ग्रामीण जीवन निबंध | Rural Life Essay In Hindi

Rural Life Essay In Hindi ग्रामीण जीवन के लाभ पुराने तथा नवीन परिपेक्ष्य में आज का ग्रामीण जीवन par anuched, ग्रामीण जीवन wikipedia आज के समय में ग्रामीण जीवन की समस्याओं देश तथा ग्रामीण संस्कृति आदर्श ग्रामीण जीवन निबंध in sanskrit, ग्रामीण जीवन निबंध मराठी, ग्रामीण वातावरण आदि मुख्य बिन्दुओ को सम्मिलित कर ग्रामीण स्थति पर यह निबंध बनाया गया है.

भारत के गाँव भारत की सभ्यता और संस्कृति के प्रतीक है. गाँव भारतवर्ष की आत्मा है. और सम्पूर्ण भारत उसका शरीर. शरीर की उन्नति आत्मा की स्वस्थ स्थति पर निर्भर करती है. आत्मा के स्वस्थ होने पर ही सम्पूर्ण शरीर में नवचेतना और नवशक्ति का संसार होता है. आज भी भारत की साठ प्रतिशत जनसंख्या गाँवों में निवास करती है.

ग्रामीण जीवन निबंध || Short Essay On Gramin Jeevan In Hindi

गाँवों की उन्नति से ही भारत की उन्नति हो सकती है. गाँव में ही सेवा और परिश्रम के अवतार किसान बसते है.अतः भारत की सच्ची झांकी देखनी हो तो गाँवों में चले जाइए. भारत की उन्नति गाँवों की उन्नति पर ही निर्भर है. अतः ग्रामोन्नति का कार्य है. महाकवि सुमित्रानंदन पन्त ने भारतमाता ग्राम वासिनी नामक कविता में यह ठीक ही कहा है कि भारत माता का वास्तविक स्वरूप भारत में ही है.

स्वतंत्रता के पूर्व ग्रामो और ग्रामीणों की दशा दयनीय थी. निर्धनता बेरोजगारी और भुखमरी का नग्न नृत्य होता रहता था. अशिक्षा और अज्ञानता की अग्नि दिन रात धधकती रहती थी. विश्व के किस अंग ने क्या अंगड़ाई ली, इसके क्या सुपरिणाम और दुष्परिणाम हुए इन बातों से इनका कोई सम्बन्ध नही था.

जीवन यापन की स्वस्थ प्रणाली से गाँव वाले अपरिचित थे. उनके जीवन में संघर्ष के लिए दरिद्रता, अज्ञानता अस्वस्थता बहुत थे. प्रतिवर्ष हजारों अकाल मृत्यु होती थी. महामारी से रक्षा करने के छोटे छोटे नियम भी उनको समझ नही आते थे. न उनके मन में आगे बढ़ने की कोई इच्छा थी. अशिक्षा के साथ साथ ग्रामवासियों की आर्थिक स्थिति की समस्या भी प्रबल थी. अन्याय, अंधविश्वास और अशिक्षा का पूर्ण सम्राज्य था.

इन सब समस्याओं के साथ साथ वे सम्पूर्ण जीवन ऋण से दबे रहते थे. कृषि की सारी उपज सेठ साहूकार ले जाते थे. कृषि की दशा भी गिरी हुई थी. भारत का किसान प्रकृति के भरोसे पर रहता था. वह हल और बैल से खेती करता था. यही नही गाँवों में यातायात के साधनों की भी बहुत कमी थी.

ग्रामवासियों की पक्की सड़क पर पहुचते पहुचते 15-20 किलोमीटर तक पैदल चलना पड़ता था. अधिकाँश गाँव यातायात के साधनों के अभाव में शहरों से बिलकुल कटे हुए थे. जिससे उनका जीवन आदिवासियों के जीवन के समान था.

यह सत्य है कि ब्रिटिश शासनकाल में गाँवों की उपेक्षा की गई. उनके विकास की ओर बिलकुल भी ध्यान नही दिया गया था. किन्तु स्वतंत्रता प्राप्ति के बाद से हमारी सरकार गाँवों के प्रति निरंतर प्रयत्नशील है. वहां की आर्थिक दशा को सुधारने के लिए कृषि की प्रगति की गई जिसके फलस्वरूप देश के कृषि उत्पादन में काफी वृद्दि हुई.

आज स्थति यह है कि हमारे देश में खाद्यान्न की कोई कमी नही है. बल्कि हम खाद्यान्नों का निर्यात भी कर रहे है. जो किसान हल और बैल से कृषि करता था. वह अब खेती के नए नए साधनों का प्रयोग करता है. हरित क्रांति इसका जीता जागता उदाहरण है.

सरकार ने शिक्षा के क्षेत्र में गाँवों की ओर विशेष ध्यान दिया है. अब प्राय सभी गाँवों में माध्यमिक स्कूल और कस्बो में में डिग्री कॉलेज खुल गये है. इन कॉलेजों को शहरों के विश्विद्यालय से जोड़ दिया गया है. जिससे छात्र स्वत ही शहरी शिक्षा पा लेते है. जिन ग्रामवासियों की सात पीढियां निरक्षर थी. उनके बच्चे अब विदेशो में शिक्षा अध्ययन कर रहे है. प्रोढ़ शिक्षा की ओर भी सरकार द्वारा विशेष ध्यान दिया जा रहा है.

हिन्दी कविता – मेरे गाँव के खेत में... मेरे गाँव के खेत में शीर्षक की यह ह...
भारत की एकता पर निबंध | Indian Culture In Hindi... भारत की एकता पर निबंध | Indian Cult...
राजस्थान के पर्यटन स्थल पर निबंध | Essay On Rajasthan Tourist Places I... राजस्थान के पर्यटन स्थल पर निबंध | ...
कंप्यूटर का परिचय | Computer Introduction In Hindi... कंप्यूटर का परिचय | Computer Introd...
प्लीज अच्छा लगे तो शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *