शिक्षा का उद्देश्य और महत्व पर निबंध | Essay On The Purpose And Importance of Education

शिक्षा का उद्देश्य और महत्व पर निबंध | Essay On The Purpose And Importance of Education भाषा और साहित्य, काव्य और कला हर एक विषय में हमे मनुष्य को उनके विचार और कार्य की भूले नही बतानी चाहिए, वरन उन्हें वह मार्ग दिखा देना चाहिए, जिनमे वह इन सब बातों को और भी सुचारू रूप से कर सके.

शिक्षा का उद्देश्य क्या है (essay on the purpose of education in life)

विद्यार्थी की आवश्यकता के अनुसार शिक्षा में परिवर्तन होना चाहिए. अतीत जीवन की हमारी प्रवृतियों को गढ़ा है इसलिए विद्यार्थी को उनकी प्रवृतियों के अनुसार मार्ग दिखाना चाहिए. जो जहाँ पर है उसे वही से आगे बढाओं. हमने देखा है कि जिनकों हम निकम्मा समझते थे उनको भी श्रीराम कृष्णदेव ने किस प्रकार उत्साहित किया और उनके जीवन का प्रवाह एकदम बदल दिया.

उन्होंने कभी भी किसी मनुष्य की विशेष प्रवृतियों को नष्ट नही किया. उन्होंने अत्यंत पतित मनुष्यों के प्रति भी आशा और उत्साहपूर्ण वचन कहे और उन्हें उपर तक उठा दिया.

शिक्षा का महत्व (importance of education essay)

स्वाधीनता ही विकास की पहली शर्त है. यदि कोई यह कहने का दुसाहस करे कि ” मै इस नारी या बालक के उद्धार का उपाय करुगा” तो वह गलत है, हजार बार गलत है. दूर हट जाओं. वे अपनी समस्याओं को स्वयं हल कर लेगे. तुम सर्वज्ञता का दम्भ भरने वाले कौन होते हो?

तुम्हारे ऐसे दुस्साहस का विचार कैसे आया कि ईश्वर पर भी तुम्हारा अधिकार है. क्या तुम नही जानते कि प्रत्येक आत्मा ईश्वर का ही स्वरूप है. हर एक को भगवत स्वरूप समझों. तुम केवल सेवा कर सकते हो.

प्रभु की इच्छा से तुम किसी इन्सान की सेवा कर सको तो सचमुच तुम धन्य हो. तो धन्य हो कि तुम्हे यह सौभाग्य मिला है और दूसरे उससे वचित रहे है. उस कार्य को पूजा की भावना से करो.

 शिक्षा क्या है (What is education)

शिक्षा विविध जानकारियों का ढेर नही है जो तुम्हारे मस्तिष्क में ढूस दिया गया है और वहां आजन्म पड़ा रहकर गड़बड़ मचाया करता है. हमे उन विचारों की अनुभूति कर लेने की आवश्यकता है. जो जीवन निर्माण में मनुष्य निर्माण में तथा चरित्र निर्माण में सहायक हो वास्तव में उसे ही शिक्षा की संज्ञा दी जा सकती है.

यदि तुम केवल पांच ही परखे हुए विचार आत्मसात कर उनके अनुसार अपने जीवन और चरित्र का निर्माण कर लेते हो, तो तुम एक पुरे ग्रन्थालय को कठ्स्थ करने वाले की अपेक्षा अधिक शिक्षित हो. यदि शिक्षा का अर्थ जानकारी ही होता, तब तो पुस्तकालय संसार में सबसे बड़े संत हो जाते और विश्वकोष महर्षि बन जाते.

जीवन में सदाचार का महत्व निबंध | Sadachar Par Nibandh In Hindi... जीवन में सदाचार का महत्व निबंध | Sa...
आतंकवाद की समस्या पर निबंध | Hindi Aatankwad Ki Samasya Essay... आतंकवाद की समस्या पर निबंध | Hind...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *