जनसंख्या वृद्धि समस्या और समाधान पर निबंध | Population Problems Essay In Hindi

Population Problems Essay In Hindi वर्तमान शताब्दी में विश्व अनेक समस्याओं से घिरा हुआ है. कही कही अकाल एवं जलाभाव की समस्या है, तो कही कुपोषण की समस्या, कही पड़ोसी देशों की कलह से अशांति का वातावरण विद्यमान है. परन्तु इन सभी से प्रबल समस्या है, जनसंख्या की समस्या. जनसंख्या की असीमित वृद्धि से न केवल भारत, अपितु अन्य देश भी आक्रांत है. नवविकसित एवं विकासशील देशों में तो यह मुख्य समस्या बन गई है.

जनसंख्या वृद्धि समस्या और समाधान पर निबंध | Population Problems Essay In Hindi

  • जनसंख्या वृद्धि एक समस्या (essay on population)

    जब भारत स्वतन्त्र हुआ तो उस समय हमारे देश की कुल जनसंख्या लगभग तैतीस करोड़ थी परन्तु आज यह एक अरब से अधिक हो गई है जनसंख्या की इस असीमित वृध्दि से रोजगार के अवसर कम हुए है इस कारण बेरोजगारी बढ़ी है इसी समस्या के कारण खाद्यान्न की कमी हो रही है.

    शहरों के समीप की उपजाऊ भूमि पर औद्योगिक उपनगर बस रहे है चारागाह भी उजाड़ रहे है वन काटे जा रहे है अधिक यातायात की सुविधा उपलब्ध कराने के लिए सड़को का निर्माण हो रहा है बाँध बनाये जा रहे है. नये उद्योघ एव शिक्षण संस्थान खड़े किये जा रहे है इन सब पर देश का अपार धन व्यय हो रहा है इस प्रकार वर्तमान में हमारे देश में जीतनी भी अन्य समस्याएं है. उनके मूल में जनसंख्या वृद्धि ही समस्या है.

  • जनसंख्या वृद्धि के कारण (problems due to population growth)

    जनसंख्या वृद्धि के अनेक कारण है. हमारे देश में स्वतंत्रता मिलने के तुरंत बाद जनसंख्या वृद्धि पर कोई नियन्त्रण नही था. उस समय परिवार नियोजन के साधन भी नही थे. अंधविश्वास और धार्मिक कट्टरता के कारण कुछ लोग अधिक सन्तान पैदा करने में ही अपना गौरव समझते थे.

    निम्न वर्ग के लोग सोचते थे कि अधिक सन्तान होने से घर में कमाने वाले अधिक सदस्य हो जाएगे. कुछ लोग अधिक सन्तान का होना ईश्वरीय कृपा मानते है. इन सभी कारणों से नव स्वतंत्र भारत में जनसंख्या की विस्फोट वृद्धि हुई है.

  • जनसंख्या नियंत्रण के उपाय (population control measures in india)

    जनसंख्या की तीव्रगति से वृद्धि को देखकर सरकार ने अनेक कदम उठाए है. प्रारम्भ में परिवार नियोजन के साधनों का प्रसार किया गया, फिर पुरुष एवं स्त्री नसबंदी कार्यक्रम प्रारम्भ किया गया. जनता में परिवार नियोजन की चेतना जागृत की गई.

    सरकारी नौकरियों में दो सन्तान से अधिक पर स्वैच्छिक प्रतिबंध लगाया गया है. कम उम्र में युवक युवतियों के विवाह को रोकने का भी कानून बनाया गया है. परिवार नियोजन के लिए प्रोत्साहन राशि भी दी गई है. इस तरह के उपाय करने से जनसंख्या वृद्धि पर कुछ हद तक अंकुश लगा है.

  • जनसंख्या एक समस्या और इसका समाधान (population problem of india and its solution)

जनसंख्या की असीमित वृद्धि से हमारे देश की अर्थव्यवस्था गड़बड़ा गई है. विकास की तीव्रगति भी लाभकारी दिखाई नही दे रही है. जब प्रत्येक व्यक्ति परिवार नियोजन को प्राथमिकता देगा, तभी जनसंख्या वृद्धि पर अंकुश लग सकेगा. अपने समाज तथा देश की खुशहाली के लिए अब यह नियंत्रण जरुरी है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *