स्वतंत्रता का अर्थ एवं परिभाषा | Meaning Of Liberty In Hindi

स्वतंत्रता का अर्थ एवं परिभाषा | Meaning Of Liberty In Hindi: स्वतंत्रता अंग्रेजी शब्द लिबर्टी (Liberty) का हिंदी रूपांतरण हैं. जिसका अर्थ है बन्धनों का अभाव या मुक्ति. यह इच्छानुसार कार्य करने की छूट हैं. व्यापक रूप में स्वतंत्रता एक शब्द नहीं हैं. भारतीय राष्ट्रीय आंदोलन में असंख्य लोगों द्वारा अपना प्राणोत्सर्ग स्वतंत्रता प्राप्ति के लिए किया गया पवित्र त्याग था. अमेरिकी स्वतंत्रता संग्राम हो या फ्रांस की राज्य क्रांति सभी का केन्द्रीय पक्ष स्वतंत्रता प्राप्ति ही था.स्वतंत्रता का अर्थ एवं परिभाषा | Meaning Of Liberty In Hindi

स्वतंत्रता क्या है मीनिंग व परिभाषा बताए Meaning Of Liberty In Hindi

Liberty Meaning in Hindi, Definition of Liberty in Hindi: संसद का इतिहास स्वतंत्रता के लिए संघर्ष का इतिहास रहा हैं. एक सभ्य राजव्यवस्था की प्रथम कसौटी एवं लोकतंत्र का बीजमंत्र मानी जाने वाली यह अवधारणा मनुष्य के जीवन में कितनी महत्वपूर्ण हैं, पेटिक हेनरी के शब्दों से स्पष्ट हो जाती हैं. ” मुझे स्वतंत्रता दीजिए या मृत्यु”

बाल गंगाधर तिलक के शब्दों में स्वतंत्रता के लिए अनवरत संघर्ष का प्रतीक है. स्वतंत्रता मेरा जन्मसिद्ध अधिकार हैं, और मैं इसे लेकर ही रहूँगा. इतिहासकार रिची के अनुसार जीवन के अधिकार के बाद साधारणतया स्वतंत्रता के अधिकार का नाम लिया जाता हैं.  और बहुत से व्यक्तियों के लिए प्राथमिक और सबसे आवश्यक अधिकार हैं.

आदर्श दृष्टिकोण में मनुष्य की स्वतंत्रता की खोज मानव इतिहास की केन्द्रीय धारा और मानवमात्र की सर्वश्रेष्ठ आकांक्षा रही हैं. इसकी पूर्ति हेतु वह सदैव प्रयत्नशील रहता हैं. यह अन्य साधन प्राप्ति हेतु साधन मात्र नहीं बल्कि स्वयं सर्वोच्च साध्य हैं. इस साध्य की प्राप्ति हेतु वह अपने जीवन का सर्वोच्च बलिदान देने के लिए तत्पर रहता हैं.

what is concept & the meaning of liberty in hindi

जिस शब्द या आंदोलन के इर्द गिर्द मानव सभ्यता व्याकुल है आखिर वह क्या है. केवल बन्धनों का अभाव स्वतंत्रता है तो मनुष्य परस्पर संघर्षों से नष्ट हो जाएगा, सबल या सक्षम ही स्वतंत्र होंगे बाकी उनके अधीन तो फिर स्वतंत्रता क्या.

स्वतंत्रता व्यक्ति की अपनी इच्छानुसार कार्य करने की शक्ति का नाम है. इस दौरान दूसरे व्यक्तियों की इसी प्रकार की स्वतंत्रता में कोई बाधा नहीं पहुचे. इस प्रकार स्वतंत्रता के दो विचार हुए- एक बन्धनों का अभाव, दूसरा युक्तियुक्त बंधनों का होना. इन दोनों विचारों पर दृष्टिपात आवश्यक हैं.

स्वतंत्रता का नकारात्मक अर्थ (Negative meaning of liberty & what is the meaning of statue of liberty in hindi)

यह वह स्थिति है जिसमें कोई बंधन नहीं होता है. व्यक्ति को मनमानी करने की छूट हो. समझौतावादी विचारक होब्स के अनुसार, स्वतंत्रता का अभिप्राय निरोध व नियंत्रण का सर्वथा अभाव है. रूसो भी इसी अवधारणा से प्रेरित था. व्यक्तिवादी विचारक भी स्वतंत्रता के इसी स्वरूप का समर्थन करते हैं.

जे एस मिल इसी वर्ग में शामिल चिंतक है जो कहते है अन्तः करण विचार, धर्म, प्रकाशन, व्यवसाय, दूसरों से सम्बन्ध बनाने के क्षेत्र में व्यक्ति को निर्बाध छोड़ देना चाहिए. इसी क्रम में मिल कहता है- राज्य को व्यक्ति के निजी कार्यों में हस्तक्षेप नहीं करना चाहिए. नकारात्मक अवधारणा मानती है कि.

  1. प्रतिबंधों का अभाव ही स्वतंत्रता है,
  2. राज्य का कार्यक्षेत्र बढने से व्यक्ति की स्वतंत्रता सीमित होती हैं.
  3. कम से कम शासन करने वाली सरकार अच्छी हैं.
  4. मानव विकास के लिए खुली प्रतियोगिता का सिद्धांत हितकर हैं.
  5. सरकार द्वारा समर्थित संरक्षण व्यक्तिगत हित में ठीक नहीं हैं.

वैश्वीकरण के वर्तमान सभ्य युग में, जहाँ मनुष्य परस्पर निर्भर हैं. स्वतंत्रता का यह अर्थ तार्किक नहीं है. समाज में रहते हुए मनुष्य को अनेक मर्यादाओं का पालन करना पड़ता है. वह असीमित स्वतंत्रता का उपभोग नहीं कर सकता हैं.

स्वतंत्रता का सकारात्मक अर्थ (Positive meaning of liberty &  meaning of liberty in indian constitution)

मनुष्य अपने लिए उन परिस्थियों का निर्माण करे, जो उसके विकास के साथ साथ साथी नागरिकों के लिए भी ऐसी परिस्थतियाँ गढ़ सके. स्पेंसर के अनुसार- प्रत्येक व्यक्ति वह सब कुछ करने के लिए स्वतंत्र है जिसकी वह इच्छा रखता हैं. यदि वह इस दौरान अन्य व्यक्ति की समान स्वतंत्रता का हनन न करता हो.

पेन के शब्दों में स्वतंत्रता उन बातों को करने का अधिकार हैं. जो दूसरों के अधिकारों के विरुद्ध न हो. महात्मा गांधी स्वतंत्रता को नियत्रण के अभाव के रूप में नहीं बल्कि व्यक्तित्व के विकास की अवस्था की प्राप्ति के रूप मे देखते हैं.

इस रूप में स्वतंत्रता का अर्थ उन परिस्थतियों से है, जो व्यक्ति को एक उन्मुक्त जीवन जीने तथा जीवन को सुरक्षित रख सके. उसको जीवन यापन के संसाधन जुटाने के अवसर प्राप्त हो, वह अपने विचारों को प्रकट कर सके तथा व्यक्तिगत सर्वागीण विकास प्रकट कर सके. स्वतंत्रता सकारात्मक स्वरूप में इसकी पक्षधर है कि.

  1. स्वतंत्रता पर युक्तिपरक प्रतिबन्ध आवश्यक हैं.
  2. समाज व व्यक्ति के हित परस्पर निर्भर हैं.
  3. स्वतंत्रता का सही स्वरूप राज्य के कानून पालन में हैं.
  4. राजनीतिक एवं नागरिक स्वतंत्रता का मूल्य आर्थिक स्वतंत्रता के बिना निरर्थक हैं.
  5. स्वतंत्रता के अस्तित्व को स्वीकार करने के लिए दूसरों को स्वतंत्रता देना आवश्यक हैं.

स्वतंत्रता के प्रकार (Types of liberty in hindi)

प्राकृतिक स्वतंत्रता (natural liberty meaning in hindi)

मनुष्य को स्वतंत्रता का यह रूप मनुष्य या किसी मानवीय संस्था से प्राप्त नहीं होता है बल्कि प्रकृति प्रदत्त है. यह प्रकृति द्वारा मनुष्य के जन्म के साथ ही उसके व्यक्तित्व में निहित हैं. व्यक्ति स्वयं भी उसका हस्तांतरण नहीं कर सकता हैं. यह स्वतंत्रता राज्य के अस्तित्व में आने से पूर्व की अवस्था है इसका मानना है कि राज्य की स्थापना के साथ ही यह स्वतंत्रता धीरे धीरे विलुप्त हो जाती है. रूसो ने इसलिए तो कहा है मनुष्य जन्म से स्वतंत्र होता है किन्तु वह सर्वत्र बन्धनों में जकड़ा रहता हैं. समझौतावादी विचारक इस स्वतंत्रता के समर्थक थे.

