Siwana Fort History In Hindi | सिवाणा के किले का इतिहास

Siwana Fort History In Hindi : पर्वतीय दुर्ग सिवाणा बाड़मेर जिले में अवस्थित हैं. Siwana Fort का निर्माण दसवीं शताब्दी में वीरनारायण पंवार ने करवाया था. तदन्तर इस पर जालौर के सोनगरा चौहानों का अधिकार रहा. 1305 ई में अलाउद्दीन खिलजी ने सिवाणा पर आक्रमण किया. किलेदार शीतलदेव ने अप्रितम वीरता दिखलाई, मगर भायला पंवार नामक सरदार के विश्वासघात के कारण यह खिलजी के आधिपत्य में चला गया. अलाउद्दीन ने सिवाणा किले का नाम खैराबाद रख दिया.Siwana Fort History In Hindi | सिवाणा के किले का इतिहास

Siwana Fort History In Hindi | सिवाणा के किले का इतिहास

सुमेल युद्ध के बाद मालदेव अपने संकटकाल में उसके पुत्र चन्द्रसेन ने यहीं से मुगलों का प्रतिरोध किया. अकबर के शासन काल में कल्ला राठौड़ यहाँ का दुर्ग पति था. अकबर ने जब जोधपुर शासक उदयसिंह को सिवाणा पर अधिकार करने का आदेश दिया तब कल्ला राठौड़ ने  युद्ध में अप्रितम वीरता दिखलाई. मगर वीरगति को प्राप्त हुआ.

तब किले की महिलाओं ने जौहर किया. जो सिवाणा का दूसरा साका कहलाता हैं. सिवाणा को मारवाड़ की संकटकालीन राजधानी कहा जाता हैं. बाड़मेर से 151 किमी की दूरी पर स्थित यह बाड़मेर की एक तहसील एवं विधानसभा क्षेत्र हैं. गढ़ सिवाना यहाँ का पर्यटक स्थल हैं. यहाँ से नजदीकी शहर बालोतरा है जो सिवाणा से 35 किमी की दूरी पर स्थित हैं.

Siwana Fort History In Hindi | सिवाणा के किले का इतिहास

वर्तमान में खंडहर की अवस्था में पहुच चूका सिवाणा का किला पहाड़ी पर स्थित हैं. खिलजी के आक्रमण में राठौड़ों की वीरता को देखकर दिल्ली के किसी सम्राट ने इसके बाद यहाँ आक्रमण नहीं किया. इस कारण यह दुर्ग अजेय माना जाता हैं. यदि आप बाड़मेर की तरफ यात्रा को आ रहे है तो मन में यह निश्चय मत कर आइये कि ये रेतीला प्रदेश जहाँ दूर दूर तक पानी नहीं है तथा रेत के टीले हैं.

जिले में कई ऐसे ऐतिहासिक स्थल एवं मन्दिर है जो अपने गौरवशाली इतिहास का आज तक बखान कर रहे हैं. जिनमे सिवाणा का किला भी मुख्य रूप से हैं. भले ही प्रशासन द्वारा इसके रखरखाव का ध्यान न दिए जाने के कारण यह जर्जर अवस्था में पहुच गया हो मगर इसके सुनहरे काल के पन्ने किले के किस्से आज भी ताजा कर देते हैं.

1538 में राव मालदेव सिवाणा के शासक बने तथा इन्होने किले के निर्माण के लिए पर्याप्त प्रयास भी किये. सिवाणा दुर्ग के मजबूत परकोटे का निर्माण मालदेव ने ही करवाया था. कल्ला राठौड़ ने अद्भुत वीरता दिखाई, भले ही युद्ध जीतने में मालदेव की सेना विफल रही. मगर बिना सिर के लड़ते धड़ को देखकर सम्राट भी घबरा गया था.

कल्ला राठौड़ की मृत्यु के बाद उनकी पत्नी हाड़ी रानी ने महल की सभी रानियों के साथ जौहर कर लिया था. किले में आज भी कल्ला की दो समाधियाँ है जिनमें एक उनके धड़ की तथा दूसरी उनके सिर की हैं. किले में एक ऐसा तालाब भी है जिसका पानी आज तक कभी भी खत्म नहीं हो पाया हैं. कई बड़े अकालों के बावजूद तालाब के पानी का ना सुखना अपने आप में एक अनसुलझा रहस्य हैं.

सिवाना के आस पास के पर्यटक स्थल – Places out & around Siwana Fort History

सिवाणा एक ऐसे भूभाग में आता है जो चारो ओर मरुभूमि से घिरा हुआ हैं. वर्षा ऋतू में सिवाणा की छप्पन की पहाड़ियां अपने मनोहारी रूप को धारण कर लेती हैं. सिवाणा के किले के आस-पास कई दर्शनीय स्थल है जिनमें पहला स्थान हल्देश्वर महादेव का मन्दिर हैं. इस मन्दिर में मारवाड़ के सपूत दुर्गादास का पोल भी बना हुआ हैं.

भीमगोड़ा मंदिर यहाँ का ऐतिहासिक मन्दिर है जिसके बारे में कहा जाता है कि इसका निर्माण महाभारत काल में हुआ था. अज्ञातवास की कुछ अवधि पांडवों ने यही गुजारी थी. बताया जाता है कि बलशाली भीम ने घुटना मारकर पाताल से जल की धारा को यही निकाला था.

इसके अलावा सिवाणा के दर्शनीय स्थलों में आशापुरी माँ का मन्दिर तथा मंछाराम जी महाराज का आश्रम भी हैं. इन्होने कई गौशालाओं का निर्माण करवाया था. नाकोड़ा जी तथा खेड़ का ब्रह्मा मन्दिर यहाँ के दर्शनीय स्थल हैं. यहाँ राजपुरोहित समाज के गुरु खेताराम जी की भव्य समाधि स्थित हैं.

आशा करता हूँ दोस्तों Siwana Fort History In Hindi का यह लेख आपकों अच्छा लगा होगा. यदि आपकों सिवाणा फोर्ट के बारे में दी गयी जानकारी अच्छी लगी हो तो प्लीज इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *