सत्यनिष्ठा पर निबंध Satyanishtha essay in hindi

सत्यनिष्ठा पर निबंध Satyanishtha essay in hindi: प्रिय दोस्तों आपका स्वागत है आज के लेख में हम सत्यनिष्ठा का अर्थ क्या है पर निबंध को पढ़ेगे. स्टूडेंट्स इस निबंध, भाषण, अनुच्छेद को पढ़कर सत्य निष्ठा के बारे में विस्तार से जान सकते हैं तो चलिए सरल भाषा में लिखा गया probity, truthfulness, Integrity का निबंध पढ़ते हैं.

Satyanishtha essay in hindi

सत्यनिष्ठा पर निबंध Satyanishtha essay in hindi

हमने बचपन से ही सत्यनिष्ठा एवं ईमानदारी शब्दों को सुना है अक्सर कहा जाता है कि जीवन में हमें इन मूल्यों का पालन करना चाहिए. क्या ये दोनों शब्द एक ही हैं अथवा दोनों ही अलग अलग हैं. एक चोर ईमानदार हो सकता है मगर सत्यनिष्ठ नहीं हो सकता है क्योंकि वह सत्य की राह पर न चलकर असत्य की राह को चुनता हैं.

सत्यनिष्ठा का जीवन में बड़ा महत्व माना गया हैं. इसके जीवन में अनुसरण से कोई भी व्यक्ति अपने जीवन को नई दिशा दे सकता हैं. सच्चाई एवं ईमानदारी इसके करीबी अर्थ वाले शब्द है अर्थात जो इंसान जीवन में सत्य की राह पर चलता है अथवा वह जो कुछ कहता है तथा उन्ही बातों को अपने जीवन में उतारता है उन्हें सत्यवादी व सत्यनिष्ठ कहा जाता हैं.

हमेशा सत्य को आधार बनाकर चलने वाले को कभी पराजय का मुहं नहीं देखना पड़ता हैं. उनके हर कार्य में सफलता मिलती है हर स्थिति चाहे वह उनके अनुकूल हो या प्रतिकूल सत्यनिष्ठा के साथ जीवन जीने वाला कभी पथ विचलित नहीं होता हैं. उन्हें इन गुणों के कारण समाज में उचित आदर व मान सम्मान भी अर्जित होता हैं. लोग ऐसे व्यक्ति को देवता कहकर पुकारते है जो सत्य की राह पर चलता है तथा सभी के दिलों पर राज करता हैं.

कई महान लोगों ने सत्य के लिए अपना सर्वस्व जीवन अर्पित कर दिया, हम जिन्हें माहापुरुशों के रूप में जानते हैं. जन जन की श्रद्धा के पात्र वे इसलिए बन पाए क्योंकि उनकी सत्य के प्रति गहरी निष्ठां थी. यहाँ हम सत्य को जीवन का आदर्श गुण अथवा देवत्व की उपाधि दे सकते हैं. अर्थात जो इंसान सत्यनिष्ठा में विश्वास करता है वह देवताओं की श्रेणी में गिना जाता हैं.

वहीँ इसके विपरीत ऐसे लोगों की भी कमी नहीं है जो झूठ एवं मक्कारी की राह पर चलकर जीवन में क्षणिक सुखों एवं एश्वर्य का भोग करते हैं. वे अपने स्वार्थ को साधनों के लिए झूठ, प्रपंच का सहारा लेते है तथा दुसरे के नुकसान में भी अपना हित समझते हैं. उन लोगों को भी समझना चाहिए झूठ की धरातल पर खड़ी की गई बड़ी से बड़ी इमारत का एक दिन धराशायी होना निश्चित हैं.

हमें दूसरी श्रेणी के लोगों से बचकर रहने के साथ सत्य की राह पर चलने का यत्न करना चाहिए. ऐसा करने में हमें कई मुश्किलों तथा कठिनाइयों का सामना करना पड़ सकता हैं. मगर अंत हमेशा सच्चाई का अच्छा ही होता हैं. वह चरित्र, धन, दौलत, मान सम्मान पाता ही है जीवन की हर इच्छित सफलता उनका इन्तजार करती हैं. इसलिए सत्यनिष्ठा की राह में भले ही हमें संकट झेलने पड़े, शुरुआत में पीडाएं भुगतनी पड़े हमें इस राह को त्यागने की बजाय मजबूती से पकड़ना चाहिए.

सत्य की राह को बहुत कठिन समझा जाता हैं जीवनभर इस राह पर चलना भी कठिन होता है मगर इतिहास में जिन लोगों ने अपने नाम अमर किये है वे इस राह पर पूर्ण निष्ठा के साथ चले हैं. झूठ बोलने वाला व्यक्ति एक बार के लिए किसी को भी धोखा दे सकता है मगर बार बार ऐसा करने की सम्भावना समाप्त हो जाती हैं. सभी लोग उसे धोखेबाज एवं मक्कार प्रवृति का समझते हैं. एक सच्चे इंसान को हमेशा सत्य निष्ठ व्यक्ति के साथ खड़ा होना चाहिए.

सत्यनिष्ठा की पालना में परिस्थिति कोई विशेष मायने नहीं रखती हैं. कुछ लोग जीवन में सत्य की राह पर चलने का दावा तो करते है मगर कुछ हालातों में झूठ बोल लेते है ऐसा करने के पीछे वे मजबूरी को इसका कारण समझते हैं. जबकि सत्यनिष्ठा की राह से विचलित होने की यह शुरुआत होती है जिसके बाद उनकी आदत सी बन जाती हैं. मन मुताबिक़ परिणामों की इच्छा में वह झूठ का सहारा लेने लग जाते हैं.

पूज्य स्वामी विवेकानंद जी कहा करते थे कि जीवन में हमेशा सत्य की राह पर चलना चाहिए. क्रोध तथा असत्य जीवन व चरित्र को खराब होता हैं. क्रोध मनुष्य का सबसे बड़ा दुश्मन माना गया है जो जीवन को अन्धकार की ओर धकेल देता हैं. जब तक उसे सच्चाई के दर्शन होते हैं बहुत कुछ बर्बाद किया जा चूका होता हैं.

प्रत्येक मानव को जीवन में सत्य के प्रति समर्पित होना चाहिए. असत्य की राह कुछ समय के लिए सुखदायक हो सकती है मगर इसके दूरगामी परिणाम बेहद घातक होते हैं. अतः प्रत्येक समस्या को सत्य के साथ सामना करे तथा सत्यनिष्ठा को अपने जीवन का आदर्श बनाए, इससे न केवल चरित्र को ऊँचा उठाया जा सकता है बल्कि जीवन में अपार सम्मान एवं सुख की प्राप्ति भी होती हैं.

यह भी पढ़े

आशा करता हूँ दोस्तों Satyanishtha essay in hindi का निबंध पसंद आया होगा. सत्यनिष्ठा क्या है इसके बारे में दिया गया निबंध पसंद आया हो तो अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *