फैशन पर कविता | Poems About Fashion Style In Hindi

Poems About Fashion Style In Hindi: नमस्कार दोस्तों आज हम फैशन पर कविता बता रहे हैं. फैशन और आज के तड़क भड़क युग में क्या कुछ नहीं बदल गया हैं. कभी अधनग्नता का मतलब यह निकाला जाता था कि सम्भवतः गरीबी के कारण यह मजबूरी हैं, मगर आज तो फैशन के मारे हमारे युवा और युवतियाँ न जाने क्या क्या तरीके खोज लाते है जिससे स्टाइल भी लगे और दुनिया से अलग लुक भी. आज के लड़के लड़कियों को फैशन का कितना भूत सवार है इसे हास्य हिंदी कविता में आप पढ़कर इसका आनन्द उठा सकते हैं.

Poems About Fashion Style In Hindi

Poems About Fashion Style In Hindi

Funny Poems On Fashion In Hindi: सत्यम शुक्ला जी अपने विडियो ब्लॉग में हाय हाय रे फैशन हास्य कविता लिखते हैं. अंग्रेजी के शब्दों के पुट के साथ फैशनपरस्ती के इस दौर में क्या कुछ होता हैं, इनकी कविता की पंक्तियों को पढ़कर समझ सकते हैं.

सत्यम शुक्ला – हाय हाय रे फैशन || हास्य कविता

हाय हाय रे यह फैशन
यह आज का फैशन
इस रोग की कोई दवा नहीं
न काम करे इंजेक्शन
हाय हाय रे यह फैशन
आज का यह फैशन

चाहे मेल हो या फिमेल
सभी की बदल गई पोजीशन
हाय हाय रे यह फैशन
ये फैशन आज का फैशन

बदले सारे काम आज का
बदल गया रिफेक्शन
हाय हाय रे यह फैशन
ये फैशन आज का फैशन

ये फैशन बर्बादी का देता है
इंट्रोडक्शन
हाय हाय रे यह फैशन
ये फैशन आज का फैशन

अब आँखों खोलो इस फैशन
पर लेना है एक्शन
हाय हाय रे यह फैशन
ये फैशन आज का फैशन

फैशन सिर चढ़ बोल रहा
बढ़ रही हैं इसकी मोशन
हाय हाय रे यह फैशन
ये फैशन आज का फैशन

वरुण धवन को देख के
सबके मन में जगा इमोशन
हाय हाय रे यह फैशन
ये फैशन आज का फैशन

भारत माता बिलख रही है
रो रहा है पूरा नेशन
हाय हाय रे यह फैशन
ये फैशन आज का फैशन [स्रोत]

मेरी कविता “फैशन ” (Fashion) by satyam shukla

फैशन की दुनिया, एक कविता, poem on fashion in hindi

आज है दुनिया फैशन की
फैशन में जग अँधा हैं
कुछ लोग तो फैशन करते है
पर कुछ का फैशन धंधा हैं.

कान खोलकर सुनों ध्यान से
पहले लड़को का फैशन
लम्बी टाँगे चौड़ा सीना
हाथ में पीतल का कंगन

मूंछ मुड़ाकर बाल बढ़ाना
दाड़ी बकरे वाली हो
बीबी सीधी सादी चाहिए
पर साली नखरे वाली हो

टीशर्ट हमेशा छोटा हो
पर जूते लम्बे लम्बे हो
आय हमेशा घटती जाय
लेकिन खर्चे लम्बे हो.

मोबाइल हमेशा जेब में हो,
सिम कार्ड भले ही गायब हो
बीबी कभी न घूमने जाए
पर बॉस सभी के मेडम हो

आज है दुनिया फैशन की
फैशन में जग अँधा हैं
कुछ लोग तो फैशन करते है
पर कुछ का फैशन धंधा हैं.

आँख खोलकर ध्यान से देखों
आज लड़कियों का फैशन
पतली टाँगे ऊँचा सीना
हाथ नहीं एक भी कंगन.

नाख़ून बढ़ाकर बाल कटाना
सेंडल ऊँची वाली हो
बलमा सीदा साधा हो
पड़ोसन नौकरी वाली हो

आँखों में काजल लम्बा हो
तन पर पतली पट्टी हो
चेहरा खूब बनाया हो
और पेंट अंग में सिमटी हो

थैला कंधों से लटका रहे
चाहे बच्चा पैदल चलता हो
अपना तन तन्दुरस्त रहे
चाहे बच्चा भूखा सोता हो

आज है दुनिया फैशन की
फैशन में जग अँधा हैं
कुछ लोग तो फैशन करते है
पर कुछ का फैशन धंधा हैं.

जितना फैशन पर मरते हो
उतना जीवों से प्यार करो
जीवन से आगे बढ़ना है
समय को यूँ न बेकार करो

समय गवाते हो हर दम
एक गर्लफ्रेंड के चक्कर में
लड़की मर्यादाएं खोती है
आवारा लड़कों के चक्कर में

मेरा मतलब साफ़ साफ है
इसे समझना सबकों हैं
फैशन का मतलब फंसना है
इससे बचना सबकों हैं.

आज है दुनिया फैशन की
फैशन में जग अँधा हैं
कुछ लोग तो फैशन करते है
पर कुछ का फैशन धंधा हैं. | Boys fashion | Girls fashion | Rakesh K. Vishwakarma

यह भी पढ़े

उम्मीद करता हूँ दोस्तों Poems About Fashion Style In Hindi का यह लेख आपकों पसंद आया होगा. फैशन पर पॉएम, फनी पोएम फैशन आज की फैशन कविता पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *