गाय पर निबंध | Essay On Cow In Hindi

Essay On Cow In Hindi गाय पर निबंध : भारतीय संस्कृति में गौ का बड़ा महत्व माना गया हैं इन्हें प्राणी न मानकर माँ का दर्जा प्राप्त हैं. हिन्दू मान्यता के अनुसार गाय के शरीर के विभिन्न हिस्सों में तैतीस कोटि देवी देवताओं का वास होता हैं. आज के 5, 10 लाइन, 100, 200, 300, 400, 500 शब्दों में गाय का निबंध को आप गाय पर छोटा बड़ा हिन्दी निबंध के रूप में याद कर सकते हैं.

गाय पर निबंध Essay On Cow In Hindi

गाय पर निबंध Essay On Cow In Hindi

This Article is Written To Each Guy Who wants To Detail, About Essay On Cow In Hindi. Most Important For Our Student Friends Class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11 And For 12th Student Can Use This  Essay For Speech OR Discovery Details About Indian Cow.

The cow (gaay) is an important domestic pet animal. It’s found all over the world. in India (the Hindus religion follower) called the cow’ as the mother. this short and big-length Essay On Cow In Hindi And English is helpful for students.

mostly in our exams asked about cow essay writing questions comes always. this cow essay will help you to write a better article on a cow in your own language.

the cow is a domestic animal. it is very useful to us. it gives us milk. motherless babies are given cow’s milk. her milk is a complete diet.

we call the cow ”our mother”. the leather of the dead cow is useful also. she is a four-footed animal. she has two horns. her tail is long. she keeps files away with her tail. she has four teeth for milling. in order to get pure aid fresh milk, it is better to keep a cow.

her calves become bullocks. they plow our fields. butter, curd, and sweets are made from cow’s milk. cow’s milk is a perfect diet. she eats grass and hay. sick persons are fed on her milk. cow dung is good manure for agriculture.

Essay On Cow In English For Class 1: Dear Students it is a Very Good Idea to Check Essay On Cow In English For Class 1 for children and kids students they read in class first.

then you are the right place for correct information for kids on pet Animal cows. essay on a cow in Hindi uses a cow, essay on animals can be used in this article for the more valuable essay topic you can visit at hihindi.com.

Essay On Cow In English

in all pet Animals, the cow is the most important in India. according to the Hindu faith, they called the mother to the cow.  tells you why Hindus called mother or maa to cow, what is uses or importance of Indian cow.

The cow is a very versatile animal of great importance in scientific and spiritual terms. Science has also accepted the importance of the cow.  Cow’s milk is considered an elixir. In India, the cow is considered a sacred animal.

Hundreds of Hindus worship in India. The biggest feature of the cow is that it gives many things to mankind, instead of asking for anything. Many families spend their livelihoods selling cow’s milk and ghee.

Religious significance: Tea-festival of Hindus is not complete without ghee. At the Teej festival, the house is leaked from cow’s dung. The idols of the deities are seated on it. Many people consider cow’s philosophy auspicious before doing some urgent work.

At the same time, Cow’s dung has been considered very useful for cultivation. Due to the milk-giving and milk properties like cow’s nectar, it has been considered as earthly mother’s worship. That is why the cow is called cow mother.

Apart from this, the Kunda made from cow dung in villages is used as fuel. It is very sad that with the development of technology we are forgetting the importance of cows.

A cow has also had great importance in the life of Lord Krishna. Krishna’s childhood has passed between the Guawans. They used to call them Govinda and Gopal, which means the guards and friends of cows.

Cow’s milk is very useful for children and patients. The cow is cool with nature. The cow has a very big body. It has four legs, two horns, and one long tail.

It has two ears People in India worship the cow. There is a lot of hair in the lower part of the cow’s tail.

Which are of many colors, in which there is black, brown and white hair with red color. There are bus teeth in the lower part of the cow’s jaw. The cracks of his feet are different.

There are many types of cows. There are many types of cows on the basis of color also. If there is some black then some white, some cows are of red and mixed colors.

The cow is found in almost every country in the world. In every country, the cow is different depending on size and length width.

The wild cow lives in the forest. The cow eats grass and leaves. He gives birth to a calf or calf at a time.

She loves her bull very much. The cow also starts to chew with its mouth. The cow gives milk, which makes curd, cheese, butter, and many types of desserts. We should take care of such cute animals.

गाय पर निबंध Essay On Cow In Hindi And English For Students

Short Essay On Cow In Hindi गाय पर निबंध

गाय एक पालतू जानवर है। यह हमारे लिए बहुत उपयोगी है। गाय हमें दूध देती है। नन्हें बच्चों के लिए गाय का दूध सबसे अधिक महत्वपूर्ण होता है, क्योंकि इसमें सभी पोषक तत्व विद्यमान रहते है।

हम गाय को ‘हमारी मां’ कहते हैं। मृत गाय का चमड़ा भी उपयोगी है। वह चार पैर वाला जानवर है। उसके दो सींग हैं। उसकी पूंछ लंबी है। गाय मच्छर व् मक्खियों को अपनी पूंछ द्वारा दूर करती है, यह अपने चार बड़े जबड़ों की मदद से जुगाली करती है।

गाय का ताजा दूध पौष्टिक होता है. बीमार से लेकर एकदम स्वस्थ व्यक्ति के लिए यह दूध बहुत फायदेमंद है।

गाय का बछड़ा बड़ा होने पर बैल के रूप में भार ढ़ोने व कृषि के रूप में हल चलाने के काम आता है. गाय के दूध से दही, घी, मक्खन, पनीर, मिठाई व मावा बनाए जाते है. इसलिए गाय का दूध पौष्टिक आहार है, जिनमें भोजन के लिए आवश्यक सभी तत्व व विटामिन उपलब्ध हो जाते है.

गाय घास चरती है, एक अच्छी नस्ल की गाय ३०-४० लीटर दूध प्रतिदिन देती है. गाय के गोबर को देशी खाद के रूप में उपयोग में लाया जाता है.

मेरी गाय मेरा प्रिय पशु है. सभी पालतू पशुओं में गाय का अत्यधिक महत्व है. हमारे देश में गाय को माता की तरह मानते है. गाय का स्वभाव सरल होता है.

पालतू जानवरों में यह सबसे अधिक भोली और समझदार होती है. इसके एक लम्बी पूछ, चार पैर, दो सींग, दो कान, दो आँखे और चार थन होते है.

गाय काली, सफेद, भूरी, लाल चितकबरी आदि रंग की होती है. गाय घास, खल, चारा आदि खाती है. गाय हमे दूध देती है. गाय का दूध मीठा और ताकतवर होता है.

इससे दही घी, मक्खन, मावा आदि बनते है. इसके गोबर से खाद बनती है. गाय के बछड़े बड़े होकर बैल बनते है जो खेती के काम में सहायक होते है. इस तरह गाय अत्यंत उपयोगी पशु है.

1500 शब्द गाय पर निबंध (कक्षा 11,12 के लिए)

गाय मनुष्य को ज्ञात सबसे उपयोगी जानवरों में से एक है। इसने हजारों वर्षों तक मनुष्य की सेवा की है। यह बहुत शांत, शांत जानवर है। इसे गुस्सा बहुत कम ही आता है।

एक बैल का सबसे बड़ा उपयोग यह है कि वह हमें दूध देता है। ताजा दूध हमारी सेहत के लिए बहुत अच्छा होता है। हम इसे सादा या कुछ स्वादों को जोड़कर पी सकते हैं। हम इससे कई चीजें भी बना सकते हैं जैसे मक्खन, घी, आइस-क्रीम, मिठाई और कई अन्य चीजें।

एक गाय का दूसरा उपयोग यह है कि इसका उपयोग खेतों तक एक कुदाल को खींचकर किया जा सकता है। अब-भारत में कुछ किसान इस काम के लिए बैल का उपयोग करते हैं।

बैलगाड़ी खींचने के लिए भी गायों का उपयोग किया जाता है। वे काफी तेज दौड़ सकते हैं और उनके बाद भारी भार भी खींच सकते हैं। वे बहुत धैर्यवान जानवर हैं और थके होने के बाद भी कड़ी मेहनत करते हैं।

एक गाय ज्यादातर घास पर रहती है। इसे अच्छी तरह से खिलाया जाना है। तभी यह बहुत सारा दूध देती है। हमें गायों के प्रति बहुत दयालु होना चाहिए, क्योंकि वे बहुत उपयोगी हैं, नम्र जानवर हैं और हमें कभी कोई नुकसान नहीं पहुंचाते हैं।

हमें उन्हें कभी भी हरा नहीं करना चाहिए और न ही किसी भी तरह से उन्हें पीड़ा पहुंचानी चाहिए। एक बछड़े को हमेशा अपनी मां के साथ रहने की अनुमति होनी चाहिए। उन्हें अलग नहीं किया जाना चाहिए।

गायों को उनके मांस के लिए भी मार दिया जाता है। उन्हें बहुत अधिक चारा दिया जाता है और जब वे मोटे होते हैं तो उन्हें मार दिया जाता है। भारत में बहुत से लोग मांस खाना पसंद नहीं करते हैं। वे इसे गाय को चोट पहुंचाना पाप मानते हैं।

गोबर को सूखने के बाद ईंधन के रूप में उपयोग किया जाता है। चमड़े का सामान गाय की खाल से बनाया जाता है। इस प्रकार गायें मनुष्य के लिए बहुत उपयोगी साबित हुई हैं।

उन्हें भारत में पवित्र जीव के रूप में सम्मानित किया जाता है और उनकी पूजा भी की जाती है। आइए हम इन कोमल जानवरों के साथ दयालुता से पेश आएं।

गाय के दूध में क्या कितना

  • प्रोटीन्स- 4.0 प्रतिशत
  • कार्बोहाइड्रेट- 4.0 प्रतिशत
  • उर्जा (कैलोरी) – 6.5 प्रतिशत
  • पानी- 87.3 प्रतिशत
  • वसा- 4.0 प्रतिशत
  • खनिज( मिनरल्स)- 0.7 प्रतिशत

गावो विश्वस्य मातर: अर्थात गाय विश्व की माता है, सूर्य, वरुण, वायु आदि देवताओं को यज्ञ होम में दी हुई आहुति से जो खुराक पुष्टि मिलती है, वह गाय के घी से ही मिलती है.

होम में गाय के घी की ही आहुति दी जाती है, जिससे सूर्य की किरने पुष्ट होती है. किरणों के पुष्ट होने से वर्षा होती है और वर्षा से सभी प्रकार के अन्न, पौधे, घास आदि पैदा होते है, जिससे सम्पूर्ण स्थावर- जंगम, चर, अचर प्राणियों का भरण पोषण होता है.

हिन्दुओं के गर्भाधान, जन्म, नामकरण आदि जितने भी संस्कार है, उन सब में गाय के दूध, घी, गोबर आदि की मुख्यता होती है. द्विजातियों को जो यज्ञोपवीत दिया जाता है उसमे गाय का पंचगव्य (दूध, दही, घी, गोबर और गौमूत्र) का सेवन कराया जाता है.

यज्ञोपवीत संस्कार होने पर वे वेद पढ़ने के अधिकारी होते है, जहाँ विवाह संस्कार होता है, वहाँ भी गाय के गोबर का लेप करके शुद्धि करते है. विवाह के समय गोदान का विशिष्ट महत्व है.

पुराने जमाने में वाग्दान (सगाई) के बैल दिया जाता था. जननाशौच और मरणाशौच मिटाने के लिए गाय का गोबर और गोमूत्र ही काम में लिया जाता है, क्योकि गाय के गोबर में लक्ष्मी का गोमूत्र में गंगाजी का निवास है.

जब मनुष्य बीमार हो जाता है, तब उसको गाय का दूध पीने के लिए देते है, क्योकिं गाय का दूध तुरंत बल, शक्ति देता है. अगर बीमार मनुष्य को अन्न भी न पचे तो उसके पास गाय के घी और खाद्य पदार्थों की अग्नि में आहुति देने पर उसके धुंए से उसको खुराक मिलती है. जब मनुष्य मरने लगता है तब उसके मुह में गंगाजल या गाय का दही देते है.

इसका कारण यह है कि कोई मनुष्य यात्रा के लिए रवाना होता है तो उसे गाय का दही देना मांगलिक होता है, जो सदा के लिए यहाँ से रवाना हो रहा है उसको गाय का दही अवश्य देना चाहिए जिससे परलोक में उसका मंगल हो. अंत काल में मनुष्य को जैसे गंगाजल देने का महात्म्य है, वैसा ही महात्म्य गाय का दही देने का है.

वैतरणी से बचने के लिए गोदान किया जाता है. श्राद्ध कर्म में गाय के दूध की खीर बनाई जाती है, क्योकि पवित्र होने से इस खीर से पितरों को अधिक तृप्ति होती है. मनुष्य, देवता पितर आदि सभी को गाय के दूध घी आदि से पुष्टि मिलती है. अतः गाय विश्व की माता है.

गाय के अंगो में सम्पूर्ण देवताओं का निवास बताया जाता है. गाय की छाया भी बड़ी शुभ मानी गई है. यात्रा के समय गाय या सांड दाहिने आ जाए तो शुभ माना जाता है.

और उसके दर्शन से यात्रा सफल हो जाती है.गाय के शरीर का स्पर्श करने वाली हवा भी पवित्र होती है. उसके गोबर गोमूत्र भी पवित्र होते है. जहाँ गाय बैठती है, वहां की भूमि पवित्र होती है, गाय के चरणों की रज (धूल) भी पवित्र होती है.

गाय से अर्थ, काम और मोक्ष इन चारो की सिद्धि होती है. गोपालन से, गाय के दूध, घी, गोबर आदि से धन की वृद्धि होती है. कोई भी धार्मिक कृत्य गाय के बिना नही होता है.

सम्पूर्ण धार्मिक कार्यों में गाय का दूध, दही, घी, गोबर काम में आता है, कामनापूर्ति के लिए किये जाने वाले यज्ञों में भी गाय का घी काम आता है.

बाजीकरण आदि प्रयोगों में गाय के दूध और घी की मुख्यता रहती है. निष्काम भाव से गाय की सेवा करने से मोक्ष की प्राप्ति होती है. गाय की सेवा करने मात्र से अंतकरण निर्मल होता है. भगवान श्रीकृष्ण ने भी नगे पाँव गायो को चराया था. जिससे उनका नाम गोपाल पड़ा.

प्राचीनकाल में ऋषिलोग वन में रहते हुए अपने पास गाये रखा करते थे. गाय के दूध घी का सेवन करने से उनकी बुद्धि बड़ी विलक्षण हुआ करती थी,

जिससे वे बड़े बड़े ग्रंथो की रचना किया करते थे. आज कल तो उन ग्रंथो को तो ठीक ठाक समझने वाले भी कम है. गाय के दूध घी से दीर्घायु होते थे.

गाय के घी का एक नाम आयु भी है. बड़े बड़े राजा लोग उन ऋषियों के पास आते थे और उनकी सलाह से राज्य चलाते थे. गाय इतनी पवित्र है कि देवताओं ने भी अपना निवास स्थान बनाया है. जिसका गोबर और गोमूत्र इतना पवित्र है, फिर वह स्वयं कितनी पवित्र होगी.

एक बार गाय का पूजन करने से सब देवताओं का पूजन हो जाता हैं जिससे सब देवताओं को पुष्टि मिलती है. पुष्ट हुए देवताओं के द्वारा सम्पूर्ण सृष्टि का संचालन, पालन, रक्षण होता है.

गां च स्प्रश्ती यों नित्यं स्नातों भवति नित्यशः
अतो मर्त्यः प्रपुष्टस्तु सर्वपापै: प्रमुच्यते
गवां रज: खुरोभ्दूत शिरसा यस्तु धारयेत्
स च तीर्थजले स्नातः सर्वपापै: प्रमुच्यते

जो मनुष्य प्रतिदिन गौ का स्पर्श करता है, वह प्रतिदिन तीर्थ में स्नान करने का फल प्राप्त करता है. गौ के द्वारा मनुष्य सर्वविध घोर पापों से मुक्त हो जाता है.

जो मनुष्य गौ के खुर से उड़ी धूलि को अपने मस्तक पर धारण करता है, वह समस्त तीर्थों के जल में स्नान करने का फल प्राप्त करता है और समस्त पापों से छुटकारा पा जाता है.

भारतीय गाय की सभी नस्ल की जानकारी और पहचान

  • अमृतमहल नस्ल की गाय (Amritmahal breed’s cow)- यह नस्ल मैसूर राज्य में पाई जाती है. इस जाति का रंग खाकी तथा मस्तक,गला और थुहा काले रंग का होता है. इस नस्ल के बैल मध्यम कद के और फुर्तीले होते है.
  • हल्लीकर नस्ल (Fresh breed)- नस्ल के गोधन मैसूर राज्य में पाए जाते है. यह एक स्वतंत्र नस्ल है, इसका ललाट उभरा हुआ और बिच में चीरा हुआ सा होता है. इस नस्ल की गाय अपेक्षाकृत अधिक दूध देती है, इनके सिंग लम्बे और नुकीले तथा कान छोटे होते है.
  • कंगायम नस्ल (Kangayam breed) – इस नस्ल के गोधन कोयम्बटूर के दक्षिणी एवं दक्षिणी पूर्व के तालुकों में पाए जाते है. इनमे दूध बहुधा कम होता है. कहते है इनके छोटे कान, मस्तक मध्यम, प्रिमानका, गर्दन ओछी तथा पूंछ काफी लम्बी होती है, यह नस्ल सर्वांगी मानी गई है.
  • खिल्लारी नस्ल (Khillari breed)- इस नस्ल के गोधन का रंग खाकी, सिर बड़ा, सींग लम्बे और पूंछ छोटी होती है, इनका गलकबल काफी बड़ा होता है.
  • कृष्णातटकी कृष्णावेली गाय की नस्ल (Krishna Valley cattle)- इस जाति की गायें मुंबई के दक्षिणी भाग एवं हैदराबाद राज्य के कृष्णा नदी के तट पर पाई जाती है. इस नस्ल की गाय बहुत अधिक दूध देती है. गाय की यह नस्ल कई जातियों के मिश्रण से बनी है. इनका थुहा काफी बड़ा सिंग और पूंछ छोटे और गलकंबल काफी बड़ा होता है.
  • बैग्लूर नस्ल (Baglur breed)- इस नस्ल की गाय मद्रास के कोयम्बटूर के बरगूर नामक पहाड़ में बहुतायत मिलती है. सहनशक्ति एवं तेज चाल में कहते है ये अद्वितीय होते है, इन गायों का दूध बहुत कम होता है, इनका सिर लंबा, ललाट कुछ उभरा हुआ और पूंछ छोटी होती है.
  • आलम बदी नस्ल (Alam Badi Breed)- इस नस्ल को मैसूरी हल्कीकर नस्ल की शाखा मानना चाहिए. इस नस्ल के बैल बड़े परिश्रमी और तेज होते है तथा थोड़ी खुराकापर ही निर्वाह कर सकते है. इन गायों के दूध कम होते है. इनका ललाट उभरा हुआ और लम्बा संकरा होता है, और सींग लम्बे होते है.
  • गीर नस्ल (geer nasl)- इस नस्ल की भारतीय गाय की पीठ मजबूत, सीधी और समचौरस होती है. कुल्हे की हड्डियाँ प्राय उभरी हुई होती है, पूंछ लम्बी होती है, गीर गाय की नस्ल प्राय एक रंग की नही होती है, वे काफी दूध देती है. इस जाति के बैल मजबूत होते है, यदपि वे मैसूर के बेलों की अपेक्षा कुछ सुस्त और धीमे होते है.
  • देवनी नस्ल (devanee nasl)– यह नस्ल महाराष्ट्र प्रान्त की डांगी नस्ल से मिलती जुलती है, इसमे गीर नस्ल में काफी समानता है, इस नस्ल की गाय के सिर सींग और गीर नस्ल के एक से होते है, इस नस्ल के बैल खेती में अच्छा काम देते है. तथा गौएँ निजाम राज्य की अन्य नस्लों की तुलना में काफी अच्छा दूध देती है.
  • डांगी नस्ल (Stew breed)– इस नस्ल की गाय महारास्ट्र प्रान्त के अहमदनगर और नासिक जिलों में बांसदा, धर्मपुर, जौहर, डांग्स क्षेत्रों में पाये जाते है. वे बड़े परिश्रमी होते है और धान के खेतों में लगातार काम करने से इनके स्वास्थ्य कोई अवांछनीय प्रभाव नही पड़ता, इस नस्ल की गाएं दूध कम देती है. इन गौओं का रंग लाल और सफेद अथवा काला और सफेद होता है.
  • मेवाती नस्ल (Mewati breed)- इस नस्ल के गाये बहुत सीधी होती है बैल भारी हलों और छ्कड़ो में जोते जाते है. गाए काफी दुधारू होती है. इनमे गीर जाति के लक्ष्ण पाए जाते है तथा कुछ बातों में हरियाना नस्ल के गोधन से भी मिलते है. जिससे यह पता चलता है कि यह एक मिश्रित जाति है, इनका रंग सफेद और मस्तक काले रंग का होता है, इनकी टाँगे कुछ ऊँची होती है.
  • निमाड़ी नस्ल (Nimadi breed)- इस नस्ल के जानवर बहुत फिर्तिले होते है. इनका रंग व मुह की बनावट गीर जाति की सी होती है. इनके कान मध्यम परिणाम के होते है. सामान्य तौर पर इनका रंग लाल होता है, जिस पर जगह जगह सफेद धब्बे होते है. इस जाति की गाये काफी दूध देती है.
  • कांकरेज नस्ल (Cancroid breed)- इस जाति के गोधन भारतवर्ष में विशेष मूल्यवान समझे जाते है. यह नस्ल काठियावाड़, बडौदा राज्य एवं सूरत तक फैली हुई है. इस नस्ल के गोधन चलने तथा गाड़ी खीचने में बहुत तेज होते है. कांकरेज जाति की गायों की छाती चोडी, शरीर सबल, ललाट चोड़ा और सींग मुड़े हुए होते है. इनके कान लम्बे और झुके हुए होते है, इनकी चमड़ी भारी गलकबल साधारण प्रिमाणिका होता है. पूंछ अपेक्षाकृत छोटी होती है.
  • मालवी नस्ल (Malviya breed)- इस जाति की गायों की प्राकृतिक गौचर भूमियों में पाला जाता है, सडको पर हल्की गाडियों को खीचने में तथा खेती में इसका विशेष उपयोग होता है, परन्तु बुढ़ापे में इनका रंग बिलकुल सफेद हो जाता है. मालवी नस्ल के दो अवांतर भेद होते है. 1. ग्वालियर जिले  के दक्षिण पश्चिम भाग में बड़ी रास के गोधन 2. इस भाग के दक्षिणी पश्चिमी भाग में पाये जाने वाले छोटी रास के गोधन. इस नस्ल की गाय कम दूध देती है.
  • नागौरी नस्ल (Nagauri breed)- इस नस्ल के गोधन जोधपुर मारवाड़ के उत्तरी पूर्वी भाग में पाये जाते है. इस जाति के बैल आकार में बड़े होते है. और तेज दौड़ने के लिए प्रसिद्ध होते है. इनका मुह अपेक्षाकृत संकरा व लम्बा होता है तथा ललाट चपटा. इनकी चमड़ी पतली,गलकंबल, छोटा और पूंछ छोटी होती है इस नस्ल की गाये कम दूध देती है.
  • थारपारकर गाय की नस्ल (Breed of tharparkar cow)- कच्छ, जोधपुर, जैसलमेर जिलों में इस जाति की गायें बड़ी संख्या में पाली जाती है. इस भूभाग में बालू के टीले बहुत पाये जाते है और वर्षा कम होती है. इस जाति के बैल बड़े परिश्रमी और खाकी सफेद रंग के होते है. इस नस्ल की गाय भारत में सबसे अधिक दूध देने वाली गाय की नस्लों में से एक है. बैल मध्यम परिणाम के होते है, अतएवं खेती एवं गाडियों में जुतने के काम आते है, इनमे कई गुण ऐसें होते है, जिनके कारण इनकी बहुत कदर की जाती है. गाये अधिक दूध देती है, बैल अधिक मेहनत कर सकते है और खुराक पर निर्वाह कर सकते है. इनका मुह काफी लम्बा, ललाट कुछ उभरा हुआ और थुहा मध्यम परिमाण का होता है.
  • बचौर नस्ल (bachaur nasl)- इस नस्ल की गाय बिहार राज्य के अंतर्गत सीतामढ़ी जिले के बचौर एवं कोइलपुर परगने में पायी जाती है. इस जाति के बैल काम करने में अच्छे होते है. इनका रंग खाकी, ललाट चौड़ा आँखे बड़ी बड़ी और कान लटकते हुए होते है.
  • पंवार नस्ल (Pew breed)- यह पीलीभीत जिले के पटनापुर तहसील में और खेरी के उतर पश्चिम भाग में पाई जाती है. शुद्ध पंवार नस्ल के गाय बैल मुह संकरा तथा सींग लबें और सीधे होते है, इनका रंग प्राय काला और सफेद होता है, इनकी पूंछ लम्बी होती है और ये बड़े क्रोधी और फुर्तीले होते है. ये मैदानों में स्वच्छ रूप से चरना पसंद करते है. गौएँ कम दूध देती है.
  • भगनारी नस्ल (Bhagannari breed)- नारी नदी के तटवर्ती भाग में पाये जाने के कारण गाय की इस नस्ल को भगनारी कहते है. इस नस्ल के गोधन अपना निर्वाह नदी तट पर उगने वाले घास और अनाज की भूसी आदि से करते है, इस नस्ल की गाये अधिक दूध देती है.
  • दज्जाल नस्ल (dajjaal nasl)- भगनारी नस्ल का ही दूसरा नाम है, इस नस्ल की गाय पंजाब के देरागजी खां जिले में बड़ी संख्या में पाई जाती है. कहते है कि लगभग बहुत वर्ष पूर्व इस जिले में भगनारी नस्ल के बैल बहुत खास नस्ल के लिए भेजे गये थे. यही कारण है कि देरागाजीखां में इस नस्ल के काफी गौधन है. यही से पंजाब के अन्य भागो में भेजे जाते है.
  • गावलाव नस्ल (gaavalaav nasl)- यह नस्ल मध्यप्रदेश राज्य की सर्वश्रेष्ट गाय की नस्ल है. इस जाति के सर्वोतम गौधन सतपुड़ा की तराई के वर्धा जिले में, संसार तहसील एवं कुराई परगने में और बइहर तहसील के दक्षिणी भाग में तथा नागपुर जिले के कुछ भाग में पाए जाते  है. ये प्राय मध्यम कद  के होते है, गायों का रंग प्राय निरा सफेद होता है और बैलो का सिर खाकी रंग का होता है, इनका सिर काफी लम्बा एवं संकरा, सींग छोटे और गलकंबल बड़ा होता है, खिल्लारी जाति के बैलों की भाह्ज.
  • हरियाना नस्ल की गाय (Haryana breed’s cow)- इस नस्ल की गाय बड़ी संख्या में दूध देने के लिए कलकते आदि बड़े नगरो में भेजी जाती है. इस नस्ल के गोधन संयुक्त प्रान्त और राजस्थान के भरतपुर और अलवर जिले में मुख्य रूप से पाई जाती है. हरियाना जाति के बैल सफेद एवं खाकी रंग के होते है. कलकते में बरसात से पूर्व इनका रंग प्राय सफेद हो जाता है. बैलों की गर्दन और थुले काले होते है. गायो और सांडो के सींग छोटे और मोटे होते है. परन्तु बैल के सींग प्राय मुड़े हुए होते है.
  • हाँसी हिंसार नस्ल (Hansi Hissar breed)- पंजाब के हिंसार जिले में हाँसी नदी के आस-पास यह नस्ल पाई जाती है. इससे इसका नाम हाँसी हिंसार पड़ा. इस नस्ल की गाये हरियाणा नस्ल के जैसी ही होती है, परन्तु उनकी अपेक्षा अधिक परिश्रमी होते है. इनका रंग सफेद और खाकी होता है. इस जाति के बैल परिश्रमी होते है. पर गाय हरियाणा नस्ल की खूबी को नही पा सकी.
  • अंगोल नस्ल (Angol breed)- मद्रास प्रान्त का अंगोल नाम का इलाका गायों के लिए प्रसिद्ध है. गंतूर जिले के किसान प्राय इन गोधन को पालते है. इस जाति के गोधन प्राय सीधे और बैल मजबूत होते है. परन्तु अधिक भारी होने के कारण वे अधिक चलने में उपयोगी नही होते है. इस जाति के गोधन बहुत बड़ी संख्या में अमेरिकन नस्ल की गाय  की नस्ल को सुधारने के लिए अमेरिका भेजे जाते है. ये थोड़ा सा सुखा चारा खाकर निर्वाह कर सकते है. इनके शरीर अपेक्षाकृत लम्बे और गर्दन छोटी होती है. ये अपने डील डोल तथा शरीर की गठन के लिए प्रसिद्ध है.
  • राठी नस्ल (Rathi breed)-ये बहुत फुर्तीले और मध्यम परिमाण के हल चलाने के लिए एवं सड़क पर चलने के उपयोगी होते है. इनकी गाये भी दुधार होती है. इन तीन गुणों के कारण राठी नस्ल को कामधेनु कहा जाता है. जबकि नागौरी नस्ल की गाय और बैल अमीर लोगों की कामधेनु कहा जाता है.
  • केनवारिया नस्ल (Canvaria breed)- यह बुंदेलखंड की प्रमुख नस्ल है. और संयुक्त प्रान्त के बांदा जिले के केण नदी के तट पर पाई जाती है. इस जाति की गाय कम दूध देती है. इनका रंग खाकी होता है. इनका मस्तिष्क ओछा किन्तु छोड़ा तथा सींग मजबूत तथा तीखे होते है.
  • खैरीगढ़ नस्ल (Khairigad breed)- यह नस्ल संयुक्त प्रान्त के खेरीगढ़ क्षेत्र में पाई जाती है. ये गोधन प्राय सफेद रंग के तथा छोटे संकरे मुह् के होते है. वे केनवारिया नस्ल से मिलते जुलते होते है, ये क्रोधी व फुर्तीले होते है तथा मैदानों में स्वछन्द चरने से स्वस्थ व प्रसन्न रहते है. इनकी गाये दूध कम देती है ये तराई प्रदेश में उपयुक्त होते है.
  • साहिवाल नस्ल (Sahival breed)- ये मुख्यतया दूध देने वाले गोधन होते है. जो प्राचीन काल में पंजाब के मध्य तथा दक्षिणी भागों में बहुत बड़ी संख्या में पाले जाते थे. दुधारू होने के कारण इस जाति की गायें बड़ी संख्या में शहरों में ले जाई जाती है.
  • लाल रंग की सिंधी नस्ल (Red colored syndi breed)- यह नस्ल मूलतः कराची के आस-पास और उसके पूर्व के प्रान्त में पाई जाती है. ये आकार में छोटी होती है. किन्तु इनमे दूध देने की अधिक क्षमता होती है. ये चाहे जहा पल सकती है. ये लाल रंग की होती है और मुह पर गलकंबल में कुछ सफ़ेद धब्बे बहुधा रहते है. इनके कान मध्यम परिमाण के होते है, इनकी खुराक में कम खर्चा लगता है और थोड़ी खुराक में ही अपना स्वास्थ्य अच्छा रख लेती है.
  • सीरी नस्ल (Seri breed- इस जाति की गाय दार्जलिंग के पर्वतीय प्रदेश में तथा सिक्किम एवं भूटान में पाई जाती है. इनका मूल स्थान भूटान ही माना जाता है. और इस जाति के सर्वोतम गोधन दार्जलिंग लाए जाते है. ये प्राय काले और सफेद अथवा लाल रंग के होते है. इनके शरीर बारह महीनों घने बालो से ढके रहते है. जो पर्वतीय प्रदेशो में कड़ाके की सर्दी और मुसलाधार वर्षा से रक्षा करते है. सीरी जाति के गोधन देखने में भारी होता है. थुहा काफी आगे निकला हुआ और कान बहुधा छोटे होते है. इस जाति के बेलों की बड़ी कद्र होती है.

गाय के दूध के फायदे

आहार शास्त्रियों ने यह सिद्ध कर दिया है कि मनुष्य केवल गाय के दूध का ही सेवन करता रहे तो शरीर के लिए आवश्यक सभी पोषक तत्व उससे मिल जाते है. गो दुग्ध से शरीर अन्य लोगों की अपेक्षा अधिक अशक्त रोग प्रतिरोधक और क्षमतावान हो जाएगा.

इसमे प्रोटीन 0.94, सिन्ग्धता 1.09, आश्रेव्ताशार 1.6, उष्णांक 1.8 तथा चारों विटामिन 1.25% होता है. गाय के एक पौंड दूध से प्राप्त शक्ति 4 अंडो और 250 ग्राम से अधिक प्राप्त होने वाली शक्ति से अधिक है. भैंस के दूध में चिकनाई अधिक होती है, जिसके कारण वह सुपाच्य नही होता है.

नवजात शिशु (Cow Milk FOR Babies) के लिए माँ के दूध से अतिरिक्त केवल गाय का दूध ही एकमात्र विकल्प है. वह बच्चे के लिए माँ के दूध की तरह ही गुणकारी है. गाय के दूध में क्षार अधिक होते है

और पाचक रसों का पर्याप्त समावेश होता है, जिसे बच्चे का पाचन तन्त्र आसानी से पचा लेता है. माँ के दोध की तरह पोषक दूध देने के कारण ही गाय को माता माना गया है.

वैज्ञानिक विश्लेषण के अनुसार गाय के दूध में 21 प्रकार के अमीनो एसिड, 11 प्रकार के फेटिएसिड, 6 प्रकार के विटामिन, 8 प्रकार के किण्व, 25 प्रकार के धातु तत्व, 2 प्रकार की सुगर, 4 प्रकार के फास्फोरस तथा 19 प्रकार के नाइट्रोजन तत्व उपलब्ध होते है. इसके अलावा कैलिस्यम, फास्फोरस, लोहा, तांबा, आयोडीन,फ्लोरिन, सिकोन आदि मुख्य खनिज गाय के दूध में पाये जाते है.

मुख्य पाए जाने वाले एंजाइम पेरिविक्टेज, रिटक्टेड, लाईरपेज, प्रोटिएज, लोक्टेज, फास्फेटेज, ओलिंनेज, गैटालेज आदि है. विटामिन ऐ, कैरोटिन डीई, टोकोकेरोल, विटामिन बी-1, बी-2, रिबोफ्लोविन, बी-3, बी-4 तथा विटामिन सी है.

आयुर्वेद में गाय के दूध को प्रकृति प्रदत रसायन कहा गया है. जो दुर्बलता हटाकर रोगियों को नवजीवन प्रदान करता है. प्रसव से पूर्व तथा प्रसव के उपरांत स्तन पान काल में माँ के शरीर में होने वाली सभी प्रकार की कमी को गाय के दूध से ही पूरा किया जाता है.

रक्त अल्पता, संग्रहणी, पाण्डुरोग, पित्त तथा क्षय रोगों की औषधि के साथ साथ पथ्य के रूप में गाय के दूध का सेवन करने से शीघ्र लाभ होता है.

गाय के दूध के नित्य सेवन से शरीर मजबूत होता है. कफ, वात जनित रोगों का शमन होता है. यह बल व ओज बढ़ाता है. मस्तिष्क एवं ज्ञान तन्तुओं को पोषण देने में गाय का दूध अनुपम है. यह सभी प्रकार के रोगों एवं वृद्धता का नाश करता है.

डॉक्टर पिल्स ने गाय के दूध पर किये गये परिक्षण में पाया कि गाय कोई विषैला पदार्थ खा लेती है, तो भी उसका प्रभाव उसके दूध में नही आता है. न्यूयोर्क की विज्ञान अकेडमी की बैठक में अन्य वैज्ञानिकों ने भी डॉक्टर पिल्स के इस कथन की पुष्टि की थी.

FAQ

गाय का वैज्ञानिक नाम क्या है?

Bos taurus

भारत में दूध देने वाली अच्छी नस्ल की गाय कौनसी है?

गीर

हिन्दुओं में गाय को क्या माना जाता हैं?

माता

यह भी पढ़े

उम्मीद करता हूँ दोस्तों गाय पर निबंध Essay On Cow In Hindi का यह निबंध आपको पसंद आया होगा. यदि गाय के बारे में दिया गया यह निबंध पसंद आया हो तो अपने फ्रेड्स के साथ जरुर शेयर करें.

Leave a Comment

Your email address will not be published.