Raksha Bandhan Shayari SMS In Hindi | रक्षाबंधन पर शायरी और कविता

Raksha Bandhan Shayari SMS In Hindi : रक्षाबंधन यानि राखी का त्यौहार 7 अगस्त 2017, सोमवार को आ रहा हैं. यह दिन भाई बहिन के पवित्र रिश्ते का प्रतीक हैं. रक्षाबंधन भाई कई दिनों से अपने भाई के राखी बाधने का इन्तजार कर रही होती हैं. भाई देश विदेश जहाँ भी बैठा हो इस दिन वह जरुर अपनी कलाई पर बहिन के हाथ से राखी का धागा बंधवाना चाहता हैं. तथा बदले में अच्छी से अच्छी गिफ्ट भेट करने की कोशिश भी करता हैं.

यह पर्व धागे की राखी भर तक नही हैं, इसका बड़ा धार्मिक महत्व हैं बहिन राखी बाधने पर भाई उनकी जीवनभर सुरक्षा उठाने का वादा भी करता हैं. वही बहिन अपने भाई की दीर्घायु की कामना करती हैं. “raksha bandhan in hindi” इस लेख में बहिन को भेजने के लिए बेहतरीन हिंदी शायरी और SMS एवं कविता का संग्रह लेकर आए हैं. उम्मीद करते हैं यह लेख आपकों पसंद आएगा. चलिए बढ़ते हैं bhai behan ka pyar के त्यौहार की तरफ.

रक्षाबंधन पर शायरी और कविता

(Raksha Bandhan Shayari)

Raksha Bandhan Shayari SMS In Hindi

भाइयों की आज सजेगी कलाई..
बहनों की होगी तगड़ी कमाई..
तिलक लगेगा मिलेगी मिठाई..
रक्षाबंधन की ढेर सारी बधाई

raksha bandhan shayari hindi

मेंहदी रोली कंगन का आविष्कार नहीं होता
रक्षाबंधन भैया दूज का त्योहार नहीं होता
वह घर सूना रह जाता इस दुनिया में
जिसके घर में बेटी का अवतार नहीं होता!

Raksha Bandhan Shayari

रक्षाबंधन का दिन और ये सूनी कलाई ,
मैंने बहन न होने का बहोत दर्द सहा है ,,
सभी मुँह बोली बहनों को रक्षाबंधन
की हार्दिक शुभकामनाएँ ,
आपकी राखी का इंतजार रहेगा …
आप का भाई

Raksha Bandhan SMS In Hindi

इस जहाँ में प्यार महके जिंदगी बाकी रहे,
ये दुआ मांगो दिलों में रोशनी बाकी रहे_
रक्षाबंधन की शुभकामनायें

raksha bandhan in hindi

खुश क़िस्मत होती है वह बहन.
जिनके सिर पै भाई का हाथ होता है..
सारी परेशानी में उसके साथ होता है.
लड़ना झगड़ना फिर प्यार से मनाना
तभि तो इस रिश्ते में ईतना प्यार होता है.
रक्षाबंधन की बहुत-बहुत बधाई

raksha bandhan sms

भाई की कलाई पे , बहन का रक्षा कवच
बहन का दुआओं में , भाई का तिलक
पवित्र रिश्तों का , गंगा धारा सा संगम
बहन का प्यार , भाई का दुलार रक्षाबंधन

raksha bandhan messages

गुजरती हुई फिजाओं , उनको ये पैगाम दो ,
धीरज धर हम बैठे हैं , क्या पता दीदार हो ।।
“रक्षा बंधन” जो बहनें अपने फ़ौजी वीरों का इन्तजार कर
रही होंगी मित्रों ज़रा उनकी विरह वेदना को महसूस करने
की चेष्टा कीजिए ।।
कितना कष्ट होता होगा उन बहनों को ।।
शत शत नमन ऐ बहनों आपके जज्बातों को ।।
रक्षाबंधन के पावन पर्व की शुभ कामनाएं सभी भाई

happy raksha bandhan

पुरुष चाहें जैसे भी स्त्री को सता लें.. पीड़ा दें..
या मानमर्दन करें…
फिर भी चाहें वो रक्षाबंधन में बहन हो.. करवा चौथ में
पत्नी हो या अहोई अष्टमी में माँ…
.. नारी हर रूप में पुरुष की सुरक्षा; सुख एवं समृद्धि के
लिए ही निरंतर तप करती रहती है!
दया और त्याग की अनन्य प्रतिमूर्ति इस
नारीशक्ति को सलाम और इसके प्रत्येक रूप को सादर
प्रणाम!

rakhi greetings

तुम्हारे बिना मेरा जीना भी बेकार है….!!
लडता हूं झघडता हूं…..!!
मगर दीदी तुम्हारी फिक्र भी बहोत करता हूं…..!!
घर होता हूं तो इतना नहीं तुम्हें पूछता पर….;
पर जब मैं कंही बाहर जाऊँ तब तुम्हारी याद बहोत आती है…!!
तुम भी तो मुझे कितना डांटती हो…..!!
मगर रूठने पर मुझे तुम्ही तो मनाती हो….!!

मम्मी-पापा जब-जब डांटते हैं…..!! तब तुम्ही तो मेरी गल्ती छुपाती हो…..!!
जब तुम्हारी शादी होगी कितना मैं रोऊंगा…..!!
दीदी तुम ना रहोगी तो किसकी गोद में सर रख मैं सोऊंगा…..!!
तुम चली गई तो मुझे कौन संभालेगा…..:
मुझे अपने हाथों से कौन खाना खिलाएगा….!!
ये मत सोचना दिदि के मैं तुमसे प्यार नहीं करता…..;
हर वक्त तुमसे मैं रहेता हूं लडता….!!

राखी कि कसम दीदी तेरा भाई तुमसे करता प्यार बहोत है…..!!
तेरे हर सुख-दुख में तेरा भाई हमेशा तेरे साथ खड़ा है…..!!
आज राखी के त्योहार पर दीदी तेरा भाई तुझे याद करता बहुत है….

raksha bandhan status

महेंदी, बिंदी, कंगन का
सिंगार नही होता,
रक्षाबंधन, भाईद्वज का
त्योहार नही होता,
अधुरी होती दुनिया भी
यदि नारी जाती का
संसार मेँ जन्म नही होता,
माँ का ममता भरा वो
आँचल नही होता,
प्यारी बहना का
प्यार नही होता,
और.,
बेटीयो के बिना कोई
शुभदीन नही होता,
हर पहेली बात
ही यहाँ अधुरी रह जाती.,
अगर ब्रम्हांड मेँ
नारी का अवतार नही होता…

raksha bandhan hindi shayari

मनभावन सावन के पावन पर्व को समर्पित एक गजल…
मुस्काती किरण,बलखाती खुशबू,राखी का त्योहार है
प्यार के हैं कई रुप,हसीं सबसे भाई बहन का प्यार है
हृदय बहना का हुलसता,बरसता सावन मधुर प्यार का
पुलकित तन मन, चारसूँ झर रही मधु रस की फुहार है
रोली चंदन अक्षत से सजी थाल वरद चारु दुआओं सी
आरती प्रार्थना से बहना देखो करती भाई का श्रृंगार है

बाँधी कलाई पर भाई की,बहना ने राखी रंग बिरंगी
पावन बंधन प्रेम का,पुरनूर पुरखुलूस,पुरनम इजहार है
याद है कर्णावती ने भेजा था हुमायूँ को धागा रेशम का
देखिए कशिश करम घागे का,भाई रक्षण को तैयार है
प्यार को चाहिए प्यार केवल,मनुहार को मनुहार केवल
श्रद्धा आस्था ही बहन को भाई का पवित्र उपहार है
साँस साँस में बहना की दुअाएँ भरी पावन मनभावन
फूले फले भाई हमारा बहना हृदय में बस यही पुकार है

सावन की फजल देखिए,विहँसती चादर हरीतिमा की
हरा भरा रहे जीवन भाई का, बहना कर रही गुहार है
खिलखिलाता जीवन जिससे, ठुनकती है जिजीविषा
शोभा बढ़ाता जीवन का जो, रक्षाबंधन वो अलंकार है
राखी है प्रीति घटा बरसाती सुधा संजीवनी प्यार की
प्रेम कान्हा राधा राखी सुरीली मुरली की झंकार है

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *