दिल्ली पर निबंध – Essay on Delhi in Hindi Language

This Paragraph About information about Delhi in Hindi. Short Best Long Essay on Delhi in Hindi Language. दिल्ली पर निबंध, Capital of India Rajdhani New Delhi par Nibandh. अगर आप छोटी बड़ी कक्षाओं के स्टूडेंट्स के लिए यहाँ भारत की राजधानी नई दिल्ली छोटा बड़ा निबंध अलग अलग शब्द सीमा में दिया गया हैं.

दिल्ली पर निबंध – Essay on Delhi in Hindi Language

Essay on delhi in hindi

दिल्ली भारत की राजधानी है इसके पुराने नाम हैं. इंद्रप्रस्थ, तुगलकाबाद आदि. यह बहुत पुरानी नगरी है,  जो कई बार  उजड़ी और कई बार बसी हैं. पहले पांडव यहाँ के शासक थे. फिर चौहान वंश के राजा पृथ्वीराज ने यहाँ राज्य किया. फिर पठान शासकों का राज्य रहा. उनके द्वारा बनाये किले, कुतुबमीनार, मकबरे आदि अब भी उनकी याद दिलाते हैं.

मुगलकाल में दिल्ली की बहुत उन्नति हुई. अकबर के पोते और जहाँगीर के पुत्र शाहजहाँ ने यहाँ जामा मस्जिद और लाल किले का निर्माण करवाया. ये आज भी ज्यों के त्यों खड़े हैं, जैसे अभी अभी बनाए गये हों. दिल्ली में देखने योग्य बहुत स्थान हैं पुराना किला, कुतुबमीनार लाल किला गौरीशंकर मंदिर, गुरुद्वारा सीसगंज, लक्ष्मी नारायण मंदिर, बिरला मंदिर आदि देखने ही योग्य हैं.

इनके अतिरिक्त चिड़ियाघर, अजायबघर, जन्तर मन्तर आदि भी देखने योग्य हैं. बागों में रोशनारा बाग़, कम्पनी बाग़, ताल कटोरा गार्डन, लोदी बाग़, बुद्ध विहार आदि भी दर्शनीय हैं. चांदनी चौक, खारी बावली, कनाट प्लेस, राजेन्द्र प्लेस, नेहरु प्लेस, करोल बाग़, सदर बाजार आदि यहाँ के मुख्य बाजार हैं. यहाँ स्वतंत्रता के बाद बीसियों नई बस्तियां बिछाई गई हैं. जैसे राजेन्द्र नगर, पटेल नगर, मोती नगर, कीर्तिनगर, रमेशनगर, राजोरी गार्डन, तिलक नगर, मालवीय नगर, वसंत विहार, सुंदर नगर, किदवई नगर आदि आदि. जनकपुरी यहाँ की नई और सबसे बड़ी बस्ती हैं.

नई दिल्ली अंग्रेजों के राज्य में बनी थी. केन्द्रीय सचिवालय, संसद भवन तथा राष्ट्रपति भवन नई दिल्ली में ही हैं. नई दिल्ली में अनेक भवन कई कई मंजिलों के हैं, जो देखते ही बनते हैं. दिल्ली रेलों का, व्यापार का और शिक्षा का बड़ा केंद्र हैं. दिल्ली संसार के सबसे बड़े जनतंत्र भारत की राजधानी हैं.

भारत का राजधानी शहर होने कारण सरकार के सभी कार्यालय भी दिल्ली में ही हैं. दुनियां के सबसे बड़े लोकतंत्र का मंदिर संसद भवन भी न्यू दिल्ली में ही हैं. इसके अलावा राष्ट्रपति भवन एवं उनका निवास भी यही हैं. जहाँ विदेशी राष्ट्र मुख्यों का स्वागत किया जाता हैं. गार्ड ऑफ़ ओनर विदेशी मेहमानों को यही देते हैं.

Telegram Group Join Now

दिल्ली में राष्ट्रपति भवन की सीध में ही इंडिया गेट हैं. जो भारत के शहीदों को समर्पित हैं. इंडिया गेट पर वतन की खातिर जान न्यौछावर करने वाले अमर शहीदों के स्मरण में ज्योति जलती रहती हैं. दिल्ली घनी आबादी वाला शहर हैं   देश के  सवा  करोड़ नागरिक बसते हैं. हर दिन बड़ी संख्या में देश के कोने कोने से युवक अपने संग सपने लेकर दिल्ली आते हैं. प्रदूषण दिल्ली की ज्ल्वन्त समस्या हैं दूषित वायु में दिल्ली का डीएम घूट रहा हैं. इस तरह दिल्ली न केवल सम्पूर्ण भारत के   केंद्र हैं बल्कि यह हमारी आन बान और शान का प्रतीक शहर हैं.

दिल्ली पर निबंध, Essay on delhi in hindi -1

भारत एक विशाल देश है, जिसके कई बड़े शहर विश्व में अपनी ख्याति रखते है. दिल्ली ऐसा ही एक सुंदर, सभ्य एवं भारत का दिल कहा जाने वाला राजधानी शहर है, मेरा सौभाग्य है कि यह मेरा गृह नगर हैं. यमुना नदी के तट पर स्थित सुरम्य इस दिल्ली शहर का जन्म एक हजार ई पू में महाभारत काल से माना जाता हैं. यह तीन मुख्य जातियों आर्य, मुगल एवं अंग्रेजों के भारत पर शासन का गवाह रहा हैं.

वर्तमान में दिल्ली शहर दो भागों में विभक्त है ये हैं प्राचीन दिल्ली व नई दिल्ली, नई दिल्ली शहर भारत देश की राजधानी हैं. जो बेहद आकर्षक तरीके से निर्मित की गई हैं. बताते है कि इसका निर्माण लुटियन ने किया था. इसी कारण आजकल इसे लुटियंस की दिल्ली के तंज भी कसे जाते हैं. वही पुरानी दिल्ली का निर्माण मुगलों के शासनकाल में हुआ था. ये बेहद भीड़भाड़ वाला शहर हैं. इसमें एतिहासिक महत्व की कई प्राचीन ईमारते खड़ी हैं.

नई दिल्ली में कई आकर्षक पार्क व उद्यान बने हुए हैं. यहाँ नेहरु पार्क, तालकोटरा गार्डन, लोदी गार्डन और बुद्ध पार्क बना हुआ हैं. प्राचीन काल से दिल्ली न केवल एक राजधानी शहर के रूप में फली फूली बल्कि यह भारत का एक महत्वपूर्ण शिक्षा एवं व्यापार केंद्र भी था. आज भी करोल बाग़, चांदनी चौक कनाट प्लेस और लाजपत नगर के बाजार लोगों को अपनी ओर आकर्षित करते हैं.

दिल वालों के शहर दिल्ली के प्रसिद्ध दर्शनीय स्थल यथा कुतुब मीनार, लाल किला, जामा मस्जिद, संसद भवन, राष्ट्रीय संग्रहा लय, गुरुद्वारा सीस गंज, इंडिया गेट और चिड़ियाघर इन स्थानों को देखने के लिए लोग दूर दूर से आते हैं. मेरे शहर दिल्ली में मेट्रो सेवा ने इसके दौड़ने की गति को बढ़ाया हैं. मुझे अपने शहर का एक शहरवासी पर गर्व हैं. मेरा सपना है कि एक दिन दिल्ली विकसित होकर विश्वस्तरीय शहर का दर्जा प्राप्त करे. 

700 शब्दों में दिल्ली की यात्रा पर निबंध Essay on Delhi Visit in Hindi

दिल्ली सिर्फ एक राज्य नहीं है बल्कि यह हमारे भारत देश की राजधानी भी है। इसके अलावा दिल्ली को अमीरों की नगरी भी कहा जाता है क्योंकि दिल्ली में रहने वाले करोड़पतियो की संख्या 200 से भी काफी ज्यादा है। कहा जाता है कि दिल्ली दिल वालों की है क्योंकि भारत में जितने भी राज्य हैं, उन सभी राज्यों से दिल्ली अलग ही पहचान रखती है और इसका महत्व भी अलग ही है।

दिल्ली भारत की राजधानी होने की वजह से हमेशा से ही सुर्खियों में बनी रहती है। यहां पर भारत के अन्य राज्यों से तो लोग आते ही हैं, साथ ही विदेशों से भी लोग आते हैं। चाहे 26 जनवरी का सार्वजनिक कार्यक्रम हो या फिर 15 अगस्त का सार्वजनिक कार्यक्रम हो, यह सभी दिल्ली में ही होते हैं। यहां तक कि 15 अगस्त को अगर देश में कहीं पर सबसे बड़े पैमाने पर और धूमधाम के साथ मनाया जाता है तो वह दिल्ली राज्य ही है।

दिल्ली राज्य में सांस्कृतिक, धार्मिक, सामाजिक, राजनीतिक और ऐतिहासिक इस प्रकार के तमाम रंगमंच पाए जाते हैं और शायद ही भारत के किसी अन्य राज्य में ऐसा नजारा देखने को मिलता हो। प्राचीन काल में दिल्ली का नाम इंद्रप्रस्थ था। दिल्ली राज्य पर प्राचीन काल में बड़े समय तक राजपूत राजा सम्राट पृथ्वीराज चौहान के द्वारा शासन किया गया था। दिल्ली के आसपास के राज्यों में उत्तर प्रदेश, हरियाणा और राजस्थान की गिनती होती है।

दिल्ली एक घनी आबादी वाला राज्य है क्योंकि यहां पर कई बड़ी-बड़ी कंपनियां मौजूद है। इसीलिए यहां पर दिल्ली के मूल निवासियों के अलावा बाहर के भी कई लोग आकर रह रहे हैं और इसी की वजह से यहां पर जनसंख्या काफी अधिक हो गई है और जनसंख्या की वजह से यहां पर बस, स्कूटर,गाड़ी, मोटरसाइकिल और ट्रक हमेशा ही देखने को मिलती है। दिल्ली राज्य में ही संसद भवन और लाल किला जैसे वैश्विक तौर पर आकर्षण के केंद्र मौजूद हैं साथ ही दिल्ली की मेट्रो भी पूरी दुनिया भर में फेमस है।

दिल्ली में घूमने लायक भी कई जगह मौजूद है और इसकी वजह से हर साल देश-विदेश के लाखों सैलानी दिल्ली में मौजूद जगह को घूमने के लिए आते हैं। दिल्ली में मुख्य दर्शनीय स्थलों के तौर पर लोग लाल किला, कुतुब मीनार, जंतर-मंतर, जामा मस्जिद, बिरला मंदिर,लोटस टेंपल, लोह स्तंभ, छतरपुर मंदिर, इंडिया गेट, हुमायूं का मकबरा, गुरुद्वारा बंगला साहिब, इत्यादि जगह को घूमने के आते हैं। इसके अलावा भी दिल्ली में घूमने के लिए अन्य कई प्रसिद्ध स्थल में मौजूद हैं। दिल्ली में मौजूद कनॉट प्लेस और चांदनी चौक की खूबसूरती तो देखते ही बनती है।

दिल्ली राज्य भारत के सभी शहरों से एयरपोर्ट और रेलवे कनेक्टिविटी के जरिए अच्छी तरह से जुड़ा हुआ है। यहां पर पहुंचने के लिए आपको भारत के किसी भी राज्य के किसी भी कोने से आसानी से ट्रेन मिल जाएगी। अगर आपको दिल्ली राज्य आने के लिए डायरेक्ट ट्रेन नहीं मिलती है तो आप ट्रेन चेंज करके भी दिल्ली राज्य पहुंच सकते हैं।

दिल्ली को घूमने का सबसे अच्छा मौसम ठंडी का माना जाता है क्योंकि ठंडी के मौसम में दिल्ली राज्य का वातावरण बहुत ही खुशनुमा होता है। दिल्ली में कई बड़े एयरपोर्ट भी मौजूद है जहां से आप डायरेक्ट दुनिया के किसी भी कोने की फ्लाइट पकड़ सकते हैं  दिल्ली के बगल में ही गुड़गांव सिटी मौजूद है जिसे आईटी सिटी कहा जाता है जो कि हरियाणा राज्य में पड़ता है परंतु इसका काफी हिस्सा दिल्ली राज्य में भी पड़ता है। दिल्ली में विभिन्न समान काफी सस्ते रेट पर मिलते हैं और हर समान का यहां पर अलग ही बाजार होता है, जहां पर निश्चित दिनों पर लोग खरीददारी करने के लिए जाते हैं।

दिल्ली राज्य में नौकरियों की भी काफी भरमार है और यही वजह है कि दूसरे राज्यों से भी लोग यहां पर नौकरी करने के लिए आते हैं अथवा अपने सपने को साकार करने के लिए आते हैं। दिल्ली में आपको विभिन्न प्रकार के स्वादिष्ट व्यंजन भी मिल जाते हैं। जैसे कि छोले कुलचे, पानी पूरी, मोमोज इत्यादि। यहां के लोग खाने के काफी ज्यादा शौकीन होते हैं। इसलिए आपको दिल्ली के हर गली में कोई ना कोई नाश्ते की दुकान अवश्य दिखाई देगी। इस प्रकार अगर आप भी दिल्ली घूमना चाहते हैं तो एक बार अपनी तैयारी कर ले।

यह भी पढ़े

ध्यान दें– प्रिय दर्शकों Essay on Delhi in Hindi ( Article ) आपको अच्छा लगा तो जरूर शेयर करे।

Leave a Comment