Gmail Kya Hai | जीमेल आईडी या एड्रेस क्या होता है

What Is Gmail Kya Hai | जीमेल आईडी (ID) या एड्रेस (Address) क्या होता है | Email Aur Gmail Mein Kya Antar

जीमेल हम सभी के साथ अपनी पहचान से जुड़ चुकी चीज हैं, मगर हमने गौर करके इसके विषय में कभी नहीं जाना है कि आखिर यह क्या है ? इस आर्टिकल में हम कम से कम शब्दों में इसको समझने का प्रयास करेंगे कि Gmail Kya Hai आप हमारे साथ अंत तक बने रहे. जरुर आज हम कुछ नया और रोचक सीखने में कामयाब होंगे. पूर्व में हमने ईमेल पर एक हिंदी निबंध भी लिखा था आप इसे भी पढ़ सकते है [ ईमेल पर निबंध अर्थ विशेषता लाभ हानि ]

मूल रूप से यह गूगल का बनाया गया एक साफ्टवेयर है जिसकी मदद से एक व्यक्ति किसी अन्य इंसान के साथ सम्पर्क स्थापित कर सकता हैं. यह कार्य भले ही सोशल मिडिया के किसी प्लेटफार्म के जरिये भी हो सकता है या फोन कॉल या व्हात्सप्प के जरिये भी सम्भव हैं. मगर व्यावसायिक कार्यों दफ्तर, स्कूल या किसी संस्थान व प्रोफेशनल के साथ सम्पर्क स्थापित करने के लिए व्यक्तिगत डाटा शेयर किए बगैर Gmail की मदद से संवाद बनाना अधिक लोकप्रिय तरीका हैं.

जीमेल आईडी या एड्रेस क्या होता है

Gmail Kya Hai जीमेल आईडी या एड्रेस क्या होता है

Gmail क्या है (What is Gmail in Hindi)

लेख की शुरुआत आपके एक कन्फ्यूजन या अज्ञानता के खात्मे से करते हैं. जो यह है कि जिस तरह सर्च इंजन का अर्थ गूगल नहीं, टूथपेस्ट का अर्थ कोलगेट नहीं है उसी भांति ईमेल का अर्थ जीमेल नहीं हैं. ये अलग अलग सर्विस रही है मगर ऊपर बताएं ब्रांड इतने बड़े हो गये कि वे उसका पर्याय बन गये.

Email का फुल फॉर्म होता है इलेक्ट्रॉनिक मेल, सरल शब्दों में कहे तो Internet के माध्यम से भेजे जाने वाले संदेश. इसकी शुरुआत अमेरिका में ही हुई. दावा किया जाता है कि इसका अस्तित्व 1970 से हैं. मगर वर्ष 1982 में एक अमेरिकी भारतीय जिनका नाम वीए शिवा अय्यदुरई ने आज की ईमेल की संकल्पना को साकार किया, इस कारण शिवा को Email का आविष्कार भी कहा जाता हैं.

Telegram Group Join Now

सॉफ्टवेयरGmail
निर्मातापॉल बुचहाइट
लॉन्च की तारीख1 अप्रैल 2004
प्रकारPOP3, IMAP, E-mail, webmail
अन्य नामगूगल मेल
कोड भाषाजावा, सी++, जावास्क्रिप्ट
यूजर्स150 करोड़
सेवा आयु15 वर्ष
सेवा स्वरूप निशुल्क, सशुल्क

Email क्या होता है

आपको भ्रमित होने की आवश्यकता नहीं है अभी भी हम ईमेल के कांसेप्ट पर चर्चा कर रहे हैं. अगर इसको थोड़ा और आसान करके समझे तो यह डाक सर्विस का हुबहू स्वरूप है बस स्वरूप को बदला गया हैं. जिस तरह पहले किसी संदेश को अन्य व्यक्ति तक पहुचाने के लिए उसके पते को दर्ज कर पोस्ट ऑफिस में डाल दिया जाता था.

ठीक यही काम आज के ईमेल कर रहे हैं. एक ईमेल पता व्यक्ति की पहचान है जैसे कि आपके घर का पता डाक द्वारा मेल पहुचाने में मदद किया करता था. उसी तरह एक पता जैसे [email protected] आपके कंप्यूटर का पता है अगर किसी इन्सान को आप तक कोई सामग्री पहचानी है तो वह इस पते को दर्ज कर आप तक इच्छित वस्तु या संदेश भेज सकता हैं.

आज तक दुनिया में 4.3 बिलियन ईमेल यूजर्स है तथा वर्ष 2025 तक सक्रिय उपयोगकर्ताओं की संख्या 4.6 बिलियन तक जाने का अनुमान हैं. इन Email यूजर्स में 29.5% के साथ दूसरी सबसे बड़ी हिस्सेदारी जीमेल की हैं. पहले पायदान पर Apple है जिसका कुल ईमेल यूजर्स में हिस्सा 57.2% हैं. इसके अतिरिक्त अन्य मेल सर्विस देने वाली कम्पनियां याहू तथा आउटलुक भी हैं.

Email सर्विस के द्वारा सुदूर बैठे व्यक्ति को हम सामान्य टेक्स्ट संदेश, छवि, दस्तावेज आदि बड़ी सरलता के साथ भेज सकते हैं. आजकल अपने मोबाइल कॉन्टेक्ट्स बैकअप व अन्य स्टोरेज को भी जीमेल की मदद से गूगल ड्राइव में सेव करके सुरक्षित रख सकते हैं. अब हम आगे बढ़ते है तथा थोड़ा गूगल की सर्विस जीमेल के विषय में जानते हैं.

जीमेल (G-mail) क्या है, और कैसे काम करता हैं?

1 अप्रैल 2004 को अप्रैल फूल के दिन गूगल ने अपनी ईमेल सर्विस को Gmail के साथ शुरू किया. मगर अगले पांच वर्षों तक Gmail पर प्रयोग चलते रहे. आखिर 7 जुलाई 2009 के दिन इसे सभी के लिए लौन्च कर दिया गया. यह पूर्णतया निशुल्क सर्विस है आजकल तो गूगल नये मोबाइल निर्माता कम्पनियों के साथ साठ गाँठ कर इसे इन्बिल्ड एप्प के रूप में शामिल करवा लेता हैं.

एक जमाना आपको याद रहा होगा, जब कीपैड वाले मोबाइल फोन में संदेश बोक्स भर जाने के कारण नहीं संदेश नहीं आ पाते थे, अतः हमें डिलीट करके फिर नये संदेश के लिए स्टोरेज तैयार करना पड़ता था. मगर गूगल ने अपनी ईमेल सर्विस में इस कमी को दूर करने के लिए 1GB के स्टोरेज के साथ शुरुआत की, वर्तमान में जीमेल के डाटा स्टोरेज की क्षमता 15 जीबी तक निशुल्क है जो आम व्यक्ति के असीमित उपयोग के लिए बहुत अधिक हैं.

याहू! मेल और हॉटमेल जैसी लोकप्रिय और बड़ी ईमेल सर्विस देने वाली कम्पनियों को पीछे धकेल अग्रणी स्थान पाने वाला Gmail आज दुनिया की 72 भाषाओं में उपलब्ध हैं तथा इसके बारे में एक तथ्य यह भी है कि एक Gmail यूजर्स के पास औसतन 1.7 Gmail Account अथवा ID होती हैं.

Gmail Address क्या होता है और कैसे दिखता है?

अब तक तक ईमेल सर्विस क्या है तथा इनके एक सेक्शन के रूप में जीमेल के बारे में संक्षिप्त में जाना हैं, अब हम एड्रेस को जानने का प्रयास करेंगे इसके लिए थोड़ा पीछे जाएंगे जहाँ हमने एक डाक पते की बात की थी, वह कुछ इस तरह हुआ करता था. (शास्त्री कोलोनी मकान न 8 पंचायत झुमरी पिन कोड 23231)

GMAIL ADDRESS में व्यक्ति विशेष का पता इस तरह बनता हैं जैसे मेरा नाम सोनू गोयल है तो मैं कुछ इस तरह बनाऊंगा [email protected] या [email protected] gmail.com कई बार हमारे नाम के किसी अन्य व्यक्ति ने वह पता रजिस्टर कर लिया होता है ऐसे में हमें थोड़ा फेर बदल करना होता है जैसे मूल नाम न मिलने पर sonu123goyal @gmail.com या [email protected] आदि.

नीचे दी गई फोटो को ध्यान से देखिए यह हमारी वेबसाइट के सम्पर्क पेज की तस्वीर हैं.

Gmail Address क्या होता है और कैसे दिखता है?

यहाँ आप क्लियर देख सकते है हमने लिखा है आप हमसे सम्पर्क करने के लिए [email protected] इस जीमेल पर ईमेल (इलेक्ट्रॉनिक मेल) कर सकते हैं. यानी एक व्यक्ति हमें कुछ तस्वीर फोटो या टेक्स्ट भेजना चाहता है या कोई शिकायत लिखना चाहता है तो वह अपने GMAIL एप्प में जाकर न्यू मेल पर क्लिक एक पत्र नुमा संदेश बोक्स में सामग्री लिखकर प्राप्तकर्ता के पते के स्थान पर यह ([email protected]) एड्रेस लिखकर भेजेगा तो हमें वह संदेश कुछ ही सेकन्ड्स में मिल जाएगा.

Email Address के उदाहरण

Gmail Address के फायदे व नुकसान

कहने को तो जीमेल एक छोटा सा टूल है जो संचार माध्यम के रूप में हम सभी का साथी है मगर यह दोधारी तलवार की तरह ही हैं. कई बार इसके अनगनित फायदों पर एक छोटी भूल जीवन भर पछताने का कारण बन सकती हैं.

आरामदायक संदेश वाहक, विस्तृत स्टोरेज, बैकअप सुविधा, प्रोफेसनल पता, निशुल्क सेवाएं, एड्रोइड मोबाइल में हर साईट एप्प में एक्सेस करने में मददगार के रूप में Gmail हमारी बहुत हेल्प करती हैं.

जब कभी हम नया फोन लेते और पुराने फोन से डेटा ट्रान्सफर की बात आती है तो अधिकतर लोग गूगल ड्राइव में जीमेल की मदद से फोटो, विडियो, दस्तावेज, कांटेक्ट व्हात्सप्प चैट, पासवर्ड्स आदि का बैकअप बना लेते है तथा नये फोन में रिस्टोर कर लेते हैं, इस तरह एक क्लिक में यह आपकी दुनियाभर की मेहनत को कम कर देती हैं.

इसकी डार्क साइड बहुत परेशान करने वाली भी हैं कुछ वर्ष पहले gmail के मिलियन यूजर्स के पासवर्ड चोरी हो गये थे अर्थात जीमेल हैक हो गये थे, ऐसे में सोचिये उनकी कितनी निजी जानकारियाँ और चीजे दुरूपयोग की जा सकती थी. हालांकि गूगल ने इसके सेफ्टी मेजर्स पर काफी काम किया है और टू स्टेप औथेन्टीकेट के बाद सिस्टम काफी सिक्योर हुआ हैं.

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Q. किन दो देशों में जीमेल को गूगल मेल के नाम से जानते है?

Ans: जर्मनी और यूके

Q. जीमेल क्लाउड स्टोरेज की क्षमता कितनी हैं?

Ans: इसकी क्षमता को शुल्क अदा कर सुविधानुसार बढ़ाया जा सकता हैं, गूगल 15 जीबी तक क्लाउड स्टोरेज निशुल्क प्रदान करती हैं.

यह भी पढ़े

मैं उम्मीद करता हूँ आज के शीर्षक “Gmail Kya Hai | जीमेल आईडी या एड्रेस क्या होता है ” का यह आर्टिकल आपको पसंद आया होगा. इस लेख के माध्यम से हमने गूगल की निशुल्क सर्विस जीमेल जिन्हें हम रोज किसी न किसी रूप में उपयोग में लेते है उसके बारे में जाना हैं.

यह जानकारी आपको कैसी लगी, कमेंट कर अपनी प्रतिक्रिया अवश्य देवे, रोजाना हम ऐसे ही टेक्नोलॉजी से जुड़े किसी टॉपिक के साथ आपसे मिलेगे. आप हमसे टेलीग्राम चैनल पर भी जुड़ सकते है जिसकी लिंक ऊपर दी हैं. धन्यवाद

Leave a Comment