हरभजन सिंह का जीवन परिचय | Harbhajan Singh Biography In Hindi

हरभजन सिंह का जीवन परिचय | Harbhajan Singh Biography In Hindi भारत के क्रिकेट जगत में आज तक कई सारे ऐसे क्रिकेट खिलाड़ियों ने विशेष योगदान दिया है जिनके माध्यम से देश को फायदा हुआ है| क्रिकेट इतिहास के हर दौर में कोई न कोई ऐसा खिलाड़ी आया है जिसने अपनी काबिलियत को साबित किया है और निश्चित रूप से आगे बढ़ने  का जज्बा युवा वर्ग के अंदर डाला है|

हरभजन सिंह का जीवन परिचय | Harbhajan Singh Biography In Hindi

हरभजन सिंह का जीवन परिचय Harbhajan Singh Biography In Hindi

आज हम आपको जिस बेहतरीन क्रिकेटर के बारे में जानकारी देने वाले हैं, वह है श्री हरभजन सिंह|  जिन्होंने क्रिकेट जगत में अपनी शानदार गेंदबाजी से विशेष योगदान दिया है और इस वजह से इन्हें भारतीय टीम के ‘’ऑफ स्पिनर’’ के नाम से भी जाना जाता है।

आज हम आपको हर भजन सिंह से जुड़ी कुछ  महत्वपूर्ण जानकारी देंगे ताकि आपको भी उनके जीवन से जुड़ी घटनाओं के बारे में जानकारी प्राप्त हो सके|

पूरा नामहर भजन सिंह प्लाहा
निकनेमभज्जी, टर्बनेटर
पेशाक्रिकेटर
घरेलू टीम/राज्यपंजाब
जन्मतिथि3 जुलाई 1980
जन्मस्थानजालंधर पंजाब
घर्मसिक्ख
माता का नामअवतार कौर
पिता का नामसरदार सरदेव सिंह प्लाहा
पसंदीदा क्रिकेटरसचिन तेंदुलकर

जन्म

ऑफ स्पिनर भज्जी का जन्म 3 जुलाई 1980 को पंजाब के जालंधर शहर में हुआ था|  यह  एक सिख  समुदाय से आते हैं, उनके पिता का नाम सहदेव सिंह  तथा माता का नाम  अवतार कौर है|

हर भजन सिंह की पांच बहने हैं|  उनके पिताजी एक बिजनेसमैन थे और  हर भजन सिंह भी उनके बिजनेस में कभी कभी हाथ बटा दिया करते थे|

शिक्षा

हर भजन सिंह ने अपनी शुरुआती शिक्षा जय हिंद मॉडल स्कूल से की थी|  जब वे 12 से 13 वर्ष के हुए थे तब उन्होंने क्रिकेट एकेडमी ज्वाइन कर ली थी|  और जिस वजह से उन्होंने अपने घर से दूर रहना भी स्वीकार किया था।

Telegram Group Join Now

हरभजन सिंह की शादी 

भज्जी अपनी पारिवारिक जिम्मेदारियों की वजह से अपनी शादी को लगातार टालते जा  रहे थे  और उसके बाद 19 अक्टूबर 2015 को उन्होंने गीता बसरा से शादी की।

गीता बसरा एक अभिनेत्री हैं और अब  हरभजन सिंह की एक बेटी जिसका  नाम  हिनाया हीर  है, जिसका जन्म 27 जुलाई 2016 को हुआ। इसके अलावा हाल में ही हरभजन सिंह के घर एक बेटे का भी जन्म हुआ है जिसका नाम  जोवन वीर सिंह  है|

हरभजन सिंह के पिता का सपना था क्रिकेटर बनाना

ऐसा माना जाता है कि महान स्पिनर भज्जी क्रिकेट में ज्यादा दिलचस्पी नहीं थी लेकिन उनके पिताजी ने यह सपना देखा था कि उनका बेटा भी कभी क्रिकेटर बने और इसी सपने को पूरा करने के लिए हरभजन सिंह ने क्रिकेट एकेडमी में रहकर ही ट्रेनिंग पूरी की और उनकी मेहनत को देखते हुए कोच देवेंद्र को भी अच्छा महसूस होता था।

 और इसीलिए उन्होंने हरभजन सिंह को एक बेहतरीन गेंदबाजी  टिप  देने लगे जिसके बाद से ही हरभजन सिंह के अंदर एक बेहतरीन गेंदबाज बनने का जज्बा देखा गया और उन्होंने लगातार संघर्ष करते हुए प्रैक्टिस किया जिसके बाद उन्होंने अपना स्थान  भारतीय  क्रिकेट टीम मैं सुनिश्चित किया था|

हरभजन सिंह की अंडर-19 पारी की शुरुआत

जब हरभजन सिंह अपने क्रिकेट करियर को लेकर कड़ी मशक्कत कर रहे थे और साथ ही साथ उनका संघर्ष चल रहा था उस समय उन्हें अंडर-19 की टीम में शामिल किया गया जहां  उनकी मेहनत रंग लाई और उन्होंने बहुत ही अच्छा प्रदर्शन किया। 

हर भजन सिंह ने अपने पहले ही मैच में बहुत ही बेहतरीन गेंदबाजी की और 7 ओवर में 19 रन देकर एक विकेट भी ले लिया था। इसके बाद से ही हरभजन सिंह ने लगातार अच्छा प्रदर्शन किया और जल्द ही उन्हें पंजाब की टीम में खेलने का मौका मिला|

यहां भी उन्होंने अपना बेहतरीन प्रदर्शन दिया और जल्द ही उन्हें अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में खेलने का सुनहरा अवसर प्राप्त हुआ|

हरभजन सिंह का अंतरराष्ट्रीय सफर

हर भजन सिंह को अंतरराष्ट्रीय मैच में खेलने का मौका 25 मार्च 1998 को सबसे पहले प्राप्त हुआ, जिसे  उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ खेला था|  हरभजन सिंह ने भी इस मैच के लिए बहुत मेहनत  की थी,  इसके बावजूद उन्हें सफलता हासिल नहीं हुई  जिसकी उन्हें तलाश थी| 

 लेकिन इसके बाद वाले मैचों में हरभजन सिंह ने अपनी बेहतरीन गेंदबाजी की बदौलत कई बार कठिन परिस्थितियों में मैच जीताए तथा भारतीय क्रिकेट टीम में अपनी जगह पक्की की| इसके अलावा उन्होंने वर्ल्ड कप 2007 और 2011 में भी महत्वपूर्ण योगदान दिया था|

एकदिवसीय करियर 

हर भजन सिंह ने अपने हर मैच में बहुत ही अच्छा उदाहरण पेश किया था,जब  उन्होंने  बेहतरीन बल्लेबाजी करते हुए देश का नाम रोशन किया था|  उन्होंने अब तक 236 एकदिवसीय मैच खेले हैं जहां पर उन्होंने लगभग 270 विकेट  लिए  हैं और 1237 रनों का योगदान भी दिया है। 

सामान्य रूप से देखा जाता था कि  हर मैच के लिए हरभजन सिंह काफी मशक्कत किया करते थे और जिसका नतीजा उनके सामने होता था, जब भारतीय टीम किसी भी मैच को जीत रही  होती थी| 

टेस्ट करियर 

हर भजन सिंह ने अब तक 130 टेस्ट मैच खेले हैं, जहां उन्होंने 417 विकेट लिए है, साथ ही साथ दो शतक भी उन्होंने लगाए है। इसके अलावा उन्होंने नौ अर्धशतक लगाते हुए लगभग 2224 रन बनाए हैं, जिसे  एक  उपलब्धि के रूप में जाना जाता है|

T20 करियर

हर भजन सिंह ने टी-20 क्रिकेट में भी बेहतरीन योगदान दिया है लेकिन उन्हें उसमें इतनी ज्यादा सफलता हासिल नहीं हुई जिस सफलता की गुजारिश वे करते हैं|

उन्होंने लगभग 28 मैच खेले हैं जिनमें से 25 विकेट ही ले पाए हैं हालांकि  टी-20 मैच में भी उतनी ही मेहनत करते हैं लेकिन  बहुत ज्यादा विकेट हासिल कर पाने में नाकामयाब साबित हुए हैं|

हरभजन सिंह का आईपीएल करियर 

हर भजन सिंह आईपीएल मैचों में मुंबई इंडियंस के लिए खेलते आए हैं जहां उन्होंने शानदार प्रदर्शन किया है और लगभग 10 सालों तक मुंबई इंडियंस के लिए खेलते  आए थे। आईपीएल मैचों में उन्होंने लगभग 136 मैच खेले हैं जिसमें 127 विकेट हासिल की है| 

 इसके अलावा उन्होंने  चेन्नई सुपर किंग की तरफ से 24 मैच खेले हैं जिसमें उन्होंने 23 विकेट हासिल किए हैं इस प्रकार से इन्होंने आईपीएल मैच में लगभग 150 विकेट हासिल किए हैं|  

हरभजन सिंह के मुख्य  कीर्तिमान

  1. भज्जी की सफलता उनके प्रदर्शन से ही पता चल जाती है, जहां उन्होंने पांच बार ‘’मैन ऑफ द मैच’’ और एक बार ‘’मैन ऑफ द सीरीज’’ का खिताब हासिल किया है|
  2.  इसके अलावा हरभजन सिंह  ऐसे गेंदबाज हैं जिन्होंने सबसे पहले हैट्रिक  ली थी जिसे उन्होंने 2001 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ किया था|
  3.  2003 में हरभजन सिंह को ‘’अर्जुन पुरस्कार’’ से नवाजा गया था|
  4.  हरभजन सिंह को 2009 में ‘’पद्मश्री पुरस्कार’’ से भी सम्मानित किया गया है|
  5. इसके अलावा  2003 में उन्हें क्रिकेट विश्व कप  का ‘’प्लेयर ऑफ द टूर्नामेंट’’  घोषित किया गया था|
  6.  सन 2010 में एशियाई पुरस्कार समारोह में उन्हें  ‘’पीपुल्स च्वाइस अवार्ड’’ दिया गया था|
  7.  साथ ही साथ 1997 में उन्हें ‘’राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार’’ से भी सम्मानित किया गया है|

हरभजन सिंह के मुख्य विवाद 

भले ही हरभजन को एक बेहतरीन बल्लेबाज के रूप में जाना जाता हो लेकिन उनके साथ विवादों का नाता बना रहा है। वर्ष 2005 में  जब सौरव गांगुली और कोच ग्रेग चैपल के बीच  कुछ कहासुनी हुई थी उसके बाद हर भजन सिंह ने गांगुली का साथ दिया था और उन्होंने ग्रेग चैपल के खिलाफ बयान दिया था कि  कोच ग्रेग चैपल  टीम के सदस्यों को असुरक्षा की भावना के साथ रखते हैं।

 इसके अलावा हरभजन के द्वारा ऑस्ट्रेलिया के  क्रिकेटर एंड्रयू साइमंड्स को नस्लीय टिप्पणी करने के आरोप में सजा दिया गया था| साथ ही साथ उन्होंने  ‘’बंदर’’ शब्द का इस्तेमाल किया था|

 2008 के आईपीएल सीजन में जब उन्होंने   श्रीसंत को थप्पड़ मारा था उस समय विवाद काफी गहरा गया था और इस विवाद के चलते उन पर न सिर्फ मैच फीस का जुर्माना किया गया था बल्कि उन्हें  कुछ मैचों से निलंबित भी कर दिया  गया था|

रोचक तथ्य 

हरभजन को एक बेहतरीन क्रिकेटर के रूप में जाना है लेकिन आज हम आपको इनसे जुड़े कुछ रोचक तथ्यों के बारे में भी जानकारी देने वाले हैं–

  1. हरभजन को अपनी मां के हाथ के बनाए आलू के पराठे सबसे ज्यादा पसंद आते हैं|
  2. भज्जी को 2002 में पंजाब पुलिस की तरफ से डीएसपी के पद के लिए पेशकश की गई थी|
  3. जब उनके पिता की मृत्यु हो चुकी थी, तब उन्होंने  क्रिकेट छोड़कर ट्रक चलाने के ऊपर विचार किया था हालांकि इस विचार को उन्होंने त्याग दिया और क्रिकेटर का ही विकल्प चुना था|
  4.  उन्होंने 2008 में एक डांस रिऐलिटी शो में हिस्सा लिया था जिसका नाम ‘’एक हसीना एक खिलाड़ी’’ था और इसमें उनका साथ अभिनेत्री मोना सिंह ने दिया था|

हरभजन सिंह है सोशल मीडिया पर एक्टिव 

हरभजन अब तक मीडिया में काफी एक्टिव नजर आते रहे हैं, जहां उनके इंस्टाग्राम और ट्विटर पर कई सारे लोग  फॉलो करते हैं, जो उनकी फोटो पर कमेंट करते नजर आते हैं| इसके अलावा उनके प्रशंसकों को सोशल मीडिया के द्वारा जुड़े रहना पसंद आता है और इसमें भी लगातार अपना रिएक्शन भी देते हैं| 

हरभजन सिंह का  नेटवर्थ

हरभजन ने अपने क्रिकेट करियर से बहुत ही अच्छी कमाई की है इसके अलावा उनके पास कुछ ब्रांडों का भी समर्थन प्राप्त है इसकी बदौलत  अब तक लगभग ₹70  करोड़  कुल संपत्ति  बताई जा रही है|  उनके पास चंडीगढ़ के अलावा मुंबई में भी कुछ संपत्ति है,  जिसका वे समय-समय पर उपयोग करते रहते हैं|

हरभजन सिंह की मुख्य गाड़ियां 

भज्जी कार के शौकीन माने जाते हैं| ऐसे में उनके पास हमर 4×4  के साथ-साथ एसयूवी,  ऑडि 7  और बीएमडब्ल्यू  कार उपलब्ध है| 

हरभजन सिंह का रिटायरमेंट 

हाल ही में 24 दिसंबर 2021 को हरभजन सिंह  ने  अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट जगत को अलविदा कहते हुए सन्यास लेने की घोषणा की है,  ऐसे में उम्मीद की जा रही है कि आगे चलकर  वे  अपने अनुभव और ज्ञान को देश के युवाओं के साथ सांझा कर क्रिकेट जगत में अपनी ही तरह देश को शानदार खिलाड़ी दे सके।

यह भी पढ़े

इस प्रकार  से आज हमने आपको हरभजन सिंह के बारे में  संपूर्ण जानकारी दी है जिसके माध्यम से आप महान क्रिकेटर भज्जी के बारे में जानकारी ले सकते हैं|

एक मध्यम वर्गीय परिवार से आने वाले इस गेंदबाज ने आज तक भारतीय क्रिकेट को एक नई ऊंचाइयां प्रदान की है साथ ही साथ युवा वर्ग के लिए नया रास्ता खोला है ताकि युवा वर्ग भी आगे बढ़कर क्रिकेट  जगत में नाम रोशन कर सकें और देश के नाम को आगे बढ़ा  सके|

इस लेख के माध्यम से हमने जाना कि हरभजन सिंह की जिंदगी में भी कई सारे संघर्ष और  विवाद आए हैं और उसके बावजूद भी उन्होंने खुद को साबित किया है और निरंतर आगे बढ़ते चले गए हैं|  ऐसे में  युवा वर्ग के लिए एक संदेश है कि तमाम विवादों और समस्याओं के बावजूद  जिंदगी  को अच्छा बनाते हुए आगे बढ़ा जा सकता है|

 उम्मीद करते हैं आपको हरभजन सिंह का जीवन परिचय Harbhajan Singh Biography In Hindi ये लेख पसंद आएगा, इसे अंत तक पढ़ने के लिए बहुत-बहुत धन्यवाद| 

Leave a Comment