क्रेडिट कार्ड क्या है इसके प्रकार टॉप लिस्ट फायदे (Credit Card Kya hai in Hindi)

क्रेडिट कार्ड क्या है इसके प्रकार टॉप लिस्ट फायदे (Credit Card Kya hai in Hindi) आपने कई तरह के कार्ड्स के बारे में सुना होगा, जो हमारे दैनिक जीवन में काम में लिए जाते है जैसे पहचान कार्ड, फास्टैग, डेबिट कार्ड या एटीएम इसी तरह का एक प्लास्टिक कार्ड क्रेडिट कार्ड का भी होता हैं. बैंक द्वारा डेबिट कार्ड की तरह व्यवसायी श्रेणी के कस्टमर के लिए बैंक इसे जारी करता हैं. अगर आप Credit Card Kya Hota Hai इसके प्रकार लाभ उपयोग आदि क्या है नहीं जानते तो बने रहे हमारे साथ इस लेख में विस्तार से अध्ययन करेंगे.

क्रेडिट कार्ड क्या है इसके प्रकार टॉप लिस्ट फायदे (Credit Card Kya hai in Hindi)

क्रेडिट कार्ड क्या है इसके प्रकार टॉप लिस्ट फायदे (Credit Card Kya hai in Hindi)

क्या होता है credit card, meaning in Hindi

बैंक अपने ग्राहक को दो तरह के कार्ड देता है जिसमें एक है डेबिट कार्ड जिसे हम एटीएम कहते है. इसके द्वारा ग्राहक अपने बैंक खाते में विद्यमान राशि को कही भी खर्च कर सकता हैं. जब अकाउंट में राशि समाप्त हो जाती है तब इसका उपयोग नहीं हो पाता हैं. यानी बैंक बैलेंस होने की स्थिति में ही डेबिट कार्ड उपयोगी हैं.

इसके उल्ट दूसरा कार्ड हैं जो क्रेडिट कार्ड या उधार खाता कह सकते हैं. यह ग्राहक को अपने बैंक खाते में राशि न होने की स्थिति में भी एक तय राशि तक खर्च करने की अनुमति प्रदान करता हैं.

अगर कार्ड धारक के पास आज पैसे नहीं है तथा उसे खरीददारी करनी है तब वह अपनी जरूरतों को पूरा करने के लिए क्रेडिट कार्ड का उपयोग कर सकता हैं. तथा एक महीने की अवधि में उसका भुगतान बैंक को कर देता हैं. एक तरह से हम यह कह सकते है कि इस कार्ड के द्वारा बैंक से हम शोर्ट टर्म के लिए कोई धनराशि उधार लेकर उसका खर्च कर सकते हैं.

खासकर व्यवसाय में रत लोगों उद्यमियों को हर दिन पेमेंट के लिए बैंक बैलेंस की जरूरत होती है मगर हर बार पैसा उनके पास हो ऐसा जरूरी नही है. वे अपनी जरूरतों को एक बार के लिए इस कार्ड के जरिये पूरा कर लेते है तथा बाद में बैंक की अदायगी कर लेते हैं.

Telegram Group Join Now

Credit card kya hai in hindi

अब तक हमने क्रेडिट और डेबिट की अवधारणा को समझा है अब हम एक आसान उदाहरण के जरिये समझने का प्रयास करते है कि क्रेडिट कार्ड क्या है तथा किस तरह के कस्टमर को यह सुविधा मिलती हैं. हम अपने दैनिक जीवन में गली की दूकान से किराणा का छोटा बड़ा सामान रोजाना खरीदते हैं.

वर्षों से हमारी दुकानदार से जान पहचान हैं, दुकानदार की नजर में आप एक शरीफ, ईमानदार, कमाऊ और व्यवहारशील इंसान हैं. इस स्थिति में आप दोनों के बीच यह अंडरस्टेंडिंग बन जाती हैं कि आप घर की जरूरत की चीजे 30 दिनों तक उस दूकान वाले से लाते रहते है तथा महीने के आखिर में उसका हिसाब कर पैसा अदा कर देते हैं.

क्रेडिट कार्ड के मामले में हुबहू यही कांसेप्ट काम करता हैं. बैंक अपने रेप्यूटेड और भरोसेमंद ग्राहकों को महीने भर के खर्च के लिए उधारी का आप्शन देता हैं, तथा 20 से 30 दिन के बाद ग्राहक यदि बैंक की टर्म के अनुसार बकाया भुगतान कर देता हैं तो बैंक भी ग्राहक के क्रेडिट खाते की लिमिट को बढ़ा देता हैं.

क्रेडिट कार्ड किसको मिल सकता है? (Credit Card Eligibility Criteria In Hindi)

बैंक अपने उन ग्राहकों को क्रेडिट कार्ड की सेवा का ऑफर देता है अथवा ग्राहक का निवेदन स्वीकार करता है जो salaried person हैं, या आपका कोई business को संचालित कर रहे हैं. साथ ही इनकम टैक्स फाइल करते हैं. इन श्रेणी के ग्राहकों को आसानी से बैंक यह सर्विस प्रोवाइड करती हैं.

अगर आप इन श्रेणी में आते है तो स्वयं से अप्लाई कर सकते है अथवा बैंक आपको अप्रोच भी कर सकता हैं. कई बार बैंक उनके बिजनेस पर्सन को भी क्रेडिट सेवा मुहैया करवाता है जो इनकम टैक्स नहीं देते हैं मगर सिक्योरिटी के लिए फिक्स्ड डिपोजिट करवाते हैं.

क्रेडिट कार्ड के मामले में ग्राहक का बैंक के प्रति व्यवहार कैसा है यह क्रेडिट स्कोर बताता हैं. यह सूचंकाक 300 से 900 के मध्य होता है तथा 750 से ऊपर का क्रेडिट स्कोर अच्छा माना जाता हैं. बैंक ग्राहक की इनकम, सैलरी और व्यवसाय के अनुसार क्रेडिटकार्ड की लिमिट भी रखता हैं जैसे जैसे दोनों के मध्य भरोसा बढ़ता है इस लिमिट को आगे तक बढ़ा दिया जाता हैं.

क्रेडिट कार्ड के फायदे और उपयोग क्या है

एक क्रेडिटकार्ड धारक को अपने कार्ड के चलते कई सारे लाभ होते है बहुत सारे उपयोग है जिन्हें एक एक कर समझने का प्रयास करते हैं.

  • आसान भुगतान: grocery, medicines, traveling, child education तथा अन्य खर्च के लिए आपको परेशान होने की जरूरत नहीं पडती है न ही कैश निकालने आदि का झंझट रहता है आप अपने कार्ड को स्वाइप कर आसानी से भुगतान कर सकते हैं.
  • रिकरिंग पेमेंट्स: आप अपनी खरीददारी और जरूरत के वन टाइम बिल पेमेंट के साथ ही क्रेडिटकार्ड के उपयोग से ऑटो भुगतान बिल जैसे रिचार्ज, लाइट, लोन किश्त आदि का स्वतः भुगतान कर सकते है.
  • ऑनलाइन सर्विसेज व भुगतान में आसानी : क्रेडिटकार्ड के जरिये विश्व के किसी भी बैंकिंग सिस्टम में लेन देन किया जा सकता है साथ ही ऑनलाइन पेमेंट माध्यम के रूप में यह एक अच्छा का विकल्प हैं.
  • बाय नाउ एंड पे लेटर : ग्राहक बैंक की इस सुविधा के अंतर्गत अपने सारे बिल का भुगतान त्वरित कर सकते है चाहे उनके बैंक खाते में रकम हो अथवा नहीं तथा बैंक द्वारा ग्रेस अवधि (अमूमन 30 से 50 दिन) तक उस राशि पर ब्याज भी नहीं लेता, एक तरह से बिना ब्याज का लोन
  • कैशबैक एंड डिस्‍काउंट्स व रिवार्ड्स: क्रेडिट कार्ड के उपयोग से फ्लाइट टिकट, शोपिंग के बिल आदि पर आकर्षक रिवार्ड्स फ्यूल बिल पर अतिरिक्त बचत और विभिन्न तरह के कैशबेक भी पा सकते हैं.
  • आर्थिक सुरक्षा : कई बार होता है जब आर्थिक तंगी चल रही होती है तो व्यक्ति अपने व्यक्तिगत तथा पारिवारिक खर्च को लेकर परेशान रहता है मगर क्रेडिट कार्ड इस समस्या से आपको दूर रखेगा.
  • क्रेडिट स्कोर : जब कभी हम बैंक के पास लोन के लिए आवेदन करते है तो बैंक सबसे पहले हमारे क्रेडिट स्कोर को देखता है यानी हमारा बैंक के प्रति व्यवहार कैसा है, हम उधारी को समय पर चुकाते है अथवा नहीं. समय समय पर किए गये क्रेडिट कार्ड के भुगतान से ग्राहक के क्रेडिट स्कोर को मजबूत बनाने में भी मदद मिलती हैं.

क्रेडिट कार्ड के नुकसान क्या है (Credit Card Disadvantages In Hindi)

कई सारे क्रेडिट कार्ड के एक तरफ बहुत से फायदे है तो दूसरी तरफ इसके कई नुकसान भी हैं, यहाँ हम डिसएडवांटेज की बात करेगे.

  1. क्रेडिटकार्ड का पहला नुकसान इसका सालाना चार्ज हैं, यह फीस के रूप में वार्षिक रूप से कुछ शुल्क लेता हैं.
  2. लुभावने अवसरों के चक्कर में कई बार अतिरिक्त आर्थिक बोझ और कर्ज तले ग्राहक दब जाता हैं.
  3. बेहतर डिस्काउंट के फेर में फंसकर लम्बी ईएमआई के कई अनचाहे प्रोडक्ट खरीद लेते हैं.
  4. विलम्ब भुगतान की स्थिति में बैंक द्वारा भारी ब्याज दर और पेनल्टी शुल्क वसूला जाता हैं.

क्रेडिट कार्ड का सालाना चार्ज कितना होता है?

हरेक बैंक के क्रेडिट कार्ड ऑफर में कुछ न कुछ फर्क आपको अवश्य मिल सकता हैं. मगर यहाँ सभी में जो कॉमन यह होती है कि दो तरीके से बैंक यूजर्स से क्रेडिटकार्ड के शुल्क वसूल करती है पहला जोइनिंग फीस और दूसरी इयरली फीस.

जॉइनिंग फीस की बात करें तो यह राशि 500 रु से 1999 तक हो सकती है जो कार्ड धारक को केवल एक बार अदा करनी होती हैं. कई सारे बैंक अपने कस्टमर से यह फीस चार्ज नहीं करते हैं. अगर इयरली फीस की बात करे तो यह चार्ज 500 रु से 9999 रु तक का हो सकता हैं. इसलिए जब भी आप क्रेडिट कार्ड के लिए अप्लाई करे इन दोनों शुल्क पर अपनी एक नजर जरुर डाल लेवे.

भारत के टॉप क्रेडिट कार्ड क्या है

टॉप 10 क्रेडिट कार्डवार्षिक फीस*
Axis Bank Credit Card₹ 499
SBI Elite Credit Card₹ 4,999
HDFC रेगलिया₹ 2,500
Flipkart एक्सिस बैंक क्रेडिट कार्ड₹ 500
Amazon Pay Laterशून्य
Citi Premier Miles Credit Card₹ 3,000
HDFC Bank Credit Card₹ 1,000
स्टैंडर्ड चार्टर्ड डिजीस्मार्ट₹ 49 प्रति महीने
BPCL SBI Credit Card OCTANE₹ 1,499
HDFC Bank Credit Card₹ 2,500

क्रेडिट कार्ड कितने प्रकार के होते हैं? (How many types of credit cards are there)

अगर बात करे क्रेडिट कार्ड के प्रकार क्या क्या है तो इसके उपयोग के आधार पर अलग अलग तरह के कार्ड हैं, इन्हें आप इस तालिका के जरिये समझ सकते हैं.

कार्ड नामउपयोग
ट्रैवल क्रेडिट कार्डएयरलाइन टिकट बुकिंग, बस और रेल टिकट
फ्यूल क्रेडिट कार्डपेट्रोल और डीजल फिलिंग
रिवॉर्ड क्रेडिट कार्डऑनलाइन भुगतान के लिए
शॉपिंग क्रेडिट कार्डऑनलाइन खरीददारी के लिए
सेक्योर्ड क्रेडिट कार्डक्रेडिट स्कोर सुधार हेतु
किसान क्रेडिट कार्डकृषि मशीनरी, खाद, बीज खरीद हेतु

क्रेडिट कार्ड क्या है FAQ

Q. क्रेडिट कार्ड क्या है ?

Ans: यह बैंक द्वारा जारी किया जाने वाला कार्ड है जिसका उपयोग बैंक खाते में रकम न होने की स्थिति में भी एक निर्धारित अमाउंट तक पैसे का उपयोग किया जा सकता है, एक तरह से बैंक से यह उधारी का कार्ड भी कहा जा सकता है.

Q. क्रेडिट कार्ड का खर्च कितना आता हैं?

ans: अगर हम केवल क्रेडिटकार्ड रखने के लिए बैंक द्वारा ग्राहक से वहन की गई राशि की बात करे तो यह प्रवेश शुल्क व वार्षिक शुल्क के रूप में वसूल की जाती है जो कि 500 रु से 5000 तक हो सकती हैं.

यह भी पढ़े

मित्रों उम्मीद करता हूँ क्रेडिट कार्ड क्या है इसके प्रकार टॉप लिस्ट फायदे (Credit Card Kya hai in Hindi) शीर्षक से दिया गया यह आर्टिकल आपको पसंद आया होगा. अगर आपको यहाँ क्रेडिटकार्ड के विषय में दी जानकारी पसंद आई हो तो अपने दोस्तों के साथ भी इसे शेयर करें.

आपको यह लेख कैसा लगा कमेंट कर जरुर बताएं. रोजाना नये विषय पर अच्छी और रोचक जानकारी के लिए आपके इस ब्लॉग को विजिट करना ना भूले.

Leave a Comment