नरेंद्र मोदी पर निबंध Essay On Narendra Modi In Hindi

नरेंद्र मोदी पर निबंध Essay On Narendra Modi In Hindi गुजरात के पूर्व मुख्यमंत्री एवं भारत के 15 वें प्रधानमंत्री नरेंद्र दामोदरदास मोदी भारतीय जनता पार्टी के सबसे लोकप्रिय नेता भी हैं. यहाँ आपकों नरेंद्र मोदी एस्से भाषण निबंध बता रहे हैं. कक्षा 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9 और 10 के स्टूडेंट्स के लिए 100, 150, 200, 250, 500 शब्दों में छोटा बड़ा एस्से बता रहे हैं. आपकों बता दे पीएम मोदी आरएसरस के सदस्य भी हैं. 2019 के लोकसभा चुनाव में दूसरी बार प्रधानमंत्री बने.

नरेंद्र मोदी पर निबंध Essay On Narendra Modi In Hindi

नरेंद्र मोदी पर निबंध Essay On Narendra Modi In Hindi

17 सितंबर 1950 को गुजरात के वडोदरा में जन्में नरेंद्र मोदी जी २१वी सदी के सबसे लोकप्रिय विश्व के नेताओं में गिने जाते हैं. आजाद भारत में जन्म लेने वाले वे देश के प्रथम प्रधानमंत्री भी हैं 26 मई 2014 को इन्होने प्रणव मुखर्जी ने उन्हें इस पद की गोपनीयता की शपथ दिलाई थी.

भारतीय जनता पार्टी ने अपने इतिहास में पहली बार 282 का आंकड़ा पार किया. 2014 के लोकसभा चुनाव में मोदी लहर के कारण उन्होंने अभूतपूर्व बहुमत हासिल करने में सफलता अर्जित की. पीएम मोदी अपने गृहराज्य वडोदरा तथा उत्तरप्रदेश के वाराणसी दोनों स्थानों से विजय प्राप्त की थी.

इन्होने गुजरात के 14 वें मुख्यमंत्री के रूप में तीन कार्यकाल पूर्ण कर चौथे चौथी कार्यावधि को 2014 तक पूरा करने के पश्चात अपना उत्तरदायित्व आनंदी बेन पटेल को सौपकर देश के प्रधानमंत्री का पद अर्जित किया.

गुजरात विवि से इन्होने पोलटिकल साइंस में स्नातकोत्तर की शिक्षा पाई हैं न केवल भारत में बल्कि विश्वभर में मोदी की ख्याति एक विकास पुरुष की हैं.

हाल ही में जारी एक वर्ल्ड रैकिंग में पीएम मोदी को विश्व के सबसे प्रसिद्ध नेता का श्रेय दिया गया हैं. इससे पूर्व टाइम्स मैगज़ीन ने उन्होंने 2013 के लिए पर्सन ऑफ द ईयर का खिताब भी प्रदान किया गया. एक राजनेता होने के साथ साथ प्रधानमंत्री मोदी हिंदी व गुजराती के अच्छे कवि एवं वक्ता भी हैं.

नरेंद्र मोदी पर निबंध Essay On Narendra Modi In Hindi

नरेंद्र मोदी जिनका पूरा नाम नरेंद्र दामोदरदास मोदी हैं, इनका जन्म 17 सितंबर 1950 वडनगर गुजरात राज्य में हुआ था. अच्छे आदर्श राजनेता के रूप में वे वर्तमान में देश के पन्द्रहवें प्रधानमंत्री के रूप में देश का गौरव बढ़ा रहे हैं.

देशभक्ति से ओप प्रेत नरेंद्र मोदीजी ने 26 मई 2014 को अपने पहले प्रधानमंत्री कार्यकाल की शपथ ग्रहण की थी. इससे पूर्व वे 13 वर्षों तक गुजरात राज्य के मुख्यमंत्री रहते हुए विकसित गुजरात का मॉडल तैयार किया था.

इनके पिता का नाम दामोदरमूलचंद मोदी था, जो निम्न वर्गीय परिवार थे. घर के आर्थिक हालात भी ठीक नही थे. ऐसे में पीएम ने अपना बचपन रेलवे स्टेशन पर चाय बेचने में व्यतीत किया था.

स्वयं को जनसेवक कहने वाले नरेंद्र भाई मोदी बेहद सादगी भरा जीवन जीते हैं. जीवन में असीम सफलताएं अर्जित करने के उपरान्त भी उनमें तनिक अह भाव देखने को नही मिलता हैं.

इनकी माताजी का नाम हीराबेन मोदी हैं, कई अवसरों पर पीएम मोदी अपनी माताजी का आशीर्वाद लेने के पश्चात ही किसी बड़े कार्य को आरम्भ करते हैं.

नेहरू गाँधी परिवार से भारत की राजनीति को बाहर निकालने वाले नरेंद्र मोदी का परिवार उनके भाई आज भी अभावों का जीवन जीते हैं.

छोटे भाई द्वारा दशकों से शीर्ष पदों पर रहने के बाद भी अपने परिवार के लोगों के लिए किसी कार्य को करना उन्होंने मुनासिब नही समझा, भला इससे बढ़कर किसी व्यक्ति के ईमानदारी का प्रमाण क्या हो सकता हैं.

जब मोदी आठ साल के थे तथा वडनगर की स्कूल में पढ़ते थे तभी उन्होंने आरएसएस की सदस्यता ग्रहण कर ली थी. 1987 में इन्होने बाहरवी की शिक्षा वडनगर से ही पूरी की.

कॉलेज शिक्षा के साथ साथ वे संघ प्रचारक के रूप में जी जान से कार्यकर्ता की तरह काम करते रहे. 1987 में आधिकारिक तौर पर इन्हें भारतीय जनता पार्टी में स्थान मिला. पार्टी कार्यकर्ता के रूप में उन्हें मिली जिम्मेदारियों को मोदीजी ने बखूबी निभाया.

उनकी पार्टी के प्रति ईमानदारी एवं लग्न मेहनत से उच्चाधिकारी बेहद प्रसन्न हुए तथा वर्ष 2000 में इन्हें गुजरात के मुख्यमंत्री का उम्मीदवार बनाया, वे बड़े अंतर से राज्य के मुख्यमंत्री बने.

उनके लिए यह सफर बेहद कठिनाइयों भरा था. 2002 के दंगों में मुख्यमंत्री रहते हुए गुजरात में व्यापक साम्प्रदायिक हिंसा हुई जिनमें हजारों लोग मारे गये थे. इस पर सीएम मोदी ने स्वेच्छा से मई 2002 में अपने पद से इस्तीफा दे दिया.

यह समय मोदीजी के राजनितिक करियर का सबसे कठिन समय था. चारो ओर से उन पर दवाब था विपक्षी दलों द्वारा उन पर दंगे भड़काने तथा मुसलमानों को मरवाने के संगीन आरोप उन पर लगे.

उस समय भारत के प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी जी थे, उन्होंने इस विषय पर मोदी को अपने राजधर्म निभाने की बात कही थी. यही वो वक्त था जहा से मोदी का करियर समाप्त भी हो सकता हैं.

मगर बेदाग़ छवि के नेता मोदीजी को न्यायालय द्वारा क्लीन चिट दे दी गई, यही से लोगों ने उन्हें कट्टर हिन्दुत्ववादी नेता के रूप में छवि दे दी गई.

विपक्षी पार्टिया हमेशा उन्हें दंगों के मुख्य आरोपी मानते रहे, मगर वे अपने गुजरात विकास एजेंडे पर अटल थे. निरंतर अपने लक्ष्य को ध्यान में रखकर कार्य करते रहे.

गुजरात की जनता ने उन्हें हमेशा वो सम्मान दिया जिनके वो हकदार थे. 2014 में उनकी का गुजरात विकास मॉडल चुनावी मुद्दा बन गया तथा विकास पुरुष के रूप में इन्हें भारत की जनता ने प्रधानमंत्री पद तक पंहुचा दिया.

देश के सबसे युवा प्रधानमंत्री के रूप में मोदीजी ने भारत के प्रधानमंत्री रहते हुए कई बेमिसाल कार्य किये, कई ऐसी योजनाएं शुरू की जिनका केंद्र बिंदु देश की गरीब जनता एवं किसान थे.

नोटबंदी, उज्ज्वला योजना, घर घर बिजली, GST, सर्जिकल स्ट्राइक, डिजिटल इंडिया, कौशल भारत, भामाशाह योजना, स्वच्छ भारत, आधार योजना, जनधन योजना जैसी तमाम स्कीम्स के जरिये देश के स्तर को उठाने का कार्यक्रम पीएम मोदी ने आरम्भ किये.

वे सोशल मिडिया अपने रेडियों कार्यक्रम मन की बात तथा विभिन्न माध्यमों से तकनीक के द्वारा देश की जनता तथा बच्चों के निरंतर सम्पर्क में रहते हैं. भारत के विकास के नये एजेंडे के तौर पर मोदीजी ने तक़रीबन विश्व के सभी देशों की यात्रा की,

तथा उन्हें भारत आने का न्यौता दिया, जिसका नतीजा आज देखने को मिल रहा हैं. कई बड़ी कम्पनियां भारत में अपना निवेश करना चाहती हैं. राफेल जैसी डील ने भारत के रक्षा मंत्रालय एवं वायु सेना को एक नई पहचान दिलाई हैं.

योग तथा स्वच्छता जैसे सामाजिक मुद्दों के प्रति उन्होंने जनजागरूकता बढ़ाने का प्रयत्न किया हैं. आज भी मोदीजी भारत के इतिहास के सबसे प्रसिद्ध प्रधानमंत्री हैं,

इनका अनुमान सोशल मिडिया पर उनकी फोलोविंग, देश के अधिकतर राज्यों में उनकी पार्टी की सरकार, मोदी की रैलियों में उमड़ता जनसैलाब, विश्व के बड़े बड़े नेताओं द्वारा मोदीजी व भारत की प्रशंसा इस बात का द्योतक हैं.

यह भी पढ़े

दोस्तों यदि  नरेंद्र मोदी पर निबंध Essay On Narendra Modi In Hindi आपको यह नरेंद्र मोदी पर निबंध (एस्से) पसंद आया तो आप इसे जरूर शेयर करे और अगर कुछ इसमें सही नहीं लगा आपको तो आप हमें बतायें|

अपने विचार यहाँ लिखे