Samrat Kanishk History In Hindi | कनिष्क का इतिहास हिस्ट्री जीवनी

Samrat Kanishk History In Hindi कनिष्क का इतिहास हिस्ट्री जीवनी : महान भारतीय सम्राट कनिष्क प्राचीन भारत के महत्वपूर्ण शासक रहे हैं ये कुषाण वंश से सम्बन्धित थे कुषाण राजवंश (लगभग 30 ई. से लगभग 225 ई. तक) को विदेशी जाती माना गया हैं जो संभवतः चीन अथवा मध्य एशिया से भारत में आई. कनिष्क को महान विजेता धार्मिक प्रवृत्ति, साहित्य तथा कला का प्रेमी के रूप में प्रस्तुत किया गया हैं. आज हम कनिष्क की सैन्य, राजनैतिक एवं आध्यात्मिक उपलब्धियों के बारे में संक्षिप्त में जानेगे.

Samrat Kanishk History In Hindi – कनिष्क का इतिहास

Samrat Kanishk History In Hindi - कनिष्क का इतिहास

kanishk indian Empire: कुषाण भी एक विदेशी जाति थी, जो चीन के पश्चिमोत्तर प्रदेश में निवास करती थी. इस जाति का सम्बन्ध चीन की यू ची जाति की शाखा से था. कैडफिसीस प्रथम कुषाण वंश का प्रथम शासक था. कुषाण वंश का सर्वाधिक प्रतापी शासक कनिष्क था.

जो 78 ई में शासक बना. कनिष्क का साम्राज्य मध्य एशिया से सारनाथ तक विस्तृत था तथा पुरुषपुर (पेशावर) उसकी राजधानी थी. राजतरंगिणी के अनुसार कनिष्क का कश्मीर पर अधिकार था.

कनिष्क बौद्ध विद्वान अश्वघोष के सम्पर्क में आया, जिसके प्रभाव से उसने बौद्ध धर्म अपना लिया. कनिष्क के काल में कुंडल वन में आयोजित चतुर्थ बौद्ध संगीति में त्रिपिठ्कों पर टिकाएं लिखी गई  इन्हें एक ग्रंथ महाविभाष में संकलित किया. कनिष्क के समय में बौद्ध धर्म स्पष्ट दो सम्प्रदायों हीनयान व महायान में विभक्त हो गया था.

कनिष्क साहित्य एवं कला का आश्रयदाता था, उसकी राजसभा में बुद्धचरित व सौदरानन्द काव्यों के लेखक अश्वघोष, शून्य वाद तथा सापेक्षवाद के प्रवर्तक एवं प्रकांड विद्वान नागार्जुन, पार्श्व तथा वसुमित्र रहते थे. आयुर्वेद के जन्मदाता एवं चरक संहिता के लेखक चरक को भी कनिष्क ने आश्रय दिया था.

कनिष्क के काल में गांधार व मथुरा कला शैलियों का विकास हुआ. शक सम्वत का प्रचलन कनिष्क द्वारा ही किया गया. कुषाण शासक पहले शासक थे, जिन्होंने भारत में सोने के सिक्के ढलवाए. विम कैडफिसिस सोने के सिक्के चलाने वाला पहला भारतीय शासक था.

यह भी पढ़े-

आशा करते हैं दोस्तों Samrat Kanishk History In Hindi के बारे में दी गई जानकारी आपकों अच्छी लगी होगी. कनिष्क का इतिहास हिस्ट्री जीवनी के लेख में Samrat Kanishk History जानकारी पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करे,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *