शराब का अर्थ और पीना चाहिए या नहीं एवं छोड़ने के उपाय | Wine Meaning drink Or Not And Remedies In Hindi

Wine Meaning drink Or Not And Remedies/ शराब का अर्थ- शराब के तीन अक्षर तीन विशेष बातों की शिक्षा देते हैं। श = शैतान, रा = रावण, ब = बदनसीब। शराब का पहला अक्षर ‘श’ शैतान का द्योतक है अर्थान् इन्सान शराब पीने से इन्सान होते हुए भी शैतान बन जाता है। उसे अपने और पराये का ज्ञान नहीं रहता। रा अर्थात् रावण = जिसने अपना तथा अपने समस्त परिवार सहित पूरे वंश का नाश कर डाला।शराब पीने से रावणी बुद्धि का उदय होता है और शराब पीने वाला व्यक्ति अपने धन सहित परिवार का अपने हाथों से नाश कर डालता है। माना कि आपके परिवार में कोई बीमार है

और आप शराब पीकर नशे में धुत पड़े हैं तो उस समय अगर कोई आपसे आकर कहता है कि आपका बेटा बीमार है, उसे इलाज के लिये हॉस्पिटल ले जाओ। जब आप स्वयं उठने लायक नहीं हैं तो बेटे को इलाज के लिये हॉस्पिटल कैसे ले जाओगे? हो सकता है वह इलाज के अभाव में मर ही क्यों न जाये और यहीं से आप पर लागू होता है शराब के तीसरे अक्षर ‘ब’ का अर्थ ‘बदनसीब’। होश में आने पर आप अपनी बदनसीबी को कोसने और शराब को गाली देंगे

कि यदि मैं शराब का सेवन न करता तो मेरा बेटा इलाज के अभाव में न मरता। लेकिन इसमें शराब का कोई दोष नहीं है क्योंकि शराब ने तो समझाया था कि प्रथम स्टेज में मैं लोगों को शैतान बनाती हूँ। दूसरे स्टेज में रावण बनाती हूँ और तीसरे स्टेज में बदनसीब बनाकर छोड़ देती हूँ।

शराब का अर्थ और पीना चाहिए या नहीं एवं छोड़ने के उपाय | Wine Meaning drink Or Not And Remedies In Hindialochol

शराब पीना चाहिए या नहीं (Should drink alcohol or not)

  1. एक बात लगभग सभी जानते है कि शराब पीने से लीवर के खराब होने के खतरा हमेशा बना रहता है. तथा लम्बे समय तक इसके सेवन से लीवर का कैंसर भी हो सकता है. इस बात को मानकर भले ही डर से ही सही बहुत से लोग शराब को हाथ भी नही लगाते है.
  2. भारत में शराब पीनी चाहिए या नही यह कभी चर्चा का विषय नही रहा बल्कि हमेशा से लोगों को इससे दूर ही रहने को कहा जाता है. मगर ब्रिटेन में इस विषय पर सरकार समय समय दिशा निर्देश जारी करती है, जिसमे कहा जाता है अधिक मात्रा में शराब का सेवन नही करे 2-3 तीन यूनिट से अधिक सेवन करने वाले हफ्ते में 2 दिन बिना शराब के रहे.
  3. अभी भी इस बात का समर्थन करने वाले बहुत से लोग है, कि शराब का सिमित मात्रा में हर व्यक्ति को उपयोग करना चाहिए. इसकी कम मात्रा हृदय संबंधी बीमारियों और स्ट्रोक की बीमारियों की दूर करने में मदद करती है.
  4. शराब पीने के क्या फायदे(What are the benefits of drinking)– दिमाग की सक्रियता को बढाता है, लीवर में पत्थरी को रोकता है, ब्लडप्रेशर को नियंत्रित कर ह्रद्यघात से बचाता है, मधुमेह से रक्षा करता है, यौन क्रियाओ में तत्परता देता है, मस्तिष्क के बोझ और तनाव में कमी लाता है, हड्डियों को मजबूत बनाने के साथ ही जल्दी बुढ़ापा आने की समस्या का समाधान भी करता है.
  5. शराब पीने से नुकसान (Loss of drinking alcohol)-दिमाग का सुस्त रहना तथा यादाश्त का कमजोर होना, पाचनक्रिया में कमी, BP बढ़ना, विटामिन A की अत्यधिक कमी, वीर्य में स्पर्म की संख्या में कमी, लगातार और अत्यधिक सेवन से कैंसर, मिर्गी जैसे रोग की उत्पति, फैटी लीवर की समस्या आदि.

शराब छोड़ने के उपाय (Remedies for alcohol withdrawal)

  • नित्य योग एवं व्यायाम करने से शराब की लत को कम करने तथा अधिक मानसिक नुकसान को बचाने में मदद करते है.
  • एक्यूपंक्चर विधि से सही जगह पर दवाब डलवाकर भी पीने की लत को नियंत्रित किया जा सकता है.
  • फाइबर रेशे युक्त अधिक भोजन तथा ताजे फल शरीर को अतिरिक्त उर्जा प्रदान करते है जो शराब छुडाने में मददगार साबित हो सकती है.
  • अजवाइन करेला और खजूर शराब छोड़ने के घरेलू नुस्खो में सबसे कारगर उपाय है. इसका नियमित सेवन करके शराब के मानसिक मन्दिता की समस्या से छुटकारा मिलता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *