बेटी पर शायरी कविता कोट्स SMS | Shayari Poem Kavita Quotes SMS on Daughter In Hindi

Shayari Poem Kavita Quotes SMS on Daughter In Hindi बेटी ईश्वर का अनुपम उपहार है. जो भाग्यशाली माँ बाप को ही मिलती है. आज बेटियां घर की शान है, जब उन्हें घर से विदा किया जाता है तो वही घर सुना रह जाता है. माँ बाप की इन परियों को भलें ही कुछ लोग पुत्र मोह के चलते कम आंकते है. ओलपिंक हो या राष्ट्रमंडल, खेल, शिक्षा, वैज्ञानिक अनुसंधान सहित कई क्षेत्रों में आज हमारी बेटियां कही आगे निकल चुकी है. जिन पर माँ बाप को ही नही पूरे देश को गर्व होता है. बेटी पर शायरी कविता कोट्स में बेटी के महत्व के बारे में कुछ स्टेट्स बता रहे है.

Shayari Poem Kavita Quotes SMS on Daughter In Hindi/बेटी पर शायरी कविताShayari Poem Kavita Quotes SMS on Daughter In Hindi

बेटी पर शायरी (best Hindi Shayari on daughter)-

परियां खुद उतरती है
आसमा से
यकीं नही होता तो
घर में बेटियों को ही देख लो.

*************************************************************************************खिलते फूलों की कली है
बेटियां
माँ बाप के दुःख दर्द समझती है
बेटियां
परिवार का नाम रोशन करती है
बेटियां
बेटे आज हो तो
आने वाला कल है
बेटियां

*************************************************************************************

पुत्र माँ बाप की जमीन का
बंटवारा करते है, जबकि
बेटियां उनका
दुःख दर्द बाँटती है.

*************************************************************************************

बेटी एक मीठी मुस्कान है
सच तो ये है मेहमान है
बेटी….
जिस घर की पहचान बनने
चली..
उस घर से अनजान है बेटी..

*************************************************************************************

बेटी वो फूल है,
जो हर बाग़ में नही
खिलता है.
भाग्यशाली है वो माँ बाप
जिनके घर बेटी ने जन्म लिया है.

*************************************************************************************

बेटी भार नही है, आधार
जीवन है उसका अधिकार
शिक्षा है उसका हथियार
बढाओ कदम करो स्वीकार
बेटी बचाओं, बेटी पढ़ाओ

*************************************************************************************

बेटा वारिश है बेटी पारस है
बेटा वंश है बेटी अंश है
बेटा आन है बेटी शान है
बेटा तन है बेटी मन है
बेटा मान है बेटी गुमान है
बेटा संस्कार है बेटी संस्कृति है.

बेटी पर कविता (poem on daughter in hindi)

बेटी तेरे सौभाग्य का सिंदूर घोलकर मैं लाया हूं
लिखा विधाता ने भाग्य में तेरे जो वो वर आज मैं ढूंढ के लाया हूं
कलेजे का टुकड़ा है तू मेरा, कभी न किया है दूर तुझे खुद से

पर लाड़ली तेरी और मेरी जुदाई का वचन देकर आया हूं
बेटी तेरे लिए आज मैं शादी का जोड़ा लाया हूं
सुन्दर रंगों से सजे वो मेहंदी लेकर आया हूं

गुड़िया जैसी लाड़ली बेटी तेरे लिए
मैं रुमझुम करते झांझर लाया हूं
मन रोए है पर होठों पर मुस्कान लेकर आया हूं

अक्स है तू मेरा फिर भी दूसरा अक्स मैं लाया हूं
कहलाती है हर बेटी धन पराया क्यों?
जबकि तू तो है जान मेरी लाड़ली

पत्थर दिल बाप भी रो पड़ते बेटी की बिदाई पर
हो जाएगा आंगन सूना लाड़ली तेरे जाने पर
जाकर ससुराल खुशबू बनकर महका देना तू सबका जीवन

तुझ बिन सूना हो जाएगा बाबुल का आंगन
फिर झंखना लिए मन में तेरे सुख का संदेशा लाया हूं
पोंछ ले अपने आंसू लाड़ली खुशी का अवसर लाया हूं.

बेटी की विदाई पर कविता (Poem on daughter’s farewell)

बेटी की विदाई की एक सुन्दर कविता
आप सभी जरूर पढ़े और अच्छा लगे तो शेयर करे~

कन्यादान हुआ जब पूरा,आया समय विदाई का ।।
हँसी ख़ुशी सब काम हुआ था,सारी रस्म अदाई का ।

बेटी के उस कातर स्वर ने,बाबुल को झकझोर दिया।।
पूछ रही थी पापा तुमने,क्या सचमुच में छोड़ दिया।।

अपने आँगन की फुलवारी,मुझको सदा कहा तुमने।।
मेरे रोने को पल भर भी,बिल्कुल नहीं सहा तुमने।।

क्या इस आँगन के कोने में, मेरा कुछ स्थान नहीं।।
अब मेरे रोने का पापा,तुमको बिल्कुल ध्यान नहीं।।

देखो अन्तिम बार देहरी,लोग मुझे पुजवाते हैं।।
आकर के पापा क्यों इनको,आप नहीं धमकाते हैं।।

नहीं रोकते चाचा ताऊ,भैया से भी आस नहीं।।
ऐसी भी क्या निष्ठुरता है,कोई आता पास नहीं।।

बेटी की बातों को सुन के,पिता नहीं रह सका खड़ा।।
उमड़ पड़े आँखों से आँसू,बदहवास सा दौड़ पड़ा।।

कातर बछिया सी वह बेटी,लिपट पिता से रोती थी।।
जैसे यादों के अक्षर वह,अश्रु बिंदु से धोती थी।।

माँ को लगा गोद से कोई,मानो सब कुछ छीन चला।।
फूल सभी घर की फुलवारी से कोई ज्यों बीन चला।।

छोटा भाई भी कोने में,बैठा बैठा सुबक रहा।।
उसको कौन करेगा चुप अब,वह कोने में दुबक रहा।।

बेटी के जाने पर घर ने,जाने क्या क्या खोया है।।
कभी न रोने वाला बाप,फूट फूट कर रोया है

बेटी पर कोट्स (quotes on daughter in hindi)

  1. बेटी का अपमान उस समाज का श्राप है.
  2. एक बेटी अपने पिता की परी होती है.
  3. बिन पंखो की बेटी रुपी बिटिया इस दिन बागन से उड़ जाएगी.
  4. बेटी से ही चलता है परिवार, ये ना होती तो रूक जाता ये संसार
  5. जब तक बेटी शिक्षित नही होगी, समाज शिक्षित नही हो सकेगा.
  6. जब तक बेटी घर में है, माँ बाप के लिए वो समय स्वर्ग समान होता है.
  7. जो बेटियों का सम्मान नही करते वे मानव नही दानव है.
  8. बेटी की आदर्श अपनी माँ होती है, शादी के बाद बेटी कितनी भी दूर हो जाए माँ हमेशा उनके पास रहती है.

बेटी पर शायरी कविता कोट्स SMS (Shayari Poem Kavita Quotes SMS on Daughter In Hindi)

बेटी को चाँद मत बनाओं कि
कोई घुर घुर का देखे.
बल्कि
बेटी को सूरज बनाओं कि
घूरने से पहले ही नजरें झुक जाए.


हर बेटी के भाग्य में पिता होता है,
हर पिता के भाग्य में बेटी नही होती है.


बेटी कुछ भी मांगे तो
बिना सोचे समझे ला देना,
क्योंकि ये ही बेटी विवाह के बाद
आप कुछ देगे तो कहेगी
पापा इसकी क्या जरुरत थी.


हजारों बाग़ लगा दो आंगन में
जीवन में खुशबु तो बेटी के
आने से ही होगी.


जब बहु घर को आती है
तो हर मुह पूछता है क्या लेकर आई है
मगर ये कोई नही पूछता कि
वो क्या छोड़कर आई है.

अन्य पढ़े

Hope you find this post about ”Shayari Poem Kavita Quotes SMS on Daughter In Hindi” useful. if you like this article please share on Facebook & Whatsapp. and for latest update keep visit daily on hihindi.com.

Note: We try hard for correctness and accuracy. please tell us If you see something that doesn’t look correct in this article about Shayari on Daughter and if you have more information Poem Kavita on Daughter then help for the improvements this article.

 

Leave a Reply