अर्नब गोस्वामी का जीवन परिचय | Arnab Goswami Biography in Hindi

अर्नब गोस्वामी का जीवन परिचय | Arnab Goswami Biography in Hindi हम एक ऐसे देश में रहते हैं जहा हर व्यक्ति का हर एक क्षेत्र में व्यक्तिगत राय हो सकती हैं। यह बिलकुल संभव हैं कि जो चीज आपको पसंद हो उसे कोई दूसरा नापसंद करता हो। राजनीती में भी बिलकुल ऐसा ही हैं। हमारे देश में राजनीती को लेकर अक्सर माहौल गर्म रहता हैं क्युकी यहाँ विभिन्न दलों और विभिन्न समुदायों के समर्थक रहते हैं। 

अर्नब गोस्वामी का जीवन परिचय | Arnab Goswami Biography in Hindi

अर्नब गोस्वामी का जीवन परिचय Arnab Goswami Biography in Hindi

ऐसे में किसी भी एक चीज या बात को लेकर सार्वजनिक रूप से अपनी राय रखना वाकई में एक साहस का काम हैं। भारत में सबसे अधिक पसंद किये जाने वाले पत्रकारों में से एक अर्णब गोस्वामी हैं जिनके बारे में आज हम इस लेख में बात करेंगे। इस लेख में हम ‘अर्नब गोस्वामी जीवनी’ (Arnab Goswami Biography in Hindi) की जानकारी आसान भाषा में देंगे।

पूरा नाम अर्नब रंजन गोस्वामी 
निक नेम अर्नब गोस्वामी 
पेशापत्रकार 
जन्मतिथि 7 मार्च 1973
उम्र 47 वर्ष 
होमटाउन आसाम
धार्मिकमुंबई, महाराष्ट्र 
राष्ट्रियताभारतीय 

अर्नब गोस्वामी कौन हैं?

वैसे तो अपने बेबाक और निडर अंदाज के चलते अर्णव गोस्वामी ने इतनी लोकप्रिता बना ली हैं की वह किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं लेकिन अगर आप नहीं जानते की अर्णव गोस्वामी कौन हैं तो बता दे की अर्नब गोस्वामी एक लोकप्रिय न्यूज एंकर हैं जो वर्तमान में ‘रिपब्लिक टीवी’ के साथ काम करते हैं। 

रिपब्लिक टीवी से पहले अर्नब गोस्वामी टाइम्स नाउ और इकोनॉमिक्स टाइम्स के न्यूज एंकर और चीफ एडिटर रह चुके हैं। इसके अलावा अर्णव गोस्वामी ने एनडीटीवी और द टेलीग्राफ के लिए भी काम किया है।

अर्नब गोस्वामी का जन्म

अर्णव गोस्वामी का जन्म 7 मार्च 1973 को नॉर्थ-ईस्ट के एक सुंदर राज्य असम के लोकप्रिय शहर ‘गुवाहाटी’ में हुआ था। अर्णव का जन्म एक असमी परिवार में हुआ था। उनके पिता मनोरंजन गोस्वामी एक आर्मी ऑफिसर और एक पॉलिटिशयन थे और साथ ही वह एक प्रतिष्ठित लेखक भी थे।

अर्नब गोस्वामी की माता सुप्रभा गोस्वामी एक हाउसवाइफ और एक ऑथर थी। पिता के आर्मी ऑफिसर होने की वजह से अर्णव को कई राज्यों के कई शहरों में रहने का मौका मिला और उन्होंने कई सभ्यताओं और संस्कृतियों को नजदीकी से समझा।

परिवार

अगर आप अर्नब गोस्वामी के परिवार के बारे में जानना चाहते है तो बता दें की अर्णव गोस्वामी के पिता का नाम मनोरंजन गोस्वामी है जिन्होंने भारतीय सेना में 1960 के दशक के शुरुआती सालों में जॉइनिंग की और करीब 30 साल तक सेना में अपनी सेवा दी। मनोरंजन गोस्वामी रिटायर होने के बाद गुवाहाटी आ गए और वहा उन्होंने भारतीय जनता पार्टी जॉइन की। 

वर्ष 1998 में मनोरंजन गोस्वामी गुवाहाटी से लोकसभा चुनाव के लिए खड़े हुए लेकिन जीतने में असफल रहे। मनोरंजन गोस्वामी ने कई किताबें और पैराग्राफ लिखे हैं और साथ ही उन्हे 2017 में असम साहित्य सभा वोट मिला है।

अर्णव गोस्वामी की माता का नाम सुप्रभा गोस्वामी है और वह एक ग्रहणी होने के साथ ही एक ऑथर भी है। अर्णव गोस्वामी के दादा एक मशहूर वकील है तो वहीं दूसरी तरफ उनके नाना कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ़ इंडिया की तरफ से एक निर्वाचित विधायक रह चुके हैं।

उन्होंने असम में अपोजिशन में एक लीडर के तौर पर लंबे समय तक काम किया है। अर्णब गोस्वामी के मामा सिद्धार्थ भट्टाचार्य भी भारतीय जनता पार्टी की तरफ से गोवा हटी के विधानसभा सदस्य रहे हैं। अर्णव गोस्वामी की पत्नी सामयाब्रता राय गोस्वामी हैं जो रिपब्लिक टीवी की एक जर्नलिस्ट और को-ऑनर हैं। अर्णव गोस्वामी का एक बेटा भी है जिसका नाम चे  गोस्वामी हैं।

अर्नब गोस्वामी को मिली शिक्षा

जैसे मैंने आपको बताया कि अर्णव गोस्वामी के पिता मनोरंजन गोस्वामी 30 वर्ष तक भारतीय सेना में कार्यरत रहे, अतः अर्नव गोस्वामी ने अपना बचपन कई राज्यों के कई शहरों में बिताया जिसकी वजह से लगातार उनके विभिन्न स्कूलों से तबादले भी हुए। 

अर्नब गोस्वामी ने  St Mary’s School in Delhi Cantonment से अपनी 10 वी कक्षा पास की थी। इसके बाद अरुण गोस्वामी ने अपनी 12वीं कक्षा जबलपुर के एक सरकारी शिक्षण संस्थान केंद्रीय विद्यालय से प्राप्त की थी। 

इसके बाद दिल्ली यूनिवर्सिटी के हिंदू कॉलेज से अरनव गोस्वामी ने सोशियोलॉजी की बैचलर डिग्री प्राप्त की थी और उसके बाद उन्होंने सोशल एंथ्रोपोलॉजी की मास्टर डिग्री ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी ने प्राप्त की थी।

पत्रकारिता में करियर-

पत्रकारिता के क्षेत्र में लोकप्रियता प्राप्त करना और अपना करियर बनाना वाकई में एक साहस वाला काम होता है और पत्रकारिता के क्षेत्र में अर्णव गोस्वामी ने बखूबी अपना नाम बनाया हैं।

अर्नब गोस्वामी ने अपने पत्रकारिता के करियर की शुरुआत दी टेलीग्राफ के साथ की थी। वह कोलकाता में रहकर दी टेलीग्राफ के साथ पत्रकारिता का काम कर रहे थे। दी टेलीग्राफ में एक साल काम करने के बाद अर्णव गोस्वामी दिल्ली आ गए जहां उन्होंने लोकप्रिय मीडिया कंपनी एनडीटीवी के साथ काम करना शुरू कर दिया।

एनडीटीवी के साथ अर्णव गोस्वामी ने साल 1996 से लेकर 2006 तक काम किया था जिसकी वजह से उन्हें पत्रकारिता के क्षेत्र में अच्छी खासी लोकप्रियता भी मिल गई थी। उन्होंने कई न्यूज़ शो में बतौर एंकर काम किया जिनमें से एक ‘न्यूज टुनाइट’ भी था।

अर्णव गोस्वामी के द्वारा होस्ट किए जाने वाले एक शो ‘न्यूजनाईट’ के लिए उन्होंने साल 2004 में एशियन टेलिविजन अवॉर्ड में सर्वश्रेष्ठ न्यूज एंकर का अवार्ड भी जीता था। एनडीटीवी के साथ एक लंबे समय तक काम करने के बाद साल 2006 में उन्होंने एनडीटीवी को भी अलविदा कह दिया।

एनडीटीवी को छोड़ने के बाद अर्णव गोस्वामी ने उस समय शुरू हुए ‘टाइम्स नाउ’ में बतौर चीफ एडिटर काम करना शुरू कर दिया। टाइम्सनाउ में अर्नब गोस्वामी ने कई शो किये जिनमे से एक मुख्य शो ‘दी न्युजहावर’ रात को 9 बजे आया करता था। 

यह एक लोकप्रिय न्यूज़ शो था जिसमे परवेज मुशर्रफ जैसी लोकप्रिय पर्सनालिटी आया करते थे। अर्णव गोस्वामी ने टाइम नाउ के साथ Frankly Speaking with Arnab नाम का एक शो भी शुरू किया था जो भी लोगो को खूब पसंद आया करता था। टाइम्सनाउ के साथ लम्बे समय तक काम करने के बाद अर्णव गोस्वामी ने 1 नवंबर साल 2016 को टाइम्सनाउ से भी रिजाइन कर दिया।

अपने बेहतरीन न्यूज़ एंकरिंग कौशल के चलते अरनव गोस्वामी ने काफी नाम और लोकप्रियता कमाई और लोग उनकी न्यूज़ एंकरिंग स्टाइल को भी काफी पसंद करते थे तो ऐसे में अर्णव ने खुद का एक चैनल खोलने की योजना बनाई।

अर्णव ने साल 2016 में टाइम्सनाउ को छोड़ने के बाद 6 मई 2017 को अर्नब गोस्वामी ने राजीव चंद्रशेखर के साथ मिलकर अपना खुद का न्यूज़ चैनल ‘रिपब्लिक टीवी’ शुरू किया जो वर्तमान में भारत में सबसे अधिक देखे जाने वाले न्यूज़ चैनल से में से एक है और यह चैनल अर्नब गोस्वामी की वजह से ही लोकप्रिय है।

रिपब्लिक टीवी न्यूज़ चैनल को एशियानेट के द्वारा फंड किया जाता था और एशियानेट एक निजी कंपनी थी जिसे मुख्य रूप से राजीव चंद्रशेखर के द्वारा फंड किया जाता था। राजीव चंद्रशेखर रिपब्लिक टीवी की शुरुआत के समय एक स्वतंत्र राज्य सभा सदस्य थे लेकिन उनके भारतीय जनता पार्टी के साथ बेहतरीन रिश्ते थे। 

राजीव ने बाद में एशियानेट के बोर्ड से रिजाइन कर दिया जिसका कारण उनका आधिकारिक तौर पर भारतीय जनता पार्टी को ज्वाइन करना था। राजीव ने बताया था कि रिपब्लिक टीवी नहीं चाहती कि वह भारतीय जनता पार्टी को ज्वाइन करने के बाद बोर्ड के मेंबर रहे।

राजीव चंद्रशेखर के अलावा रिपब्लिक टीवी के मुख्य निवेशक अर्णव गोस्वामी और उनकी पत्नी सामयाब्रता राय गोस्वामी और साथ में रामदास पाई और रमाकांत पांडा थे। यह ARG Media Holding Private Ltd के द्वारा रिपब्लिक टीवी को फंड करते थे।

साल 2019 के मई में गोस्वामी ने राजू चंद्रशेखर के काफी सारे शेयर्स को खरीद लिया और उसके बाद आधिकारिक तौर पर यह बताया गया कि अर्णव गोस्वामी रिपब्लिक टीवी का 82% स्टॉक्स होल्ड करते है। अर्थात इस समय अर्णव गोस्वामी एक तरह से कम्पनी के मालिक बन गए।

अर्नब गोस्वामी का व्यक्तिगत जीवन-

अगर अर्नब गोस्वामी के व्यक्तिगत जीवन की बात की जाए तो उनके व्यक्तिगत जीवन से संबंधित ज्यादा जानकारी इंटरनेट पर उपलब्ध नहीं है। इस जानकारी के अनुसार अर्णव गोस्वामी अपनी पत्नी सामयाब्रता राय गोस्वामी जिन्हें पीपी गोस्वामी भी कहा जाता है के साथ लंबे समय से रिलेशनशिप में थे। 

इंटरनेट पर मौजूद एक जानकारी के अनुसार अर्णव गोस्वामी पीपी राय से दिल्ली यूनिवर्सिटी में हिंदू कॉलेज में अपनी बैचलर डिग्री की पढ़ाई के दौरान मिले थे।

पीपी एक बंगाली लड़की थी तो यह साफ़ था की वह अपने आसामी दोस्तों से सटीक रूप से कम्युनिकेट नहीं कर पाती थी लेकिन अर्णव को दोनों भाषाओं का ज्ञान था और वह अच्छी खासी बंगाली भी बोल देते थे तो ऐसे में वह पीपी राय की काफी मदद करते थे।

क्युकी अर्णव पीपी के लिए कॉलेज में काफी हेल्पफुल थे और वह उनकी काफी मदद किया करते थे तो पीपी राय उनसे इंप्रेस हो गई और उनको प्रपोज कर दिया। जब अर्णव विदेश से पढाई करके वापस लौटे तो अर्णव ने उनके साथ शादी कर ली और अभी इन दोनों का एक बच्चा भी हैं।

विवाद

यह बात हम सभी भली-भांति जानते हैं कि अगर कोई व्यक्ति लोकप्रिय होता है तो उससे जुड़ी कई कॉन्ट्रोवर्सी अक्सर सामने आने लगती है और अगर व्यक्ति पत्रकारिता के क्षेत्र में काम कर रहा हो तो फिर एक तरह से कॉन्ट्रोवर्सीज का ढ़ेर लग जाता हैं।

अगर बात की जाये अर्नब गोस्वामी की तो वह एक बेबाक पत्रकार है और उनकी निडरता की वजह से उन्हें कई बार विभिन्न प्रकार की कॉन्ट्रोवर्सी का सामना करना पड़ा है, जिनमें से कुछ मुख्य कॉन्ट्रोवर्सी इस प्रकार है:

  • साल 2015 के मार्च में जब अर्णव गोस्वामी मुंबई में वाली में स्थित अपने घर में जा रहे थे तो एक बिजनेसमैन अपनी लैंबोर्गिनी गाड़ी को काफी तेजी से उनके पास से लेकर गया था जो पूरी तरह से इलीगल था। अर्णव ने उस बिजनेसमैन के खिलाफ मुंबई पुलिस से रिपोर्ट की जिसके बाद उस बिजनेसमैन को अरेस्ट कर लिया गया।
  • साल 2017 मेंटाइम्स नाउ की पेरेंट कम्पनी Bennet Coleman and Co Ltd ने पत्रकार अर्णब गोस्वामी के खिलाफ बौद्धिक संपदा अधिकारों का उल्लंघन और कुछ अन्य चार्जेस को लेकर एक पुलिस कंप्लेंट की थी।
  • क्योंकि अर्नब गोस्वामी काफी बेबाक तरीके से बोलते हैं तो उनको लेकर एक बार कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ इंडिया की एक एक्टिविटिस्ट कविता कृष्णन ने चैनल पर आरोप लगाया था कि वह रैप अक्यूज्ड को रेपिस्ट और टेरर अक्यूज्ड को टेररिस्ट कहकर बदनाम करते हैं।
  • 26 मई साल 2017 के दिन कांग्रेस के लोकप्रिय एमपी शशी थरूर ने अर्नब गोस्वामी के खिलाफ दिल्ली हाई कोर्ट में केस दायर किया था कि वह शशि थरूर को सुनंदा पुष्कर की मृत्यु से जोड़कर डिफेम करने की कोशिश कर रहे हैं।
  • साल 2018 में 30 अगस्त को न्यूज़ ब्रॉडकास्टिंग स्टैंडर्ड अथॉरिटी ने रिपब्लिक टीवी को ऑडियंस से माफी मांगने के लिए कहा था जिसका कारण ‘जिग्नेश फ्लॉप शो’ के दौरान अर्णब गोस्वामी के द्वारा किया गया एक अनुपयुक्त कॉमेंट था।
  • साल 2020 के अप्रैल में पत्रकार अर्नब गोस्वामी के ऊपर काफी सारी एफआईआर की गयी थी क्युकी उन्होंने इंडियन नेशनल कांग्रेस की वरिष्ठ नेता सोनिया गांधी को उनके इटालियन नाम से पुकारा था जिसकी वजह से सोनिया गांधी के समर्थको ने अर्णब का काफी विरोध किया था।
  • साल 2020 में जब अर्णब ने अपने लाइव शो में सोनिया गांधी को उनके असली या फिर कहा जाये तो शुरुआती इटेलियन नाम से पुकारा था तो घर जाते समय उन पर राजनीतिक दल के कुछ कट्टर समर्थकों के द्वारा हमला किया गया था जिन्होने अर्णब की कार का काच तोड़कर उन्हें चोट पहुंचाने की कोशिश की थी।
  • साल 2020 में 4 नवम्बर के दिन अर्नब गोस्वामी को रायगढ़ पुलिस और मुंबई पुलिस के एक ज्वाइंट ऑपरेशन में उन्हें उनके घर से ही गिरफ्तार कर लिया था जिसका कारण उनके घर के आर्किटेक्चर अन्वय नायक और उनकी माता का सुसाइड था। उनके घर एक नोट मिला था जिसमे कहा गया था कि उनकी म्रत्यु के कारण अर्नब गोस्वामी थे। 11 नवम्बर को अर्णव को इस मामले में बैल मिली थी।

अर्नब गोस्वामी की संपत्ति कितनी हैं?

यह बात हम सभी जानते हैं कि अर्णव गोस्वामी वर्तमान में देश के सबसे लोकप्रिय और बड़े पत्रकारों में से एक है और रिपब्लिक टीवी जो कि उनका खुद का इंग्लिश न्यूज़ चैनल है वह भी देश में सबसे अधिक देखी जाने वाली न्यूज़ चैनल से में से एक है तो जाहिर सी बात है अर्णव गोस्वामी एक बेहतरीन आय जरूर प्राप्त करते होंगे।

उनकी इनकम के बारे में सटीक रुप से तो कुछ नहीं कहा जा सकता हैं लेकिन इंटरनेट पर मौजूद जानकारी के अनुसार अर्णव गोस्वामी हर महीने कम से कम एक करोड़ रुपये कमाते हैं। इसके अलावा उनकी कुल सम्पत्ति करीब 253 करोड़ रुपये की हैं।

यह भी पढ़े

अर्णव गोस्वामी देश के एक लोकप्रिय और बेहतरीन न्यूज़ एंकर है जिन्हें पत्रकारिता के क्षेत्र में महारत हासिल है और यही कारण है कि वह अपना खुद का हिन्दी & इंग्लिश न्यूज़ चैनल चला रहे हैं और वर्तमान में देश के सबसे बड़े न्यूज़ एंकर्स की लिस्ट में शामिल है।

लेकिन फिर भी अधिकतर लोग ‘अर्नब गोस्वामी का जीवन परिचय Arnab Goswami Biography in Hindi के बारे में नहीं जानते। यही कारण हैं कि हमने यह लेख तैयार किया है जिसमे हमने ‘अर्णब गोस्वामी की पूरी जानकारी’ आसान भाषा मे देने की कोशिश की हैं।

Leave a Comment

Your email address will not be published.