गौहर जान का जीवन परिचय | Gauhar Jaan Biography In Hindi

गौहर जान का जीवन परिचय | Gauhar Jaan Biography In Hindi  [songs, death, photos जानिये भारत की पहली “रिकॉर्डिंग सुपरस्टार” गौहर जान के बारे में शायद आपने नाम नहीं सुना होगा या आप इस नाम से भली भांति परिचित होंगे. गौहर सिर्फ एक नाम नहीं बल्कि संगीत की दुनिया की पहचान है. भले ही Music Industry ने गौहर जान को वो जगह नहीं दी जो उन्हें मिलनी चाहिए थी, लेकिन लोगों के दिलों में गौहर “रिकॉर्डिंग सुपरस्टार” के नाम से आज भी जिंदा है.

गौहर जान की जीवनी इतिहास गाने (Gauhar Jaan Biography In Hindi)

गौहर जान का जीवन परिचय Gauhar Jaan Biography In Hindi  [songs, death, photos]
मूल स्थानAngelina Yeoward
जन्म व जन्म स्थान26 June 1873 (आजमगढ़ उत्तरप्रदेश)
मृत्यु17 जनवरी 1930
गायन शैलीगजल ठुमरी
व्यवसायगायिका
दौर1887–1930

गौहर जान का आरंभिक जीवन व इतिहास (Early life and history of Gauhar Jaan)

आज गौहर की 149 वीं जयंती है और इस ख़ुशी में Google ने भी उन्हें याद करने के लिए एक डूडल बनाया है, जिसके आगे गौहर खड़ी है. 26 जून 1873 को जन्मी गौहर जान का जन्म एक क्रिश्चियन परिवार में हुआ था. इनका जन्म स्थान उतरप्रदेश के आजमगढ़ में हुआ था. गौहर की माँ का नाम विक्टोरिया था जो की एक अच्छी पर प्रशिक्षित डांसर और सिंगर थी और गौहर के पिता एक इंजिनियर थे.

गौहर का पहने नाम एंजेलिना था. गौहर की माँ विक्टोरिया का जब पति से तलाक हुआ तो वह अपनी 8 साल की बच्ची एंजेलिना को लेकर बनारस चली गई और वहां इस्लाम धर्म काबुल कर लिया. वहां गौहर की माँ ने अपना नाम बदलकर मलका जान रख लिया और अपनी बेटी एंजेलिना का नाम गौहर जान रख दिया.

जीवन कहानी (Life story of gaugauhar jaan)

संगीत के दुनिया में अपना नाम बुलंद करने वाली गौहर जान का महज 13 साल की उम्र में शोषण (दुष्कर्म) हुआ था. जब उनके साथ दुष्कर्म हुआ तो गौहर पूरी तरह से टूट चुकी थी और इस सदमे से उबरने में संगीत ने उनका खूब साथ दिया और इसी तरह वे संगीत की दुनिया की में अपनी हुकूमत जमाने में कामयाब हुयी.

गौहर की शिक्षा

गौहर के माता-पिता के तलाक के बाद जब उनकी मां गौहर को लेकर 1883 में कलकत्ता आ गई थी तब गौहरऔर इनकी मां दोनों को ही अपनी कला का प्रदर्शन करने का बहुत ही अच्छा मौका मिला था।

गौहर और उनकी मां ने कलकत्ता के महान गायक कालू उस्ताद जिन्हें काले खान के नाम से जाना जाता है उनसे शिक्षा लेनी शुरू कर दी थी।

जान को कत्थक की शिक्षा अली बख्श से मिली थी। वहीं गौहर जान ने गायक और नृत्य की शिक्षा विभिन्न गुरुओं से ली थी।

गौहर ने संगीत और नृत्य की शिक्षा नागपुर के उस्ताद वजीर खान, कलकत्ता के मशहूर प्यारे साहब और लखनऊ के महाराज बिंदादीन से शिक्षा ग्रहण की थी। ‌ गौहर जान ने न सिर्फ उर्दू संगीत की शिक्षा ली थी बल्कि उन्होंने बंगाली कीर्तन की भी शिक्षा ली थी गौहर जान ने ध्रुपद और धम्मर से बंगाली कीर्तन सीखा था।

1887 में जब गौहर की उम्र मात्र 14 साल थी तब महाराजा उनके नृत्य के कायल हो गए थे। इस कारण उन्होंने गौहर जान को अपने दरबार की राज गायिका और राज नर्तकी बना दिया था।

संगीत और नृत्य में पारंगत शिक्षकों से शिक्षा लेने के बाद गौहर खयाल,ध्रुपद और ठुमरी में निपुण हो गई थी। साथ ही साथ जान संगीत में भी निपुण थी। यही कारण है कि भातखंडे ने गौहर को भारत का बेस्ट फीमेल खयाल सिंगर का खिताब दिया था।

गौहर का निजी जीवन

जान की निजी जिंदगी काफी दिलचस्प रही है। तथ्यों के अनुसार गौहर जान के जीवन में तीन पुरुषों का नाम शामिल था। गौहर का सबसे ज्यादा गहरा सम्बन्ध जमींदार निमाई सेन के साथ था। वे गौहर खान को महंगे तोहफे दिए करते थे।

इसके साथ ही गौहर खान का उन्हीं के साथ काम करने वाले ‌सैयद गुलाम के साथ रिश्ता बताया जाता है। सैयद गुलाम तबला बजाते थे! शुरुआत में तो गौहर और शहद गुलाम के बीच सब सही रहा लेकिन जब जान को उनकी शादीशुदा होने की बात पता चली तो उनके रिश्ते में खटास आ गई।

इन सभी के साथ-साथ जान का रिश्ता अमृत वागल नायक के साथ भी जोड़ा जाता है। अमृत वागल नायक गुजराती स्टेज एक्टर थे। कई सारे लोगों का यह कहना है कि गायकी और नृत्य में निपुण होने के कारण पुरुष आसानी से गौहर के आकर्षण से प्रभावित हो जाते थे।

भारत का पहला रिकॉर्डिंग सत्र

जान प्रथम भारतीय महिला थी जिनकी रिकॉर्डिंग की गई थी, गौहर जान नृत्य और संगीत दोनों ही कला में निपुण थी क्योंकि बचपन से ही इन कलाओं को सबसे अच्छे गुरुओं से सीखा था।

आजादी से पहले आपने प्रतिभा और कला के दम पर उन्होंने जो पहचान बनाई थी वह काबिले तारीफ है लेकिन यह बात अलग है कि आज भी दुनिया में बहुत से लोग हैं जो इनके नाम से अनजान है। आपकी जानकारी के लिए बता दें पहले के समय में जान की आवाज को ग्रामोफोन पर लोग बहुत ही ज्यादा पसंद करते थे।

गाने भजन एवं रिकॉर्ड (gauhar jaan Songs Mp3 Bhajan Download)

गौहर जान ने 20 भाषाओँ में ठुमरी से लेकर भजन तक गाये है. उन्होंने अपने जीवनकाल में 600 गीत रिकॉर्ड किये थे. जान पहली ऐसी गायिका थी जिसके गाने ग्रामाफोन कंपनी ने रिकॉर्ड किये थे.

उस वक्त उन्हें गाने के लिए करीब 3000 रूपये दिए गए थे. उन्हें बहुत सारी सभाओं में बुलाया जाता था और गौहर जान उस वक्त संगीत की दुनिया का बड़ा नाम थी, जिसके पीछे लोग पागल थे.

Indian singer Gauhar Jaan Facts And Information

उनकी ख़ास बात यह थी की गौहर जान अपनी हर रिकॉर्डिंग के लिए नए कपड़े और गहने पहनकर आती थी. लेकिन समय के बदलने के साथ अपने आखिरी दौर में गौहर जान अकेली रह गयी.

यहां तक की उनके रिश्तेदार तक उनकी सुध लेने नहीं आये. कहते है ना जब वक्त साथ देता है तो बहुत देता है और जब साथ छोड़ता है तो अपने भी पराये हो जाते है और कुछ ऐसा ही गौहर जान के साथ हुआ.

गौहर ने कोलकता शहर में जब अपनी पहली परफोर्मेंस दी तब उन्हें “पहली डांसिंग गर्ल” का टाइटल मिला था. इस तरह से उनकी लोकप्रियता बढती गई और गौहर जान इतनी लोकप्रिय हो गई की उनकी फोटो माचिस और पोस्टकार्ड पर छपने लगी.

गौहर अपने समय की प्रसिद्ध गायिका थी और उनका उठना-बैठना बड़े-बड़े सेठों और साहूकारों के यहां होता था. गौहर जान हर बैठक का 2000-3000 रूपये लेती थी जो की उस वक्त बहुत ज्यादा रकम मानी जाती थी. गौहर जान के पास उस वक्त भी महंगी-महंगी गाड़िया थी और बहुत सारे नए कपड़े और आभूषण भी थे.

अगर आप भी उस जमाने की लोकप्रिय गायिका के गानों को सुनना चाहते है तो YouTube पर से इनके गानों को सुन सकते है और जान के बारे में और अधिक जान सकते है.

आखिर में इतना ही कहना चाहूँगा की प्रसिद्ध और पैसा बिना मेहनत के नहीं मिलता और बहुत कुछ पाने के लिए बहुत कुछ खोना भी पड़ता है और गौहर ने इसी बलबूते पर सब कुछ हासिल किया और संगीत की दुनिया में अपना नाम अमर किया.

यह भी पढ़े

उम्मीद करता हूँ दोस्तों गौहर जान का जीवन परिचय Gauhar Jaan Biography In Hindi  [songs, death, photos] का यह आर्टिकल आपको पसंद आया होगा, अगर इस जीवनी इतिहास में दी जानकारी पसंद आई हो तो अपने फ्रेड्स के साथ जरुर शेयर करें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *