आई मिस यू पापा हिंदी कविता Miss U Papa Poems In Hindi

Miss You Dad Father After Death आई मिस यू पापा हिंदी कविता Miss U Papa Poems In Hindi : दोस्तों हमारे जीवन के एक स्तम्भ हमारे पापा होते हैं. बहुत से लोग कम उम्र में ही अपने पापा से बिछड़ जाते हैं. पापा की यादों के सहारे उन्हें जीवन गुजारना पड़ता हैं. आज के आर्टिकल में ऐसी ही हिंदी की कविताओं शायरी आदि का संग्रह किया गया हैं, जिन्हें आप मिस यू पापा स्टेटस के रूप में फादर्स डे उनके जन्म दिन पूण्यतिथि अथवा श्रद्धांजलि के रूप में पोस्ट कर सकते हैं.

आई मिस यू पापा हिंदी कविता Miss U Papa Poems In Hindi

आई मिस यू पापा हिंदी कविता Miss U Papa Poems In Hindi

अपने पिता को खोना एक अवर्णनीय दुःख होता है. कहने को सिर्फ एक पिता होते है मगर जीवन में उनका मल्टी रोल होता है जो कभी रक्षक, मार्गदर्शक, मित्र और नायक के रूप में हमारी आँख खुलने से हमारे सामने होते हैं. जीवन भर की उनकी यादे और पल सदैव हमारे जेहन में कैद हो जाते है. उन यादो को ताउम्र भुलाया नहीं जा सकता हैं. अपने पापा की यादों के दर्द को कम करने के लिए उनका मेमोरी एल्बम बना सकते हैं. उनकी पिक्स के साथ विशेष अवसरों पर अपनी सोशल मिडिया प्रोफाइल पर इन कविताओं के कैप्शन के साथ अपनी भावनाओं को व्यक्त कर सकते है.

RIP बहुत याद आते हो पापा कविता

मेरी एक मुस्कान को तरस जाते थे पापा
याद है मुझे वो बचपन के दिन
हारे थके भूखे प्यासे मुझे रोता देख
कंधों पर बैठाकर बहुत दूर निकल जाते थे पापा
सच कहूँ बहुत याद आते हैं पापा
जिंदगी का संघर्ष मैंने सीखा है उनसे
बचा एक एक रुपया पढ़ाया था हमको
रहे चाहें भूखे प्यासे वो लेकिन
माँगा जो हमने खिलाया था हमको
जिद जो करा मैंने लेने को कुछ भी
थी जेब खाली पर दिलाया था हमको
की लाख चाहे जो गलतियां हमने
हँस करके माफ़ करते थे पापा
सच कहूँ बहुत याद आते हैं पापा
कांधे पर था जब हाथ जो उनका
मुझे है क्या करना ये सोचा नहीं था
दिखाये जो सपने अधूरे ही रह गये
पिता जी चले गये बस आंसू ही रह गये
याद आती है बातें जो कहते थे पापा
सच कहूँ बहुत याद आते हैं पापा
सूनी पड़ी माँ की मांग देखी न जाती
चूड़ी माँ की कलाई पर नजर अब न आती
देखूँ मैं जब भी उदास चेहरा माँ का
लगता है ऐसे जैसे पापा से क्या क्या माँ कहती
आता है जब दिन बाजार का देखूँ
खाने को कितनी चीजें लाते थे पापा
सच कहूँ बहुत याद आते हैं पापा

Miss U Papa Poems In Hindi Bachpan

बचपन में पापा गुजरने के बाद, मामा ने ही साथ निभाया
मामा ने ही ऊंगली पकड़ कर, एक नया सवेरा दिखाया
भले ऊंगली पकड़ कर चलना पापा ने सिखाया
मगर जिंदगी जीते कैसे है, ये मामा ने समझाया
हर कदम पर साथ है मेरे बनकर एक साया
पापा की बातें याद नहीं, पर मेरा पापा अपने मामा में ही पाया

पिताजी की याद पर कविता

इस आर्टिकल में मिस यू पापा फादर की एक से बढ़कर एक सुंदर रचनाएं आपके लिए दी गई हैं. हम उम्मीद करते है आपकों इन लेखकों द्वारा लिखी गई कविताएँ पसंद आई होगी.

सोचा न था इतने साल बिता पाएगे
आपकी परछाई के बिना एक पल भी बिता पाएगे
आपकी दी हुई हिम्मत ही है
जो जिंदगी से लड़ने का जज्बा दिला रही है
वरना कब के टूट चुके होते
खड़े है डटकर फिर भी
पापा गर्व तुम्हे कराएगें
दी हुई नसीहतों को अपना गुरु बनाएगे
जिस मुकाम पर चाहते थे देखना हमको
उस मंजिल तक भी हम पहुंचकर दिखाएगें.

Miss U Dad Kavita In Hindi

आप के कमी खलती है मुझे
ये खालीपन तड़पता है मुझे
बस यु ही यादे दिल मे समेटे
वक़्त गुज़र जाता है

अब पता चलता है कि
ज़िम्मेदारी का बोज कितना भरी है
खुद से ज्यादा
अपनों कि खुशिया प्यारी है
दौड़ने पड़ते है कदम
पकड़ने को ज़िंदगी कि रफ़्तार
आज गुज़र रहा है और
कल कि तैयारी है

आप कि मुश्किलों का
मुझे अब एहसास होता है
दुनिया होती है मतलबी और
घर का हर एक शक्श ख़ास होता है
माँ कि बाद पिता ही
समझता है ख़ामोशी औलाद कि
मुश्किलों से बचाने कि लिए
पिता हिम्मत कि दिवार होता है

हर डाट मे प्यार जो रहता था
वो याद बहुत अब आता है
हर बिता लम्हा अब तो बस
आँखों मे आंसू लता है
तस्वीर बसी है दिल मे जो
जीने का हौसला देती है
इसी तरह से बस अब तो
ये वक़्त गुज़र जाता है

आप कि कमी खलती है मुझे
ये खालीपन तड़पता है
बस यु ही यादे दिल मे समेटे
ये वक़्त गुज़र जाता है !

पापा की श्रद्धांजलि के लिए कविता

पापा क्यों हमारी दुनिया को सूना कर गये
आप घर से निकले और बड़ी दूर निकल गये
हमें कहा मालूम था ये किस मंजिल का सफर है
आप बिना बताए कारवाँ ए जिंदगी तय कर गये
कुछ और बातें होनी थी कुछ और लम्हें संग जीने थे
कल आपके ठहाके गूंजे थे आज सब खामोश कर गये
सुकून से बातें जब भी होती है आपका अक्स दीखता है
शान से जिंदगी जीने का तरीका हम सबको सिखा गये
कमी कुछ महसूस होती है अब हमारे हंसने रोने में
काबिल बना हम सबको अपनी जिम्मेदारियां निभा गये
हमें भी नाज होता है पापा आपको याद करके
ये पल भर का जीवन था बड़ा उससे किरदार जीकर गये
अधूरे कुछ सपने जो बाकी उसे मिल पूरा करना है हमको
रिश्तों की डोर कभी न टूटेगी जिससे सबको बांधकर गये
कभी मेहनत से सींचा था अब खिल खिलाते फूल से हम है
कल जो बाग़ लगाया था देखो आज बहार ए चमन कर गये
भगवान की नई दुनिया में खुश रहना है आपको
नहीं हो सामने लेकिन सबके दिलों में खुद को बसाकर गये
शख्सियत पे नाकाफी मेरा लिखना मेरे लफ्ज भी बोने है
कभी न खत्म होनी है यादों की कहानी जो चला कर गये

Sad Miss You Papa Poem on Death of Father

जाते जाते वो अपने जाने का गम दे गये…
सब बहारें ले गये रोने का मौसम दे गये…

ढूंढती है निंगाह पर अब वो कही नहीं…
अपने होने का वो मुझे कैसा भ्रम दे गये…

मुझे मेरे पापा की सूरत याद आती है…
वो तो ना रहे अपनी यादों का सितम दे गये…

एक अजीब सा सन्नाटा है आज कल मेरे घर में…
घर की दरो दिवार को उदासी पेहाम दे गये…

बदल गयी है अब तासीर, तासीरी जिन्दगी की…
तुम क्या गये आंखो में मन्जरे मातम दे गये…

I Miss You Papa In Hindi

वक़्त बीत गया लेकिन रह गयी हैं वक़्त की परछाईं
आपके जाने के बाद कुछ बची है तो बस तन्हाई
निकल पड़ते हैं आँख से आँसू और दिल बैठ जाता है
जब भी याद आती है बातें जो आपने थी बताई।

Short Emotnal Heart Touching Miss U Dad Poem In Hindi

दोस्तों यदि आप इन्टरनेट पर पापा की याद में कुछ बेहतरीन हिंदी कविताएँ, पापा की याद में बेस्ट शायरी कुछ लाइन श्रद्धांजलि के लिए मेसेज आदि की खोज कर रहे है. तो आप इन कविताओं को अपनी सोशल मिडिया प्रोफाइल पर पोस्ट कर सकते हैं.

कहाँ ढूढू आपको
ना आपकी आवाज
ना वो हंसी
ना वो नाराजगी
ना वो परवाह
ना ही वो खेलना
ना वो गाना
ना वो आपके हाथ का खाना
ना कोई पता है
ना ही पैरो के निशान
और ना जाने क्या क्या
सब कुछ अपने साथ ले गये
मेरी नींद भी ले गये
मेरा हर सवाल भी ले गये
कुछ तो छोड़ जाते यहाँ
सब कुछ शून्य सा है
इस शून्य में कहा ढूँढू आपको

पिता की पुण्यतिथि पर श्रद्धांजलि कविता

कुछ सदियों से दिन गुजर रहे हैं
कुछ रिश्ते बिगड़ रहे है
कुछ यादे रोज संजोई जा रही है
कुछ चंद बिन आपके निर्णय ले रहा हूँ
बस आपकी कमी कही नहीं भर रही
बस आपकी आहट नहीं पा रहा हूँ
पल पल तड़पता हूँ बिन आपके
खामोश अक्सर अब रहता हूँ
पापा को श्रद्धांजलि कविता कुछ शब्द पिता के नाम
बिना पिता के तो ये सारा जहान वीरान लगता है
ये जग भी चलते फिरते लोगों का श्मशान लगता है
जब तक रहेगा संग किसी चीज की जरूरत नहीं होती
दूर हो जाता है तो बेगाना ये सारा जहान लगता है.

Miss You Papa Poem From Daughter In Hindi

पापा आज कुछ सवाल है मेरे
जो खुद आपसे पूछना चाहती हूँ
खुद को तसल्ली देना चाहती हूँ
क्या जन्म देने मात्र ही
आपकी जिम्मेदारी थी?
मुझे भी तो आपकी गोदी प्यारी थी
मुझे कपड़े पहनाते
ऊंगली पकड़कर चलना सिखाते
जब मैं रोती तो मुझे चुप कराना था
प्यार से रोटी का एक टुकड़ा ही खिलाते
कभी उदासी में मेरे दोस्त बन जाते
जो मेरी बरबस मनमानी थी
वहां आपकी डांट सुनने को तरस गई
सही गलत के अंतर में देखो मैं फिसल गई
पापा मैं बेटी सुनने को तरस गई.

यह भी पढ़े

उम्मीद करता हूँ दोस्तों आई मिस यू पापा हिंदी कविता Miss U Papa Poem In Hindi का यह लेख आपकों पसंद आया होगा. यदि आपकों मिस यू पापा शायरी कविता का लेख कुछ लाइन स्टेटस पसंद आए हो तो इसे अपने सोशल मिडिया पर जरुर शेयर करें.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *