फादर्स डे 2018 स्पेशल क्या करे | What do Fathers Day Special

फादर्स डे 2018 स्पेशल क्या करे | What do Fathers Day Special

एक समय था जब पिता को पुत्री संतान के नाम से ही खीज होती थी, लेकिन आज कारण भी बदले हैं और हालात भी। बेटी पिता के लिए कोई बोझ या जिम्मेदारी बनकर नहीं रह गई हैं, बल्कि पिता की शान और पहचान का हिस्सा बन रही है। बाप-बेटी का रिश्ता गहरी दोस्ती का रूप इख्तियार करने लगा है। जहां संवेदनाएं भी हैं और परवरिश भी। सिमटती दूरियों में पिता को बेटी की अहमियत नजर आने लगी है तभी शायद आज बेटियां भी पापा की लाडली हो गई हैं और मिलती तवज्जो से बेटियां भी फक्र से कहने लगी हैं-‘हां मैं हूं पापा की लाडली।’Father's Day In Hindi

मेरे मोहल्ले में कुछ ऐसे भी पिता जी हैं जो अपने बच्चों के लिए दहशत का दूसरा नाम हैं।
और ऐसे बहुत से बच्चे हैं (अधिकतर मध्यमवर्गीय परिवारों के) जो पिताजी को इस दिन की शुभकामनाएं देना चाहते हैं पर किसी संकोच/झिझक/डर में नहीं दे पाते, इसका मुख्य कारण है दूरी के रूप में खुलेपन का अभाव।
तो इस फादर्स डे आपका ये संकल्प होना चाहिए कि अगले फादर्स डे तक इस दूरी को कम से कम या ख़त्म कर दिया जाए।
सिर्फ फादर्स डे की शुभकामनाएं लेने के लिए नहीं बल्कि कई अन्य ज़रूरी बातों के लिए भी।

आज पितृ दिवस (फादर्स डे) पर देश भर के पिताओं से निवेदन करता हूँ की वे # बेटी बचाओ-बेटी पढ़ाओ # अभियान की सफलता में अपना सहयोग देकर पितृ दिवस की सारथकता को सिद्ध करें। आइये इस अभियान को सफल बनाने का संकल्प लें।

फादर्स डे’ स्पेशल: तो इसलिए पापा की लाडली होती हैं बेटियां.

READ MORE

Leave a Reply