निजी/ व्यक्तिगत स्वतंत्रता (Personal liberty meaning hindi)

मनुष्य को अपने निजी कार्यों में स्वतंत्रता होनी चाहिए. उसके व्यक्तिगत कार्यों पर केवल समाज हित में ही बंधन लगाए जा सकते हैं. लोकतांत्रिक देशों में नागरिकों को निजी स्वतंत्रता का बहुत महत्व स्वतंत्रता का रूप हैं. उन्हें अपनी पसंद, विचार, अभिव्यक्ति और मूल्यों के अनुसार जीवन जीने की स्वतंत्रता होती हैं. वेशभूषा, खान पान, रहन सहन, परिवार धर्म आदि क्षेत्रों में व्यक्ति को पूर्ण स्वतंत्रता होनी चाहिए. निजी स्वतंत्रता मनुष्य की जीवन शैली से सम्बन्धित हैं. इसका प्रभाव जैसे ही समाज पर पड़ना आरम्भ हो जाता है इस पर नियंत्रण अपेक्षित हैं.

नागरिक स्वतंत्रता (civil liberty meaning hindi)

एक नागरिक होने के कारण मनुष्य को उस देश में मिलने वाली वे स्वतंत्रताए जिन्हें समाज स्वीकार करता है और राज्य मान्यता प्रदान कर संरक्षण देता हैं. हमारे देश में ये स्वतन्त्रताए मूल अधिकारों के रूप में संविधान में सम्माहित की गई है. गेटिल के अनुसार स्वतंत्रता उन अधिकारों और विशेषाधिकारों को कहते है, जिनकों राज्य अपने नागरिकों के लिए उत्पन्न करता हैं और रक्षा करता हैं.

राजनीतिक स्वतंत्रता (meaning of liberty in political science in hindi)

राज्य के कार्यों व राजनीतिक व्यवस्था में हिस्सेदारी का नाम राजनीतिक स्वतंत्रता है. गिलक्राइस्ट इसे लोकतंत्र का दूसरा नाम बताते हैं. यह वह स्वतंत्रता है जिसमें प्रत्येक नागरिक को मतदान करने, चुनाव में हिस्सा लेने एवं सार्वजनिक पदों पर नियुक्ति पाने का अधिकार हैं.

आर्थिक स्वतंत्रता (Economic liberty meaning hindi)

आर्थिक स्वतंत्रता से अभिप्राय है कि व्यक्ति का आर्थिक स्तर ऐसा होना चाहिए, जिसमें वह स्वाभिमान के साथ बिना वित्तीय चुनौतियों का सामना किये, स्वयं व परिवार के जीवन का निर्वाह कर सके. यह आर्थिक सुरक्षा भी है. इसमें आर्थिक आधार पर विषमताओं को कम करने के प्रयास भी शामिल है. जिसमें शोषण का दायरा न्यूनतम हो, व्यक्ति आर्थिक गुलामी की अवस्था में न हो. सभी को आर्थिक उन्नति के समान अवसर प्राप्त हो, व्यवसाय चुनने एवं रोजगार की स्वतंत्रता हो, जिससे वह गरिमापूर्ण जीवन जी सके.

धार्मिक स्वतंत्रता (Religious liberty meaning hindi)

इसका सम्बन्ध अंतकरण से हैं. यह व्यक्ति को किसी भी धर्म को मानने आस्था व आचरण की छुट देता है. इस स्वतंत्रता में धर्म के संस्कार, रीती रिवाज पूजा के तरीके, संस्थाओं के गठन व धर्म के प्रचार की आजादी देता हैं. धर्म के नाम पर कानून व्यवस्था भंग करना या बलात धर्म परिवर्तन करने की अनुमति इस स्वतंत्रता में नहीं हैं.

नैतिक स्वतंत्रता (Ethical liberty meaning hindi)

इसका सम्बन्ध व्यक्ति के चरित्र, नैतिकता एवं औचित्यपूर्ण व्यवहार से हैं. अंतःकरण व नैतिक गुणों से प्रभावित होकर जब व्यक्ति कार्य करता है तो वह नैतिक स्वतंत्रता है. स्वार्थ, लोभ, घ्रणा, दुराभाव जैसी चारित्रिक दुर्बलताओं के वशीभूत होकर कार्य करने वाला व्यक्ति नैतिक परतन्त्रता की श्रेणी में आता हैं.

सामाजिक स्वतंत्रता (Social liberty meaning hindi)

सामाजिक स्वतंत्रता सामाजिक समानता व न्याय की जननी मानी जाती हैं. मनुष्य के साथ जाति वर्ग, वर्ण, लिंग, धर्म, नस्ल आदि के आधार पर भेदभाव न किया जाना व समान व्यवहार करना सामाजिक स्वतंत्रता है. हमारे संविधान में समता का अधिकार इसी स्वतंत्रता को पुख्ता करने के लिए दिया गया हैं. कानून के समक्ष समता व समान क़ानूनी संरक्षण प्राप्त हो, यही सामाजिक स्वतंत्रता हैं.

राष्ट्रीय स्वतंत्रता (National liberty meaning hindi)

कोई राष्ट्र जब सम्प्रभु राज्य बन जाता है तो यही राष्ट्रीय स्वतंत्रता का परिचायक हैं. अर्थात वह अन्य देशों के आदेश पालन से मुक्त हो जाता है. उपनिवेशवाद इसका सबसे बड़ा शत्रु हैं. राष्ट्रीय स्वतंत्रता के बिना व्यक्ति की अन्य स्वतंत्रताए गौण हैं.

संवैधानिक स्वतंत्रता (Constitutional liberty meaning hindi)

यह नागरिकों को संविधान द्वारा प्रदत्त की जाती हैं. संविधान ऐसी स्वतंत्रताओं की रक्षा की गारंटी देता हैं. जिससे शासन भी कटौती नहीं कर सकता हैं. भारतीय संविधान का अनुच्छेद 32 नागरिकों को संवैधानिक उपचारों का अधिकार देता हैं.

स्वतंत्रता के लिए आवश्यक शर्तें (Essential Condition for Liberty)

मानवीय स्वतंत्रता के अनुरक्षण हेतु कुछ स्वाभाविक परिस्थतियाँ समाज में आवश्यक हैं, उनके अभाव में स्वतंत्रता का अस्तित्व खतरे में पड़ जाता हैं. ये हैं.

  • व्यक्ति की स्वतंत्रता के प्रति निरंतर जागरूकता
  • नागरिक की निडरता और साहस
  • समाज में लोकतांत्रिक भावनाओं का पनपना.
  • स्वतंत्रताए लोकतांत्रिक शासन में ही पनप सकती हैं.
  • साथी नागरिकों को विशेषाधिकार नहीं देना
  • आर्थिक दृष्टि से समता मूलक समाज
  • पक्षपात विहीन विधि का शासन
  • प्रेस की स्वतंत्रता
  • निष्पक्ष जनमत
  • समाज में शांति व सुरक्षा का वातावरण
  • स्वतंत्र न्यायपालिका
  • संविधानवाद

स्वतंत्रता के मार्ग की प्रमुख बाधाएं (Hurdies In The Way Of Liberty)

  • अपनी स्वतंत्रता के प्रति जागरूकता का अभाव
  • अशिक्षा
  • गरीबी एवं संसाधनों का अभाव
  • न्यायपालिका के कार्यों में कार्यपालिका का हस्तक्षेप
  • संविधान व कानून के प्रति सम्मान का अभाव
  • अराजकता का वातावरण
  • कार्यपालिका का स्वेच्छाकारी आचरण
  • राष्ट्रविरोधी तत्व तथा आतंकवाद

उम्मीद करता हूँ दोस्तों आपकों Meaning Of Liberty In Hindi & स्वतंत्रता का अर्थ के इस लेख में दी गई जानकारी अच्छी लगी होगी. यदि आपकों हमारा यह लेख पसंद आया हो तो प्लीज इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *