मातृ नवमी कब है तिथि महत्व एवं कथा | Matra Navami Tithi Importance Kahani In Hindi

मातृ नवमी कब है 2018 तिथि महत्व एवं कथा | Matra Navami Tithi Importance Kahani In Hindi

Matra Navami 2018 इस साल 2 अक्टूबर 2018 मंगलवार को हैं. आश्विन कृष्ण पक्ष की नवमी को मातृ नवमी कहा जाता हैं. जिस प्रकार पुत्र अपने पिता, पितामह आदि पूर्वजों के निमित पितृपक्ष में तर्पण करते हैं, उसी उसी प्रकार सदगृहस्थों की पुत्र वधुएँ भी अपनी दिवंगता सास, माता आदि के निमित्त पितृपक्ष की प्रतिपदा से लेकर नवमी तक तर्पण कार्य करती हैं. नवमी के दिन स्वर्गवासी माँ तथा सास की आत्मा की शान्ति के लिए ब्राह्मणी को दान दिया जाता हैं. मातृ नवमी को माता के श्राद्ध करने का विधान हैं. इस तिथि को सधवा अथवा पुत्र पुत्रवती स्त्रियों को भोजन कराना पूण्यकारी माना गया हैं.

Matra Navami Tithi Importance Kahani In Hindi

मातृ नवमी कब है तिथि महत्व एवं कथा | Matra Navami Tithi Importance Kahani In Hindi

नवमी श्राद्ध का महत्त्व (Matra Navami Importance)

डोकरा नवमी एवं सौभाग्यवती श्राद्ध मातृ नवमी को ही कहा जाता हैं. हिन्दू धर्म की मान्यता के अनुसार हर एक कर्तव्यपरायण सन्तान के लिए श्राद्ध पक्ष का विशेष महत्व हैं. आश्विन कृष्ण पक्ष की प्रतिपदा से पितृपक्ष की शुरुआत हो जाती हैं. इन 16 दिनों के दौरान परलोक को गमन अपने माता-पिता तथा रिश्तेदारों के श्राद्ध किये जाते हैं. कहा जाता हैं इन 16 दिन की अवधि में यमराज गत आत्मा को अपने बंधन से मुक्त कर देता हैं ताकि वे अपने स्वजनों द्वारा किये जा रहे श्राद्ध को स्वीकार कर सके.

मातृ नवमी की शुरुआत आश्विन माह के कृष्ण पक्ष की नवमी तिथि से होती हैं. जिस विशेष दिन अपनी माता या सास का परलोक गमन हुआ हो उस दिन श्रद्धाजंलि देकर दान पूण्य किया जाता हैं. इस दिन बहुओं अथवा पुत्रवधुओं द्वारा व्रत रखा जाता हैं. मातृ नवमी का यह श्राद्ध कर व्रत रखने से सौभाग्य, धन, संपत्ति व ऐश्वर्य की प्राप्ति होती हैं.

2018 में मातृ नवमी कब है तिथि व समय (Matra Navami 2018 date time)

Navami Shraddha 2018 की तिथि 2 अक्टूबर मंगलवार हैं. इस दिन के शुभ मुहूर्त की बात की जाए तो नवमी को तीन मुहूर्त कुतुप, रौहिण एवं अपराह्न पड़ रहे हैं. जिनका समय तथा कुल अवधि इस प्रकार रहने वाला हैं.

  • कुतुप मुहूर्त का समय 11:51 बजे से 12:38 बजे तक कुल अवधि 46 मिनट
  • रौहिण मुहूर्त का समय 12:38 बजे से  13:25 बजे तक कुल अवधि 46 मिनट
  • अपराह्न् मुहूर्त का समय 13:25 बजे से 15:45 बजे तक कुल अवधि 2 घंटा 20 मिनट

2018 Navami Shraddha, Matra Navami Shradh Date and Time

  1. नवमी तिथि लगने का समय = 13:47 बजे 2 अक्टूबर 2018
  2. नवमी तिथि की समाप्ति का समय = 11:40 बजे 3 अक्टूबरः 2018

मातृ नवमी के श्राद्ध की विधि (Matra Navmi Shradh Vidhi)

  • श्राद्धकर्ता को सवेरे जल्दी उठने के बाद अपने नित्यादी कर्मों से निवृत होकर दक्षिण दिशा में अपनी स्वर्गवासी माँ अथवा सास की तस्वीर या फोटो लगानी चाहिए.
  • इस दिन हरे वस्त्र पर मूर्ति स्थापित करने के पश्चात शुभ मुहूर्त में तिल के तेल का दीपक जलाएं, सुगधित धूप करें, जल में मिश्री और तिल डालकर अपनी माता का तर्पण करे.
  • इसके पश्चात कुशासन पर बैठकर गीता के नौवे अध्याय का पाठन करे.
  • अपने सामर्थ्य के अनुसार ब्रह्मनियों को भोजन कराकर दान दक्षिणा देकर उन्हें विदा करे.
  • इस तिथि को कोई भोजन करने वाला न मिलने की स्थति में आटा, चीनी, घी, फल, आलू, नमक, दाल आदि किसी भूखे को अथवा मंदिर में दे देना चाहिए.

READ MORE:-

इंदिरा एकादशी कथा महत्व और पूजा विधि | Indira Ekadashi Vrat Katha Maha... इंदिरा एकादशी कथा महत्व और पूजा विध...
बछबारस की कथा कहानी व्रत पूजा विधि | Bach Baras Katha in Hindi... बछबारस की कथा कहानी व्रत पूजा विधि ...
प्रबोधिनी एकादशी व्रत कथा | prabodhini ekadashi vrat katha In Hindi... प्रबोधिनी एकादशी व्रत कथा | prabodh...
मंगला गौरी व्रत कथा पूजन विधि एवं महत्व | Mangla Gauri puja vrat mahat... मंगला गौरी व्रत कथा पूजन विधि एवं म...
प्लीज अच्छा लगे तो शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *