे मुह से निकलता हैं
क्युकि छोटे छोटे संकट माँ के लिए हैं
पड़े संकट आने पर पापा ही याद आते हैं.
पिता वह वटवृक्ष हैं जिसकी शीतल छाँव में
पूरा परिवार चैन से जीता हैं.
(माँ की ममता पर छोटी कविता)

———————————————————————

परिवार से बड़ा कोई धन नही,
पिता से बड़ा कोई सलाहकार नही,
माँ की छाँव से बड़ी कोई दुनिया नही,
भाई से अच्छा कोई भागिदार नही,
इसलिए परिवार के बिना तो कोई जीवन नही
(रिश्ते पर शायरी)

—————————————————————

जरुरत में मेरी आपकी कोशिशे कामयाब होती हैं,
माँ के पास अश्रुधारा हैं, तो पिता के पास संयम होता हैं.
(पिता शायरी)

————————————————————————-

हम इतने कहा हैं काबिल
माँ के पावन चरणों को धोए
प्यारी तुम्हारी सूरत हम सबके
मन को मोह आए
(माँ का प्यार)

———————————————————————

माँ सर्दी में धूप
.माँ धूप में छाया
माँ गंगा की धारा
जीवन का सहारा
चाँद का किनारा
इससे दूजा दुनिया में कोई प्यारा नही
सम्यक सहारा
निराशा में आशा
माँ की करे हम पूजा
माँ सा देव न दूजा
(माँ की ममता शायरी)

————————————————————–

Maa Baap Shayari Hindi

जिन्दगी में दो लोगों का बहुत ख्याल रखना..
एक तो वो जिसने आपकी जीत के लिए…
सब कुछ हारा हो..
दूसरा वो जिसको आपने हर
दुःख में पुकारा हो..
(Maa Baap Ka Mahatav)

———————————————————

माँ भले ही पढ़ी लिखी हो या नही. पर संसार का दुर्लभ व् महत्वपूर्ण ज्ञान माँ से ही प्राप्त होता हैं. (Quotes On Mother)

———————————————————–

पेड़ तो अपना फल खा नही सकते इसलिए हमे देते हैं.
पर अपना पेट खाली रखकर भी मेरा पेट भरते जा रहे हैं.
(father quotes)

——————————————————————-

मै तो सिर्फ अपनी खुशियों में हंसती हु,
पर मेरी ख़ुशी देखकर
कोई अपने गम भुलाए जा रहा हैं.
वो हैं मेरे पापा (पिता पर शेरो शायरी)

—————————————————————

घर में हर कोई अपना प्यार दिखाता हैं,
पर कोई बिना दिखाएं भी इतना प्यार किये
जा रहा हैं. वो हैं मेरे पापा (पापा शायरी)

—————————————————————

सपने तो मेरे हैं पर उन्हें पूरा
करने का रास्ता कोई और बताएं जा
रहा हैं, वो हैं मेरे पापा

—————————————————————–

मै अपने बेटे शब्द को सार्थक बना सका
या नही पता नही
पर कोई बिना स्वार्थ के अपने
पिता शब्द को सार्थक बनाए जा रहा हैं.

माँ बाप की शायरी इन हिंदी

मुझे इस दुनिया में लाया
मुझे बोलना चलना सिखाया
ओ माता-पिता तुम्हे वन्दन
मैंने किस्मत में तुम्हे पाया
..
मै जब से जग में आया
बने तब से शीतल छाया
कभी सहलाया गोदी में
कभी कन्धो पे बिठाया
मेरे सर पर हाथ रखकर
बस प्यार ही प्यार लुटाया
..
मै उठकर चल पाऊ
इस लायक तुमने किया
कभी हाथ न फैलाऊ
इस लायक बनाया
मुझे जग की रीत सिखाई
मुझे धर्म का पाठ पढ़ाया

—————————————————————–

इस तरह मेरे गुनाहों को धो देती हैं माँ
जब बहुत गुस्से में होती हैं तो रो देती हैं
लफ्जो पे इसके कभी बददुआ नही होती
बस एक माँ ही हैं जो कभी खफा नही होती.

—————————————————————

माँ बाप के बिना जिन्दगी अधूरी हैं,
माँ अगर धूप से बचाने वाली छाँव हैं
तो पिता ठंडी हवा का वह झोका हैं
जो चेहरे से शिकवा की बूंदों को सोख लेता हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *