Youth Motivational Poem In Hindi | युवा पर कविता

Youth Poem In Hindi Motivational Poem In Hindi | युवा पर कविता

नमस्कार साथियों Youth Poem In Hindi/Yuva shakti poem/Youth Power Poem के इस लेख में आज भारत के युवा पर कविता उनकी जवानी जोश यूथ पॉवर पर हिंदी की पांच कविताएँ प्रस्तुत कर रहे हैं. आज का युवा अपनी राह भटकता हुआ प्रतीत होता हैं. शचीन्द्र भटनागर जी की इन Youth Motivational Poem से अवश्य उन्हें सही राह पर आगे चलकर देश की प्रगति एवंम विकास के लिए आगे आने की प्रेरणा मिलेगी. youth poem में यहाँ पांच बड़ी एवं प्रेरणादायक कविता दी गई हैं.

Youth Poem In Hindi (युवा पर कविता)Youth Motivational Poem In Hindi | युवा पर कविता

Hindi Poems on Youth Power – Yuva Shakti , Hindi Wisdom Poem About Youth Power, Motivational and inspirational Yuva Shakti Poem:-

राष्ट्र यौवन का आव्हान- Youth Poem

यौवन सचमुच आंधी ही हैं, उसकी अपनी गति होती है
और लक्ष्यनिष्ठ जीवन ही, जीने हेतु सुमति होती है
कोई बाधा रोक न पाती व व्यवधान नही टिकते है
यौवन के साहस, संकल्पों को तो उच्च लक्ष्य दीखते है
खड़ी समस्याएं जब होती, यौवन ललकारा जाता हैं
तब तब समाधान करने को यौवन की जीवट होती हैं

त्रेता में मचला था यौवन, द्वापर में जूझा था यौवन
राम कृष्ण दीखते थे, सन्मुख सूत्रधार था लेकिन यौवन
यौवन ने ही वेद शास्त्र का मंथन कर, पुराण रच डाले
वेदव्यास की वैचारिक क्रांति भी यौवन से होती हैं.

फिर जब भी विकृतियाँ आई धर्म समाज बने प्रतिगामी
तब यौवन ने महावीर, गौतम बन बागडोर थी थामी
त्यागी और तपस्वी यौवन की गरिमा की आंधी बन बैठी
यौवन को कुछ नही असम्भव, हर मुश्किल ही हल होती हैं’

गांधी सुभाष, भगतसिंह, आजाद यौवन परिभाषा ले आए
और विवेकानंद मुखर हो, यौवन की भाषा दे पाए
देश धर्म संस्कृति का इनने, जग में ऊँचा नाम किया था
यौवन के बलबूते पर ही सत्य धर्म की जय होती हैं

आज पुनः राष्ट्र संस्कृति की घटाटोप बादल छाए है
भ्रष्टाचार, अनय आतंकी उठे बौखला बौराए हैं
युगऋषि ने आवाज लगाई युवा राष्ट्र की तरुणाई को,
युवा राष्ट्र दिखलादो कैसी यौवन की आंधी होती हैं.

युवा शक्ति पर कविता उद्बोधन गीत (Youth Poem In Hindi)

बढ़ती विडम्बनाओं से इस जग को कौन उबारे
इस गम्भीर चुनौती को अब युवा शक्ति स्वीकारे
जितनी भी संचार साधनों से दूरियां घटी हैं
सजल भावनाएं ह्रदयों की उतनी ही सिमटी है
आज कही से सद्भावों की धार न पोषण पाती
संवेदना इसी से सतत सूखती जाती

इस संकट के वक्त विश्व के युवजन बने सहारे
इस गम्भीर चुनौती को अब युवाशक्ति स्वीकारे
शुभकामना फेसबुक के संदेश बिच ही बसती
आँख बुजुर्ग की भावुक चिट्टी के लिए तरसती
संवेदना बढ़े तो सद्भावों का वेग बढ़ेगा
तब सर्व भवन्तु सुखिन का भाव सहज उमड़ेगा

प्यार और सहकार भरे होंगे परिवार हमारे
इस गम्भीर चुनौती को अब युवाशक्ति स्वीकारे
दिग्भ्रम से आतंक बढ़ा है, सहमी सभी दिशाएँ
टूट रही है अब समाज की सारी मर्यादाएं
करने को संघर्ष युवा अब अपना मन्यु जगाएं
स्वयं प्रज्वलित दिए बने फिर अगणित दीप जलाएं

भ्रम से भरे सभी पथ जिससे हो जाए उजियारे
इस गंभीर चुनौती को अब युवाशक्ति स्वीकारे
परमेश्वर ने युवाशक्ति को दे दिया खजाना
सुविधाओं की चकाचौंध में उसे नहीं पहचाना
तुम तो ऋतू वसंत हो, जिसमें डाल पत्ते हरियाते
जिसके निकट पहुचकर प्राणी ऊर्जा से भर जाते
उस ऊर्जा से हर विपत्ति को युवाशक्ति ललकारे
इस गम्भीर चुनौती को अब युवा शक्ति स्वीकारे

youth day special poem- Yuva Shakti – Hindi Poems on Youth Power- भारत की युवा शक्ति इन हिंदी

है जवानी वही है जवानी वही
हर चुनौती को हंसके स्वीकारा जो है, जवानी वही
जिन्दगी को न समझे कभी भार जो, है जवानी वही

शक्ति से है भरी स्वस्थ नस नाड़ियाँ
राह को रोक सकती है न दुश्वारियां
तुम चलो तीर से सनसनाते हुए
शक्ति संकल्प से पग बढ़ाते हुए

चीरकर बढ़ सके वक्त की धार जो है जवानी वही
हर चुनौती करे हंसके स्वीकार जो, है जवानी वही
हार से क्यों तुम्हे अब निराशा हुई
क्यों अविश्वास से पूर्ण भाषा हुई
आत्मविश्वास अपना ज्गालो जरा

पतझरो से न माने कभी हार जो, है जवानी वही
हर चुनौती करे हंसके स्वीकार जो, है जवानी वही
हैं जवानी मिली लोकहित के लिए
स्नेह से हो भरे प्रज्वलित सब दिए
दीप से दीप सबके जलाते चलो
हर दिशा हर डगर जगमगाते चलो

काट दे हर तरफ घोर अंधियारा जो, है जवानी वही
हर चुनौती को करे हंसके स्वीकार जो, है जवानी वही
इस समय चाल का रुख बदल दो जरा
लक्ष्य को देख, उस ओर चल दो जरा
राह में रोक पाएं न छाहें तुम्हे
देखती वक्त की हैं निगाहें तुम्हे

दृष्टि में रख सके पूर्ण संसार जो, है जवानी वही
हर चुनौती को करे हंसके स्वीकार जो, है जवानी वही
हर तरफ अब चुनौती भरा है समय
हैं अनाचार, आतंक, अन्याय भय
श्रेष्ठाताएं मनुज की व्यथित हो रही
आसुरी वृतियां संगठित हो रही
संगठित हो करे उनका प्रतिकार जो, है जवानी वही
हर चुनौती करे हंसके स्वीकार जो, है जवानी वही

उठो जवानो इस वेला को पहचानो
उठो जवानों यह वेला हैं जगने और जगाने की
पहचानो तुममें क्षमता है अग्रदूत बन जाने की
तुम जीवन की ऋतू बसंत हो, देखों अपनी ओर जरा
शिरा शिरा में स्रजन शक्ति का हैं अक्षय भंडार भरा
तुम्हें स्वार्थ में लेकिन आए दिन बहकाया जाता हैं
राजनीती में केवल माध्यम तुम्हे बनाया जाता हैं

हुई जरूरत अब क्षमता को सही मोड़ दे पाने की
पहचानो तुममे क्षमता है अग्रदूत बन जाने की
मानव मूल्यों का लोगो को ध्यान नही अब आता
बस अपना संकीर्ण स्वार्थ ही सबकों आज सुहाता है
बहुत अशिक्षा निर्धनता हैं अब भी शहरों और गाँवों में
धन जन बुद्धि लगी है पहले से ज्यादा बिखरावों में

हिम्मत जरा जगाओ उनको सही मार्ग पर लाने की
पहचानों, तुममे क्षमता है अग्रदूत बन जाने की
धसी जा रही दुष्प्रवृत्ति के दलदल में नूतन पीढ़ी
छदम आधुनिकता को समझे सभी प्रगति की है सीढी
जिधर देखिये उच्छ्रंख्ला फैशन का पर्याय बनी
नही एक रह सकी कहि पर लोगों की कथनी करनी

प्रखर बनाओं बुद्धि समझकर फिर सबकों समझाने की
पहचानों तुममे क्षमता है अग्रदूत बन जाने की
घिरा हुआ माहौल बहुत है जगह जगह भटकावों से
सावधान होकर रहना है दूर द्वेष दुर्भावों से
कौन हितेषी कौन शत्रु है, तुम्हे समझना अब होगा
आँख मूदकर नही किसी के पीछे अब चलना होगा
तुम पर नजरे टिकी हुई हैं चारो तरफ जमाने की
पहचानों तुममे क्षमता है अग्रदूत बन जाने की

आशा करता हूँ मित्रों Youth Motivational Poem In Hindi युवा / युवा शक्ति पर कविता गीत का यह लेख आपकों अच्छा लगा होगा. दी गई कविताएँ पसंद आई हो तो प्लीज इसे अधिक से अधिक शेयर करे.

शिवाजी महाराज कविता | भारत भूषण अग्रवाल रचनाएँ... शिवाजी महाराज कविता- महान हिंदी कवि...
प्लीज अच्छा लगे तो शेयर करे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *