स्वाइन फ्लू के लक्षण, बचाव के उपाय और इलाज | Swine Flu In Hindi

Swine Flu In Hindi -स्वाइन फ्लू श्वसन तंत्र से जुड़ी बीमारी है, जो ए टाइप के इनफ्लुएंजा वायरस से होती है। यह वायरस एच1 एन1 के नाम से जाना जाता है और मौसमी फ्लू में भी यह वायरस सक्रिय होता है। 2009 में जो स्वाइन फ्लू हुआ था, उसके मुकाबले इस बार का स्वाइन फ्लू कम पावरफुल है, हालांकि उसके वायरस ने इस बार स्ट्रेन बदल लिया है यानी पिछली बार के वायरस से इस बार का वायरस अलग है।

स्वाइन फ्लू के लक्षण (symptoms of swine flu in hindi)

  • नाक का लगातार बहना, छींक आना, नाक जाम होना।
  • मांसपेशियां में दर्द या अकड़न महसूस करना।
  • सिर में भयानक दर्द।
  • कफ और कोल्ड, लगातार खांसी आना।
  • उनींदे रहना, बहुत ज्यादा थकान महसूस होना।
  • बुखार होना, दवा खाने के बाद भी बुखार का लगातार बढ़ना।
  • गले में खराश होना और इसका लगातार बढ़ते जाना।

स्वाइन फ्लू क्या है और कैसे फैलता है (What is swine flu and how it spreads)

जब आप खांसते या छींकते हैं तो हवा में या जमीन पर या जिस भी सतह पर थूक या मुंह और नाक से निकले द्रव कण गिरते हैं, वह वायरस की चपेट में आ जाता है। यह कण हवा के द्वारा या किसी के छूने से दूसरे व्यक्ति के शरीर में मुंह या नाक के जरिए प्रवेश कर जाते हैं। मसलन, दरवाजे, फोन, कीबोर्ड या रिमोट कंट्रोल के जरिए भी यह वायरस फैल सकते हैं, अगर इन चीजों का इस्तेमाल किसी संक्रमित व्यक्ति ने किया हो।

Leave a Reply