सरकार के प्रकार व कानून | Types Of Government In Hindi

सरकार के प्रकार व कानून | Types Of Government In Hindi

किसी भी देश की शासन व्यवस्था को सुचारू रूप से चलाने के लिए विभिन्न प्रकार के निर्णय लेने पड़ते है. इस प्रकार के निर्णय लेने का कार्य सरकार (Government/SARKAR) द्वारा किया जाता है. सरकार जनता के लिए कई प्रकार के कार्य करती है. यदि सरकार तानाशाही है तो यह आवश्यक नही है, कि वह जनता के भले के लिए कार्य करे. सामान्यतया लोकतांत्रिक सरकार (Democratic government) ही जनता के हित में निर्णय लेती है. सरकार जनता को विभिन्न प्रकार की जनसुविधाओं जैसे सड़क, स्कूल, अस्पताल बिजली की आपूर्ति आदि उपलब्ध करवाती है.

सरकार के प्रकार व कानून | Types Of Government In Hindi
Types Of Government

सरकार विभिन्न सामाजिक मुद्दों पर भी कार्य करती है. जैसे कि गरीबों का उत्थान के लिए कार्यक्रम चलाना. वह डाक एवं रेल सेवाएं चलाने जैसे महत्वपूर्ण काम भी करती है. सरकार का काम देश की सीमाओं की सुरक्षा करना और दुसरों देशों से शांतिपूर्ण संबंध बनाए रखना भी है. सरकार देश केसभी नागरिकों को पर्याप्त भोजन और अच्छी स्वास्थ्य सुविधाएँ प्रदान करने की व्यवस्था करती है.

सरकार के स्तर (level of government in india)

देश में सरकार अलग अलग स्तरों पर काम करती है. स्थानीय स्तर पर, राज्य स्तर पर एवं राष्ट्रीय स्तर पर.

  1. स्थानीय स्तर की सरकार का मतलब अपने गाँव या शहर के लिए काम करने वाली सरकार से है. अपने गाँव में ग्राम पंचायत और शहर में नगर पालिका आदि नगरीय निकाय स्थानीय सरकार के रूप में कार्य करते है. ये अपने इलाकें में सड़क बनवाने, सफाई करवाने और रास्तों में रोशनी की व्यवस्था करवाने जैसे स्थानीय महत्व के कार्य करते है.
  2. राज्य स्तर की सरकार का मतलब है, वह सरकार जो पुरे एक राज्य के लिए कार्य करे.
  3. राष्ट्रीय स्तर की सरकार का संबंध पूरे देश से होता है, जैसे हमारी केंद्र सरकार.

सरकार एवं कानून (Government and law)

सरकार कानून बनाती है. जो देश के सभी नागरिकों पर समान रूप से लागू होता है. सरकार कानून के माध्यम से काम करती है. उसके पास कानून बनाने और उसे लागू करने की शक्ति होती है. सरकार को यह शक्ति जनता वोट के माध्यम से प्रदान करती है. हम यह जानते है कि वाहन चालकों को सरकार द्वारा निर्धारित सड़क सुरक्षा के कानूनों को पालना करनी चाहिए.

अगर कोई कानून तोड़ता है तो उसको जुर्माना भरना पड़ता है अथवा जेल की सजा काटनी पडती है. यह सरकार की कानून लागू करने की शक्ति का उदहारण है. अगर लोगों को लगे, कि किसी कानून का ठीक ढंग से पालन नही हो रहा है. तों वे न्यायालय में प्रार्थना पत्र देकर कानून की पालना करवा सकते है.

अब हम जानेगे कि सरकार कितने प्रकार की होती है, और भारत में किस प्रकार की सरकार है.

सरकार के प्रकार (Types Of Government In Hindi)

सरकार को निर्णय लेने और कानून का पालन करवाने की शक्ति कौन देता है. इस बात पर निर्भर करता है कि उस देश में किस तरह की सरकार है. सरकार के भिन्न भिन्न प्रकार प्रचलित है जो निम्न है.

  • राजतंत्रीय सरकार (Monarchy government)– राजतंत्रीय सरकार में निर्णय लेने और सरकार चलाने की शक्ति अकेले एक ही व्यक्ति अर्थात राजा या रानी के पास होती है. राजा अपने कुछ सलाहकारों एवं मंत्रिपरिषद की मदद से सरकार चलाता है.अंतिम निर्णय लेने की शक्ति उसी के पास रहती है. वह जनता द्वारा निर्वाचित नही होता है. उसे अपने निर्णय के आधार बताने या निर्णयों की सफाई देने की जरुरत नही होती है. स्वतंत्रता के पहले देश में विभिन्न स्थानों पर इस प्रकार की राजाओं की सरकारे थी. ऐसी सरकार को बनाने में जनता की भागीदारी नही थी या नगण्य थी.
  • तानाशाही सरकार (Dictatorship) – यदि सरकार विभिन्न हितों के बिच टकरावों को बलपूर्वक दबाकर किसी एक हित को जबरदस्ती से लागू करती है, तो ऐसी सरकार तानाशाही होती है. तानाशाह शास्ज जनता के प्रति जिम्मेवार नही होता है. जनता के पास अपना विरोध या समर्थन प्रकट करने और कानून बनाने की प्रक्रिया में भागीदारी का कोई अधिकार नही होता है. एक समय यूरोप के जर्मनी व इटली देशों में तानाशाह सरकारे थी, जिन्होंने नागरिकों के मूल अधिकारों की अवहेलना की.

     

  • लोकतांत्रिक सरकार (Democratic government) – लोकतांत्रिक सरकार जनता के द्वारा चुनी हुई होती है. जनता वोट देकर अपना प्रतिनिधि चुनती है, जो जनता की ओर से सरकार में भागीदारी निभाता है. अतः यह जनता का ही शासन होता है. सरकार जनता के प्रति जवाबदेह और जन भागीदारी पर आधारित होती है. इस व्यवस्था में सभी को अपने-अपने हितों को प्रकट करने और संगठन बनाने की स्वतंत्रता होती है. सरपंच, पार्षद और विधायक जन प्रतिनिधि होते है.

READ MORE:-

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *