अरविंद केजरीवाल का जीवन परिचय | Arvind Kejriwal Biography In Hindi

अरविंद केजरीवाल का जीवन परिचय | Arvind Kejriwal Biography In Hindi देश की राजधानी नई दिल्ली के मुख्य मंत्री अरविंद केजरीवाल किसी परिचय के मोहताज तो है नहीं फिर भी छोटा सा परिचय दे ही देते है । श्री अरविंद केजरीवाल एक भारतीय राजनेता, भूतपूर्व अफसर और कार्यकर्ता है । ये इतने मेहनती ,काबिल और होनहार है कि दिल्ली की जनता ने लगातार तीसरी बार इन्हे अपने बहमूल्य वोट देकर मुख्यमंत्री बनाये रखा है ।

अरविंद केजरीवाल का जीवन परिचय Arvind Kejriwal Biography In Hindi

अरविंद केजरीवाल का जीवन परिचय Arvind Kejriwal Biography In Hindi

मुख्यमंत्री के तौर पर  उनका पहला कार्यकाल  49 दिन के लिए रहा जो कि दिसंबर 2013 से लेकर फरवरी 2014 तक रहा । दूसरी बार अरविंद केजरीवाल मुख्यमंत्री की कुर्सी पर फरवरी 2015 से से लेकर फरवरी 2019 तक रहे ।

तीसरी बार 2019 दिल्ली विधानसभा चुनाव में उन्हें फिर जीत मिली और फरवरी 2019 से लेकर अब तक वह दिल्ली के वर्तमान चीफ मिनिस्टर  है ।

दिल्ली के मुख्यमंत्री बनने से पहले वह एक सामाजिक कार्यकर्ता रहे हैं और सरकारी कामकाज में सुधार लाने के लिए संघर्ष करते रहे हैं ।

2006 में अरविंद केजरीवाल को रेमन मैग्सेसे पुरस्कार से सम्मानित किया गया था । उन्हें यह पुरस्कार  भारत में सूचना कानून के आंदोलन को सक्रिय बनाने, सरकार को जनता के प्रति जवाब दे बनाने और सब गरीबों को भ्रष्टाचार से लड़ने के लिए मजबूत बनाने के लिए मिला था । 

केजरीवाल ने आम आदमी पार्टी के नाम से एक राजनीतिक दल की स्थापना की थी । वह आम आदमी पार्टी के राष्ट्रीय संयोजक भी हैं और दिल्ली के मुख्यमंत्री हैं ।

अरविंद केजरीवाल का जीवन परिचय

अरविंद केजरीवाल का जन्म 16 अगस्त 1968 हरियाणा के हिसार शहर में हुआ ।  उनका परिवार भिवानी जिले के शिवानी गांव से है ।  जाति से वह एक बनिया है। अरविंद के बचपन का समय उत्तर भारतीय शहरों में ही गुजरा । गाजियाबाद, सोनीपत और हिसार से उनकी काफी यादें जुड़ी है । 

अरविंद के पिता का नाम गोविंद राम केजरीवाल है , जो कि एक इलेक्ट्रिशियन इंजीनियर थे । उनके पिताजी गोविंद राम केजरीवाल ने बिरला इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी मेसरा से अपनी इंजीनियरिंग की पढ़ाई पूरी की । अरविंद केजरीवाल की मां का नाम गीता देवी है ।  वह अपने घर में सबसे बड़े बेटे हैं 

बचपन से पढ़ाई में  होनहार अरविंद केजरीवाल ने 1985 में आईटीआई का एग्जाम दिया और उसमें वह सफल भी हुए ।  

आईआईटीके एग्जाम में उन्होंने 563 ऑल इंडिया रैंक किया था ।  इतनी अच्छी  ऑल इंडिया रैंक में उन्हें  इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी खड़कपुर में मैकेनिकल इंजीनियरिंग में दाखिला मिल गया ।

4 साल की इंजीनियरिंग पास करते ही उन्होंने 1989 में अपनी पहली नौकरी टाटा स्टील जमशेदपुर बिहार मैं ज्वाइन की । 1992 में अरविंद केजरीवाल ने सिविल सेवा परीक्षा की तैयारी करने के लिए टाटा स्टील जमशेदपुर से इस्तीफा दे दिया । 

उस वक्त उन्होंने कुछ समय कोलकाता और भारत के उत्तरी पूर्वी इलाकों में बिताया । कोलकाता में उनकी मुलाकात मदर टेरेसा से भी हुई और उन्होंने मिशनरीज ऑफ चैरिटी में अपनी स्वेच्छा से कुछ समय उनके साथ पुण्य का काम भी किया ।  भारत के उत्तर पूर्वी इलाकों में वह रामाकृष्ण मिशन और नेहरू युवा केंद्र पर भी गए थे । 

अरविंद केजरीवाल के बारे में संक्षिप्त जानकारी

जातिबनिया
पेशाराजनेता 
हाइट5 फुट 5 इंच
पत्नी का नामसुनीता केजरीवाल
उम्र53 साल
आंखों का रंगकाला
बालों का रंगकाला
पॉलिटिकल पार्टीआम आदमी पार्टी
जन्म की तारीख16 अगस्त 1968
जन्म की जगह सिवानी, भिवानी तहसील – हरियाणा 
स्कूल– कैंपस स्कूल, हिसार, – क्रिस्चियन मिशनरी हौली चाइल्ड स्कूल,
कॉलेज या यूनिवर्सिटी– भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान (इंडियन इंस्टिट्यूट ऑफ़ टेक्नोलॉजी)
शैक्षिक योग्यतामैकेनिकल इंजीनियरिंग में स्नातक – बैचलर डिग्री (B.Tech.)

फटाफट जानकारी अरविंद केजरीवाल के परिवार के बारे में

पिता का नामगोविन्द राम केजरीवाल
मां का नामगीता देवी
पत्नी का नामसुनीता केजरीवाल
बेटे का नामपुलकित
बेटी का नामहर्षिता
भाई का नाममनोज

अरविन्द केजरीवाल का राजनीतिक सफर

नवंबर 2012 में अरविन्द केजरीवाल और उनके साथी गणों ने आम आदमी पार्टी की स्थापना की । अगले साल 2013 में दिल्ली विधानसभा चुनाव के लिए आम आदमी पार्टी दिल्ली की सडको पर आये दिन प्रचार प्रसार करती रही । 2013 में दिल्ली चुनाव में पार्टी की जीत हुई । केजरीवाल ने शीला दीक्षित को 25,864 मतों से हराया था ।

28 दिसम्बर 2013 को पहली बार अरविंद केजरीवाल मुख्य मंत्री बने । पर कुछ समय बाद ही उन्होंने इस्तीफा दे दिया । मार्च 2014 को आम आदमी पार्टी ने लोक सभा चुनाव में खड़े होना का एलान किया । 2014 लोक सभा चुनाव में केजरीवाल भी नरेंद्र मोदी की वाराणसी सीट से खड़े हुए, और लगभग 3 लाख 70 हज़ार वोटो से वह हार गए ।

फरवरी 2015 में अरविन्द केजरीवाल और उनकी पार्टी फिर दिल्ली विधानसभा चुनाव में खड़ी हुयी और इस बार आम आदमी पार्टी ने 70 में 67 सीट जीत कर ऐतिहासिक विजय प्राप्त की ।  पूरी दिल्ली की जनता ने आम आदमी पार्टी को तहे दिल से दिल्ली की गद्दी पर बैठाया, उसके बाद अरविन्द केजरीवाल दूसरी बार मुख़्यमंत्री बने ।

12 सितंबर 2021 को अरविन्द केजरीवाल को तीसरी बार आम आदमी पार्टी का राष्ट्रीय संयोजक नियुक्त किया गया ।

अरविन्द केजरीवाल किन किन अवार्ड्स से सम्मानित हुए

सत्येंद्र क दुबे की याद – 2005 में आईआईटी कानपूर में अवार्ड मिला । यह अवार्ड उनको उनकी सरकारी शासन में पारदर्शिता के अभियान को लाने के लिए मिला ।

– 2006 में रमन मग्दायसाय अवार्ड मिला । यह अवार्ड उनको उनकी आकस्मिक नेतृत्व के लिए मिला ।

– 2009 में पूर्व में विशिष्ट छात्र होने का अवार्ड, आईआईटी खरगपुर ने उनको उनकी प्रख्यात नेतृत्व के लिए दिया ।

अरविन्द केजरीवाल और उन से जुड़े विवाद

– फ़रवरी 2015 में जब अरविन्द केजरीवाल दूसरी बार मुख़्यमंत्री बने थे उसके बाद से अरविंद केजरीवाल और दिल्ली के लेफ्टिनेंट गवर्नर नजीब जुंग के बीच काफी बार भद्दे शब्दों का घमासान जारी रहा। केजरीवाल का कहना है की नजीब जुंग के सारे फैसले केंद्रीय सरकार के इशारो से होते है । यहाँ तक की दिल्ली पुलिस भी नजीब जुंग को रिपोर्ट करती है ना की केजरीवाल को ।

– “वह परेशान करते रहे, हम काम करते रहे” यह नारा तो आप ने सुनो या देखा ही होगा । यह नारा केजरीवाल सरकार ने 2015 में जारी किया था । जिसमे वह अपनी सरकार की उपलब्धियों के बारे में टेलीविज़न विज्ञापन के माध्यम से प्रचार प्रसार करते है । इस टेलीविज़न विज्ञापन की काफी आलोचना हुई थी ।

– केजरीवाल पे भाई – भतीजावाद को लेकर भी विवाद खड़ा हुआ है ।

विवाद तब का है जब केजरीवाल ने दिल्ली के महिला आयोग में अपनी ही आम आदमी पार्टी के लीडर नवीन जयहिंद की पत्नी स्वाति मालीवाल को महिला आयोग के प्रमुख के तौर पे नियुक्त कर दिया  ऐसा कहा जाता है की आम आदमी पार्टी और केजरीवाल का इससे पहले की महिला आयोग प्रमुख बरखा सिंह के बीच खटास थी ।

– मार्च 2015 में दिल्ली विधासभा चुनाव के जीत के तुरंत बाद ही केजरीवाल ने आम आदमी पार्टी के 2 प्रमुख नेताओ को बेदख़ल करके सबको चौका दिया । प्रशांत भूषण और योगेंद्र यादव दोनों ही आम आदमी पार्टी की स्थापना में महत्वपूर्ण नेता रहे है ।

ऐसे में उन दोनों को बेदखल कर देना बड़ा चौका देना वाला फैसला था । उस समय एक वीडियो भी वायरल हुआ था जिसमे केजरीवाल दोनों को मौखिक रूप से गालियां दे रहे थे ।

– आम आदमी पार्टी की सरकार पर इलज़ाम लगाया जाता है कि उसके नेता फ़र्ज़ी डिग्री लेकर मंत्रिमंडल की कुर्सी पर आये है । उनमे से कुछ नाम जिन पर आरोप था फ़र्ज़ी डिग्री का उनमें विधायक भावना गौर, पूर्व कानून मंत्री जितेंदर सिंह तोमर और आम आदमी पार्टी के विधायक सुरेंदर सिंह इत्यादि थे।

– काफी बार ऐसे भी कहा गया है कि आम आदमी पार्टी सिर्फ एक आदमी की पार्टी है । पार्टी में काफी मुद्दे और परिस्थितयो पर केजरीवाल अकेले ही निर्णय लेते है ।

– केजरीवाल काफी बार दिल्ली पुलिस के टॉप अधिकारियों को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के दलाल बुला चुके है । उनका मानना है की दिल्ली पुलिस की देरी से कार्य की वजह केंद्रीय सरकार के देरी से आये आर्डर है ।

– आम आदमी पार्टी की रैली में गजेंद्र सिंह कल्याणवत ने अपने आप को फांसी लगा ली थी । उस समय अरविन्द केजरीवाल भाषण दे रहे थे और रैली में फांसी लग जाने के बाद भी उनका भाषण रुका नहीं । ऐसा माना जाता है की अगर कोई ओर राजनेता होता तो उसका राजनैतिक करियर खत्म हो जाता, पर अरविन्द केजरीवाल के मामले में सबको साप सूघ गया । आम आदमी पार्टी के नेता कहते है की वह आत्महत्या नहीं बल्कि गजेंद्र सिंह का पैर फिसल गया था जिसके कारण रस्सी में उनका गला फंस गया था ।

– सोनी मिश्रा, जिन्होंने भी आत्महत्या कर ली थी यौन उतपीडन के बाद । सोनी मिश्रा का खुद का कहना है की वह दिल्ली की मुख्यमंत्री अरविन्द केजरीवाल के पास भी गयी थी, पर वहां से उन्हें मदद नहीं मिली । बल्कि केजरीवाल ने यह कह कर भेज दिया कि इस बात पर समझौता कर लो और रफा दफा करो मामला ।

अरविंद केजरीवाल को क्या क्या पसंद है ?? Favourite things

सामाजिक कार्यकर्ता – अन्ना हज़ारे
पसंदीदा अभिनेता – आमिर खान
हास्य अभिनेता – कपिल शर्मा
  • सड़क किनारे के गोलगप्पे बहुत पसंद है ।
  • चीनी भोजन पसंद करते है।
  • मीठे में जलेबी के शौक़ीन है।

अनोखे तथ्य अरविंद केजरीवाल के बारे में

  • आईआईटी खरगपुर से पढाई खत्म होने के बाद, केजरीवाल ने कुछ समय टाटा स्टील में नौकरी की
  • केजरीवाल अपनी पत्नी सुनीता केजरीवाल से पहली बार सिविल सेवा की तैयारी करते वक़्त मिले थे 
  • अरविन्द अपने दिन की शुरुआत योग से करते है ।
  • पहली बार में ही अरविन्द केजरीवाल ने सिविल सेवा की परीक्षा को पास कर लिया था ।
  • अरविन्द केजरीवाल सामाजिक कार्यकर्ता और नोबेल पुरस्कार विजेता मदर टेरेसा के साथ भी काम कर चुके है।
  • आईआईटी के केजरीवाल के दोस्त एक इंटरव्यू में बताते है की वह कॉलेज की दिनों में भी झोपड़ की बस्तियों में जाए करते थे और उन बच्चो को पढ़ाया करते थे जिनके पास पढ़ने के पैसे नहीं हुवा करते थे।
  • केजरीवाल ने अपनी रमन मेग्सेसे अवार्ड में जीती हुई राशि को गैर सरकारी संगठन को दान कर दिया था –
  • केजरीवाल जब भारतीय राजस्व सेवा में अफसर थे तब वह अपनी टेबल भी खुद साफ़ किया करते थे । वह खुद यह काम करना पसंद करते थे इसलिए चपरासी की सेवा भी नहीं लेते थे ।
  • – 2006 में अरविन्द केजरीवाल ने भारतीय राजस्व सेवा से इस्तीफ़ा दे दिए था । इस्तीफ़ा देने की मुख्य वजह उनकी सामाजिक सेवा में अधिक रुचि थी ।
  • अरविन्द केजरीवाल ना ही अपना जन्मदिन मानते है ना ही अपने बच्चो का ।
  • – 2011 में अन्ना हज़ारे के साथ केजरीवाल ने दिल्ली के रामलीला मैदान में धरना दिया था । वह धरना भारत में बढ़ते भ्रष्टाचार को लेकर था जिसका मुख्य उदेश जान लोकपाल बिल को पास करना था ।
  • अन्ना हज़ारे के साथ शुरू हुवा धरना जब सफल नहीं हुआ, उसके बाद ही अरविन्द केजरीवाल और उनके कुछ साथियो ने एक राजनीती पार्टी की स्थापना की जो आम आदमी पार्टी के रूप में आज दिल्ली की चेहती पार्टी है ।
  • – केजरीवाल की आदत रही है कि वह हर एक डॉक्यूमेंट की फाइल में हर एक डॉक्यूमेंट को चेक करते है । यहाँ तक की वह एक एक लाइन तक पढ़ते है और महत्वपूर्ण लाइन पर मार्कर से मार्क करते है ।

FAQ  – बार बार पूछे जाने वाले सवाल अरविन्द केजरीवाल के बारे में

सवाल – क्या केजरीवाल मांसाहारी है ??

जवाब – केजरीवाल एकदम शुद्ध शाकाहारी है ।

सवाल – अरविन्द राजनीति में आने से पहले क्या करते थे ??

जवाब – केजरीवाल अपने करियर की शुरुवात में सिविल सेवा में अफसर थे और बाद में वह सामाजिक कार्यकर्ता बन गए ।

सवाल – आम आदमी पार्टी का राष्ट्रीय राष्ट्रीय चिह्न क्या है ??

जवाब – झाड़ू केजरीवाल की आम आदमी पार्टी का राष्ट्रीय चिह्न है ।

सवाल – केजरीवाल की आईआईटी की परीक्षा में क्या रैंक आयी थी ??

जवाब – 1985 के आईआईटी की परीक्षा में उनकी रैंक 563 रही थी ।

सवाल – क्या अरविन्द जी धूम्रपान और मदिरापान करते है ??

जवाब – नहीं, अरविन्द जी ना ही स्मोकिंग करते है ना ही वह अल्कोहल पीना पसंद करते है ।

सवाल – अरविन्द जी का जन्म कहा हुआ और उनकी अभी क्या उम्र है ??

जवाब – इनका जन्म 16 अगस्त 1968 को शिवानी, हिसार, हरियाणा में हुआ । वर्तमान में उनकी उम्र 53 साल है ।

सवाल – केजरीवाल की बेटी के साथ क्या विवाद हुआ था ??

जवाब – उनकी बेटी ऑनलाइन घोटाला का शिकार हो गयी थी । जिसमे वह अपने घर का पुराना सोफे को OLX  करके ऑनलाइन स्टोर पे बेच रही थी, ठगी ने उनसे कुल 34000 रुपया ले लिए था । 

यह भी पढ़े

उम्मीद करते है फ्रेड्स अरविंद केजरीवाल का जीवन परिचय Arvind Kejriwal Biography In Hindi का यह आर्टिकल आपको पसंद आया होगा. अगर आपको केजरीवाल के बारे में दी जानकारी पसंद आई हो तो इसे अपने दोस्तों के साथ भी शेयर करें.

Leave a Comment

Your email address will not be published.