Who Is Sheetla Mata In Hindi : कौन है शीतला माता मंदिर फोटो 2019 मेला

Who Is Sheetla Mata In Hindi कौन है शीतला माता मंदिर फोटो 2019 मेला: गूलर, घोल, गुठली और रोगों की देवी के रूप में शीतला माता की पूजा भारत के कोने कोने में की जाती हैं. इसे आदिशक्ति पार्वती तथा देवी दुर्गा का रूप माना जाता हैं जिसका वाहन गधा तथा इनके अस्त्र शस्त्र झाड़ू, पंखा, पानी से भरा घड़ा फोटों में दिखाया जाता हैं. चाकसू में माता शीतला का बड़ा एवं मुख्य मंदिर हैं शीतला सप्तमी तथा शीतला अष्टमी को दूर दूर से भक्त जन माँ के दरबार में हाजरी लगाने आते हैं.

Who Is Sheetla Mata In Hindi

Who Is Sheetla Mata In Hindi

Sheetla Mata Puja Vidhi Sheetla saptami 2019 Sheetla Mata Story In Hindi, Shitla Maa Ki Kahani

(1). चेचक रोग की देवी के रूप में शीतला माता का पूजन किया जाता हैं शरीर पर फोड़े फुंसियाँ अथवा माता रोग हो जाने पर आज भी माता का पूजन होता हैं.

(2). शीतला माता के फोटो में उन्हें चार हाथों वाली दिखाया गया जिनमें प्रत्येक हाथ में झाड़ू, कलश, नीम के पत्ते तथा सूप को दिखाया गया हैं. इनका अपना अलग अलग अलग महत्व हैं. बताते है कि चेचक पर ठंडे पानी झाड़ू से उन्हें फोड़ना, छाले पके नहीं इसके लिए नीम तथा सूप अथवा गधे की लीद से रोगी को दर्द से राहत मिलती हैं.

(3). चैत्र मास की कृष्ण अष्टमी का दिन माँ शीतला का माना जाता हैं जिन्हें हम शीतला अष्टमी के रूप में भी मनाते हैं.

(4). दाहज्वर, पीतज्वर, दुर्गंधयुक्त फोड़े, नेत्र के रोगों से देवी छुटकारा दिलाती हैं साथ ही इन्हें स्वच्छता की देवी भी कहा जाता हैं.

(5). शीतला अष्टमी मनाने के साथ यह मान्यता जुड़ी है कि इस दिन एक दिन पहले का बना ठंडा भोजन खाया जाता है तथा इसे ही माँ को भोग में दिया जाता हैं इससे शीतला माँ प्रसन्न हो जाती हैं.

(6). माता शीतला का मंत्र यह है जिसका पूजा के समय उच्चारण करना चाहिए.

” वन्देऽहंशीतलांदेवीं रासभस्थांदिगम्बराम्।।
मार्जनीकलशोपेतां सूर्पालंकृतमस्तकाम्।। ”

What Is Story Of Sheetla Mata In Hindi

एक कहानी कहती है कि देवी दुर्गा ने छोटी कात्यायनी के रूप में अवतार लिया है – ऋषि कात्यायन की बेटी – दुनिया की सभी अभिमानी बुराई राक्षसी ताकतों को नष्ट करने के लिए, दुर्गा के रूप में अपने वास्तविक रूप में, उन्होंने कई राक्षसों को मार डाला जो कालकेय द्वारा भेजे गए थे ।

ज्वरसुर नामक राक्षस, बुखार के दानव , ने कात्यायनी के बचपन के दोस्तों, जैसे कि हैजा , पेचिश जैसे असाध्य रोगों को फैलाना शुरू कर दिया था, खसरा, चेचक आदि कात्यायनी ने अपने कुछ दोस्तों की बीमारियों को ठीक किया। दुनिया को सभी बुखार और बीमारियों से राहत देने के लिए कात्यायनी ने शीतला देवी का रूप धारण किया। उसके चार हाथों में से प्रत्येक में एक छोटा झाड़ू, जीतने वाला पंखा, ठंडा पानी का जार और एक पीने का कप था।

अपनी शक्ति से, उसने बच्चों की सभी बीमारियों को ठीक कर दिया। तब कात्यायनी अपने दोस्त, बटुक से अनुरोध करती है कि वह बाहर जाए और राक्षस जवासुर का सामना करे। युवा बटुक और राक्षस जवासुर के बीच युद्ध हुआ। जटासुर बटुक को हराने में सफल होता है। फिर, बटुक, मृत पड़ा, जादुई रूप से धूल में फीका हो गया। ज्वारसूर हैरान था कि बटुक गायब हो गया था और सोच रहा था कि वह कहां गया था, यह महसूस करते हुए नहीं कि बटुक के पास वास्तव में एक भयानक पुरुष आकृति का रूप था,

जिसमें तीन आंखें और चार भुजाओं में युद्ध-कुल्हाड़ी, तलवार, त्रिशूल और राक्षस का सिर था।कपाल की माला – बटुक के लिए भगवान शिव के भयंकर रूप, भैरव का रूप धारण किया था । भैरव ने जवासुर को फटकार लगाई और उसे बताया कि वह देवी दुर्गा (कात्यायनी के रूप में अवतार) का सेवक है। एक लंबी चर्चा चली लेकिन फिर लड़ाई में बदल गई। ज्वरासुर ने अपनी शक्तियों से कई राक्षसों का निर्माण किया लेकिन भैरव उन सभी को नष्ट करने में कामयाब रहे। अंत में, भैरव ने जवासुर के साथ कुश्ती की और उसे अपने त्रिशूल से मार दिया।

यह भी पढ़े-

आशा करता हूँ दोस्तों Who Is Sheetla Mata In Hindi में दी गई जानकारी आपकों अच्छी लगी होगी. यदि आपकों शीतला माता के बारे में दी गई जानकारी पसंद आई हो तो प्लीज इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *