Manikya Lal Verma Biography In Hindi | माणिक्यलाल वर्मा का जीवन परिचय

Manikya Lal Verma Biography In Hindi माणिक्यलाल वर्मा का जीवन परिचय: माणिक्यलाल वर्मा का जन्म 1897 ई में बिजौलिया ठिकाने के एक कायस्थ परिवार में हुआ. शिक्षा समाप्त कर ये बिजौलिया ठिकाने की नौकरी करने लगे. विजयसिंह पथिक की प्रेरणा से इन्होने ठिकाने की नौकरी छोड़ दी और किसान आंदोलन में सम्मिलित हो गये. इन्होने अपने भाषणों एवं कविता द्वारा किसानो में जागृति पैदा की.Manikya Lal Verma Biography In Hindi | माणिक्यलाल वर्मा का जीवन परिचय

Manikya Lal Verma Biography In Hindi

कुछ समय तक इन्होंने बिजौलिया किसान आंदोलन का नेतृत्व किया. वर्माजी ने 1934 ई में अजमेर से सात मील दूर नारेली नामक एक छोटे से गाँव में सेवाश्रम खोला, जिसका उद्देश्य रचनात्मक कार्यों के लिए कार्यकर्ताओं को तैयार करना था. 1934 ई में भीलों के उत्थान के लिए ये डूंगरपुर गये. वहां उन्होंने एक पाठशाला खोली.

1938 ई में वर्माजी पुनः मेवाड़ लौटे. 1938 ई में इन्होने हरिपुरा कांग्रेस अधिवेशन में भाग लिया, जहाँ कांग्रेस ने रियासतों के प्रति अपनी नीति की घोषणा की. 24 अप्रैल 1938 ई को वर्माजी के सक्रिय सहयोग से मेवाड़ प्रजामंडल की स्थापना हुई. कुछ समय बाद इन्हें मेवाड़ से निष्कासित कर दिया गया. वर्माजी ने मेवाड़ राज्य में नागरिक अधिकारों के लिए संघर्ष छेड़ा.

तथा अजमेर से मेवाड़ का वर्तमान शासन नामक एक छोटी सी पुस्तिका प्रकाशित की, जिससे मेवाड़ सरकार क्रुद्ध हो गई. 2 फरवरी 1939 को वर्माजी को देवली के निकट ऊँचा गाँव से गिरफ्तार कर मेवाड़ सीमा में लाया गया तथा उनके साथ अमानुषिक व्यवहार किया गया.

माणिक्यलाल वर्मा ने मेवाड़ प्रजामंडल के प्रतिनिधि के रूप में अखिल भारतीय कांग्रेस समिति के 8 अगस्त 1942 के ऐतिहासिक सत्र में भाग लिया. उदयपुर पहुचकर इन्होने प्रजामंडल के कार्यकर्ताओं से विचार विमर्श किया और 24 घंटे के भीतर महाराणा को ब्रिटिश सरकार से सम्बन्ध विच्छेद करने या जन आंदोलन का सामना करने की चेतावनी दे दी.

सरकार ने मेवाड़ प्रजामंडल की कार्यकारिणी के सभी सदस्यों को गिरफ्तार कर लिया एवं वर्माजी पर चेतावनी वापिस लेने का दवाब डाला गया. लेकिन वर्माजी ने चेतावनी वापिस लेने से इनकार कर दिया. मेवाड़ में विधानसभा एवं संविधान लागू करने के लिए भी वर्माजी ने काफी जोर दिया.

स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद वह वृहत्तर राजस्थान के प्रधानमंत्री बने, मृत्यु पर्यन्त लोगों की सेवा करते हुए 14 जनवरी 1969 को वर्माजी परलोक सिधारे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *