हिंदी भाषा पर कविता Poem On Hindi Language

हिंदी भाषा पर कविता Poem On Hindi Language: नमस्कार दोस्तों आज के लेख में हम आपका स्वागत करते है हिंदी हमारी राष्ट्रभाषा है मातृभाषा है इसके महत्व दिवस पर कविता बता रहे हैं. सुनील जोगी द्वारा रचित एक मौलिक हिंदी पर गीत अथवा कविता यहाँ आपकों बता रहे हैं, यदि आपकों ये लेख पसंद आए तो इसे अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करे.

Poem On Hindi Language

हिंदी भाषा पर कविता Poem On Hindi Language

हिन्दी भारत का वरदान
हिन्दी जन मन गण का गान
हिन्दी पावन राष्ट्र की भाषा
सवा अरब की है अभिलाषा
हिंदी अपनाओ रे
माँ को गले लगाओ रे

हिंदी में रहीम के दोहे, तुलसी की चौपाई
भारतेंदु, महावीर द्वेदी और चन्दरबरदाई
हिंदी में अज्ञेय, प्रभाकर, भारती और परसाई
हिंदी में ही कवि सम्मेलन, गूंज रही कविताई
हिंदी तुलसी, सूर, कबीर
हिंदी महादेवी और मीरा
हिंदी को अपनाओ रे
माँ को गले लगाओ रे

हिंदी में ही प्रेमचन्द है दिनकर, पन्त, निराला
हिंदी में बैरागी, नीरण, बच्चन की मधुशाला
हिंदी रत्न बिहारी, भूषण, रैदास और नेपाली
हिंदी की कविता सुन करके श्रोता पीटें ताली
हिंदी रत्नाकर और नागर
हिंदी है गागर में सागर
हिंदी को अपनाओं रे
माँ को गले लगाओ रे

अलंकार, रस, छंद है इसमें स्वर, व्यंजन की माया
चन्द्रबिन्दु और अनुस्वार ने इसका मान बढ़ाया
हिंदी है व्यापार की भाषा, रोजगार की भाषा
एक सूत्र में राष्ट्र बंधे, ये हिंदी की अभिलाषा
इसका अक्षर अक्षर मोती
भाषा देश का गौरव होती
हिंदी को अपनाओ रे
माँ को गले लगाओ रे

तमिल, तेलुगु, कन्नड़, उड़िया, बांग्ला और मराठी
संस्कृत, उर्दू, मणिपुरी, मलयालम, कोंकणी, संताली
कश्मीरी, नेपाली, सिन्धी, पंजाबी, गुजराती
डोंगरी और मैथिली में सब गाओ प्रेम की पाती
भारतीय भाषाएँ सारी
हमकों मौसी जैसी प्यारी
हिंदी को अपनाओ रे
माँ को गले लगाओ रे

उपन्यास, लोकोक्ति, मुहावरे कविता और कहानी
भोजपुरी, अवधी, बुन्देली, ब्रज और राजस्थानी
अलग अलग है भाषाएँ सबकी अलग अलग है बानी
सब भाषाएँ रानी लेकिन हिंदी है पटरानी
हिंदी दयानंद और गांधी
हिंदी ही लाइ आजादी
हिंदी को अपनाओ रे
माँ को गले लगाओ रे

यह भी पढ़े

दोस्तों उम्मीद करता हूँ आपकों Poem On Hindi Language का यह छोटा सा आर्टिकल पसंद आया होगा. यदि आपकों यहाँ हिंदी पर दी गई कविताएँ पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करे. यह कविता सुनील जोगी की मौलिक रचना हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *