राष्ट्रीय एकता दिवस पर निबंध Essay on National Unity Day in Hindi

राष्ट्रीय एकता दिवस पर निबंध Essay on National Unity Day in Hindi राष्ट्रीय एकता दिवस देश के सभी युवाओं को एकता के सूत्र में बांधता है। सभी भारतीय नागरिकों को एकता का महत्व बताने के लिए यूनिटी डे को मनाया जाता है। जैसा कि आप सभी को ज्ञात होगा सरदार वल्लभभाई पटेल ने देश के विभाजन के बाद देश की राजनीति को एकजुट करने के साथ-साथ लोगों के दिलों को भी एकजुट किया था। 

राष्ट्रीय एकता दिवस पर निबंध Essay on National Unity Day in Hindi

राष्ट्रीय एकता दिवस पर निबंध Essay on National Unity Day in Hindi

उन्होंने अपने बुलंद हौसले के साथ सभी लोगों में एकता की भावना पैदा की थी। आज हम इस लेख के माध्यम से इस महान पुरुष के बारे में निबंध साझा करने जा रहे हैं।

राष्ट्रीय एकता दिवस पर निबंध – 1 

प्रस्तावना 

“सरदार बल्लभ भाई पटेल जिन्हें हमारे देश में लौह पुरुष और संरक्षक संत के नाम से पुकारा जाता है” उनकी याद में हर साल राष्ट्रीय एकता दिवस 31 अक्टूबर को मनाया जाता है।

इस दिन को सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती के रूप में भी मनाया जाता है। देश की आजादी में अविस्मरणीय योगदान देने वाले सरदार वल्लभ भाई पटेल सदा हम भारतीयों के आदर्श रहेंगे।

राष्ट्रीय एकता दिवस का महत्व

Telegram Group Join Now

राष्ट्रीय एकता दिवस हमारे देश में बहुत ही जोरों शोरों से मनाया जाता है।‌ इस दिन को लोग न सिर्फ एकता दिवस के रूप में याद करते हैं बल्कि महान स्वतंत्रता सेनानी सरदार वल्लभ भाई पटेल जी को श्रद्धांजलि भी अर्पित करते हैं। 

प्रशासनिक सेवाओं में कार्यरत लोगों के लिए यह दिन बहुत ही खास होता है क्योंकि सरदार बल्लभ भाई पटेल ने आधुनिक अखिल भारतीय सेवा प्रणाली का निर्माण किया था यही कारण है कि इन्हें प्रथम भारतीय सेवा सिविल के नाम से भी पुकारा जाता है। 

यूनिटी डे मनाने की शुरुआत साल 2014 में हुई थी। पहली बार यूनिटी डे दिल्ली शहर में मनाया गया था। यह दिन देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने मनाना शुरू किया था। 

राष्ट्रीय एकता दिवस मनाते समय मोदी जी ने सरदार वल्लभभाई पटेल जी की प्रतिमा पर माला अर्पण की थी। उसके बाद उन्होंने रन फॉर यूनिटी की शुरुआत की थी। साथ ही साथ एकता दिवस मनाने के पीछे का कारण भी उन्होंने लोगों के सामने एक कार्यक्रम में स्पष्ट किया।

नरेंद्र मोदी जी ने सभी लोगों को इस बात से अवगत किया कि सरदार वल्लभ भाई पटेल ने हमारे देश को एकजुट करने के लिए कितने प्रयास किए हैं! 

राष्ट्रीय एकता दिवस क्यों मनाया जाता है ? 

31 अक्टूबर 1957 में सरदार वल्लभभाई पटेल का जन्म हुआ था जब हमारा देश अंग्रेजों की गुलामी कर रहा था तब सरदार वल्लभभाई पटेल ने हमारे देश को स्वतंत्रता दिलवाने के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी।

सरदार बल्लभ भाई पटेल, देश के महान स्वतंत्रता सेनानियों में से एक थे। जब हमारा देश अंग्रेजों की गुलामी से आजाद हो गया तब सरदार वल्लभभाई पटेल हमारे देश के पहले उप प्रधानमंत्री और गृह मंत्री बने थे। 

एक गृह मंत्री के रूप में सरदार वल्लभभाई पटेल ने अपनी सभी जिम्मेदारियों को बखूबी निभाया था। उन्होंने 565 रियासतों को एक साथ करने के लिए कई सारे कदम उठाये जिसके फलस्वरूप हमारे देश एक संयुक्त देश बन पाया। सरदार बल्लभ भाई पटेल को भारत की राजनीति एकता स्वीकार नहीं थी क्योंकि उन्हें पता था कि यह एकता स्थाई नहीं बल्कि कुछ समय के लिए थी। 

इसीलिए सरदार वल्लभभाई पटेल ने निरंतर प्रयास किए जिससे हमारे देश में एकता की लहर दौड़ आई। हमारे देश के एक कोने के पीछे एक बहुत बड़ा कारण सरदार बल्लभ भाई पटेल हैं। 

सरदार वल्लभभाई पटेल की इच्छाशक्ति बहुत ही ज्यादा बुलंद थी इसी कारण लोग उन्हें भारत का लौह पुरुष कह कर बुलाते हैं। सरदार वल्लभभाई पटेल ने अपने प्रयासों से हमारे देश के लिए जो प्रयत्न किए उसी कारण हमारा देश एकता की डोर में बंध पाया था।

यही कारण है कि सरदार वल्लभ भाई पटेल की जयंती पर हर साल राष्ट्रीय एकता दिवस मनाया जाता है। 

निष्कर्ष 

सरदार वल्लभ भाई पटेल ने हमारे देश को एकता के सूत्र में बांधा था। भारत व पाकिस्तान के विभाजन के बाद सरदार वल्लभभाई पटेल ने एक प्रभावी गृह मंत्री के रूप में काम करते हुए पूरे देश में एकता कायम की थी। इसीलिए हर साल उनकी जयंती पर लोग एकता दिवस मनाते हैं एकता दिवस मनाने की शुरुआत माननीय मुख्यमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने की थी। ‌

राष्ट्रीय एकता दिवस पर निबंध – 2

प्रस्तावना

प्रति वर्ष राष्ट्रीय स्तर पर 31 अक्टूबर का दिन स्वर्गीय स्वतंत्रता सेनानी बल्लभ भाई पटेल की याद में मनाया जाता है। एकता दिवस को सभी लोग विशेष तरीके से मनाते है। इस निबंध में आपको नेशनल यूनिटी डे के साथ-साथ उसके महत्व की जानकारी मिलेगी।

राष्ट्रीय एकता दिवस कैसे मनाया जाता हैं

31 अक्टूबर 2014 के दिन पहली बार राष्ट्रीय एकता दिवस मनाया गया था। राष्ट्रीय एकता दिवस का महत्व लोगों को समझाने के लिए एक कार्यक्रम आयोजित किया गया था जिसके अंतर्गत एक मैराथन भी होती है 

राष्ट्रीय एकता दिवस के दिन न सिर्फ सरदार बल्लभ भाई पटेल के महान कार्यों को याद किया जाता है बल्कि युवा पीढ़ी को भी एकता के महत्व को समझाने का प्रयत्न किया जाता है। 

राष्ट्रीय एकता दिवस के अवसर पर देश के विभिन्न स्थानों पर बड़े ही जोरो शोरो से कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। दिल्ली के पटेल चौक व पार्लियामेंट स्ट्रीट में सरदार वल्लभ भाई पटेल जी की प्रतिमा पर भी राजनैतिक सेवा करने वाले लोगों द्वारा पुष्प अर्पित किए जाते हैं। ‌

इतना ही नहीं युवाओं के लिए रन फॉर यूनिटी नामक मैराथन को भी आयोजित किया जाता है यह मैराथन देश के विभिन्न भाग गांव और शहरों में आयोजित किया जाता है।

सरकार द्वारा आयोजित किए जाने वाले रन इस मैराथन में न सिर्फ आम नागरिक बल्कि राजनेताओं व अन्य लोग भी हिस्सा लेते है। इस दौड़ को सुबह 8:30 बजे शुरू किया जाता है।

स्कूल कॉलेज एनजीओ जैसे विभिन्न शिक्षण संस्थान एवम संस्थाओं में एकता का महत्व समझाने के लिए बड़े-बड़े कार्यक्रम रखे जाते हैं और बच्चे बढ़-चढ़कर इस में भाग लेते हैं साथ ही साथ एकता दिवस और एकता से संबंधित कई महत्वपूर्ण विचार वह दूसरों को भी समझाते है।

बहुत से सरकारी कार्यालयों में यूनिटी डे के अवसर पर एक साथ एक होकर काम करने की शपथ ली जाती है। यही कारण है कि इस दिन सभी लोग एकता के रंग में रंगे जाते हैं। ‌ 

राष्ट्रीय एकता दिवस का महत्व क्या है ? 

आज हमारे देश में पर्याप्त रूप से भ्रष्टाचार है और हर क्षेत्र में लोग सिर्फ अपने बारे में ही सोचते हैं ऐसे में युवा पीढ़ी जो हमारे देश की बुनियाद हैं उन्हें एकता के सूत्र में बांधने के लिए और उनके मन में एकता की भावना को प्रज्वलित करने के लिए राष्ट्रीय एकता दिवस मनाना बहुत ज्यादा अनिवार्य है।

इस दिन को मनाने के पीछे मुख्य कारण लोगों को एकता का महत्व समझाना है ताकि वह भी एकजुट रहे और देश को आगे बढ़ाने में अपना महत्वपूर्ण योगदान दें।

देश के युवाओं को राष्ट्रीय एकता का महत्व समझाने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी ने सबका साथ और सबका विकास का स्लोगन देकर लोगों में एकता की भावना पैदा करने की कोशिश की थी। 

राष्ट्रीय एकता तब तक मुमकिन नहीं है जब तक लोगों के दिल आपस में ना जुड़ जाएं और यह तभी होगा जब एक परिवार दूसरे परिवार को अपना माने एक व्यक्ति अपने पड़ोसी को अपना माने एक दुकानदार अपने ग्राहकों को अपना माने और इस तरह करते-करते ही हमारे देश में हर तरफ एकता की लहर दौड़ेगी। 

निष्कर्ष

हालांकि सभी लोग राष्ट्रीय एकता दिवस को विशेष अंदाज में मनाते हैं, लेकिन इस बीच सभी का उद्देश्य केवल देश की राष्ट्रीयता को वापस एकजुट करना है सबके मन में केवल यही बात रहती है कि इस दिन लोग एकता के महत्व को समझें और भाईचारे के साथ हमारे देश को उन्नति के तरफ लेकर जाएं। 

नेशनल यूनिटी डे निबंध – 3 

राष्ट्रीय एकता के नाम से ही आपको यह समझ में आ जाता है कि यह दिन एकता के महत्व को समझने के लिए मनाया जाता है साथ ही साथ इस दिन सरदार वल्लभ भाई पटेल जी को श्रद्धांजलि भी अर्पित की जाती है।

सरदार वल्लभभाई पटेल के जन्मदिवस पर ही यूनिटी डे मनाने के पीछे एक बहुत बड़ा कारण है और यही आप इस निबंध में जानेंगे।

राष्ट्रीय एकता में सरदार वल्लभभाई पटेल की भूमिका

अंग्रेजो ने हमारे देश को आजाद करते समय देश को इस तरह विभाजित कर दिया था कि उसे एक कर पाना हर किसी के लिए नामुमकिन था क्योंकि एक तरफ अंग्रेजों ने जहां भारत और पाकिस्तान को दो अलग-अलग देशों में बांट दिया था वही उन्होंने बंगाल को भी पूर्व बंगाल और पश्चिम बंगाल में विभाजित कर दिया था। 

इन सभी प्रांतों के अलावा अंग्रेजों ने अन्य स्थानों को भी विभाजित कर दिया था। लेकिन यह सभी सरदार वल्लभ भाई पटेल जी के प्रयत्नों का नतीजा है कि हमारा देश विभाजित होने के बाद भी एकता के सूत्र में बंधा हुआ है। 

आजादी के बाद सरदार वल्लभभाई पटेल ने सभी विभाजित हुए राज्यों को भारतीय संघ में शामिल होने का मशवरा दिया साथ ही साथ उन्होंने सभी को मार्गदर्शन देकर अच्छे गृह मंत्री का भी फर्ज निभाया था। सरदार बल्लभ भाई पटेल ने भारत में राजनीतिक सशक्तिकरण को बढ़ाने के लिए राजनीतिक एकता पर भी ध्यान दिया था। 

15 अगस्त के दिन पूरे भारतवर्ष में तिरंगा लहराया जाता है और इसका सबसे बड़ा श्रेय सरदार वल्लभ भाई पटेल जी को ही जाता है क्योंकि उन्होंने भारत के हर प्रांत से लोगों में एकता की ज्वाला जलाई थी। 

निष्कर्ष

हमारे देश के एकजुट होने का सबसे बड़ा श्रेय स्वतंत्रता सेनानी सरदार वल्लभ भाई पटेल को ही जाता है यही कारण है कि उनके जन्म दिवस पर हर साल 31 अक्टूबर के दिन यूनिटी डे मनाया जाता है।

यह भी पढ़े

उम्मीद करते है फ्रेड्स राष्ट्रीय एकता दिवस पर निबंध Essay on National Unity Day in Hindi का यह आर्टिकल आपको पसंद आया होगा. अगर आपको इस निबंध में दी जानकारी पसंद आई हो तो अपने फ्रेड्स के साथ जरुर शेयर करें.

Leave a Comment