वीर अमरसिंह राठौड़ का इतिहास | Veer Amar Singh Rathore History Hindi

वीर अमरसिंह राठौड़ का इतिहास | Veer Amar Singh Rathore History Hindi: राजस्थान के एक अन्य सपूत जिसने मुगल शासक शाहजहाँ को उसके दरबार में जाकर चुनौती दी. वह वीर अमरसिंह राठौड़ राजस्थान में शौर्य, स्वाभिमान एवं त्याग का प्रतीक माना जाता हैं. अमरसिंह का जन्म 12 दिसंबर 1613 ई में हुआ था.

Veer Amar Singh Rathore History Hindi

ये जोधपुर के महाराजा गजसिंह का ज्येष्ठ पुत्र था. उसकी शिक्षा दीक्षा उत्तराधिकारी राजकुमार के रूप में हुई. वह कुशाग्र बुद्धि, चंचल स्वाभाव एवं स्वाभिमान से परिपूर्ण था. अतः अमरसिंह की कीर्ति चारों ओर फ़ैल गई. उसकों महाराजा गजसिंह का स्वाभाविक उत्तराधिकारी माना जाता था. किन्तु गजसिंह की उपपत्नी अनारा के षड्यंत्र के कारण अमरसिंह राठौड़ को राजगद्दी न देकर कनिष्ठ पुत्र जसवन्तसिंह को मारवाड़ का शासक बनाया गया.

अमरसिंह राठौड़ और शाहजहाँ

मुगल शासक शाहजहाँ ने जसवंतसिंह को मारवाड़ के शासक की मान्यता दे दी. अमरसिंह ने इस निर्णय का प्रतिकार नही किया. पिता के समय में ही अमरसिंह मुगल बादशाह की सेवा में आ गया था. इस घटना के बाद शाहजहाँ ने अमरसिंह को उच्च मनसब, राव की पद्वी और नागौर का परगना दिया.

अमरसिंह नागौर की प्रशासनिक व्यवस्था को सुद्रढ़ कर पुनः शाहजहाँ के दरबार में चला गया. अमरसिंह की सूझ बुझ और योग्यता से शाहजहाँ परिचित था. अतः अनेक कठिन अभियानों में वह अमरसिंह को भेजता था. उसे जुझारसिंह बुंदेला, राजा जगतसिंह कागड़, ईरान के शाह सफी, शाह भौसले के विरुद्ध और कंधार के अभियानों पर भेजा गया. अमरसिंह स्वयं स्वाभिमानी था तथा स्वाभिमानी व्यक्तियों का विशेष ध्यान रखता था.

अमरसिंह और शाहजहाँ के बिच विवाद

केसरीसिंह जोधा को बादशाह की आज्ञा के कारण अटक पार जाना था, किन्तु जब आदेश पालना में हिचकिचाहट बताई तो उसका मनसब जब्त कर लिया, इसकी सूचना जब अमरसिंह को हुई तो वह केसरीसिंह से मिलने गया और बादशाह की नाराजगी की परवाह किए बगैर उसने 30 हजार का पट्टा तथा नागौर की सुरक्षा का उत्तरदायित्व उनको सौपा.

इस प्रकार अमरसिंह ने जोधा के सम्मान की रक्षा की. अपने स्वाभिमान पर भी अमरसिंह ने कभी आंच नही आने दी. कतिपय घटनाओं के कारण अमरसिंह ने मुगल कोष में जमा कराएं जाने वाले कर को देने से स्पष्ट रूप से मना कर दिया, राज्य की ओर से बार बार मांग होने पर भी उसनें अपने निश्चय में कोई परिवर्तन नही किया.

अमरसिंह विरोधी मनसबदारों को उसके विरुद्ध बादशाह के कान भरने का अच्छा अवसर मिला. इसमें सुलावत खान भी था. इसका प्रभाव बादशाह पर भी पड़ा. उसने एक दिन अमरसिंह को कटु वचन सुनाएं. अमरसिंह का स्वाभिमान जाग उठा और क्रोध से उसके नेत्र लाल हो गये. वह बादशाह की ओर बढ़ा.

वीर अमरसिंह राठौड़ की मृत्यु

जब सलावत खां ने अपशब्द कहते हुए उसे आगे बढ़ने से रोकने का प्रयास किया तो उसे अमरसिंह के हाथों मौत का शिकार होना पड़ा. भयग्रस्त बादशाह बादशाह अपनी जान बचा पाया. मुगल दरबार में अमरसिंह जब अकेला था, मुगल मनसबदार द्वारा धोखे से मार दिया गया.

इस घटना से भले ही अमरसिंह की मृत्यु हो गई किन्तु आदर्शों के प्रति उसका समपर्ण आज भी हमे प्रेरणा देता हैं. रचनाधर्मियों ने उसके स्वाभिमान और त्याग से आकर्षित होकर अनेक प्रेरणादायक काव्यों की रचना की. (Veer Amar Singh Rathore History Hindi)

Swami Karpatri Ka Jivan Parichay & History Swami Karpatri Ka Jivan Parichay &a...
संत पीपा जी का जीवन परिचय | sant pipa ji maharaj... संत पीपा जी का जीवन परिचय | sant pi...
दादू दयाल का जीवन परिचय | dadu dayal history in hindi... दादू दयाल का जीवन परिचय | dadu daya...
पाबूजी राठौड़ का इतिहास | history of pabuji rathore in hindi... पाबूजी राठौड़ का इतिहास | history o...
महाराजा सूरजमल इतिहास | maharaja surajmal history in hindi... महाराजा सूरजमल इतिहास | maharaja su...
स्वामी रामचरण जी महाराज के बारे में | About Swami Ramcharan Ji Maharaj... स्वामी रामचरण जी महाराज के बारे में...
बाबा रामदेवजी महाराज का जीवन परिचय | baba ramdev runicha history in hi... बाबा रामदेवजी महाराज का जीवन परिचय ...
जाम्भोजी का इतिहास और विश्नोई समाज | Jambho Ji History Hindi... जाम्भोजी का इतिहास और विश्नोई समाज ...

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *