वर्ण विचार संस्कृत व्याकरण | Reet Sanskrit Mock Test | Reet Level 1 Online Test | Level 2 Practice Series | Questions Answer

Varn Vichar Sanskrit Questions वर्ण विचार संस्कृत व्याकरण | Reet Sanskrit Mock Test | Reet Level 1 Online Test Level 2 Practice Series Questions Answer: Here Is First Chapter Of Sanskrit Language students Of reet And Ctet Which Is Selected Sanskrit As First & Second Language, Can Took A Test Here Online.

वर्ण विचार संस्कृत व्याकरण | Reet Sanskrit Mock Test | Reet Level 1 Online Test | Level 2 Practice Series | Questions Answer

1. संस्कृत वर्णमाला में स्वरों की संख्या हैं.

 
 
 
 

2. प्रथम वैयाकरण माना जाता हैं.

 
 
 
 

3. अन्तस्थ वर्णों का आभ्यांतर प्रयत्न हैं.

 
 
 
 

4. उष्म वर्णों में नहीं हैं.

 
 
 
 

5. वरदराज की रचना है,

 
 
 
 

6. स्वरों के लिए प्रत्याहार हैं.

 
 
 
 

7. उच्चारण स्थान कितने हैं.

 
 
 
 

8. विवृत केषा प्रयत्न अस्ति

 
 
 
 

9. व्याकरण की बार्हस्पति परम्परा के अनुसार ब्रहस्पति ने किसे शब्दों का ज्ञान दिया,

 
 
 
 

10. अष्टाध्यायी का दूसरा नाम है.

 
 
 
 

11. ह्स्व स्वर अस्ति

 
 
 
 

12. गुण संज्ञा का विधायक सूत्र हैं.

 
 
 
 

13. क से पूर्व अर्ध चन्द्राकार चिह्न कहलाता हैं.

 
 
 
 

14. प्रत्याहारो की संख्या है.

 
 
 
 

15. माहेश्वर सूत्रों में किस वर्ण का दो बार उपदेश हुआ है.

 
 
 
 

16. किस माहेश्वर सूत्र में अकार की इतसंज्ञा हुई हैं.

 
 
 
 

17. सपादसप्ताध्यायी में कितने पाद है.

 
 
 
 

18. उदित वर्णों की संख्या कितनी हैं.

 
 
 
 

19. अन्तस्थ वर्णों की संख्या कितनी हैं.

 
 
 
 

20. प्रत्येक व्यंजन के कितने बाह्य यत्न होते हैं.

 
 
 
 

21. महाप्राण अस्ति

 
 
 
 

22. अन्तस्थ वर्ण नहीं हैं.

 
 
 
 

23. माहेश्वर सूत्रों में अंतिम वर्ण की संज्ञा होती हैं.

 
 
 
 

24. यथोतरं मुनीनां प्रामान्यम के अनुसार सर्वाधिक सम्मत मत हैं.

 
 
 
 

25. ए का उच्चारण स्थान हैं.

 
 
 
 

26. व्याकरण के त्रिमुनी में नहीं है.

 
 
 
 

27. आभायंतर प्रयत्नों की संख्या हैं, लघुसिद्धांतकौमुदी के अनुसार

 
 
 
 

28. व्यंजनों से सम्बन्धित बाह्य यत्न कितने हैं.

 
 
 
 

29. विवार, संवार, अघोष व महाप्राण हैं.

 
 
 
 

30. सर्वण होने के लिए समान होना जरुरी हैं.

 
 
 
 

31. आड़ी रेखा किस स्वर के नीचे लगाई जाती हैं.

 
 
 
 

32. उष्म वर्णों का आभ्यांतर प्रयत्न हैं.

 
 
 
 

33. पतंजली का काल हैं.

 
 
 
 

34. अच् वाचक अस्ति

 
 
 
 

35. प्रत्याहार संज्ञा विधायक सूत्र हैं.

 
 
 
 

36. व्याकरण की बार्हस्पति परम्परा का दूसरा नाम हैं.

 
 
 
 

37. पतंजली की कृति का नाम है

 
 
 
 

38. स्पर्श वर्णों के लिए प्रत्याहार हैं.

 
 
 
 

39. पाणिनि का समय माना जाता हैं.

 
 
 
 

40. यत्न कितने प्रकार का होता हैं.

 
 
 
 

41. माहेश्वर सूत्रों को कहा जाता हैं.

 
 
 
 

42. ए का नहीं होता हैं.

 
 
 
 

43. आकार का आभ्यांतर प्रयत्न होगा.

 
 
 
 

44. निम्नलिखित में से किसका कोई चिह्न नहीं होता हैं.

 
 
 
 

45. प्रयत्नों कतिधा

 
 
 
 

46. किसी भी वर्ण के कितने आभ्यंतर प्रयत्न सम्भव हैं.

 
 
 
 

47. अधोलिखित में से उच्चारण स्थान नही हैं.

 
 
 
 

48. व्याकरण की मुख्य परम्पराएं कितने प्रकार की हैं.

 
 
 
 

49. अकार के कुल कितने भेद हैं.

 
 
 
 

50. अनुस्वारस्य उच्चारणस्थानं किम

 
 
 
 

51. द्न्तोष्ठ्म कस्य वर्णस्य उच्चारण स्थानम्

 
 
 
 

52. पाणिनि शिक्षानुसारेण कति स्वरा भवन्ति

 
 
 
 

53. माहेश्वर सूत्रों में स्वर सम्बन्धी सूत्रों की संख्या हैं.

 
 
 
 

54. व्याकरण की माहेश्वरी परम्परा में व्याकरण के जनक है.

 
 
 
 

55. वर्णों का अभाव कहलाता हैं.

 
 
 
 

56. ज्ञ वर्ण में संयोजन हुआ हैं.(सभी पूर्ण वर्णों को हलन्त समझा जावे)

 
 
 
 

57. यम वर्णों की संख्या हैं.

 
 
 
 

58. णकार का उच्चारण स्थल हैं.

 
 
 
 

59. वार्तिकों की कुल संख्या कितनी है.

 
 
 
 

60. आयोग्वाह नहीं है.

 
 
 
 

61. अधोलिखित में गुण हैं.

 
 
 
 

62. संस्कृत वर्णमाला में व्यंजनों की संख्या हैं.

 
 
 
 

63. अष्टाध्यायी में कितने अध्याय हैं.

 
 
 
 

64. अन्तस्थ वर्णों के लिए प्रत्याहार हैं.

 
 
 
 

65. अल्पप्राण अस्ति

 
 
 
 

66. इकार का आभ्यांतर प्रयत्न होगा.

 
 
 
 

67. माहेश्वर सूत्रों की संख्या हैं.

 
 
 
 

68. दीर्घ स्वरों न अस्ति

 
 
 
 

69. वेदों का मुख कहलाता है.

 
 
 
 

70. उष्म वर्णों के लिए प्रत्याहार हैं.

 
 
 
 

71. अष्टाध्यायी का प्रथम सूत्र हैं.

 
 
 
 

72. हकार के यत्न हैं.

 
 
 
 

73. पाणिनीय शिक्षा में कितने उच्चारण स्थान माने गये हैं.

 
 
 
 

74. ण का बाह्य यत्न हैं.

 
 
 
 

75. प से पहले अर्धविसर्ग कहलाता हैं.

 
 
 
 

76. पाणिनि की माता का नाम था.

 
 
 
 

77. विसर्ग का बाह्य यत्न नहीं हैं.

 
 
 
 

78. उदात्त और अनुदात का समाहार कहलाता हैं.

 
 
 
 

79. अष्टाध्यायी का अंतिम सूत्र हैं.

 
 
 
 

80. विसर्गस्य उच्चारणस्थानम् किम

 
 
 
 

81. अण प्रत्याहार बोधकोअस्ति

 
 
 
 

82. स्पर्श वर्णों की संख्या हैं.

 
 
 
 

83. बाह्य यत्नों की संख्या हैं.

 
 
 
 

84. महाभाष्य कितने दिनों में लिखा गया.

 
 
 
 

85. श वर्णस्य उच्चारणसंज्ञा अस्ति

 
 
 
 

86. महाभाष्य में कितने आह्निक हैं.

 
 
 
 

87. वकार का उच्चारण स्थान हैं.

 
 
 
 

88. वर्गों के प्रथम तृतीय और पंचम वर्ण कहलाते हैं.

 
 
 
 

89. ल का उच्चारण स्थान हैं.

 
 
 
 

90. कितने वर्ण दो उच्चारण स्थानों की सहायता से बोले जाते हैं.

 
 
 
 

91. छ का उच्चारण स्थान हैं.

 
 
 
 

92. अधोलिखित में से वृद्धि नहीं हैं.

 
 
 
 

93. एदैतो………………………..

 
 
 
 

94. क का उच्चारण स्थान क्या हैं.

 
 
 
 

95. पाणिनि ने किस भगवान की आराधना करके व्याकरण का ज्ञान प्राप्त किया था.

 
 
 
 

96. संस्कृत वर्णमाला में कितने वर्ण हैं.

 
 
 
 

97. पाणिनीय शिक्षा के अनुसार संस्कृत में कितने वर्ण हैं.

 
 
 
 

98. वार्तिकों के रचयिता कौन हैं.

 
 
 
 

99. प्लुत स्वरों विद्यते

 
 
 
 

100. व्यंजनों के लिए प्रत्याहार हैं.

 
 
 
 

Question 1 of 100

हमारी अन्य संस्कृत क्विज

संस्कृत वर्ण परिचय
संस्कृत संधि
कारक व विभक्ति
धातु रूप
वाच्य परिवर्तन
समास
प्रत्यय

StartPsychology Test In Hindi [ 18 Chepter Test & 10 Model Papar]

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *