Speech On Gandhiji In Hindi – महात्मा गांधी स्पीच इन हिंदी

Speech On Gandhiji In Hindi महात्मा गांधी स्पीच इन हिंदी: गांधी जयंती पर भाषण हिंदी में Gandhi Jayanti 2019 Best Bhashan On Nation Father Mk Gandhi Bapu For School Student. 2 अक्टूबर 2019  गाँधी जी जीवनी पर भाषण Gandhi Ji Jayanti Life Story About Mahatma Gandhi in Hindi.  सभी साथियों को हमारा नमस्कार हैं  आज यानी 2 अक्टूबर 2019 को गांधी जयंती हैं. इस अवसर पर हम गांधीजी को श्रद्धापूर्वक याद करते हैं. आज का हमारा संपूर्ण लेख Gandhiji Speech In Hindi में बच्चों व स्टूडेंट्स के लिए छोटा बड़ा निबंध भाषण यहाँ बता रहे हैं.  सत्य एवं अहिंसा  की राह पर चलते जिस महामानव ने भारत को आजादी दिलाई, पूरा भारत उन्हें राष्ट्रपिता या बापू कहकर संबोधित करता हैं. यह दिन हमारे भारतवर्ष में गांधी जयंती के रूप में स्कूलों एवं कॉलेजों में मनाया जाता हैं. महात्मा गांधी भाषण को जानते हैं.

Speech On Gandhiji In Hindi – महात्मा गांधी स्पीच इन हिंदी

Speech On Gandhiji In Hindi - महात्मा गांधी स्पीच इन हिंदी

mahatma gandhi speech in hindi for kids Class 1,2,3,4,5,6,7,8,9,10 Students Use Gandhi Bhashan सत्य और अहिंसा के सिद्धांतों पर चलकर भारत के लोगों को गुलामी की बेड़ियों से मुक्त कराकर आजादी की रोशनी दिखाई थी. gandhi jayanti speech for children में उनके महान व्यक्तित्व तथा बिना रक्त बहाएं सदी की बड़ी जंग में जीत हासिल की थी. गांधी जयंती के अवसर पर बच्चों को भाषण आदि कहने को कहा जाए तो आप इस लेख की मदद ले सकते हैं.

Gandhi Jayanti Speech In Hindi Language

few lines on mahatma gandhi for children: 2 अक्टूबर का इतिहास क्या है, इस दिन क्या है गांधीजी का जन्म कब हुआ था, 2 अक्टूबर का दिन भारत के इतिहास में महत्वपूर्ण दिनों में इसकी गणना की जाती हैं. इस दिन भारत के दो सपूतों का जन्म हुआ था, एक थे महात्मा गांधी व दूसरे थे लाल बहादुर शास्त्री जी. 2 अक्टूबर 1869 को गुजरात के पोरबन्दर में गांधी जी का जन्म हुआ था. इनका पूरा नाम मोहनदास करमचन्द गांधी था. राष्ट्र ने इन्हें बापू और राष्ट्रपिता कहकर सम्बोधित किया, 2 अक्टूबर के दिन देशभर में गांधीजी पर कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता हैं. गांधी जयंती के मौके पर भाषण व निबंध की प्रतियोगिताओं का आयोजन करवाया जाता हैं.

भारत में गांधीजी जयंती पर राजकीय अबकाश होता हैं. 15 जून 2007 को संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा अहिंसा दिवस के रूप में बापू के जन्म दिवस को मनाने का निर्णय लिया था, अपने सम्पूर्ण जीवन को राष्ट्र सेवा की राह में लगा देने वाले गांधी के भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन में योगदान को कोई नहीं भूला सकता हैं. आज के दिन बापू शांति, अहिंसा और सच्चाई की मूर्ति के रूप में इनका स्मरण किया जाता हैं. यहाँ आप गांधीजी पर स्पीच (gandhi jayanti in hindi speech) पढ़ सकते हैं.

speech on gandhi jayanti for kids in hindi

short speech on mahatma gandhi for kids: माननीय मुख्य अतिथि महोदय, प्रधानाचार्य महोदय, मेरे समस्त विद्वान् गुरुजनों एवं मेरे सहपाठी मित्रो. आज 2 अक्टूबर है हम सभी जानते हैं कि आज के दिन का इतिहास क्या हैं.  जी, हाँ सत्य एवं अहिंसा के पद चिह्नों पर चलने वाले गांधीजी का जन्म आज ही के दिन हुआ था. उनके जन्म दिन को गांधी जयंती के रूप में मनाया जाता हैं और इसी लिए आज हम सब यहाँ एकत्रित हुए हैं. आज मैं राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की जयंती पर भाषण (information mahatma gandhi hindi) बोलने जा रहा हूँ.

गांधी जयंती की गिनती भारत के राष्ट्रीय पर्व के रूप में की जाती हैं, 2 अक्टूबर के दिन देशभर में इसे धूमधाम के साथ मनाया जाता हैं. जब दिल्ली के राजघाट में नाथूराम ने गोली मारकर इनकी हत्या कर दी तो गांधीजी की समाधि को राजघाट पर ही बनाया गया था. इस अवसर पर कुछ दिन पूर्व से ही राजघाट पर तैयारियां शुरू हो जाती हैं. गांधीजी की जयंती के दिन देश के सभी बड़े पदाधिकारी व नेता यहाँ आकर बापू को श्रद्धांजलि देते हैं. इस दिन सवेरे सर्वधर्म प्रार्थना का आयोजन भी करवाया जाता हैं. समूचा भारत उनके बलिदान एवं कार्यों को याद करता हैं.

विद्यालयों तथा महाविद्यालयों में नाटक, कविता, भाषणों, वाद विवाद प्रश्नोत्तरी, निबंध लेखन प्रतियोगिताओं के द्वारा गांधीजी के जीवन तथा भारत के स्वतंत्रता संग्राम में इसकी भूमिका को दर्शाया जाता हैं. उनके सत्य एवं अहिंसा के शील गुणों के महत्व तथा वर्तमान समय में इसकी आवश्यकता को हम भली भांति समझ सकते हैं. सिद्धांतों पर चलकर जीवन जीने वाले बापू ने एक बार कहा था ‘मेरा धर्म सत्य और अहिंसा पर आधारित है। सत्य मेरा भगवान है, अहिंसा उसे पाने का साधन’

यह सर्वविदित हैं कि भारतीय स्वतंत्रता संग्राम में भारत को आजाद कराने के लिए अहम योगदान किसी एक नेता का था तो वह महात्मा गांधी ही थे, वे कई बार जेल गये, अहिंसक आन्दोलन किये, बहिष्कार की नीति अपनाई, मगर आजादी के लिए उन्होंने कभी हिंसा की राह को नहीं चुना. अहिंसा, सच्चाई और शांति की ताकत के बल पर सर्वाधिक शक्तिशाली ब्रिटिश साम्राज्य को झुका देने की क्षमता गांधीजी में ही थी.

भारत आने से पहले गांधी जी दक्षिण अफ्रीका में गोरी सरकार की करतूतों से परिचित थे, दक्षिण अफ्रीका में उन्होंने श्वेत अ श्वेत की कानूनी लड़ाई लड़ी और उसमें विजयी हुए, जब 1915 में भारत में आए तो इन्होने देश को ढंग से समझने के लिए पुरे भारत का दौरा किया, लोगों की समस्याएं समझी. वे जानते थे कि इतने लम्बे समय तक ब्रिटिश राज के भारत में रहने का बड़ा कारण भारतीयों का सहयोग हैं. अतः उन्होंने विदेशी उत्पादों के बहिष्कार, असहयोग आन्दोलन  प्रयासों से जनता को सरकार के विमुख ला खड़ा किया.

गांधीजी के आंदोलन की यात्रा वर्ष 1919 में शुरू हुई जब इन्होने अंग्रेज अधिकारी डायर द्वारा जलियांवाला बाग़ हत्याकांड में हजारों नागरिकों की हत्या के बाद शुरू किया. इसके बाद इन्होने 12 मार्च 1930 से लेकर 6 अप्रैल तक 26 दिनों की दांडी यात्रा निकालकर नमक को शासन के दायरे से मुक्त कराया. उनकी लोकप्रियता व ब्रिटिश सरकार के अत्याचारों के चलते लोग गांधी के साथ जुड़ते गये और कारवाँ बनता गया, देखते ही देखते उनके कहने भर से लाखों लोग सरकारी नौकरियां सेना आदि को छोड़ हुकुमत के खिलाफ एकजुट हो जाते थे.

महात्मा गांधी छोटी छोटी चीजों को अधिक महत्व देते थे, उनके द्वारा नमक सत्याग्रह अथवा दांडी यात्रा करने का कोई बड़ा लक्ष्य नहीं था, मात्र नमक बनाकर सरकार के अवैध नियम को तोडना भर था, इसके लिए पूरा देश उनके पीछे पीछे चला था, मगर इन छोटे छोटे प्रयासों से उन्होंने सरकारी व्यवस्था को पूरी तरह कमजोर कर दिया था. अक्सर गांधीजी स्वच्छता के बारे में बेहद जागरूक रहते थे. वे समाज सेवा, हिन्दू मुस्लिम एकता, दलित हितों की बात भी किया करते थे.

यह भी पढ़े

आशा करता हूँ दोस्तों आपकों Speech On Gandhiji In Hindi का यह लेख अच्छा लगा होगा. इस लेख के जरिये हमने यहाँ very short information about gandhiji & few sentences about gandhi in hindi के बारे में जानकारी देने की कोशिश की हैं. यदि आपकों हमारा लेख अच्छा लगे तो अपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *