स्वतंत्रता दिवस पर सुभाष चंद्र बोस के नारे | Subhash Chandra Bose Slogans on Independence Day

Subhash Chandra Bose Slogans on Independence Day तुम मुझे खून दो मै तुम्हे आजादी दुगा और दिल्ली चलो जैसे जयकारो के साथ भारत की स्वतंत्रता की जापान और विदेशी देशो में रहकर आजाद हिन्द फौज का गठन करने वाले सुभाष चंद्र बोस भले ही स्वतंत्र भारत का सवेरा नही देख पाए, उनका जीवन, बलिदान, देशभक्ति सदा सदा के लिए अमर हो गईं.

स्वतंत्रता दिवस पर सुभाष चंद्र बोस के नारे विचार (Subhash Chandra Bose Slogans)

Subhash Chandra Bose quotes हिंदी

तुम मुझे खून दो मै तुम्हे आजादी दूगा

Give me blood and I will give you freedom

दिल्ली चलो 

Go to Delhi

आजाद हिन्द फौज के सिपाही सैन्य और आध्यात्मिक दोनों का प्रशिक्षु बनने की जरुरत हैं.

The soldiers of the Azad Hind Fauj are required to be both military and spiritual trainees.

जीवन में विकास से अर्थ यह हैं कि शंका सवालों को उठने दे और उनके समाधान ढूढ़ते रहे 

The meaning of development in life is that doubts should be raised to the questions and find solutions for them

अपने जीवन में अधिक से अधिक सच्चाई के सिद्धांतों को अपनाना होगा, कभी बैठे नही रहना चाहिए क्युकि जीवन का पूर्ण सत्य कोई नही जानता

You have to adopt the principles of greater truth in your life, you should never sit, because no one knows the absolute truth of life.

विषम परिस्थितियों को देखकर घबारने की बजाय उनका साहस से सामना करो, क्युकि जिन्दगी का हर एक पल परीक्षा हैं. और यह परीक्षा ईश्वर और सत्य धर्म की निष्ठां के प्रति हैं. विद्यालयों में आयोजित परीक्षा तो कुछ दिन की होती हैं, जबकि जिन्दगी की परीक्षा तो अनन्त चलती हैं. जिनके परिणाम हर जन्म में भोगने पड़ते हैं.

Rather than resorting to obstacles, try to cope with their courage, because every moment of life is examined. And this test is against the allegiance of God and true religion. Examinations held in schools are for a few days, whereas life expectancy goes on forever. The results of which are to be born in every birth.

हम सबका ये कर्तव्य हैं, कि अपनी आजादी की खातिर खून पसीने का त्याग करे, त्याग और बलिदान से प्राप्त आजादी की ताकत हमारे भीतर होनी चाहिए.

It is our duty to sacrifice blood for the sake of our freedom, the power of freedom gained from sacrifice and sacrifice should be within us.

इस मनुष्य जीवन में हमे केवल अच्छे कर्म करने का अधिकार और कर्तव्य हैं, जबकि इसके फल का निर्धारण केवल ईश्वर करता हैं.

 

हमारे भीतर आज सिर्फ एक ही मनोइच्छा होनी चाहिए, वो हैं वतन के लीये मरने की ताकि हिंदुस्तान जी सके, आज एक शहीद के मौत की तमन्ना ताकि देशभक्तों के खून से यह राह प्रशस्त हो.

There should be only one desire within us today, that is to die for the destiny so that Hindustan can live, today is the wish of a martyr’s death so that the path of patriotism leads to this path.

आज तक इतिहास में कभी विचार विमर्श के दम पर युगांतकारी परिवर्तन नही हुए हैं.

 

सबसे बड़ा अपराध अन्याय को सहन करना और बिना विरोध किये उनके साथ खड़े या समझोता करना हैं.

मित्रों स्वतंत्रता दिवस पर सुभाष चंद्र बोस के नारे का ये लेख आपकों कैसा लगा, हमारे लिए Subhash Chandra Bose Slogans on Independence Day इस लेख के बारे में कोई सुझाव या सलाह के लिए हमे आपके कमेंट का इन्तजार रहेगा. आप भी अपनी रचित कोई कविता, लेख, निबंध, कहानी अथवा कोई अन्य सामग्री आप इस वेबसाईट के द्वारा अधिक लोगों तक पहुचाना चाहते हैं. तो आपका स्वागत हैं. आप हमे अपने लेख merisamgari@gmail.com पर इमेल कर सकते हैं.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *