Cc Account Meaning In Hindi Cash Credit के बारे में जानकारी

Cc Account Meaning In Hindi Cash Credit के बारे में जानकारी : बैंक से जुड़ी कई सारी शब्दावली होती है जिनसे हम -परिचित नही होते हैं. सीसी (CC) का फुल फॉर्म कैश क्रेडिट होता हैं. इसे हिंदी में उधार खाता अथवा जमा खाता भी कहते हैं. यह एक तरह का अल्पकालिक लोन होता हैं. मगर बैंक के ऋण सिस्टम की अवधारणा से हटकर CASH CREDIT और ओवर ड्राफ्ट्स लगभग प्रत्येक बैंक द्वारा दी जाने वाली सुविधा हैं, जिसकें बारें में आम लोगों को जानकारी नही होती हैं. Cash Credit in Hindi में हम इसी विषय के बारें में आपकों यहाँ बता रहे हैं.

कैश क्रेडिट के बारे में जानकारी- Cash Credit Information in hindi

कैश क्रेडिट के बारे में जानकारी- Cash Credit Information in hindi

आपने कई बार कैश क्रेडिट लोन के बारे में अवश्य सुना होगा, यह एक तरह का छोटी अवधि का लोन हैं जो वर्किंग कैपिटल को मैनेज करने के लिए लिया जाता हैं, इसकी अधिकतम अवधि एक वर्ष तक होती हैं. एक लोन ग्राहक के क्रेडिट स्कोर पर निर्भर करता हैं कम क्रेडिट स्कोर की स्थिति में यह लोन बैंक नहीं देता हैं.

कैश क्रेडिट लोन का अर्थ (Cc Account Meaning In Hindi)

वाकई में यह एक बैंक लोन का प्रकार है जिसमें बैंक खाताधारक के पास यह सुविधा रहती है, कि वह अपने अकाउंट में मौजूद रकम से अधिक राशि लोन के रूप में प्राप्त करता हैं. यानि आपका स्टेट बैंक ऑफ इण्डिया में खाता है तथा आपके अकाउंट में ५० हजार रुपयें हैं.

आप कोई काम धंधा शुरू करना चाहते है इसके लिए थोड़े से और रुपयों की आवश्यकता आपकों हैं. तब आप उसी स्टेट बैंक के खाते से अपनी जमा राशि के अतिरिक्त रकम भी कैश क्रेडिट के रूप में निकाल सकते हैं.

सभी बैंक की अपनी अपनी नियमावली हैं, जिसके अनुसार आपकों कैश क्रेडिट मिलता है और आपकों नियत अवधि में इसे वापिस जमा भी करवाना होता हैं.

कैश क्रेडिट अकाउंट रूल्स (Cash Credit Account Rules In Hindi)

सीसी खाते से जुड़े कुछ नियम हैं जिनकों फोलो करके कोई भी व्यक्ति बैंक से अल्पावधि के लिए यह ऋण आसानी से प्राप्त कर सकता हैं. चलिए इस फीचर की विशेषताओं व लोन सेवा पर एक नजर.

  • किसी व्यक्ति को Cash Credit करने से पूर्व बैंक उस व्यक्ति के आर्थिक स्तर को भापता है तथा उसके द्वारा चुकाए जाने योग्य राशि की लिमिट निर्धारित कर यह लोन प्रदान किया जाता हैं.
  • बैंक के नियमों के अनुसार इस लोन पर ब्याज केवल उस राशि पर ही होता है जो उधार लिया गया हैं. ब्याज की दर परम्परागत लोन से कम होती हैं.
  • न्यूनतम प्रतिबद्धता शुल्क का निर्धारण बैंक द्वारा कैश क्रेडिट से पूर्व किया जाता हैं यानि बैंक द्वारा ग्राहक को अवगत करवा दिया जाता है कि जो राशि अधिक ली जा रही है इस पर इस हिसाब से ब्याज का भुगतान उन्हें करना ही होगा.
  • बैंक द्वारा जारी किया गया कैश क्रेडिट ग्राहक द्वारा न दिया जाने पर उनके फिक्स्ड एसेट एवं अन्य सम्पतियों को सुरक्षा के तौर पर बंधक रखा जाता हैं तथा उसकी नीलामी कर वह अपनी राशि वसूल करने की शर्त भी हैं.
  • Cash Credit Account लोन की अल्पकालिक व दीर्घकालीन सीमाएं हैं. ग्राहक अपनी इच्छा के अनुसार लोन प्राप्त कर सकता हैं. इसकी अधिकतम अवधि एक वर्ष की होती हैं.

कैश क्रेडिट के फायदे व नुकसान (advantages and disadvantages of cash credit facility In hindi)

अब तक आप जान चुके होंगे कि बैंक द्वारा सीसी कैश क्रेडिट नाम से चलाई जाने वाली इस स्कीम की अवधारणा क्या हैं. अब आपकों एक आम आदमी के लिहाज से इसके क्या लाभ और हानियाँ है इसके बारे में इन पॉइंट्स के जरिये जानते हैं.

  1. निरंतर रूप से पैसे की आजावाही तथा वर्किंग कैपिटल के लिए व्यापारियों के लिए लोन प्राप्ति की यह अच्छी सुविधा हैं, जिनमें उनके केवल कार्यशील पूंजी का इंटरेस्ट देना होता हैं.
  2. इसका भुगतान व देनदारी का निर्धारण संबंधित कम्पनी की सम्पति के आधार पर होता हैं, जिसके कारण यह एक व्यवस्थित सिस्टम है सदुपयोग करके इसका फायदा उठाया जा सकता हैं.
  3. इस अकाउंट की निरन्तरता व्यापारियों के लिए फायदेमंद है वो उधार सीमा का पुनर्भरण कर फिर से लोन प्राप्त कर सकते हैं.
  4. Cash Credit facility की सबसे बड़ी कमी यह हैं कि इसके द्वारा ब्याज की राशि काफी अधिक वसूली जाति हैं.
  5.  न्यूनतम प्रतिबद्धता राशि के सम्बन्ध में कोई रियायत न होने के कारण उधार लेने वाले ग्राहक को सम्पूर्ण उस राशि का ब्याज भी चुकाना पड़ता है चाहे वो उसी बैंक के अकाउंट में जमा पड़ी हो.
  6. यह सुविधा उच्च आर्थिक प्रष्ठभूमि वाली संस्थाओं को ही मिलती हैं. छोटा उद्यमी इसका फायदा नही उठा पाता हैं.
लाभनुकसान
गारंटर व गिरवीं की जरूरत नहींब्याज दर उच्च
व्यय की राशि पर ब्याज वसूला जाता हैछोटी अवधि का लोन
CIBIL स्कोर जाँच की जरूरत नहींएक साल तक की अवधि
अदा किया गया ब्याज टैक्सेबल हैस्टार्टअप से फायदा निकालना कठिन
सरलता से उपलब्धवर्किंग कैपिटल की पूर्ति हेतु

किसको मिलता है कैश क्रेडिट लोन

मूल रूप से यह उद्यमियों को मिलने वाला कर्ज हैं किसी बिजनैस, फैक्ट्री अथवा कम्पनी चलाने वाले मालिक को दैनिक खर्चों की पूर्ति में यह मददगार हैं. कैश क्रेडिट धारक को अपने व्यवसाय में बढ़ोतरी, उपकरण खरीदने, कच्चा माल खरीदने, स्टॉक बढ़ाने या अपने काम पर लगे लोगों को वेतन देने के लिए भी उपयोग लिया जाता हैं.

स्पष्ट शब्दों में यह कह सकते हैं इस लोन की पात्रता मुख्य रूप से व्यावसायिक कार्यों पर निर्भर करती हैं, व्यक्तिगत खर्च के लिए यह ऋण नहीं मिलता हैं.

कैश क्रेडिट लोन पर ब्याज दर

क्रेडिट लोन लेने से पूर्व ग्राहक को हमेशा बैंक द्वारा बताई जा रही ब्याज दर के बारे में अवश्य पता कर लेना चाहिए. कम अवधि के इस ऋण पर व्यय की जाने वाली ब्याज दर सभी बैंकों की अलग अलग होती हैं. मूल रूप से यह ग्राहक के क्रेडिट स्कोर पर निर्भर करती हैं.

FAQ

प्रश्न. कैश क्रेडिट लोन क्या है?

उत्तर- यह एक तरह का शोर्ट टर्म लोन हैं जो कारोबारियों को दिया जाता है.

प्रश्न. CC के तहत कितना लोन प्राप्त किया जा सकता हैं?

उत्तर- यह आपके व्यवसाय के आकार और आमदनी के आधार पर बैंक निर्धारित करती हैं.

प्रश्न. कैश क्रेडिट की लोन राशि का उपयोग किन कार्यों में किया जा सकता हैं?

उत्तर- अपने व्यवसाय की कार्यशील पूंजी के रूप में व्यापार बढ़ोतरी, कच्चा माल खरीदने या उद्यमियों के भुगतान के रूप में इसका उपयोग किया जा सकता हैं.

यह भी पढ़े

इस लिहाज से कैश क्रेडिट के फायदे है तो नुकसान भी बड़े हैं. हमें इसका संतुलित होकर फायदा उठाना चाहिए. आशा करता हूँ मित्रों Cc Account Meaning In Hindi में आपकों पूर्ण सटीक जानकारी प्रदान करने का प्रयत्न किया हैं. यदि आपकों यह लेख अच्छा लगा हो तो प्लीज इसे अपने फ्रेड्स के साथ भी शेयर करे, इससे जुड़े अन्य लेख नीचे दिए गये हैं.

Leave a Comment

Your email address will not be published.