Rajasthan Ki Rajdhani | राजस्थान की राजधानी | Capital of Rajasthan In Hindi

Rajasthan Ki Rajdhani | राजस्थान की राजधानी | Capital of Rajasthan In Hindiहम बात कर रहे हैं, Rajasthan Ki Rajdhani क्या है ? कहाँ पर स्थित हैंक्या है इसका इतिहास स्थापना किसने और कब की, प्रमुख दर्शनीय स्थल. Capital of Rajasthan Is Jaipur राजस्थान के महानगरों में शुमार इस शहर को दुनियां भर में अपनी अनूठी पहचान के लिए जाना जाता हैं. राजपूत शौर्यस्थली एवं आजादी के बाद से Rajasthan राज्य की Rajdhani का सम्मान प्राप्त इस शहर को पिंक सिटी, तथा पूर्व का पेरिस उपनाम से भी जाना जाता हैं. चलिए एक नजर जयपुर शहर के इतिहास एवं उनकी जानकारी पर.

Rajasthan Ki Rajdhani- Jaipur City In HindiRajasthan Ki Rajdhani | राजस्थान की राजधानी | Capital of Rajasthan In Hindi

Rajasthan ki Rajdhani Kya hai ? राजस्थान की राजधानी जयपुर को गुलाबी नगर यानी कि पिंक सिटी के नाम से जाना जाता हैं. इसकी स्थापना महाराजा सवाई जयसिंह द्वितीय ने 1727 में की थी. जयपुर भारत का पहला सुनियोजित शहर था और राजाओं ने इसके निर्माण में बहुत रूचि दिखाई.

Jaipur Is The Capital of Rajasthan & Rajasthan Rajdhani

तत्कालीन राजाओं ने वास्तुकलाविदों और शिल्पकारों की मदद से पहले जयपुर का नक्शा बनाया गया. राजस्थान की राजधानी जयपुर भारत में सबसे रंगीन और जीवंत शहरों में से एक हैं. यह अपनी समृद्ध भवन निर्माण परम्परा, सरस संस्कृति और ऐतिहासिक महत्व के लिए प्रसिद्ध हैं.

यह शहर तीन ओर से अरावली पर्वतमाला से घिरा हुआ हैं. जयपुर में पहाड़ की बहुतायत हैं. यहाँ प्रकृति की अनोखी छटा देखते ही बनती हैं. जयपुर शहर की पहचान यहाँ के महलों और पुराने भवनों में गुलाबी धौलपुरी पत्थरों से होती हैं.

ऐसा माना जाता है कि तत्कालीन महाराज रामसिंह ने इंग्लैंड की महारानी एलिजाबेथ प्रिंस ऑफ़ वेल्स युवराज अल्बर्ट के स्वागत में पूरे शहर को गुलाबी रंग से रंगवा दिया था. तभी से इस शहर का नाम गुलाबी नगरी पड़ गया.

2011 की जनगणना के अनुसार जयपुर भारत का दसवां सबसे अधिक जनसंख्या वाला शहर हैं. राजा जयसिंह द्वितीय के नाम पर ही इस शहर का नाम जयपुर पड़ा. यह बेहद हर्ष की बात है कि जयपुर भारत के टूरिस्ट सर्किट गोल्डन ट्रायंगल का हिस्सा भी हैं.

इस गोल्डन ट्रायंगल में दिल्ली आगरा व जयपुर आते हैं. भारत के मानचित्र में उनकी स्थिति लोकेशन देखने पर यह एक त्रिभुज का आकार लेते हैं. इस कारण इसे भारत का स्वर्णिम त्रिभुज इंडियन ट्रायंगल कहते हैं. यह शहर चारो ओर दीवारों और परकोटों से घिरा हुआ हैं.

जिसमें प्रवेश द्वार के लिए 7 दरवाजे हैं. यह पूरा शहर करीब छः भागों में बटा हुआ हैं. जयपुर बहुत ही अच्छा टूरिस्ट प्लेस हैं. यहाँ हवामहल, आमेर का किला, सिटी पैलेस, जयगढ़ का किला, नाहरगढ़ का किला, बिड़ला मंदिर, जल महल एवं जन्तर मन्तर दर्शनीय स्थल हैं.

यहाँ के प्रमुख उद्योगों में धातु, संगमरमर, वस्त्र छपाई, हस्तकला, रत्न व आभूषण का आयात निर्यात तथा पर्यटन उद्योग शामिल हैं. जयपुर शहर में परिवहन की भी अच्छी व्यवस्था हैं. जयपुर में ऐतिहासिक विरासत की झलक हर व्यक्ति को मोहित कर देती हैं. राजस्थान का राजधानी शहर जयपुर दिन प्रतिदिन प्रगति की ओर बढ़ रहा हैं.

उम्मीद करता हूँ मित्रों Rajasthan Ki Rajdhani का यह लेख आपकों पसंद आया होगा. हमारे Rajdhani शहर जयपुर आने का आपकों न्यौता देते है. Rajasthan के अन्य शहरों जिलों, दर्शनीय स्थलों एवं इतिहास के बारे में अधिक जानकारी के लिए आप हमारे अन्य लेख पढ़ सकते हैं.

प्लीज अच्छा लगे तो शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *