MYSTERY OF KAILASH PARVAT | कैलाश पर्वत से जुड़े रहस्य

Mystery Of Kailash Parvat : आप सभी ने कैलाश पर्वत का नाम सुना होगा. इसके बारे में एक ख़ास बात यह भी है की एक बार रावण ने तपस्या करके कैलाश पर्वत को भी हिला दिया था. कैलाश पर्वत शिवजी का निवास स्थान है, जहां भगवान भोलेनाथ अपनी पत्नी पार्वती और बेटे गणेश तथा कार्तिक के साथ रहते थे. कैलाश पर्वत इस दुनिया का सबसे रहस्यमयी पर्वत है. इसके बारे में आप सिर्फ इतना जानते है की यह शिव भगवान का स्थान हे, लेकिन आप इसके कुछ रहस्य नहीं जानते है. आज की इस पोस्ट में, हम आपको कैलाश पर्वत से जुड़े रहस्य से रूबरू कराएँगे.

कैलाश पर्वत से जुड़े रहस्य (Mystery Of Kailash Parvat)

  1. यह आकाश और धरती के बीच का ऐसा बिंदु है जहां चारों दिशाएं मिल जाती है. इसके बारे में कहा जाता हैकी यहां बहुत सारी शक्तियाँ रहती है.
  2. इस पर्वत की उंचाई 6714 मीटर है. इसकी जो आकृति बनी हुयी है वह शिवलिंग के आकार की है. यह पर्वत हमेशा बर्फ से ढका रहता है.
  3. कैलाश पर्वत चार महान नदियों सिन्धु, ब्रह्मपुत्र, सतलज और कर्णाली से घिरा है. कैलाश पर्वत पहला ऐसा मानसरोवर है जो शुद्द पानी की झीलों में से एक है.
  4. कैलाश पर्वत तिब्बत में स्थित है और तिब्बत चीन के अधीन है, इसलिए कैलाश पर्वत चीन में आता है. इसकी सुन्दरता और इसके बारे में कथाओं के आधार पर कहा जा सकता है की ‘ईश्वर ही सत्य है और सत्य ही शिव है.’
  5. इसके बारे में कहा जाता है की यह भगवान भोलेनाथ का स्थान होने के कारण सभी ज्योतिर्लिंगों में से सर्वश्रेष्ठ है यहाँ पर अक्सर ‘ओं’ की ध्वनी सुनाई देती है.
  6. इसके बारे में यह धारणा भी है की यहां देवी सती का दायाँ हाथ गिरा था. इसलिए यहाँ एक पत्थर की शिला को उसका रूप मानकर पूजा जाता है.
  7. यहां सिक्खों के प्रथम देव गुरु नानक देव रुके थे, इसलिए सिक्ख इसे पवित्र स्थान मानते है.
  8. कैलाश पर्वत में एक जगह सभी मनोकामनाओं को पूरा करने वाला कल्प वृक्ष लगा हुआ है.
  9. यहाँ के लोगों का मानना है की अगर कोई श्रदालु मानसरोवर में डुबकी लगा ले तो वह ‘रूद्रलोक’ पहुँच जाता है. रूद्र भगवान शिव का ही एक नाम है.
  10. कैलाश पर्वत को देखने पर ऐसा लगता हैकी जैसे भगवान शिव खुद बर्फ के रूप में यहां विराजमान है यहाँ देश और विदेशों से लाखों श्रदालु आते है.
  11. इसी कैलाश पर्वत पर माता पार्वती ने भगवान शिव को पाने के लिए घोर तपस्या की थी.
  12. मानसरोवर संस्कृत के मानस जिसका मतलब है मस्तिष्क और दूसरा सरोवर जिसका अर्थ है झील से बना है इसका अर्थ है ‘मन का सरोवर.’ इसके बारे में यह भी मान्यता है की यहाँ सुबह ब्रह्ममुहूर्त में देवतागण स्नान करने आते है.

कैलाश पर्वत देवो के देव महादेव का सबसे पसंदीदा स्थान था, जहाँ वे अपने परिवार के साथ रहते थे. कैलाश पर्वत देखने में सबसे सुंदर स्थान है और यहाँ लाखों की संख्या में श्रदालु आते है. कहते है की भगवान शिव के जन्मदिन के अवसर पर यहाँ बर्फ का शिवलिंग बनता है और इसी का दर्शन करने के लिए लोग दूर-दूर से आते है.

अगर आपको यह पोस्ट पसंद आई हो तो इसे शेयर करे और कमेंट बॉक्स में अपने विचार दे ताकि हम आगे भी अच्छी से अच्छी पोस्ट लिख सके.  

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *