Karak Vibhakti Sanskrit Questions कारक विभक्ति संस्कृत व्याकरण | Reet Sanskrit Mock Test | Reet Level 1 Online Test Level 2 Practice Series Questions Answer

Karak Vibhakti Sanskrit Questions कारक विभक्ति संस्कृत व्याकरण | Reet Sanskrit Mock Test | Reet Level 1 Online Test Level 2 Practice Series Questions Answer: नमस्कार दोस्तों आज हमारी संस्कृत की व्याकरण की तीसरी टेस्ट सीरिज हैं. कारक और विभक्ति प्रकरण के महत्वपूर्ण प्रश्नों पर आधारित यह क्विज रीट तथा अन्य शिक्षक भर्ती परीक्षाओं की तैयारी करने वालों के लिए मददगार होगी. इस प्रश्नोत्तरी में 50 सबसे महत्वपूर्ण प्रश्नउत्तर दिए गये हैं. जिनका अभ्यास कर आप अपने प्रयास का परिणाम भी अंतिम पेज पर देख सकते हैं. (रोजाना हमारी क्विज में भाग लेने के लिए इस टेलीग्राम ग्रुप से जुड़े)

Karak Vibhakti Sanskrit Questions कारक विभक्ति संस्कृत व्याकरण | Reet Sanskrit Mock Test | Reet Level 1 Online Test Level 2 Practice Series Questions Answer

1. नमः इति योगे कि नामोदाहरणं समीचीन अस्ति?

 
 
 
 

2. स: चोराद विभेति में कारक हैं.

 
 
 
 

3. धावतः अश्वात पतति में कारक हैं.

 
 
 
 

4. दान देने के प्रसंग में विभक्ति होती हैं.

 
 
 
 

5. बलिं याचते वसुधाम अत्र वसुधाम पदे विभक्ति अस्ति.

 
 
 
 

6. अंतरा-अन्तरेण योग में कौनसी विभक्ति

 
 
 
 

7. कारक: इत्यत्रा प्रकृति प्रत्यय:

 
 
 
 

8. येनाङ्विकार : सूत्र से विभक्ति होती हैं.

 
 
 
 

9. हरि:……………………(बैकुण्ठ) अनुवसति. रिक्त स्थान में क्या आएगा.

 
 
 
 

10. क्रुध आदि धातुओं के प्रयोग में जिसकी तरफ क्रोध किया जावे उसकी संज्ञा होगी.

 
 
 
 

11. लिंड्गमात्र में प्रथमा विभक्ति का उदाहरण हैं.

 
 
 
 

12. अष्टाध्यायी में क्रम में पहला कारक कौनसा हैं.

 
 
 
 

13. उपरि के योग में विभक्ति होती हैं.

 
 
 
 

14. बाणेन हतः यहाँ पर बाण शब्द की संज्ञा हुई हैं.

 
 
 
 

15. षष्ठी का उदाहरण नहीं हैं.

 
 
 
 

16. सुरेश: क्षीरनिधिं मथ्नाति वाक्य में अकथित कर्म हैं.

 
 
 
 

17. सम्प्रदान में विभक्ति होती हैं.

 
 
 
 

18. सम्बोधन में कौनसी विभक्ति होती हैं.

 
 
 
 

19. हरये नमः इत्यत्रा हरिशब्दे विभक्तिअस्ति.

 
 
 
 

20. ध्रुवमपायेअपादानम अनेन सूत्रेण कि प्रविधीयते

 
 
 
 

21. साकम, सार्धम, समम् योगे का विभक्ति

 
 
 
 

22. प्रजाभ्य: स्वस्ति में विभक्ति हैं.

 
 
 
 

23. अकथित कारक में कही गई दुह आदि धातुओं की संख्या कितनी हैं.

 
 
 
 

24. दुह धातु किस प्रकार की हैं.

 
 
 
 

25. विना नाना योगे कतमा विभक्ति: प्रसज्यते

 
 
 
 

26. कर्तरिवाच्य के कर्ता में विभक्ति होती हैं.

 
 
 
 

27. रुच्यर्थक धातुओं में संज्ञा होती हैं.

 
 
 
 

28. स्वस्वामिभावादि सम्बन्ध में विभक्ति होती हैं.

 
 
 
 

29. धिक् योग में विभक्ति होती हैं.

 
 
 
 

30. अधोलिखित में अशुद्ध हैं.

 
 
 
 

31. अपादान कितने प्रकार का होता हैं.

 
 
 
 

32. समया इति योगे विभक्ति स्याद

 
 
 
 

33. अष्टाध्यायी क्रम में अंतिम कारक कौनसा हैं.

 
 
 
 

34. अशुद्ध वाक्यमस्ति

 
 
 
 

35. कर्ता द्वारा सर्वाधिक चाहे गये कारक की संज्ञा होती हैं.

 
 
 
 

36. सम्प्रदान संज्ञक पद नहीं हैं.

 
 
 
 

37. सीतया सह राम: वनम अगच्छत वाक्य में तृतीया वाला पद हैं.

 
 
 
 

38. प्रातिपदिकार्थ ……..सूत्र के द्वारा विभक्ति होती हैं.

 
 
 
 

39. कति कारकानि?

 
 
 
 

40. कारक कितने हैं.

 
 
 
 

41. उक्त कर्ता में कौनसी विभक्ति होती हैं.

 
 
 
 

42. निम्नलिखित में से शुद्ध वाक्य हैं.

 
 
 
 

43. ईप्सिततम कर्म से भिन्न उदाहरण हैं.

 
 
 
 

44. परिमाणमात्र में प्रथमा का उदहारण नहीं हैं.

 
 
 
 

45. रामेण बाणेन हतो बालि; में करण हैं.

 
 
 
 

46. आधार कितने प्रकार का होता हैं.

 
 
 
 

47. नाना पद के योग में कौनसी विभक्ति होती हैं.

 
 
 
 

48. कर्मवाच्य के कर्ता में कौनसी विभक्ति होती हैं.

 
 
 
 

49. अपादान का उदाहरण नहीं हैं.

 
 
 
 

50. वामन: बलिं याचते वसुधाम में वसुधा पद हैं.

 
 
 
 

Question 1 of 50

हमारी अन्य संस्कृत क्विज

संस्कृत वर्ण परिचय
संस्कृत संधि
कारक व विभक्ति
धातु रूप
वाच्य परिवर्तन
समास
प्रत्यय

(रोजाना हमारी क्विज में भाग लेने के लिए इस टेलीग्राम ग्रुप से जुड़े)

Reet Psychology Model Paper 1 
Reet Psychology Model Paper 2
Reet Psychology Model Paper 3
Reet Psychology Model Paper 4
Reet Psychology Model Paper 5
Reet Psychology Model Paper 6
Reet Psychology Model Paper 7
Reet Psychology Model Paper 8
Reet Psychology Model Paper 9
Reet Psychology Model Paper 10

इनका अभ्यास भी करें

क्रमांकQuiz NameLink
1.शिक्षा मनोविज्ञानStart
2.शिक्षण अधिगमStart
3.राष्ट्रीय पाठ्यक्रम रूपरेखाStart
4.अधिगमStart
5.अभिप्रेरणाStart
6.बाल विकासStart
7.व्यक्तित्वStart
8.समायोजन कुसमायोजनStart
9.मानसिक विकासStart
10.बुद्धिStart
11.विभिन्नताएं व सृजनात्मकताStart
12.अनुप्रयोगStart
13.शिक्षण व्यूह रचनाएंStart
14.क्रियात्मक अनुसंधानStart
15.शिक्षा का अधिकार RTEStart
16.मापन मूल्यांकन आकलनStart
17.उपलब्धि परीक्षणStart
18.सतत एवं व्यापक मूल्यांकनStart

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *