Speech On Gandhi Jayanti For School In Hindi Teacher And Students Speech Bhashan 2 Octomber 2018

Speech On Gandhi Jayanti For School In Hindi: महात्मा गांधी जयंती 2018 पर स्पीच भाषण स्कूल के स्टूडेंट्स और शिक्षकों के लिए– Gandhi Jayanti Speech For School In Hindi सरल भाषा में उपलब्ध करवाया गया हैं, जिन्हें कक्षा 1,2,3,4,5,6,7,8,9,10 के विद्यार्थी व शिक्षक आसानी से भाषण की तैयारी कर सकते हैं. 2 Octomber 2018 Bhashan, speech on mahatma gandhi Jayanti For Students & Teachers को 100,200,300,400,500, शब्दों में छोटे बड़े भाषण के रूप में आप विभक्त कर याद कर सकते हैं. राष्ट्रपिता महात्मा गांधीजी की जयंती उनके जन्म दिवस 2 अक्टूबर के दिन देशभर में एक राष्ट्रीय उत्सव के रूप में मनाई जाती हैं.

Speech On Gandhi Jayanti For School In HindiSpeech On Gandhi Jayanti For School In Hindi

Gandhi Jayanti Speech, Essay in Hindi 2018: आप सभी को सुप्रभात जैसे कि हम सभी जानते है कि आज का दिन एक ऐसे महापुरुष का जन्म दिन है जिससे सम्मान स्वरूप हम अपने राष्ट्र पिता के रूप में याद करते हैं. आज Gandhi Jayanti और शास्त्री जयंती हैं. इस अवसर पर मैं गांधी जयंती पर भाषण प्रस्तुत कर रहा हूँ, जिस व्यक्ति के बारे में प्रसिद्ध वैज्ञानिक अल्बर्ट आइंस्टीन ने कहा था कि भावी पीढ़ी को इस बात पर भरोसा भी नही होगा कि हाड़-मांस का बना ऐसा गांधी हुआ करता था जिसने भारत की आजादी का अभियान छेड़ा था और अंग्रेजों को पराजित कर भारत को स्वतंत्र कराया था.

Speech On Gandhi Jayanti For School In Hindi

2 अक्टूबर 1869 के दिन मोहनदास करमचन्द गांधी का जन्म गुजरात के पोरबंदर में हुआ था. इसी दिन को गांधी जयंती-  Gandhi Jayanti  के रूप में मनाया जाता हैं. 30 जनवरी 1948 में दिल्ली की प्रार्थना सभा के दौरान नाथूराम गोडसे ने गोली मारकर बापूजी की हत्या कर दी थी.

सत्याग्रह और अहिंसा के सिद्धांतों पर चलकर ही महात्मा गांधी ने दक्षिण अफ्रीका में रंगभेद के खिलाफ आन्दोलन एवं भारतीय स्वतंत्रता आन्दोलन में सफलता प्राप्त की थी. उनकी हत्या के दिन को विश्व अहिंसा दिवस के रूप में मनाया जाता हैं. गांधी जी के इन्ही सिद्धांतों व नागरिक अधिकारों के लिए विश्व में कई स्थानों पर औपनिवेशिक सरकारों के विरुद्ध आन्दोलन हुए.

अहिंसा के पुजारी गांधीबाबा पर चले होते तो आज हिंसा और आतंकवाद से मानवता को संकट से नही गुजरना पड़ता. उन्हें सत्य अहिंसा और सत्याग्रह ने न केवल भारत को आजाद कराया बल्कि भारत-पाक विभाजन के समय भड़की साम्प्रदायिक हिंसा को रोकने में भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाई. दुनियां गाधीजी के अहिंसा के सिद्धांतों से प्रभावित हैं. विश्व शान्ति एवं सद्भाव को बढ़ावा देने के लिए संयुक्त राष्ट्र संघ ने 2 अक्टूबर गांधी जयंती- Gandhi Jayanti को विश्व अहिंसा दिवस के रूप में मनाने का निर्णय 2007 में किया था.

गांधी जयंती 2018 भाषण

भले ही आज के समय में लोग गांधीवाद में विश्वास कम ही करते हो, मगर जब अंग्रेजों के दमनकारी चक्र में भारतीय जनता पीस रही थी तो गांधीजी ने अपनी लोकप्रियता एवं जन समर्थन के बल पर ब्रिटिश सरकार को हर बार झुकाया था. बेशक आजादी की कीमत हमारे लाखों स्वतंत्रता सैनानियों ने चुकाई थी, मगर इसमें कही न कही बड़ा योगदान महात्मा गांधी का भी रहा.

Gandhi Jayanti मनाने का उद्देश्य उस महापुरुष के विचारों एवं शिक्षाओं पर चलने से हैं. जिन्होंने तीन बन्दर की अवधारणा को प्रस्तुत किया था. यदि उनकी इस सोच को हर कोई अपना ले तो विश्व के अधिकाँश संकट समाप्त हो सकते हैं. उन्होंने कहा था. बुरा मत सुनो, बुरा मत देखों और बुरा मत कहो.

पेशे से वकील गांधी ने एक केस की सुनवाई के सिलसिले में दक्षिण अफ्रीका में कदम रखा था. वहां अंग्रेजी औपनिवेशिक सरकार के लोगों के साथ रंगभेद की निति से वे बेहद आहत हुए. तथा वहां की जनता के साथ उन्होंने सरकार के विरुद्ध आन्दोलन शुरू कर दिया.

1915 में जब वे अफ्रीका से भारत लौटे तो उनका ध्यान अंग्रेजों द्वारा चम्पारण के किसानो पर किये जा रहे अत्याचार पर गया. उन्होंने किसानों की आवाज बनकर चम्पारण खेड़ा आंदोलन शुरू किया इसके बाद उन्होंने नमक कानून तोड़ने के लिए दांडी यात्रा शुरू की. तथा भारत की स्वतंत्रता प्राप्ति को अपने जीवन का लक्ष्य मानकर आन्दोलन हड़ताले करते गये. इस दौरान उन्हें कई बार जेल भी जाना पड़ा.

महात्मा गांधी ने समाज सुधार की दिशा में भी कई महत्वपूर्ण कार्य प्रारम्भ किए, उनके द्वारा किए गये कार्यों में छुआछूत, गरीबी, जाति-पाति में बंटे समाज, विधवा विवाह, बाल विवाह, सिर पर मैला ढोने एवं अन्य बुराइयों को समाप्त करने के लिए कदम बढाया. हिन्दू मुस्लिम एकता और स्वच्छता पर वों सबसे अधिक ध्यान देते थे. आजादी के 73 साल बाद नरेंद्र मोदी ने गांधीजी के स्वच्छ भारत अभियान को गांधी जयंती Gandhi Jayanti 2020 तक पूरा करने का लक्ष्य रखा हैं.

आशा करता हूँ दोस्तों short speech on gandhi jayanti, Speech On Gandhi Jayanti For School In Hindi का यह लेख आपकों अच्छा लगा होगा. गांधी जयंती भाषण के इस आर्टिकल में हमने आपके लिए छोटा भाषण तैयार किया हैं. ये आर्टिकल आपकों पसंद आया हो तो सोशल मिडिया पर जरुर शेयर करे.

Leave a Reply