Poem On Education In Hindi | शिक्षा के महत्व पर कविता बच्चों के लिए

Poem On Education In Hindi शिक्षा के महत्व पर कविता बच्चों के लिए: शिक्षा जीवन में ज्ञान का  उजाला  देती  हैं निरक्षर जीवन को अभिशाप माना गया हैं. short and sweet poem on education में हम शिक्षा पर कविता जानेगे. और कविता के माध्यम से समझने की कोशिश करेगे कि शिक्षा क्या है शिक्षा का जीवन में महत्व क्या है तो चलिए आरम्भ करते हैं.

Poem On Education In Hindi (शिक्षा पर कविता)

Poem On Education In Hindi (शिक्षा पर कविता)

Hindi Poem on Importance of Child Education: शिक्षा को जीवन का आधार व गहना माना गया हैं. एक कहावत तो आपने सुनी ही होगी, अनपढ़ व्यक्ति के लिए काला अक्षर भैंस बराबर. अतः हमें भी अपने जीवन में निरक्षर नहीं रहना हैं बड़े होकर कुछ बनने के सपने साकार करने है तो शिक्षा जरुरी हैं क्यों पढिये इन कुछ कविताओं को.

short poem on education in hindi

अधकार को दूर कर जो प्रकाश फैला दे
बुझी हुई आश मे विश्वास जो जगा दे
जब लगे नामुमकिन कोई भी चीज
उसे मुमकिन बनाने की राह जो दिखा दे वो है शिक्षा
हो जो कोई असभ्य, उसे सभ्यता का पाठ पढ़ा दे..
अज्ञानी के मन में, जो ज्ञान का दीप जला दे..
हर दर्द की दवा जो बता दे.. वो है शिक्षा
वस्तु की सही उपयोगिता जो समझाए
दुर्गम मार्ग को सरल जो बनाए
चकाचौंध और वास्तविकता में अन्तर जो दिखाए
जो ना होगा शिक्षित समाज हमारा
मुश्किल हो जाएगा सबका गुजारा।।
इसानियत और पशुता के बीच का अन्तर है शिक्षा..
शाति, सुकून और खुशियों का जन्तर है शिक्षा
भेदभाव, छुआछुत और अधविश्वास दुर भगाने का मन्तर है शिक्षा
जहाँ भी जली शिक्षा की चिंगारी
नकारात्मकता वहा से हारी
जिस समाज में हों शिक्षित सभी नर-नारी
सफलता-समृद्धि खुद बने उनके पुजारी।।
इसलिए आओ शिक्षा का महत्व समझे हम
आओ पूरे मानव समाज को शिक्षित करें हम ||

शिक्षा का जादू तभी सर चढकर बोलेगा जब हम अपने शिक्षकों (Teachers) का आदर सत्कार करेगे समय पर स्कूल जाएगे तभी हमारे मन के अन्धकार को ज्ञान के उजाले में बदल पाएगे. शिक्षा के महत्व आवश्यकता पर एक और हिन्दी कविता आपके लिए प्रस्तुत हैं.

girl education poem in hindi

बहुत ज़रूरी होती शिक्षा,
सारे अवगुण धोती शिक्षा.
चाहे जितना पढ़ ले हम पर,
कभी न पूरी होती शिक्षा.
शिक्षा पाकर ही बनते है,
नेता, अफ़सर शिक्षक.
वैज्ञानिक, यत्री व्यापारी,
या साधारण रक्षक.
कर्तव्यों का बोध कराती,
अधिकारो का ज्ञान.
शिक्षा से ही मिल सकता है,
सर्वोपरि सम्मान.
बुद्धिहीन को बुद्धि देती,
अज्ञानी को ज्ञान.
शिक्षा से ही बन सकता है,
भारत देश महान.

क्यों शिक्षा प्राप्त करे बालिका शिक्षा तथा महिला शिक्षा आज के समय की महत्ती आवश्यकता क्यों हैं. इस कविता के माध्यम से यह बताने का प्रयास किया गया हैं कि गर्ल एजुकेशन क्यों जरुरी हैं. आशा करते हैं यह हिन्दी कविता आपकों पसंद आई होगी.

poem on women education in hindi

उठो चलो सब करे पढ़ाई
यही असली धन है भाई
क ख ग घ सब वर्ण रट लो
अंग्रेज़ी के ए बी सी डी से निपट लो
गुनाह भाग जोड़ सब सीख लो
मेहनत करो न भीख लो
चाहे बनो डॉक्टर इंजीनियर या प्रोफेसर
या करो अपना व्यापार
पढ़ाई का ही ज्ञान है
जो लगाएगा तुमको पार
बढ़ोगे अागे जब होगी सग पढ़ाई
इसके सिवा कुछ काम न आई

अनुष्का सूरी जी की महिला शिक्षा के महत्व पर दी गयी यह कविता उनके फेसबुक वाल से ली हैं. शिक्षा के संदेश को जन जन तक प्रसारित करने में इस तरह की प्रेरक कविताएँ बेहद कारगर हो सकती हैं. आप भी बाल शिक्षा की कविता को पढ़े तथा उन्हें अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करे ताकि सभी बालक अनिवार्य निशुल्क शिक्षा के अधिकार के तहत शिक्षा हासिल कर सके.

poems about education and success

आओ बच्चो हाथ मिलाए
शिक्षा का अभियान चलाये
भारत के कोने कोने से
निरक्षरता का भान मिटाये
सब को हमे समझाना है
शिक्षा का महत्व बताना है
बूढ़े बच्चे हो या जवान
सब को साक्षर बनाना है

साक्षरता है रोशन दान
नही कर सकता कोई अपमान
इस के बल पर ही बनते है
डॉक्टर इजीनियर वैज्ञानिक महान
अच्छी शिक्षा अच्छा ज्ञान
ऊची सोहरत मान सम्मान
ठाठ बाट जीवन का यान
शिक्षा है इसका निदान

निरक्षरता (Illiteracy) के अभिशाप को मिटाने के लिए साक्षरता/शिक्षा का व्यापक प्रचार प्रसार किया  जाना चाहिए, शिक्षा से ही जीवन की परम ऊँचाइयों को प्राप्त किया  जा सकता हैं. एक साक्षर व्यक्ति न केवल   अपनी आजीविका के साधन आसानी से जुटा सकता हैं बल्कि उसे समाज में यथेष्टं  सम्मान  भी मिलता हैं.

यह भी पढ़े

आशा करता हूँ दोस्तों Poem On Education In Hindi का यह लेख आपकों पसंद आया होगा. यहाँ हमने Education Poem साझा की हैं. लेख में दी जानकारी पसंद आई हो तो प्लीज अपने दोस्तों के साथ भी साझा करे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *