योग पर निबंध | Essay on yoga In Hindi

Essay on yoga In Hindi प्रिय विद्यार्थियों आपका स्वागत है आज हम आपके साथ योग पर निबंध शेयर करने जा रहे हैं. इस लेख के माध्यम से आप जान पाएगे कि योग क्या है योग का अर्थ, योग का महत्व, योग के लाभ क्या है. आदि विषयों को ध्यान में रखते हुए yoga Essay In Hindi का लेख आपके साथ प्रस्तुत कर रहे हैं.

योग पर निबंध | Essay on yoga In Hindi

विषय सूची

योग पर निबंध Essay on yoga In Hindi

Get The Best Short Essay on yoga In Hindi Language For Class 1,2,3,4,5,6,7,8,9,10 Students & Kids In Various Langth 100, 150, 200, 250, 300, 400, 500 Here.

योग पर निबंध Short Essay on yoga In Hindi In 500 Words For Students

योग की प्राचीन परम्परा

भारतीय संस्कृति ने सदा मानवमात्र के हित की कल्पना की हैं. हमारे ऋषियों, मुनियों मनीषियों ने मानव जीवन को सुखी बनाने के लिए अनेक उपाय बताए हैं. तन और मन दोनों को स्वस्थ रखना ही सुखी जीवन का मूलमंत्र हैं.

इस दिशा में हमारे पूर्वजों ने तन और मन को स्वस्थ बनाये रखने का अमूल्य उपाय योग को बताया है. योग मानव जाति के लिए भारतीय संस्कृति का अनुपम उपहार हैं.

योग क्या है

योग भारत की अत्यंत प्राचीन विद्या या विज्ञान हैं. योग शब्द का साधारण अर्थ है, जुड़ना या मिलना. योग और योगियों के बारे में हमारे यहाँ अनेक कल्पनाएँ चली आ रही हैं. योग को एक कठिन और रहस्यमय साधना माना जाता रहा हैं.

जन साधारण के जीवन में भी योग की उपयोगिता हैं. इससे प्रायः अनजान बने हुए हैं. योग के प्रथम आचार्य महर्षि पतंजलि माने गये हैं. योग के आठ अंग हैं.

यम, नियम, आसन, प्राणायाम, प्रत्याहार, धारणा, ध्यान और समाधि. इन अंगों को क्रमशः अपनाने और सिद्ध करने वाला योगी कहा जाता हैं.

योगासन और स्वास्थ्य

योग के बारे में लोगों की धारणाएँ अब बदल चुकी हैं. अब जन साधारण के जीवन में भी योग का महत्व प्रमाणित हो चुका हैं. योगासनों और प्राणायाम से मनुष्य का तन और मन दोनों स्वस्थ बनते हैं. शरीर की रोगों से लड़ने की क्षमता बढ़ती हैं.

योगासनों से साधारण रोग ही नहीं बल्कि मधुमेह, मोटापा, लकवा, स्लिपडिस्क, सियाटिका और कैंसर जैसे कठिन और असाध्य रोग भी ठीक हो रहे हैं. अतः योग भगाए रोग यह कथन सत्य प्रमाणित होता हैं.

स्वामी रामदेव का योगदान

योग को जन जन में लोकप्रिय बनाने और योगासन, प्राणायाम, आहार, विहार से लोगों को वास्तविक लाभ पहुचाने में स्वामी रामदेव का योगदान अतुलनीय हैं.

आपने देश और विदेश में सैकड़ों योगाभ्यास के शिविर लगाकर लोगों को स्वस्थ रहने का सहज उपाय सुझाया हैं. स्वामी रामदेव ने हरिद्वार में पतंजली योगपीठ की स्थापना की हैं.

यहाँ योग की शिक्षा और योग द्वारा रोगों की चिकित्सा का प्रबंध हैं. यहाँ हजारों योग के शिक्षक तैयार करने की व्यवस्था भी की गई हैं. ये शिक्षक सारे देश में जाकर लोगों को योग की शिक्षा देगे.

योग के विरुद्ध कुप्रचार

स्वामी रामदेव द्वारा योगासन और प्राणायाम द्वारा हजारों रोगियों को स्वस्थ किया गया हैं. उनकी सफलता और लोकप्रियता से इर्ष्या करने वाले कुछ लोगों ने योग का विरोध भी किया हैं.

इसमें डोक्टर, दवा कम्पनियां भी हैं. लेकिन सच्चाई के सामने विरोधी नहीं टिक पाए. योग के विरुद्ध धार्मिक फतवे भी दिए गये लेकिन लोगों ने इन सबकों ठुकरा दिया.

उपसंहार

आज योग, देश, धर्म, जाति की सीमाएं तोड़कर सारे विश्व में लोकप्रिय हो चूका हैं. योग तो एक विज्ञान हैं. इसे जो भी अपनाएं वही स्वस्थ और सुखी बनेगा. विद्यार्थी, शिक्षक, व्यापारी, वैज्ञानिक, सैनिक सभी के लिए योग लाभदायक सिद्ध हो रहा हैं.

योग का स्वास्थ्य पर प्रभाव पर निबंध Essay On Effects Of Yoga On Health In Hindi

Essay On Benefits Effects Of Yoga On Health In Hindi: -here we write an essay in Hindi on the topic ‘ importance of yoga and … Effects Of Yoga On Healthbenefits of yoga in a wide range of mental and physical health problems, positive effects in children and elders, types of yoga and about the founder of yoga Maharshi Patanjali essay.

योग के प्रणेता पतंजलि के बारे में (Who is the Father of Yoga?)

योग परम्परा में महर्षि पतंजलि का नाम बहुत श्रद्धापूर्वक लिया जाता है. इन्हें योग का पिता भी कहा जाता है. महर्षि पतंजलि द्वारा प्रतिपादित अष्टांग योग का पन्थ, धर्म, या सम्प्रदाय नही है.

बल्कि जीवन जीने की सम्पूर्ण पद्दति है. योग परम्परा बहुत पुरानी है, जिसका जिक्र महाभारत के युग से सुनते आ रहे है.

इस योग से विचलित व भटके हुए मन को केन्द्र्ण या फोकस प्रदान करता है, साथ ही विचारों के संघर्ष अर्थात मानसिक उतार चढाव की समाप्ति करता है.

योग हमे कई प्रकार के गुणों को जीवन में उतारने में मदद करता है. जैसे- संयम, सत्य, अहिंसा, स्वाध्याय, संतोष, अनुशासन, ध्यान, एकाग्रता, भावना नियंत्रण, समर्पण आदि.

जिससे मानव शरीर में सकारात्मक ऊर्जा व सोच का संचार होता है, जो आज की व भावी पीढ़ी के लिए बहुत जरुरी है. क्योंकि आज की पीढ़ी में इन गुणों का अभाव है.

योग के इन लाभों के कारण पतंजलि ने मनुष्यों को देने का निर्णय किया. योग के द्वारा आज हम कई सारे असाध्य रोग पर विजय प्राप्त कर चुके है.

योग का स्वास्थ्य पर प्रभाव Effects Of Yoga On Health

आज तनाव से भरी जिंदगी में योग जीवनदायिनी अमृत की तरह उभर कर आया है. योग के मुख्यतः दो पहलु है एक शारीरिक दूसरा आध्यात्मिक, दार्शनिक, भावनात्मक.

शरीर की स्वस्थता से लेकर समाधि की सिद्धि तक योग की यात्रा बहुत ही सरल, सहज, वैज्ञानिक, प्रमाणिक, व्यावहारिक व सार्वभौमिक है.

जीवन के तीन मूल तत्व माने जाते है विचार, भावनाएं एवं क्रियाएँ. योग करने से व्यक्ति के जीवन में ये मूल तत्व तथा कई मूलभूत परिवर्तन या रूपांतरण आते है. जो जीवन के लिए आवश्यक है.

योग करने वाला व्यक्ति सात्विक व अहिंसक प्रवृति से युक्त होता है. अर्थात राजसिक, तामसिक व हिंसक सम्रद्धि में विश्वास नही करता है.

योग व्यक्ति व समष्टि (population) में संतुलन बनाए रखता है. योग से व्यक्ति के जीवन में आध्यात्मिक व विवेकपूर्ण विचारधाराओं का प्रवाह करता है. योग एक गूढ़ अत्यंत उपयोगी व व्यवहारिक विषय है. यह रूपांतरण का विज्ञान (science of transformation) है.

योग क्या है (what is yoga)

योग केवल साधु, संतो व ऋषि मुनियों के लिए ही नहीं बल्कि प्रत्येक व्यक्ति चाहे वह व्यापारी, किसान, नौकरीपेशा व्यक्ति, मजदूर एवं विद्यार्थी हो, सभी के लिए उत्कृष्ट देन है. योग एक अत्यंत प्राचीन भारतीय जीवन शैली है. योग शिक्षा से शरीर निरोग और स्वस्थ बनता है.

तथा योग द्वारा व्यक्ति का सर्वांगीण विकास होता है. 21 जून 2021 को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस (International Yoga Day) के रूप में मनाया जाएगा. दुनियां के अधिकतर देशों ने योग के महत्व को समझा है.

जीवन में योग का महत्व निबंध | Importance Of Yoga In Modern Life Essay In Hindi

योग न सिर्फ लोगों को बीमार होने से बचाता है, बल्कि वह नकारात्मक ऊर्जा से दूर कर उनमे सकारात्मक एनर्जी भरने का कार्य भी करता है.

आज के मशीनीकरण के युग में मानव का जीवन यंत्रवत हो गया है, तथा उनके सारे कार्य मशीनों से सम्पन्न होने लगे है. इस तरह के माहौल में स्वयं को शारीरिक एवं मानसिक रूप से स्वस्थ रखना एक बड़ा चैलेन्ज बन गया है.

आज की हमारी जीवन चर्या का ही परिणाम है कि हमारा शरीर तनाव बिमारी व आलस का कारण बनता जा रहा है.

भले ही विज्ञान की उन्नति ने हमे वो सभी सुख सुविधा प्रदान कर दी है, जिससे हमारा जीवन आसानी से व्यतीत हो जाए. मगर मानसिक स्वास्थ्य के लिए योग के सिवाय विज्ञान के पास भी कोई सहारा नही है.

मानव ने मलेरिया से कैंसर जैसे असाध्य बीमारियों के लिए दवाइयों की खोज कर ली मगर अभी तक मानसिक शांति के लिए उनके पास भी कोई जवाब नही है.

मगर भारतीय सभ्यता एवं संस्कृति ने विश्व के लोगों को न सिर्फ शारीरिक व मानसिक स्वास्थ्य के सम्बन्ध में युक्तियाँ प्रदान की है, बल्कि मन की शान्ति के लिए भी एक ऐसी आशा की किरण प्रदान की है,

वह है योग जिसके माध्यम से तनाव, बिमारी, थकान व अन्य स्वास्थ्य समस्याओ से पूर्णत छुटकारा पाया जा सकता है. योग व्यक्ति के मन की शांति प्राप्त करने का सबसे युक्तिसंगत तरीका है.

योग का इतिहास (History of yoga)

1950 के आस-पास योग भारतीय उपमहाद्वीप से निकलकर पश्चिम के देशों में अपनी पहचान बनाने लगा. पश्चिम के देशों द्वारा कई बार योग पर वैज्ञानिक शोध व परीक्षण किये गये.

उन शोध के नतीजों ने भारतीय योग शिक्षकों के दावे पर मुहर लगा दी. आज के युग में योग मानसिक व शारीरिक स्वास्थ्य को बनाए रखने में महत्वपूर्ण योगदान दे रहा है. इस कारण इसकी लोकप्रियता तेजी से बढ़ रही है.

योग का शाब्दिक अर्थ व परिभाषा (The meaning and definition of yoga)

योग शब्द की उत्पति संस्कृत की यज धातु से निर्मित है. जिसका शाब्दिक अर्थ होता है जोड़ना या सम्बन्धित करना. यदि योग को परिभाषित किया जाए तो यह उस विधा का नाम है, जिससे शरीर व आत्मा का मिलन अर्थात योग होता है.

प्राचीन भारत के छ दर्शनों (न्याय, वैशेषिक, सांख्य, वेदांग एवं मीमासा) में योग की भी गिनती की जाती है. भारत में आज से पांच हजार वर्ष पूर्व से योग का जन्म माना जाता है. इसके बारे में पहला प्रमाणिक ग्रन्थ पतंजली द्वारा योगसूत्र 200 ईसा पूर्व लिखा गया था.

प्राचीन भारत में रही गुरु शिष्य परम्परा के चलते यह पीढ़ी दर पीढ़ी आगे बढ़ती हुई आज भी जीवित है. इस विधा से आज करोड़ लोग लाभार्थी हो रहे है. जिनका श्रेय भारतीय योग गुरुओं जैसे बाबा रामदेव को दिया जाना न्याय संगत है. जिन्होंने निस्वार्थ योग की परम्परा को देश विदेशों में लोगों तक पहुचने का कार्य आजीवन कर रहे है.

योग के प्रकार (types of yoga in hindi)

महर्षि पतंजली द्वारा लिखे गये योगसूत्र में पांच प्रकार के योग का वर्णन किया गया है. जिनमे हठ योग, कर्म योग, ध्यान योग, भक्ति योग व ज्ञान योग. इनका सम्बन्ध इस प्रकार से उल्लेखित किया गया है.

ज्ञान का मस्तिष्क से, भक्ति का आत्मा से, ध्यान का मन से तथा कर्म योग का सम्बन्ध कार्यों से माना गया है. साथ ही योग के 8 अंगों का विधान भी किया गया है. जो इस प्रकार है.

  1. यम- हिंसा न करना, सत्य बोलना, चोरी न करना, ब्रह्मचर्य व धन इकट्ठा न करने की शिक्षा
  2. नियम- स्वयं अध्ययन, संतोषी स्वभाव, तपस्या, शारीरिक व मानसिक पवित्र आचरण तथा आस्था को नियम में रखा गया है.
  3. आसन- योगसूत्र में विभिन्न 84 शारीरिक क्रियाओं को आसन में शामिल किया जाता है.
  4. प्राणायाम- श्वास को अंदर लेना, अंदर रोककर रखना, तथा छोड़ना प्राणायाम में आता है.
  5. प्रत्याहार- लौकिक सुख और इच्छाओं को समाप्त एक अपना मन एकाग्रसित करना प्रत्याहार कहलाता है.
  6. धारणा- किसी श्रेष्ट कर्म को मन में धारण कर उसकी सम्प्राप्ति हेतु किया जाने वाला प्रयत्न धारणा कहलाता है.
  7. ध्यान- अतरात्मा के साथ अपने मन को इस तरह केन्द्रित कर देना, जिससे संसार के किसी क्रियाकलाप का उस पर प्रभाव न पड़े.

योग का जीवन में महत्व (importance of yoga in modern life)

अब तक के विवरण से यह साफ़ हो चूका है कि शरीर को स्वस्थ स्थति में लाकर ही योग किया जा सकता है. साथ ही किस तरह योग के आठ अंग व्यक्ति के शारीरिक व मानसिक स्वास्थ्य के लिए लाभकारी हो सकते है.

योग का सीधा सा उद्देश्य यही है कि मन आत्मा व शरीर इन तीनों अवयवों को एक कर देना, उनमे एक सम्बन्ध स्थापित कर देना ही योग है.

व्यक्ति द्वारा योग करने से उसे आत्मीय संतोष, शान्ति, नवीन चेतना व तनाव से छुटकारा मिलता है. आसन के अभ्यास का सीधा शारीरिक लाभ होता है,

शरीर के विभिन्न अवयवों के बिच समन्वय बढ़ने के साथ ही योग करने से जोड़ो, मासपेशियों की विकृतियों को दूर कर इनमें लचीलापन व मजबूती प्रदान करता है. मानव के रक्त परिसंचरण तन्त्र को सुचारू रूप से चलाने में योग महती भूमिका निभा रहा है. ब्लड प्रेशर के रोगियों के लिए यह बहुमूल्य औषधि भी है.

योग का लाभ/फायदे (benefits of yoga essay)

  • नियमित रूप से योग करने के लाभ निम्न है.
  • शरीर के विभिन्न जोड़ो की हड्डियों को मजबूत बनाता है.
  • व्यक्ति का शरीर तनाव से मुक्ति पाकर शांति व संतोष की प्राप्ति करता है.
  • शरीर को छोटी मोटी बीमारियों को स्वतः ठीक कर देता है.
  • शरीर में रक्त प्रवाह को सुन्चारू करता है, व पाचन शक्ति को बढ़ाता है.
  • योग व्यक्ति की रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाता है, जो विभिन्न बिमारीयों से लड़ने में उनकी मदद करता है.
  • यह अनिद्रा, तनाव, थकान, उच्च रक्तचाप, मानसिक चिंता को दूर करता है.
  • व्यक्ति के चित को शांत व एकाग्र करता है.
  • विद्यार्थियों में योग सकारात्मक सोच, आत्मविश्वास व एकाग्रता को बढ़ाता है.

योग कौन कर सकता है (Who can do yoga )

किसी भी उम्रः के स्त्री पुरुष योग को कर उसके फायदों से लाभान्वित हो सकते है. मगर इसके प्रशिक्षण की विशेष आवश्यकता रहती है. कुछ विशेष बीमारियों की स्थति में योग लाभ पहुचाने की जगह नुकसान दे सकता है. इसलिए योगा ट्रेनर के दिशा निर्देश में ही इसे किया जाना चाहिए.

आज के प्रदूषित वातावरण में व्यक्ति का जीना कठिन हो गया है. ऐसे में योग हमारे स्वास्थ्य से जुड़ी कई बड़ी समस्याओं को समाधान हो सकता है.

दूसरी तरफ यह कई लोगों को रोजगार देने में भी समर्थ है. बहुत से भारतीय योगा ट्रेनर इस दिशा में कार्य कर रहे, तो विश्व के अलग अलग देशों में अपनी योग क्लासेज चला रहे है.

योग का महत्व पर निबंध | Importance Of Yoga For Students Essay In Hindi

योग न सिर्फ हमारे शरीर को बीमारियों से मुक्त रखने में मदद करता है बल्कि यह जीवन को सही ढंग से जीने का तरीका तथा सकारात्मक एनर्जी भी प्रदान करता है.

आज के वैज्ञानिक युग ने हमारे जीवन को भी यंत्रवत बना दिया है, एक मशीन की तरह काम करना और वैसा ही सोचना इसके साइडइफ्फेक्ट है, ऐसे हालातों में अपने मानसिक स्वास्थ्य को बनाए रखना एक बड़ी चुनौती बनकर सामने आ रहा है.

भले ही विज्ञान की प्रगति के चलते हमारे सुख सुविधा के साधनों में बढ़ोतरी हो गई, मगर शारीरिक तथा मानसिक स्वास्थ्य की एक बड़ी समस्या आज भी उसी रूप में व्याप्त है, जिसका एक ही साधन हो सकता है वो है योग.

पाश्चात्य देश भले ही अपने आधुनिक शोध तथा परीक्षणों से दुनियाँ की अधिकाँश बीमारियों का हल ढूढ़ पाए हो मगर मन की शान्ति तथा मानसिक स्वास्थ्य के लिए आज भी उन्हें हमारी पुरातन शिक्षा प्रणाली तथा योग की तरफ ही आना पड़ रहा है.

कई वैज्ञानिक अनुसन्धान यह साबित कर चुके है कि अच्छे मानसिक तथा शारीरिक स्वास्थ्य के लिए योग से बेहतरीन कोई विकल्प नही है.

यही वजह है कि आज हमारे योग साधना को पूरी दुनियाँ ने अपनाया है, तथा कई योगगुरुओं के निर्देशन में इस पद्दति की शिक्षा ली जा रही है. 21 जून को अंतर्राष्ट्रीय योग दिवस मनाना इसी दिशा में एक महत्वपूर्ण कदम है.

योग का शाब्दिक अर्थ और इतिहास (The literal meaning and history of yoga)

योग शब्द संस्कृत की यज धातु से बना शब्द है, जिसका अर्थ होता है जोड़ना, सम्मलित करना तथा संचालित करना. यदि योग की परिभाषा दी जाए तो योग आत्मा और शरीर को जोड़ने  वाली पद्दति है.

इन्हें भारत के प्राचीन छ दर्शनों में शामिल किया गया है. भारतीय गुरुकुल परम्परा के तहत योग शिक्षा गुरुओ द्वारा अपने शिष्यों को दी जाती थी जो इसी क्रम में आगे चलती रहती थी.

आज से तक़रीबन साढ़े पांच हजार पूर्व योग का इतिहास माना जाता है. आज के समय में योगगुरु बाबा रामदेव के इष्ट पतंजली को योग का जनक माना जाता है.

हालाँकि पतंजली से पूर्व भी योग प्रचलन में था मगर इन्होने 200 ईसा पूर्व योग सूत्र नामक संस्कृत ग्रन्थ की रचना कर इसे लिखित रूप प्रदान किया.

योग के प्रकार (types of yoga in hindi)

प्राचीन योग शास्त्र के अनुसार योग के पांच प्रकार/रूप बताए गये है. जो निम्न प्रकार है.

  1. हठ योग (इसका सम्बन्ध मनुष्य के प्राण से होता है)
  2. ध्यान योग (इस योग के प्रकार का सम्बन्ध मनुष्य के मन से)
  3. कर्म योग (इसका सम्बन्ध मनुष्य द्वारा की गई सम्पूर्ण क्रियाओं द्वारा)
  4. भक्ति योग (ईश्वरीय प्रेम की भावना)
  5. ज्ञान योग (बुद्धि तथा शास्त्रीय ज्ञान से माना जाता है.)

मगर योग के प्रणेता पतंजली द्वारा योगसूत्र में आठ अंगो का वर्णन किया गया है. योग के अंग कहे जाने वाले आठ प्रकार ये है-

  • यम अहिंसा, सत्य, अपरिग्रह, अस्तेय तथा ब्रह्मचर्य आदि नैतिक नियमों का पालन यम के अंतर्गत आता है.
  • नियम- स्वाध्याय, संतोष, तप, पवित्रता, ईश्वर के प्रति चिन्तन आदि को नियम के अंदर शामिल किया गया है.
  • आसन- अपने मन को एकाग्र करने की विद्या को आसन कहा जाता है पतंजली ने आसनों की संख्या 84 बताई है, उनके द्वारा बताए गये कुछ आसनों के प्रकार इस प्रकार है. शवासन, हलासन, शीर्षासन, धनुराषन, ताड़ासन, सर्वागासन, पश्चिमोतासन, भुजंगासन, चतुष्कोणआसन, त्रिकोणासन, मत्स्यासन, गुरुडासन, भुजंगासन, कोणासन, पदमासन, मयूरासन, शलभासन, धनुरासन, गोमुखासन, सिंहासन, वज्रासन, स्वस्तिकासन, पर्वतासन आदि.
  • प्राणायाम-श्वास की गति को नियंत्रित करना. श्वास की क्रिया को अंदर भरना तथा बाहर निकलना जिनमे कुभन तथा रेचन की क्रियाएँ शामिल है.
  • धारणा-चित को बांधना
  • प्रत्याहार-इन्द्रियों को अपने नियन्त्रण में करना
  • ध्यान-संसार की भौतिक वस्तुओ से अपने मन को हटाकर तीसरी शक्ति के उपर ध्यान केन्द्रं करना.
  • समाधि- योग की सर्वोतम स्थति इसमे साधक पूर्ण एकाकार हो जाता है.

योग का महत्व (Importance of yoga)

अब तक के इस विवरण से स्पष्ट हो चूका है कि मानसिक तथा शारीरिक स्वास्थ्य के लक्ष्य की प्राप्ति के लिए योग की युक्ति का जन्म हुआ.

जो हमारे समस्त उद्देश्यों को प्राप्त करने में सहायक है सच्चे अर्थ में शरीर मन और आत्मा तीनों को जोड़ना ही योग है. इससे इंसान को संतुष्टि, चेतना और शान्ति की प्राप्ति होती है.

तथा कई प्रकार के मनोविकारो से छुटकारा मिलता है. यह न सिर्फ मानसिक रूप से मनुष्य को मजबूत बनाता है बल्कि शरीर के विकास तथा मांसपेशियों की मजबूती तथा कार्यक्षमता बढ़ाने में योग की महत्वपूर्ण भूमिका है.

मानव के रक्त परिसंचरण, पाचनक्रिया तथा श्वसन तन्त्र को योग के द्वारा सुचारू रूप से चलाने में मदद करता है. यह हमारे शरीर में रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाता है तथा विभिन्न प्रकार के रोगों से लड़ने में हमे मदद करता है.

योग के लाभ (Benefits of yoga)

  • योग विद्यार्थियों शिक्षकों तथा शोधकर्ताओं के लिए विशेष रूप से फायदेमंद है, जो उनके मानसिक स्वास्थ्य को बढ़ाने के साथ साथ उनकी एकाग्रता को बढ़ाने में भी मदद करता है.  जिससे उनके कार्य में सुगमता हो जाती है.
  • योग स्त्री पुरुष तथा सभी श्रेणी के लोगों के लिए लाभदायक है मगर गर्भवती स्त्री, रोगी तथा विशेष आवश्यकता वाले लोगों को योग ट्रेनर के प्रशिक्षण में इसका अभ्यास करना चाहिए.
  • दिल्ली जैसे शहरों में जहाँ वायु प्रदूषण अपनी चरम सीमा पर है, जिसके कारण बीमार होने की संभावना कई गुना तक बढ़ जाती है, ऐसी स्थति में योग हमारे लिए एक महत्वपूर्ण साधन है जिससे इस समस्या का सामना करने में मदद मिल सकती है.
  • भारतीय योग प्रशिक्षकों के लिए यह आज एक उत्तम रोजगार का साधन भी बनकर सामने आ रहा है. पश्चिम के देश यकायक योग विद्या की तरफ आकर्षित हो रहे है.
  • इस लिहाज से आज के सम्पूर्ण विश्व के परिद्रश्य में योग न सिर्फ किसी राष्ट्र के लिए बल्कि विश्व के सभी देशों के नागरिकों के लिए महत्वपूर्ण साधन बन चूका है.

यह भी पढ़े

मित्रों Essay on yoga In Hindi का ये लेख आपकों कैसा लगा, हमारे लिए योग पर निबंध  इस लेख के बारे में कोई सुझाव या सलाह के लिए हमे आपके कमेंट का इन्तजार रहेगा. 

One comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *